ये स्टार्टअप चलती गाड़ी में आपको सोने नहीं देगा, अब नहीं होंगे एक्सीडेंट

स्टार्टअप के मुताबिक़, उन्होंने स्पीडिंग को 80% और बुरी ड्राइविंग को 70 % तक कम कर दिया है. लाइटमेट्रिक्स फ़िलहाल 15 देशों में अपने कस्टमर बना चुका है जिसमें अमेरिका, कनाडा, मेक्सिको, ब्राज़ील, ऑस्ट्रेलिया, मिडिल ईस्ट और इंडिया शामिल हैं.

ये स्टार्टअप चलती गाड़ी में आपको सोने नहीं देगा, अब नहीं होंगे एक्सीडेंट

Friday February 24, 2023,

3 min Read

WHO की एक 2018 की रिपोर्ट के मुताबिक़, दुनियाभर में होने वाले रोड एक्सीडेंट्स में 11% इंडिया में होते हैं. इंडिया में होने वाले कुल एक्सीडेंट्स में 55% हाईवेज़ पर होते हैं. इन्हीं हाइवेज पर देश भर के कमर्शियल व्हीकल्स यानी ट्रक्स चलते हैं. जो सामान को ट्रांसपोर्ट करते हैं. एक अन्य रिपोर्ट की मानें तो साल 2019 में ही 13,000 से ज्यादा ट्रक्स का एक्सीडेंट हुआ.

आज जिस स्टार्टअप के बारे में हम आपको बताने जा रहे हैं, वो फ्लीट के फील्ड में एक्सीडेंट्स को कम करने की ओर काम कर रहा है. वो भी AI यानी आर्टिफीशियल इंटेलिजेंस की मदद से.

ये स्टार्टअप है Lightmetrics. ये एक AI बेस्ड प्लेटफ़ॉर्म है रियल टाइम ड्राइवर कोचिंग देता है. ये कैमरा बनाने वाली कंपनियों से, टेलीमैटिक्स सर्विस देने वाली कंपनियों और ऑटो इंश्योरेंस देने वाली कंपनियों से साझेदारी करता है. साथ ही उन कंपनियों से साझेदारी करता है जो इनकी सेवाएं लेना चाहते हैं.

कंपनी के फाउंडर्स सौमिक उकील, रवि शेनॉय, मिथुन उलियर, गुरुराज पुत्राया, पुष्कर पटवर्धन, और कृष्णा एजी हैं. ये सभी नोकिया रिसर्च में पांच साल तक साथ काम कर चुके हैं. लाइटमेट्रिक्स का आइडिया इन्हें तब आया जब सभी ने मिलकर सोचा कि अपना कंप्यूटर विज़न, मशीन लर्निंग, कैमरा टेक्नोलॉजी और सिग्नल प्रोसेसिंग का साझा ज्ञान ये किसी मौजूदा दिक्कत को सॉल्व करने में इस्तेमाल कर सकते हैं.

ये इंश्योरेंस कंपनियों और फ्लीट के मालिकों को ये सुविधा देता है कि ड्राइवर्स की मोनिटरिंग की जाए. इसके साथ ही ड्राइवर्स का बिहेवियर समझने में मदद मिलती है. अगर ड्राइवर गलत तरीके से चला रहा है, स्पीड के ऊपर चल रहा है या नींद में है तो इसका सिस्टम ड्राइवर को अलर्ट कर देता है.

स्टार्टअप के मुताबिक़, उन्होंने स्पीडिंग को 80% और बुरी ड्राइविंग को 70 % तक कम कर दिया है. लाइटमेट्रिक्स फ़िलहाल 15 देशों में अपने कस्टमर बना चुका है जिसमें अमेरिका, कनाडा, मेक्सिको, ब्राज़ील, ऑस्ट्रेलिया, मिडिल ईस्ट और इंडिया शामिल हैं.

यह स्टार्टअप YourStory की साल 2022 की Tech30 लिस्ट का हिस्सा है.

YourStory हर साल अपने सिग्नेचर इवेंट TechSparks में आपके लिए कई हज़ारों में से चुनकर लाता है Tech30 लिस्ट में ऐसे 30 स्टार्टअप जो देश को बदल देने के साथ साथ अरबों की कंपनियां बनने की ताकत रखते हैं.

Tech30 ने बीते 11 साल में 330 से ज्यादा स्टार्टअप्स को प्रोफाइल कर उनके बारे में दुनिया को बताया है, 35,000 से ज्यादा नौकरियां देने में मदद की है, 300 करोड़ डॉलर से भी ज्यादा की फंडिंग इसकी मदद से आई है और 675 से भी ज्यादा युवा फाउंडर्स को हमने कुछ कर दिखाने की ताकत दी है. Tech30 लिस्ट का हिस्सा रहे 5 ऐसे स्टार्टअप हैं जो यूनिकॉर्न बन चुके हैं. यानी उनका वैल्यूएशन 100 करोड़ डॉलर से ज्यादा है और ये सिलसिला अभी रुका नहीं है.


Edited by Prateeksha Pandey