Brands
YSTV
Discover
Events
Newsletter
More

Follow Us

twitterfacebookinstagramyoutube
Yourstory

Brands

Resources

Stories

General

In-Depth

Announcement

Reports

News

Funding

Startup Sectors

Women in tech

Sportstech

Agritech

E-Commerce

Education

Lifestyle

Entertainment

Art & Culture

Travel & Leisure

Curtain Raiser

Wine and Food

Videos

ADVERTISEMENT
Advertise with us

[Techie Tuesday] मैमोग्राम के लिए इंटरफेस बनाने से लेकर कस्टमर वर्कफ़्लो को ऑटोमेट करने तक, Intuit की नमिता देवदास की कहानी

इस सप्ताह के टेकी ट्यूज्डे में हम Intuit में ओपन-सोर्स की सीनियर सॉफ्टवेयर इंजीनियर नमिता देवदास से आपको रूबरू कराने जा रहे हैं।

Sindhu Kashyaap

रविकांत पारीक

[Techie Tuesday] मैमोग्राम के लिए इंटरफेस बनाने से लेकर कस्टमर वर्कफ़्लो को ऑटोमेट करने तक, Intuit की नमिता देवदास की कहानी

Tuesday September 07, 2021 , 8 min Read

नमिता देवदास के लिए, कंप्यूटर और टेक्नोलॉजी के प्रति अपने जुनून को एक पेशेवर करियर में बदलना कोई बड़ा खेल नहीं था। अपने शुरुआती स्कूल के दिनों से कंप्यूटर सीइंस की पढ़ाई करने के बाद, नमिता को विशेष रूप से कोडिंग और प्रोग्रामिंग के समस्या-समाधान वाले पहलुओं से प्यार था।


“मेरे दोस्तों का समूह और मुझे कंप्यूटर लैब में रहना बहुत पसंद था। केवल कक्षा में बैठने के बजाय कोड के साथ खेलने में मज़ा आता था,” नमिता कहती हैं। आज, Intuit में एक सीनियर सॉफ्टवेयर इंजीनियर के रोल में, नमिता अपने सपने को जी रही है क्योंकि उन्हें हर दिन कोड और अलग-अलग सिस्टम्स के साथ प्रयोग करने का मौका मिलता है।

नमिता देवदास

Intuit में नमिता देवदास

नमिता कहती हैं, "मेरे विचार में, कोडिंग समस्या-समाधान के साथ प्रयोग करने का एक तरीका है। आज मैं जो कोड लिखती हूं, उसके संदर्भ में, मैं इसे साफ-सुथरा रखने पर ध्यान केंद्रित करती हूं। किसी समस्या को हल करने के कई तरीके हैं, लेकिन लक्ष्य इसे करने का एक सरल और साफ तरीका खोजना है। जब आप किसी भी सिस्टम को डिजाइन और एग्जीक्यूट कर रहे हों, तो लोन्ग-टर्म सोचना महत्वपूर्ण है, क्योंकि आपके द्वारा बनाई गई हर चीज का ग्राहकों पर व्यापक प्रभाव पड़ सकता है।”


आज भी, इंडस्ट्री में पांच साल से अधिक समय के बाद, नमिता का मुख्य ध्यान यह सीखने और समझने पर है कि अलग-अलग सिस्टम्स कैसे काम करते हैं। मूल रूप से केरल की रहने वाली लेकिन मुंबई में पली-बढ़ी नमिता के पिता नेवल आर्किटेक्ट हैं और मां एक गृहिणी हैं। कोडिंग के उनके शुरुआती प्यार ने उन्हें 2012 में कोयंबटूर के अमृता स्कूल ऑफ इंजीनियरिंग से कंप्यूटर साइंस इंजीनियरिंग करने के लिए प्रेरित किया।

क्विज़ से लेकर हेल्थकेयर तक

कॉलेज में रहते हुए भी नमिता ने कुछ प्रोजेक्ट्स लिए। नमिता याद करते हुए कहती है, "मुझे याद है कि शुरुआती प्रोजेक्ट्स में से एक ऑनलाइन क्विज़ एप्लिकेशन बनाने की कोशिश करना रहा था। मैंने रिसर्च प्रोजेक्ट्स में भी काम किया, जहां हम प्रश्नों और यूजर के परिणामों के आधार पर सिमेंटिक सर्च टूल का निर्माण करते हुए खोज परिणाम विविधीकरण (diversification) हासिल करने की कोशिश कर रहे थे।”


नमिता ने कॉलेज में जो कुछ सीखा था, उससे उन्हें वास्तविक दुनिया के ऐप्लीकेशंस के बारे में और अधिक जानने की इच्छा हुई, और उन्होंने समझा कि समस्याओं को हल करने के लिए इसका उपयोग कैसे किया जा सकता है। इसे प्राप्त करने के लिए, उन्होंने अपने अंतिम वर्ष के प्रोजेक्ट के लिए एक हेल्थकेयर फर्म - Cerner में इंटर्नशिप शुरू की। यहां, उन्होंने मैमोग्राम में विसंगतियों (anomalies) का पता लगाने के लिए रेडियोलॉजी डेटा प्राप्त करने के लिए एक इंटरफ़ेस बनाने पर काम किया।


नमिता कहती हैं, "इससे स्तन कैंसर का पता लगाने में मदद मिली।" इंटर्नशिप के बीच में ही उन्हें Intuit से इंटरव्यू के लिए कॉल आया। वह इंटरव्यू के लिए तैयार नहीं होने को भी याद करती हैं।


वह बताती हैं, "मैं एक दिन बेंगलुरु स्थित Cerner में इंटर्नशिप कर रही थी, और अगले दिन मुझे कुछ रिव्यूज़ के लिए कॉलेज जाना था, और उसके अगले दिन, मुझे Intuit में इंटरव्यू में भाग लेना था। मैं बहुत सी चीजों की बाजीगरी कर रही थी, इसलिए मुझे लगा कि मैं तैयार नहीं हूं लेकिन, तीन दिन बाद, मुझे ऑफर मिल गया!"


नमिता अब कई टीमों के हिस्से के रूप में, छोटे व्यवसायों और स्वरोजगार के लिए एक फायनेंसियल अकाउंटिंग सॉल्यूशन, Quickbooks Online प्रोडक्ट की रिपोर्ट टीम के हिस्से के रूप में Intuit के साथ काम कर रही है। उन्हें यहां जॉब करते हुए 5 साल हो गए हैं।

अपनी टीम के साथ नमिता

अपनी टीम के साथ नमिता

Intuit और Quickbooks

नमिता कहती हैं, "हम छोटे व्यवसाय के मालिकों के लिए सभी प्रकार की व्यवसाय-संबंधी रिपोर्ट बनाने पर ध्यान केंद्रित कर रहे थे, उदाहरण के लिए, एक विशिष्ट अवधि में व्यवसाय के लाभ और हानि को देखते हुए, बैलेंस शीट, वे कितने बिलों का भुगतान करते हैं, बिक्री प्रतिनिधि मार्जिन रिपोर्ट को कस्टमाइज्ड मैनर में पुनः प्राप्त करते हैं, आदि।"


वह आगे कहती हैं, "मैंने जिन सबसे दिलचस्प प्रोजेक्ट्स पर काम किया है, उनमें से एक रिपोर्ट कॉन्फ़िगरेशन फ्रेमवर्क बनाना था।"


विस्तार से बताते हुए, वह कहती हैं कि, पहले, अगर टीम को सिस्टम में किसी भी तरह की नई रिपोर्ट पेश करनी होती थी, तो यह एक मोनोलिथिक सिस्टम से गुज़रती थी, जिसमें डेवलपमेंट और रिलीज़ में समय लगता था।


नमिता बताती हैं, "हमने एक कॉन्फ़िगरेशन सिस्टम बनाया है जो बहुत तेजी से रिपोर्ट बनाने में मदद करता है, और इसे कस्टमाइज भी करता है। जब जीएसटी लॉन्च किया गया था, तो इस फ्रेमवर्क का इस्तेमाल पांच से छह महीने की अवधि में कम से कम 40 से 50 रिपोर्ट बनाने के लिए किया गया था। अन्यथा, जीएसटी सिस्टम की जटिलताओं के साथ एक रिपोर्ट पर काम करने वाले किसी भी डेवलपर को कम से कम एक महीने का समय लगेगा।”


यह प्रत्येक भूगोल और क्षेत्र की नियामक (regulatory) आवश्यकताओं के अनुसार रिपोर्ट बनाने में भी मदद करता है। वहां से नमिता Quickbooks Online Advanced Team में चली गईं। यह मध्य-बाजार के व्यापार मालिकों की सॉफ़्टवेयर आवश्यकताओं पर केंद्रित है - जिसमें अधिक फीचर्स और हायर परफॉर्मेंस शामिल हैं।

ओपन-सोर्स यात्रा

इन प्रोजेक्ट्स में से एक पर काम करते समय नमिता की ओपन-सोर्स यात्रा शुरू हुई, जो एक नया सीखने का अनुभव था।


नमिता कहती हैं, "ओपन-सोर्स समुदाय सीखने और सहयोग करने के बारे में है। यह समस्याओं को हल करने के लिए नौसिखिए डेवलपर्स और सब्जेक्ट मैटर एक्सपर्ट्स के साथ नेटवर्क करने के लिए भी एक शानदार जगह है। साथ ही, जब आपका कोड पब्लिक होता है, तो यह सीखने और तकनीकी समुदाय में वापस योगदान करने का एक तरीका है।”


टीम एक समस्या को हल करना चाह रही थी, जिसने क्लाउड-नेटिव वातावरण पर आत्मनिर्भर तरीके से डेटाबेस बहाली को सक्षम किया। विचार था, अगर कुछ गलत होता है, तो इंजीनियरों को सूचित किया जाएगा, लेकिन अन्यथा, इसे आत्मनिर्भर तरीके से काम करना चाहिए।

अपने ऑफिस के सहकर्मियों के साथ नमिता (R)

अपने ऑफिस के सहकर्मियों के साथ नमिता (R)

नमिता कहती हैं, "एक टीम के साथी और मैंने एक ऐसे टूल पर काम किया जो अपने स्नैपशॉट से डेटाबेस की बहाली को ऑटोमेट करता है। जब हमें शुरू में उस समस्या का पता चला जिसे हम हल करना चाहते थे, तो हमें संभावित समाधान खोजने के लिए Google पर जाना पड़ा। तभी हमें एहसास हुआ कि यह एक अनसुलझी समस्या थी और कुछ अन्य लोग भी थे जो इसका समाधान ढूंढ रहे थे - इसलिए हमने Trapheus को डिज़ाइन किया, और इसे ओपन सोर्स किया।”


वह बताती हैं कि ओपन-सोर्स अलग-अलग यूज केस बनाने और समझने का एक प्लेटफॉर्म है, जो बहुत सारे अवसर खोलता है। नमिता का कहना है कि Trapheus Grace Hopper Celebration का भी हिस्सा रहा है, जो कि एक कॉन्फ्रेंस है जिसका उद्देश्य न केवल कंप्यूटिंग में महिलाओं के अनुसंधान और करियर के हितों को सबसे आगे लाना है, बल्कि कई अन्य ओपन-सोर्स प्रोजेक्ट भी हैं।

सीखे गए सबक

नमिता कहती हैं, “सबसे अच्छी बात यह है कि मैंने अलग-अलग प्रोजेक्ट्स पर उन टीमों के साथ काम किया है जिन्होंने सीखने और विकास को प्रोत्साहित किया है। आपको Intuit में कुछ भी करने की अनुमति है, इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि यह फ्रंटएंड या बैकएंड या क्लाउड से संबंधित है।”


वह आगे कहती हैं कि Intuit में काम करने करने के दौरान उन्हें सिखाया गया है कि कोडिंग सिर्फ शुरुआत है और नौकरी का शुरुआती हिस्सा है। नमिता कहती हैं, “कॉलेज में, किसी के पास प्रोजेक्ट्स के बारे में एक छोटा दृष्टिकोण होता है क्योंकि वे बड़े पैमाने पर छोटे प्रोजेक्ट्स होते हैं। लेकिन काम पर, वास्तविक प्रभाव आप पर पड़ता है, और तब आपको एहसास होता है कि सब कुछ अधिक विस्तार उन्मुख है, और हर निर्णय का परिणाम बड़े पैमाने पर होता है। मैं यह भी सोचती हूं कि जिन लोगों के साथ आप काम करते हैं वे मायने रखते हैं; वे उस व्यक्ति और इंजीनियर को आकार देते हैं जो आप बनते हैं।"


नमिता अब कई कस्टमर वर्कफ्लोज़ के ऑटोमेशन पर काम कर रही है जो व्यावसायिक दक्षता को बढ़ाते है, अप्रुवल्स, रिमाइंडर्स आदि जैसे कार्यों को ऑटोमेट करके व्यापार मालिकों और ग्राहकों के जीवन को आसान बनाते हैं।


आज, इंजीनियरों को हायर करने के दौरान, वह इस बात की तलाश करती हैं कि एक उम्मीदवार किसी विशेष समस्या को कैसे देखता है।


नमिता ने निष्कर्ष निकाला, "यह सटीक समाधान खोजने के बारे में नहीं है, बल्कि इस बारे में अधिक है कि वे किसी समस्या को कैसे देखते हैं, कम्यूनिकेट करते हैं और समाधान तक कैसे पहुंचते हैं।"


YourStory की फ्लैगशिप स्टार्टअप-टेक और लीडरशिप कॉन्फ्रेंस 25-30 अक्टूबर, 2021 को अपने 13वें संस्करण के साथ शुरू होने जा रही है। TechSparks के बारे में अधिक अपडेट्स पाने के लिए साइन अप करें या पार्टनरशिप और स्पीकर के अवसरों में अपनी रुचि व्यक्त करने के लिए यहां साइन अप करें।


TechSparks 2021 के बारे में अधिक जानकारी पाने के लिए यहां क्लिक करें।


Tech30 2021 के लिए आवेदन अब खुले हैं, जो भारत के 30 सबसे होनहार टेक स्टार्टअप्स की सूची है। Tech30 2021 स्टार्टअप बनने के लिए यहां शुरुआती चरण के स्टार्टअप के लिए अप्लाई करें या नॉमिनेट करें।


Edited by Ranjana Tripathi