कैंसर के इलाज में मदद करने वाली रिसर्च के लिए इन 3 वैज्ञानिकों को मिला केमिस्ट्री में नोबेल

By Rajat Pandey
October 05, 2022, Updated on : Wed Oct 05 2022 14:25:40 GMT+0000
कैंसर के इलाज में मदद करने वाली रिसर्च के लिए  इन 3 वैज्ञानिकों को मिला केमिस्ट्री में नोबेल
साल 2022 के रसायनशास्त्र (Chemistry) का नोबेल पुरस्कार कैरोलिन बेट्रोजी (Carolyn Bertozzi), मोर्टन मेल्डल (Morten Meldal) और के. बैरी शार्पलेस (Barry Sharpless) को दिया गया है.
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

नोबेल पुरस्कार विजेताओं के नामों के ऐलान की शुरुआत बीते सोमवार से ही शुरू ही गई थी. चिकित्सा (Medicine) के क्षेत्र में स्वीडिश वैज्ञानिक Svante Paabo, भौतिकी (Physics) में  एलेन एस्पेक्ट, जॉन एफ क्लॉजर, और एंटोन ज़िलिंगर को नोबेल पुरस्कार मिलने के बाद आज (5 अक्टूबर) रसायनशास्त्र (Chemistry) में नोबेल पुरस्कार की घोषणा भी हो गई है. 


 रॉयल स्वीडिश एकेडमी ऑफ साइंसेज (Royal Swedish Academy of Sciences) के महासचिव हैंस एलेग्रेन (Hans Ellegren) ने बुधवार को स्वीडन के स्टॉकहोम में करोलिंस्का इंस्टीट्यूट में विजेताओं की घोषणा करदी है. साल 2022 के रसायनशास्त्र (Chemistry) का नोबेल पुरस्कार कैरोलिन बेट्रोजी (Carolyn Bertozzi), मोर्टन मेल्डल (Morten Meldal) और के. बैरी शार्पलेस (Barry Sharpless) को दिया गया है. 

क्लिक और बायोऑर्थोगोनल केमिस्ट्री के लिए मिला नोबेल 

नोबेल कमेटी के मुताबिक, इन वैज्ञानिकों ने क्लिक केमिस्ट्री(Click Chemistry) को डेवलप किया है. यह पुरस्कार समान भागों में ‘अणुओं के एक साथ विखंडन’ का तरीका विकसित करने के लिए दिया गया है. इसके अलावा बायोऑर्थोगोनल(bioorthogonal) केमिस्ट्री में की गई रिचर्स ने मेडिसिन की फील्ड के लिए कई नए रास्ते खोल दिए हैं. ये तकनीक कैंसर जैसी बिमारियों से निजात पाने में भी मददगार होगी.


क्लिक केमिस्ट्री ने रसायनज्ञों (Chemical Scientists) के लिए वांछित अणुओं को बनाने के लिए उपलब्ध विकल्पों को बढ़ा दिया है. बायोऑर्थोगोनल केमिस्ट्री ने जीवित कोशिकाओं के अंदर चल रही रासायनिक प्रक्रियाओं को बिना नुकसान पहुंचाए उनकी निगरानी करना मुमकिन कर दिखाया है.


कैरोलिन बेट्रोजी कैलिफोर्निया(California) की स्टैनफोर्ड विश्वविद्यालय(Stanford University) में कार्यरत हैं और मेल्डल डेनमार्क(Denmark) के कोपेनहेगन विश्वविद्यालय (University of Copenhagen) में केमिस्ट्री के प्रोफेसर हैं.


अमरीकी रसायन वैज्ञानिक शार्पलेस कैलिफोर्निया की स्क्रिप्स लैब(Scripps Labs) के साथ रिसर्च करते हैं. शार्पलेस को स्टीरियो सेलेक्टिव रिएक्शन(Stereoselective Reaction) पर काम करने के लिए भी जाना जाता है.

2021 में इन वैज्ञानिकों को मिला था नोबेल 

2021 में रसायन विज्ञान में नोबेल पुरस्कार वैज्ञानिक बेंजामिन लिस्ट (Benjamin List) और डेविड डब्ल्यू.सी. मैकमिलन(David W.C. MacMillan) को मिला था, जबकि 2020 में जीन प्रौद्योगिकी उपकरण CRISPR/Cas9 आनुवंशिक कैंची की खोज के लिए इमैनुएल चारपेंटियर(Emmanuelle Charpentier) और जेनिफर डौडना(Jennifer Doudna) को नोबेल पुरस्कार मिला था.

इन वैज्ञानिकों को मिले 2 नोबेल पुरस्कार 

अमरीकी रसायन वैज्ञानिक बैरी शार्पलेस को इससे पहले 2001 में भी नोबेल पुरस्कार मिल चुका है. वह दो बार पुरस्कार प्राप्त करने वाले विश्व के पांचवें व्यक्ति बन गए हैं. दो बार नोबेल पाने वालों की सूची में  मैडम मेरी क्युरी (Marie Curie), जॉन बारडीन (John Bardeen), लिनुस पॉलिंग (Linus Pauling) और फ्रेड्रिक सैंगर (Frederick Sanger) शामिल हैं.