2500 करोड़ रुपए है इस कंपनी का टर्नओवर, विराट कोहली और अनुष्का शर्मा करते हैं एंडोर्स

By yourstory हिन्दी
May 08, 2019, Updated on : Thu Sep 05 2019 07:32:07 GMT+0000
2500 करोड़ रुपए है इस कंपनी का टर्नओवर, विराट कोहली और अनुष्का शर्मा करते हैं एंडोर्स
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

दुर्गापुर में स्थित श्याम स्टील प्लांट

श्याम स्टील भारत के सबसे बड़े प्राइमरी टीएमटी बार और स्टील निर्माताओं में से एक है। कंपनी की शुरुआत 1953 में श्रीराम बेरीवाला ने की थी। श्रीराम के छोटे भाई श्याम संदुर बेरीवाला के कंपनी में शामिल होने के बाद, दोनों ने मिलकर तय किया भारत को इन्फ़्रास्ट्रक्चर संबंधी विकास के लिए अच्छी गुणवत्ता वाले स्टील की ज़रूरत होगी और भारत में पर्याप्त मात्रा में आयरन ओर, कोयला और अच्छा वर्कफ़ोर्स उपलब्ध है इसलिए कंपनी ऐसे उत्पाद बनाए जो स्टील बार से बनने वाले ढांचे तैयार करने में मददगार साबित हों।


श्याम स्टील हाल में 2500 करोड़ रुपए के सालाना टर्नओवर का दावा करता है और साथ ही, यह देश के लघु, मध्यम एवं बड़े सभी स्तर के मैनुफ़ैक्चरिंग एंटरप्राइज़ेज़ के लिए एक प्रेरणास्त्रोत है। सुपरस्टार क्रिकेट विराट कोहली और उनकी पत्नी और बॉलिवुड अभिनेत्री अनुष्का शर्मा द्वारा ब्रैंड को एंडोर्स किया जा रहा है।


कंपनी के बोर्ड ऑफ़ डायरेक्टर्स ने एसएमबी स्टोरी से हुई बातचीत में बताया, "परिवार भगवान कृष्ण को मानता था और इसलिए ही कंपनी का नाम उनके नाम पर (श्याम) रखा गया।"


स्टील बार्स तैयार करने के लिए दोनों भाइयों ने पश्चिम बंगाल में विभिन्न जगहों पर मैनुफ़ैक्चरिंग यूनिट्स लगाईं। दुर्गापुर में स्थित स्टील प्लान्ट भी इनमें से एक है, जहां पर डायरेक्ट रेड्यूस्ड आयरन यूनिट, लगातार चलने वाली बिलेट कास्टिंग मिल, हाई-स्पीड रोलिंग मिल्स, टेस्टिंग लैब्स इत्यादि सुविधाएं मौजूद हैं। कंपनी का कहना है कि इन यूनिट्स में तैयार होने वाले टीएमटी बार्स गुणवत्ता के हर पैमाने पर बेजोड़ हैं। साथ ही, ये बार्स पूरी तरह से स्थाई हैं और लंबे समय तक चलते हैं। इसके अलावा कन्सट्रक्शन के दौरान इनका इस्तेमाल बड़ी ही आसानी के साथ किया जा सकता है।

सालों की मेहनत के बल पर आज श्याम स्टील भारत के सबसे बड़े टीएमटी (थर्मो मैकेनिकल ट्रीटमेंट) स्टील रीबार (रीइनफ़ोर्स्ड स्टील बार्स) निर्माताओं में शामिल हो चुका है। आज की तारीख़ में, कंपनी के साथ 5,000 हज़ार कर्मचारी जुड़े हुए हैं और कंपनी इंडियन ऑयल, एस्सार, एल ऐंड टी, रिलायंस इन्फ़्रास्ट्रक्चर और अन्य कई बड़े वेंचर्स को स्टील रीबार्स की सप्लाई देता है।


कंपनी दिल्ली, चेन्नई, बेंगलुरु और कोलकाता मेट्रो प्रोजेक्ट्स के लिए भी स्टील बार्स की सप्लाई दे चुकी है। इसके अलावा, ईस्टर्न रेलवे, साउथ ईस्टर्न रेलवे और नॉर्थ ईस्टर्न रेलवे भी कंपनी की क्लाइंट लिस्ट में शुमार हैं।


आज के डिजिटल दौर के साथ कदम मिलाने के लिए श्याम स्टील ने अपनी ऐडवरटाइज़िंग के लिए ब्रैंड एंडोर्समेंट के दो बड़े नामों, विराट कोहली और अनुष्का शर्मा को चुना। इन दो सितारों को चुनने के पीछे की वजह बताते हुए कंपनी का कहना है कि इन दोनों ही सिलेब्रिटीज़ और कंपनी की थीम में उन्हें समानता नज़र आती है। श्याम स्टील के विज्ञापनों की टैगलाइन 'परफ़ेक्ट बैलेंस ऑफ़ स्ट्रेंथ ऐंड फ़्लेक्सिबिलिटी' है। कंपनी का कहना है कि उनके इन विज्ञापनों को काफ़ी सकारात्मक प्रतिक्रिया मली। कंपनी की योजना है कि डिजिटल ब्रैंडिंग पर और भी ध्यान दिया जाए।


कंपनी ने जानकारी दी कि उनके द्वारा निर्मित रीबार्स को किसी भी तरह के प्री या पोस्ट वेल्डिंग ट्रीटमेंट की ज़रूरत नहीं होती क्योंकि उनके कार्बन कॉन्टेन्ट की मात्रा कम होती है और उन्हें नियंत्रित थर्मोमैकेनिकल ट्रीटमेंट के अंतर्गत तैयार किया जाता है। कंपनी स्पंज आयरन (डायरेक्ट रेड्यूस्ड आयरन), बिलेट्स (मेटल के क्रॉस-सेक्शन्स) और आयरन के अलॉय भी बनाती है। कंपनी द्वारा निर्मित स्टील उत्पादों को बीटूबी और बीटूसी दोनों ही चैनलों के माध्यम से बेचा जाता है।


बोर्ड का कहना है, "कंपनी का उद्देश्य है कि जो स्टील राष्ट्रीय स्तर के प्रोजेक्ट्स में इस्तेमाल होता है, उसी गुणवत्ता का स्टील देश के नागरिकों के लिए भी उपलब्ध हो और वह भी किफ़ायती दामों में।" इस दिशा में कंपनी का प्रयास है कि 2025 तक भारत के हर ज़िले में श्याल स्टील के रीटेल स्टोर्स उपलब्ध हों।


यह भी पढ़ें: कॉलेज में पढ़ने वाले ये स्टूडेंट्स गांव वालों को उपलब्ध करा रहे साफ पीने का पानी