दुनिया में पहली बार यूएई सरकार ने मेटावर्स में खोला अपना हेडक्वार्टर

By रविकांत पारीक
October 02, 2022, Updated on : Sun Oct 02 2022 11:37:40 GMT+0000
दुनिया में पहली बार यूएई सरकार ने मेटावर्स में खोला अपना हेडक्वार्टर
मेटावर्स की बढ़ती लोकप्रियता के साथ-साथ अबतक आपने सिर्फ यही जाना होगा कि रियल इस्टेट, शॉपिंग, गेमिंग, फैशन, म्यूजिक इत्यादि इसमें संभव है, बल्कि शुरू भी हो चुके हैं. लेकिन ये पहली बार है जब किसी देश की सरकार ने मेटावर्स की दुनिया में न सिर्फ कदम रखा, बल्कि सरकारी दफ्तर शुरू किया है.
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

संयुक्त अरब अमीरात (United Arab Emirates - UAE) के अर्थव्यवस्था मंत्रालय (Ministry of Economy) ने मेटावर्स (Metaverse) में एक नए हेडक्वार्टर की घोषणा की है, जिसे दुनिया भर में कोई भी देख सकता है. Cointelegraph ने अपनी एक रिपोर्ट इसकी जानकारी दी है. ये दुनियाभर में पहली बार है जब किसी सरकार ने अपना वर्चुअल ऑफिस खोला है.


गल्फ न्यूज़ के अनुसार, 28 सितंबर को दुबई मेटावर्स असेंबली (Dubai Metaverse Assembly) के दौरान यूएई के अर्थव्यवस्था मंत्री अब्दुल्ला बिन तौक अल मर्री ने इसका उद्घाटन किया गया था. उन्होंने वर्चुअल हेडक्वार्टर को लाइव करने से पहले कहा था, "यह किसी कॉन्सेप्ट का प्रूफ नहीं है, यह हमारा तीसरा पता है." हेडक्वार्टर में कई कहानियां होंगी, जिनमें से प्रत्येक की एक अलग भूमिका होगी. विजिटर एक टिकट खरीद सकेंगे, जिससे "कस्टमर हैप्पीनेस सेंटर एम्पलॉई" मेटावर्स में प्रवेश करेगा और उनके साथ जुड़ जाएगा.


Cointelegraph की रिपोर्ट के अनुसार, नया हेडक्वार्टर अबू धाबी और दुबई में मंत्रालय के दो मौजूदा कार्यालयों का पूरक होगा, जिससे यह यूएई में लीडरशिप की मांगों के जवाब में डिजिटल सेवाओं को अपने कामकाज का एक बड़ा हिस्सा बनाने की अनुमति देगा.


Cointelegraph ने आगे उल्लेख किया कि वर्चुअल हेडक्वार्टर के विजिटर कानूनी रूप से आवश्यक दस्तावेजों पर हस्ताक्षर करने में सक्षम होंगे, जिससे हस्ताक्षरकर्ताओं को उनके वास्तविक स्थानों में से एक की यात्रा करने की आवश्यकता समाप्त हो जाएगी.


हेडक्वार्टर में वर्चुअल कॉन्फ्रेंस और दूसरे इवेंट्स के लिए एक ऑडिटॉरियम (सभागार) भी है, साथ ही मीटिंग रूम्स भी हैं जहां यूजर एक स्क्रीन शेयर कर सकते हैं. यह घोषणा दुबई सरकार की 18 जुलाई को अपनी मेटावर्स रणनीति लॉन्च करने के बाद हुई है. इस योजना का उद्देश्य 2030 तक 40,000 वर्चुअल रोजगार पैदा करना है और ब्लॉकचेन एंटरप्राइजेज की संख्या को वर्तमान संख्या से पांच गुना तक बढ़ाने की सरकार की महत्वाकांक्षा का समर्थन करना है.


गौरतलब हो कि मेटावर्स एक वर्चुअल दुनिया है जहां आप वर्चुअली एंट्री करते हैं लेकिन आपको अहसास होगा कि आप फिजिकली उस जगह पर मौजूद हैं. साधारण शब्दों में कहें तो मेटावर्स एक ऐसी दुनिया है जहां आपकी एक अलग पहचान होती है. इस वर्चुअल दुनिया में आप घूमने फिरने के अलावा दोस्तों के साथ पार्टी भी कर सकते हैं. मेटावर्स में एक साथ तकनीकों का उपयोग किया जाता है, इसमें ऑगमेंटेड रियलिटी, वर्चुअल रियलिटी, मशीन लर्निंग, ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी और आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस जैसी तकनीक शामिल हैं.


मेटावर्स की बढ़ती लोकप्रियता के साथ-साथ अबतक आपने सिर्फ यही जाना होगा कि रियल इस्टेट, शॉपिंग, गेमिंग, फैशन, म्यूजिक इत्यादि इसमें संभव है, बल्कि शुरू भी हो चुके हैं. लेकिन ये पहली बार है जब किसी देश की सरकार ने मेटावर्स की दुनिया में न सिर्फ कदम रखा, बल्कि सरकारी दफ्तर शुरू किया है. अब देखना ये होगा कि यूजर्स इसे किस तरह लेते हैं. वे इस खास अनुभव का कितना लुत्फ उठा पाते हैं.