केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान 16 जुलाई को IIT कानपुर में इन दो संस्थानों की आधारशिला रखेंगे

By रविकांत पारीक
July 13, 2022, Updated on : Wed Jul 13 2022 13:15:47 GMT+0000
केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान 16 जुलाई को IIT कानपुर में इन दो संस्थानों की आधारशिला रखेंगे
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

केंद्रीय शिक्षा और कौशल विकास और उद्यमिता मंत्री धर्मेंद्र प्रधान भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, कानपुर (IIT Kanpur) परिसर में 16 जुलाई, 2022, को गंगवाल स्कूल ऑफ मेडिकल साइंसेज एंड टेक्नोलॉजी (Gangwal School of Medical Sciences and Technology) और यदुपति सिंघानिया सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल (Yadupati Singhania Super Specialty Hospital) की आधारशिला रखेंगे. समारोह की अध्यक्षता आईआईटी कानपुर के बोर्ड ऑफ गवर्नर्स के अध्यक्ष डॉ के राधाकृष्णन करेंगे.


आईआईटी कानपुर ने, इंजीनियरिंग, विज्ञान और मानविकी विषयों में अपनी अंतर्निहित ताकत के साथ, परिसर में अपनी तरह का एक अनूठा मेडिकल स्कूल स्थापित करने की इस महत्वाकांक्षी परियोजना को शुरू किया है. इंडिगो एयरलाइंस के को-फाउंडर राकेश गंगवाल के उदार योगदान का सम्मान करने के लिए स्कूल को अब 'द गंगवाल स्कूल ऑफ मेडिकल साइंसेज एंड टेक्नोलॉजी' नाम दिया जा रहा है.


मेडिकल स्कूल में 450 से अधिक बिस्तरों वाला यदुपति सिंघानिया सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल, कैंसर देखभाल और अनुसंधान के लिए 50 बिस्तरों वाला केंद्र, एक अकादमिक ब्लॉक, आवासीय ब्लॉक और भविष्य की चिकित्सा में अनुसंधान एवं विकास के लिए उत्कृष्टता के कई केंद्र (सीओई) होंगे. सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल जेके सीमेंट्स लिमिटेड के सीएसआर सहयोग से बनाया जा रहा है. रेजिडेंट डॉक्टरों के लिए अकादमिक ब्लॉक और आवासीय ब्लॉक क्रमशः आईबीएम इंडिया प्राइवेट लिमिटेड और आरईसी फाउंडेशन से सीएसआर अनुदान के साथ बनाए जा रहे हैं.


आईआईटी कानपुर के निदेशक प्रो. अभय करंदीकर ने कहा, "हमें बेहद खुशी है कि आईआईटी कानपुर परिसर में एक मेडिकल स्कूल की स्थापना की यह महत्वाकांक्षी परियोजना उस चरण में आ गई है जहां हम उसकी आधारशिला रखने जा रहे हैं. गंगवाल स्कूल ऑफ मेडिकल साइंसेज एंड टेक्नोलॉजी और यदुपति सिंघानिया सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल की परिकल्पना देश में चिकित्सा जरूरतों के लिए तकनीकी समाधान प्रदान करने और स्वास्थ्य देखभाल वितरण में प्रौद्योगिकी के अनुप्रयोग के लिए की गई है. हम परिसर में सम्मानित अतिथियों की मेजबानी करने के लिए उत्सुक हैं."


प्रो. सुब्रमण्यम गणेश, उप निदेशक, आईआईटी कानपुर, जो GSMST की स्थापना के लिए टास्क फोर्स के प्रमुख भी हैं, ने कहा, “यह वास्तव में एक महत्वपूर्ण अवसर है जिसकी हम प्रतीक्षा कर रहे हैं. इस मेडिकल स्कूल का उद्देश्य देश में चिकित्सा अनुसंधान और नवाचार के प्रति दृष्टिकोण में बदलाव के साथ देश के लिए अगली पीढ़ी के चिकित्सा पेशेवरों को प्रशिक्षित और पोषित करना है."


संस्थान ने सभी डोनरों, पूर्व छात्रों, मेडिकल स्कूल के सलाहकार बोर्ड के सदस्यों, मंत्रालय के अधिकारियों, कानपुर शहर प्रशासन के सदस्यों, शहर के डॉक्टरों, स्वास्थ्य अधिकारियों, अन्य संस्थानों और उद्योगों के सहयोगियों आदि को आमंत्रित किया है.


इस अवसर की शोभा बढ़ाने वाले कुछ दानदाताओं में मुक्तेश पंत, संस्थापक, मिकी और विनीता पंत चैरिटेबल फाउंडेशन; हेमंत जालान, संस्थापक, इंडिगो पेंट्स लिमिटेड; आईबीएम इंडिया प्रा. लिमिटेड टीम, आरईसी फाउंडेशन टीम, और इसी तरह, समारोह में शामिल होने वाले अन्य उल्लेखनीय सदस्यों में सौरभ चंद्र, आईएएस, पूर्व सचिव, भारत सरकार, गौतम खन्ना, सीईओ, पी.डी. हिंदुजा अस्पताल, डॉ विवेक देसाई, संस्थापक, एमडी, HOSMAC इंडिया प्रा. लिमिटेड, डॉ विक्रम मैथ्यूज, हेमेटोलॉजी विभाग, सीएमसी वेल्लोर भी उपस्थित होंगे.

Clap Icon0 Shares
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Clap Icon0 Shares
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close