Brands
YSTV
Discover
Events
Newsletter
More

Follow Us

twitterfacebookinstagramyoutube
Yourstory

Brands

Resources

Stories

General

In-Depth

Announcement

Reports

News

Funding

Startup Sectors

Women in tech

Sportstech

Agritech

E-Commerce

Education

Lifestyle

Entertainment

Art & Culture

Travel & Leisure

Curtain Raiser

Wine and Food

Videos

ys-analytics
ADVERTISEMENT
Advertise with us

वीकली रिकैप: पढ़ें इस हफ्ते की टॉप स्टोरीज़!

यहाँ आप इस हफ्ते प्रकाशित हुई कुछ बेहतरीन स्टोरीज़ को संक्षेप में पढ़ सकते हैं।

वीकली रिकैप: पढ़ें इस हफ्ते की टॉप स्टोरीज़!

Sunday December 19, 2021 , 10 min Read

इस हफ्ते हमने कई प्रेरक और रोचक कहानियाँ प्रकाशित की हैं, उनमें से कुछ को हम यहाँ आपके सामने संक्षेप में प्रस्तुत कर रहे हैं, जिनके साथ दिये गए लिंक पर क्लिक कर आप उन्हें विस्तार से भी पढ़ सकते हैं।

कैसे CRED ने 2 साल में हासिल की 4 बिलियन डॉलर की वैल्यूएशन

साल 2018 के अप्रैल महीने में शुरू हुई CRED एक क्रेडिट कार्ड भुगतान और प्रबंधन कंपनी है, जो अपने यूजर्स को समय से उनके क्रेडिट बिल का भुगतान करने की सुविधा उपलब्ध कराती है।

Kunal Shah

देश के जाने-माने आंत्रप्रेन्योर कुनाल शाह द्वारा स्थापित यह स्टार्टअप अपनी स्थापना के महज 2 साल के भीतर ही 4 बिलियन डॉलर मूल्य पर पहुँच गया है और इतने कम समय में यह उपलब्धि हासिल करने वाला यह देश का पहला स्टार्टअप है।


सीरियल आंत्रप्रेन्योर कुनाल शाह CRED से पहले स्टार्टअप फ्रीचार्ज की भी स्थापना कर चुके हैं, जिसे 2015 में उन्होने बेच दिया था। हालांकि इसके बाद अगले तीन साल कुनाल ने अपना समय विकसित देशों की अर्थव्यवस्था को समझने और यात्रा करने आदि में बिताया। इसी दौरान कुनाल शाह ने यह पाया कि क्रेडिट कार्ड और उससे जुड़े भुगतान के मामले में अभी भारतीय यूजर्स उतने अधिक जानकार नहीं हैं और यही कारण है कि क्रेडिट कार्ड से मिलने वाले तमाम फ़ायदों के बावजूद देश में डेबिट कार्ड और क्रेडिट कार्ड यूजर्स की संख्या में काफी बड़ा अंतर है। इस खाईं को पाटने और क्रेडिट कार्ड यूजर्स को अधिक सहूलियतें उपलब्ध कराने के उद्देश्य से ही कुनाल शाह ने CRED की स्थापना की थी।


आज भारतीय स्टार्टअप इकोसिस्टम के सबसे अधिक फॉलो किए जाने वाले उद्यमियों में से एक कुणाल शाह बता चुके हैं कि वे अपनी कंपनी में योग्य लोगों को काम पर रखने के लिए कॉलेज डिग्री की परवाह नहीं करते हैं, बल्कि इस यूनिकॉर्न कंपनी के एक सीनियर लीडर में से एक केवल 10वीं कक्षा तक पढ़े हुए हैं।


CRED ने अपनी स्थापना के बाद से ही अपने प्लेटफॉर्म की मार्केटिंग पर खासा ध्यान दिया है। अपनी इसी मार्केटिंग स्ट्रेटेजी के दम पर आज CRED बड़ी तेजी से आगे बढ़ती हुई कंपनी के रूप में देखी जा रही है, जहां आज देश भर में लोग CRED को उसके नाम भर से पहचानने लगे हैं।


इंटरनेट पर वायरल हुए इस कंपनी के विज्ञापनों में अनिल कपूर से लेकर राहुल द्रविड़ तक नज़र आ चुके हैं। इसी के साथ CRED साल 2020 से 2022 तक इंडियन प्रीमियर लीग यानी आईपीएल का आधिकारिक स्पॉन्सर भी है। इसी साल अक्टूबर में CRED ने 4 बिलियन डॉलर वैल्यूएशन पर 251 मिलियन डॉलर की फंडिंग भी जुटाई है।

भिखारियों को आंत्रप्रेन्योर बनाने वाला एनजीओ

‘कॉमन मैन ट्रस्ट’ नाम का यह गैर-लाभकारी संगठन भिखारियों के जीवन में बड़ा बदलाव लाते हुए उन्हें उद्यमिता के रास्ते पर ले जाने का काम कर रहा है।

ि

इस एनजीओ ने लैपटॉप और कॉन्फ़्रेंस बैग जैसी चीज़ें बनाकर ऐसे लोगों को जीविका कमाने में मदद करने के लिए एक प्रोजेक्ट की शुरुआत की है। दान से आगे जाकर निवेश पर ज़ोर देते हुए यह एनजीओ वाराणसी को साल 2023 तक भिखारी मुक्त शहर बनाने की ओर आगे बढ़ रहा है।


एनजीओ के साथ काम कर रहे लोगों ने वाराणसी में ऐसे भिखारियों के 12 परिवारों को अलग-अलग व्यवसायों के लिए प्रशिक्षित किया है और उसके बाद वे सभी लोग अब भीख मांगना छोड़ व्यवसाय कर रहे हैं। मीडिया से बात करते हुए कॉमन मैन ट्रस्ट के प्रमुख चंद्र मिश्रा ने बताया है कि वाराणसी में चलाया गया पायलट मॉडल अगर सफल रहता है तो इसे देश अन्य शहरों में भी ले जाने की योजना है।


एनजीओ के लोगों ने उन 12 परिवारों को समाज की मुख्यधारा में शामिल होने के लिए उनसे बात कर उनकी मानसिकता को बदलने पर भी काम किया, जिससे उनके भीतर अपना काम शुरू करने का आत्मविश्वास आ सका।


चंद्र मिश्रा के अनुसार साल 2022 के मार्च इसे कंपनी के रूप में पंजीकृत कर दिया जाएगा, जहां वे कंपनी यह एंजेल निवेशकों और उद्यम पूंजीपतियों से 2.5 करोड़ रुपये का फंड जुटाने पर भी फोकस करेगी। फिलहाल चंद्र मिश्रा वाराणसी के 100 और ऐसे परिवारों को इसमें जोड़ने के उद्देश्य से आगे बढ़ रहे हैं।


इसी के साथ यह ट्रस्ट वाराणसी के राजेंद्र प्रसाद घाट पर एक 'स्कूल ऑफ लाइफ' भी चलाता है, जहां फिलहाल भीख मांगने वाले परिवारों के 32 बच्चे पढ़ाई कर रहे हैं।

सेलेब्स की पसंदीदा डिजाइनर विरानिका मांचू

विरानिका मांचू ने दो फैशन लेबल लॉन्च किए हैं- Maison AVA जो एक बच्चों का वस्त्र ब्रांड है और Label Vida जो क्यूरेटेड आर्टिसनल वेव्स प्रदान करता है। इस साल की शुरुआत में लॉन्च हुए ये ब्रांड पहले से ही मशहूर हस्तियों के बीच काफी हिट रहे हैं।

ि

बॉलीवुड के पावर कपल ऐश्वर्या राय बच्चन और अभिषेक बच्चन की बेटी आराध्या बच्चन ने हाल ही में अपना 10वां जन्मदिन मनाया था, जहां उन्होंने एक आकर्षक फ्लोरेंटीना ड्रेस पहनी थी, जिसे उनके जन्मदिन के लिए असाधारण रूप से तैयार किया गया था।


यह ड्रेस विरानिका मांचू द्वारा स्थापित बच्चों के वस्त्र ब्रांड मैसन एवीए से आई थी, जिसने कम समय के भीतर फैशन पारखी, इंफ्लुएंसर्स, मशहूर हस्तियों, फैशन एडिटर और बाल हस्तियों पर अपनी पकड़ हासिल की है।


अपने उज्ज्वल और बोल्ड फैशन स्टेटमेंट के लिए जानी जाने वाली पेरिस हिल्टन ने हाल ही में मैसन एवीए के कस्टम-मेड मिड-बैक लेंथ डबल-लेयर्ड वेइल के साथ अपने लुक को पेश किया, जो नियॉन पिंक में कस्टम रंगे हुए थे। उन्होंने कैलिफोर्निया में सांता मोनिका पियर में पोस्ट वेडिंग "नियॉन कार्निवल" यह ड्रेस पहनी थी।


पद्म भूषण लेते हुए बैडमिंटन स्टार पीवी सिंधु ने लेबल विडा के फेस्टिव हेरिटेज कलेक्शन से कांची ब्लाउज के साथ डबल इकत ऑलिव ग्रीन पटोला साड़ी पहनी थी।


विरानिका मांचू सेलिब्रिटियों के बीच कोई अजनबी नहीं है। उनके पति विष्णु मांचू एक सफल उद्यमी, शिक्षाविद्, फिल्म निर्माता और तेलुगु उद्योग के प्रमुख सितारों में से एक हैं। वह आंध्र प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री वाईएस राजशेखर रेड्डी की भतीजी और आंध्र प्रदेश के मौजूदा मुख्यमंत्री वाईएस जगनमोहन रेड्डी की चचेरी बहन भी हैं।


अमेरिका में जन्मी विरानिका ने चेन्नई और हैदराबाद में स्कूली शिक्षा पूरी की और फिर वे फैशन मार्केटिंग में बीबीए करने निकल गईं।

वे कहती हैं, "मैं हमेशा एक डॉक्टर बनना चाहती थी, हालांकि मुझमें एक फैशन को लेकर भी दिलचस्पी थी। मैंने इंटर्नशिप की खोज की और अस्पतालों में स्वेच्छा से काम किया, लेकिन मुझे एहसास हुआ मेरा दिल फैशन में ही था।"


विरानिका कहती हैं, "वर्तमान में मैसन एवीए प्रत्यक्ष रूप से ग्राहकों के लिए उपलब्ध है और ग्राहक हैदराबाद में मैसन एवीए एटेलियर जा सकते हैं। दुबई, लंदन, न्यूयॉर्क और बेवर्ली हिल्स में अनुभव केंद्र और चार स्टोर खोलने की योजना है। विडा की योजना इसे पहले ऑनलाइन उपलब्ध कराने की है जहां एआर और वीआर तकनीक ग्राहकों को सही विकल्प बनाने में मदद कर सकती है।”


विरानिका आगे कहती हैं, लेबल विडा, बुनकर समुदाय के उत्थान और लुप्त होती कला रूपों को पुनर्जीवित करने में मदद करेगा।

अभी, मैसन एवीए के लिए प्रतिस्पर्धा बहुत कम है। हालाँकि, यदि आप विडा को देखें, तो निश्चित रूप से कई खिलाड़ी यहाँ मौजूद हैं, जिसमें बहुत सारे प्रतिभाशाली डिजाइनर भी शामिल हैं।

घाटे वाली कंपनी का अधिग्रहण कर इस उद्यमी ने व्यवसाय को बना दिया लाभदायक

कंपनी के पास अब लगभग 20 एसकेयू (स्टॉक कीपिंग यूनिट) हैं, जहां प्रत्येक उत्पाद कई रूपों में उपलब्ध है, जिसका अर्थ है कि ग्राहकों के पास चुनने के लिए कई विकल्प हैं।

ि

जब मुंबई स्थित Zoomin ने 2009 में अपना ऑनलाइन और ऑफलाइन व्यक्तिगत उपहार देने का व्यवसाय शुरू किया, तो भारत में तब उपहार देने का परिदृश्य अलग था। कस्टमर सर्विस हेड के रूप में कंपनी में शामिल हुए सचिन कतीरा बाद में कंपनी के संचालन को संभालने के साथ कंपनी को स्थानीय बाजार में मजबूत किया और अब वे तेजी से बढ़ रही है।


दरअसल Zoomin के संस्थापक के नाम का खुलासा ना करते हुए सचिन ने बताया कि किस तरह उन्हें बढ़ते घाटे के कारण 2018 में कारोबार बेचना पड़ा। इसके बाद स्टार्टअप के संस्थापक ने विदेशों में अपने अन्य व्यवसायों पर ध्यान केंद्रित करने का फैसला किया।हालांकि सचिन ने रुकने का फैसला किया।


सचिन ने योरस्टोरी को बताया, "लेकिन हम जो कर रहे थे उसका आनंद ले रहे थे और हमें पूरा भरोसा था कि आने वाले वर्षों में यह कारोबार बढ़ेगा।"


एक दोस्त के साथ साझेदारी करते हुए सचिन ने 2018 में एक अज्ञात राशि पर कंपनी खरीदी और नए सिरे से शुरुआत की। उन्होंने अपनी वेबसाइट और मोबाइल एप्लिकेशन के माध्यम से ऑनलाइन व्यापार मॉडल पर ध्यान केंद्रित किया। उनका दावा है कि जब से उन्होंने कंपनी का अधिग्रहण किया है, यह साल दर साल 60 प्रतिशत बढ़ी है। कंपनी कोरोना महामारी से भी बच गई जबकि इसने कई व्यवसायों को बंद कर दिया है।


सचिन का कहना है कि व्यक्तिगत उपहार देने का आकर्षण कभी फीका नहीं पड़ा, लेकिन लोगों को तलाशने के लिए और विकल्पों की आवश्यकता थी क्योंकि मग और फ्रेम पर केवल तस्वीरें स्टाइल से बाहर हो गईं थीं। जब सचिन ने व्यवसाय की बागडोर संभाली तो उन्होंने विभिन्न प्रकार की सामग्री में कैलेंडर, मैग्नेट, फोटो बुक, प्लानर आदि जैसी और श्रेणियां जोड़ीं।


कंपनी का ग्राहक आधार 2018 में आठ लाख से बढ़कर अब 21 लाख हो गया है। इसके ऐप यूजर्स 2018 में सात लाख से बढ़कर अब 17 लाख हो गए हैं। सचिन का दावा है कि जूमिन के 50 प्रतिशत ऑर्डर रिपीट होते हैं, जो हाई कस्टमर रिटेन्शन को दर्शाता है। सचिन के अनुसार, कंपनी को एक महीने में लगभग 25,000 ऑर्डर मिलते हैं और यह संख्या बढ़ रही है।

AI के जरिये शॉर्ट-फॉर्म वीडियो बनाने में मदद कर रहा है यह स्टार्टअप

YourStory के Tech50 2021 स्टार्टअप Toch.ai ने एक SaaS टूल बनाया है, जो स्पोर्ट्स इवेंट या टीवी शो के महत्वपूर्ण पलों की हाइलाइट्स की छोटी क्लिप बनाने के लिए वीडियो को विभाजित करने के लिए AI और ML तकनीक की मदद लेता है।

Toch.ai

शॉर्ट-फॉर्म वीडियो कंटेन्ट दर्शकों और निर्माताओं दोनों के लिए महत्वपूर्ण होती जा रही है, इसलिए यह एक तरह से यह सभी के लिए लाभदायक है। इसलिए कंटेन्ट के भरमार वाले युग में, ब्रांडों, प्लेटफार्मों, व्यवसायों और उत्पादकों के लिए अपने यूजर्स को जोड़े रखने के लिए इन इंस्टेंट या शॉर्ट-फॉर्म वीडियो फॉर्मैट के साथ बढ़ना जरूरी हो गया है।


इस मॉडल को क्रैक करने की कुंजी व्यवसायों को मुद्रीकरण करने में सक्षम होने के लिए इन वीडियो क्लिपिंग का तेजी से होता बदलाव है। YourStory की Tech50 सूची में सबसे शुरुआती चरण के स्टार्टअप्स में से एक मुंबई स्थित Tochने इसे आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई) और मशीन लर्निंग (एमएल) की मदद से पूरा करने का काम किया है।


साकेत दंडोतिया, विनायक श्रीवास्तव और आलोक पाटिल द्वारा स्थापित Toch.ai ने एक एआई-संचालित टेक्नोलॉजी प्लेटफॉर्म विकसित किया है जो वीडियो कंटेन्ट को आकर्षक तरीके से बनाने और वितरित करने की पूरी प्रक्रिया को स्वचालित करता है, जिससे व्यवसायों के लिए समय और धन की बचत होती है।


सॉफ़्टवेयर-एज़-ए-सर्विस (SaaS) प्लेटफ़ॉर्म सिंगल फ़ीड डेटा का विश्लेषण करने और ताज़ा शॉर्ट-फ़ॉर्म वीडियो सामग्री का उत्पादन करने के लिए चेहरे और इमेज की पहचान, विजन मॉडल, ऑप्टिकल कैरेक्टर पहचान, प्रोजेक्शन डीनोइज़िंग और ऑडियो डिटेक्शन जैसी तकनीकों का उपयोग करता है। जो ब्रांड लोगो, प्रायोजक संदेशों, ग्राफिक्स आदि के साथ पर्सनलाइज्ड होती हैं। कंटेन्ट को तब 30 से अधिक सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर ऑटो-शेयर किया जाता है।


पांच साल पुराना स्टार्टअप समाचार, खेल और मनोरंजन क्षेत्रों सहित मीडिया उद्योग के साथ काम करता है और सुरक्षा, सड़क सुरक्षा, स्वास्थ्य देखभाल और शिक्षा जैसे नए क्षेत्रों की खोज कर रहा है।