Wize ने बनाया एक ऐसा इन्फ्रा और API टूलकिट, जो कुछ ही घंटों में कंपनियों को अपने NFT प्रोडक्ट्स यूजर्स तक पहुंचाने में करता है मदद

By Rishabh Mansur
April 14, 2022, Updated on : Thu Apr 14 2022 07:35:59 GMT+0000
Wize ने बनाया एक ऐसा इन्फ्रा और API टूलकिट, जो कुछ ही घंटों में कंपनियों को अपने NFT प्रोडक्ट्स यूजर्स तक पहुंचाने में करता है मदद
Wize को पूर्व में Senderment के रूप में जाना जाता था। यह एक एनएफटी इंफ्रास्ट्रक्चर और API टूलकिट उत्पाद है, जो POAP (प्रूफ ऑफ अटेंडेस प्रोटोकॉल) एनएफटी, आईडेंडिटी एनएफटी, सर्टिफिकेट NFT, अवॉर्ड एनएफटी, टिकट एनएफटी आदि ऑफर करता है।
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

ब्लॉकचेन पर डिजिटल संपत्ति के मालिकाना हक को रिकॉर्ड करने और साबित करने के लिए नॉन-फंजिबल टोकन (एनएफटी) एक क्रांतिकारी तरीके के रूप में उभरा है। उद्यमी सौरव राज को एनएफटी में क्षेत्र में उतरने के लिए ज्यादा सोच-विचार नहीं करना पड़ा। सौरव कुछ सालों से सेंडरमेंट का खड़ा करने में लगे थे। यह एक ब्लॉकचेन ऐप है जो संस्थानों को जर्स से डेटा इकठ्ठा करने और उन्होंने उन बिजनेसों से जोड़ने में सक्षम बनाता है, जिन्हें यूजर्स डेटा (उनकी स्पष्ट सहमति के साथ) का इस्तेमाल की जरूरत है।


जब एनएफटी ब्लॉकचेन पर निजी, सुरक्षित और अपरिवर्तनीय तरीके से यूजर्स के डेटा को रिकॉर्ड करने के तरीके के रूप में उभरा, तो सौरव ने इसे सेंडरमेंट की यात्रा के अगले चरण के रूप में देखा।


उन्होंने योरस्टोरी को बताया, "सेंडरमेंट जहां ट्रांजैक्शन के स्तर पर काम करता था, वहीं अब हम प्रोटोकॉल स्तर पर एनएफटी के साथ काम करते हैं, और हमने वाइज की नए सिरे से ब्रांडिंग की है। बुनियादी ढांचा ब्लॉकचेन से मिलता है और ग्राहकों पर इस बुनियादी ढांचा की कोई लागत नहीं आती, और मिडलवेयर हमसे आता है।"

Wize

Wize की पेशकश

सौरव ने श्लमबर्जर के दिनों की अपनी पूर्व सहयोगी स्मृति चौधरी के साथ मिलकर वाइज की स्थापना की थी। वाइज अब खुद को बिजनेसों, DAOs और डेवलपर्स के लिए एक वन-स्टॉप NFT इंफ्रास्ट्रक्चर और एपीआई टूलकिट के रूप में स्थापित कर रहा है।


इसकी पेशकशों में POAP (प्रूफ ऑफ अटेंडेस प्रोटोकॉल) एनएफटी- जो ऑनलाइन और ऑफलाइन कार्यक्रमों में उपस्थिति का सबूत दिखाने के लिए क्यूरेट किए गए कलेक्टीबल्स हैं, आइडेंटिटी एनएफटी - जो गिग वर्कर्स के लिए डिसेंट्रलाइज आइडेंटिटी समाधान हैं, सर्टिफिकेट एनएफटी - एकेडमिक कोर्सों के लिए, पुरस्कार एनएफटी - प्रतियोगिता के लिए कस्टमाइज एनएफटी, टिकट - एनएफटी - इवेंट आधारित टिकटिंग, उपहार कार्ड सहित बहुत कुछ शामिल है।


कई अन्य ब्लॉकचेन ऐप की तरह, वाइज पॉलीगॉन चेन पर चलता है (जो एथेरियम पर बनाया गया एक लेयर -2 नेटवर्क है )। सेंडरमेंट इससे पहले हाइपरलेगर (एक निजी ब्लॉकचेन सर्विस) पर चलता था , लेकिन सौरव अब एथेरियम जैसी पब्लिक चेन पर बने लेयर -2 समाधानों में पूरा भरोसा रखते हैं।


वह बताते हैं, "दो साल पहले, हर कोई अपना ब्लॉकचेन चाहता था। हाइपरलेगर, कॉर्डा आदि ने एंटरप्राइज के स्तर पर समाधानों खोज रही कंपनियों को आकर्षित किया जो डेटा को प्राइवेट रखते थे। वे इसे क्लाउड सर्वर में वर्चुअल मशीन के रूप में चलाना चाहते थे। लेकिन अब, पब्लिक चेन काफी कुशल हो गई हैं और लेयर -2 चेन ने उन्हें तेज और अधिक किफायती बना दिया है।"


अब, अगर कोई स्टार्टअप या कोई बड़ा उद्यम एक ब्लॉकचेन ऐप बनाना चाहता है, तो प्राइवेट चेन्स की तुलना में पब्लिक चेन्स पर बिना रखरखाव की लागत और बिना सर्वर की समस्या आदि के साथ काम करना आसान है।


इसके अलावा, अगर वे अवॉर्ड्स, इवेंट्स, सर्टिफिकेट आदि के लिए एनएफटी को अपनाना चाहते हैं, तो वे आसान तरीके से एनएफटी को क्यूरेट और मिंट करने के लिए वाइज जैसे उत्पाद का इस्तेमाल कर पॉलीगॉन और एथेरियम का लाभ उठा सकते हैं।


सौरव कहते हैं, "हम ईकॉमर्स सक्षम फर्मों के साथ काम कर रहे हैं और हमने देखा कि गिग वर्कर्स और डिलीवरी एजेंटों की कोई पर्सनल आईडेंटिटी प्रोफाइल या वर्क प्रोफाइल नहीं है। इसके चलते उनके लिए वित्तीय सेवाओं का लाभ उठाना मुश्किल हो जाता है। हमारी सेंडमेंट के कॉन्सेप्ट का इस्तेमाल करते हुए, हमने उनकी एंप्लॉयमेंट हिस्ट्री रिकॉर्ड करने और उनकी प्रोफाइल बनाने के लिए ब्लॉकचेन का इस्तेमाल करने का फैसला किया। इस तरह, डेटा को सुरक्षित तरीके से एक्सेस करने में कोई झंझट नहीं है।”


वह कहते हैं, "इस समय यह पायलट के तौर किया जा रहा है, लेकिन इसने हमें यह सोचने के लिए पर मजबूर किया कि कैसे व्यक्तिगत और व्यावसायिक डेटा (सिर्फ वित्तीय डेटा से परे) को एनएफटी में इनकोड किया जा सकता है, और हम कैसे इससे जुड़े सॉल्यूशंस बना सकते हैं।"

Wize

स्टार्टअप के शुरुआती दिन

सेंडरमेंट का कॉन्सेप्ट मूल रूप से पर्सनल, आइडेंटिटी और वित्तीय जानकारी के डेटा कलेक्शन को आसान बनाने के बारे में था। सौरव के लिए सेंडरमेंट का कॉन्सेप्ट से आगे बढ़ने पर NFT एक स्वाभाविक रूप से अगला पड़ाव था।


वास्तव में, उन्होंने पहली बार यह रास्ता तय किया जब उन्होंने यूरोपीय यूनियन के जनरल डेटा प्रोटेक्शन रेगुलेशन (GDPR) पर ध्यान दिया। जीडीपीआर यूरोपीय यूनियन के कानून में एक रेगुलेशन है जो व्यक्तियों को पर्सनल डेटा का कंट्रोल देता है।


सौरव को अमेरिका में कई कानूनों का भी सामना करना पड़ा जो निवासियों के पर्सनल डेटा की रक्षा करते थे। श्लमबर्जर के पूर्व कर्मचारी सौरव ने महसूस किया कि भारत को कुछ उत्पादों या दिशानिर्देशों की जरूरत है, जिससे वह लोगों को उनके पर्सनल डेटा की सुरक्षा और नियंत्रण में उनकी मदद कर सके।


अगस्त 2020 में, सौरव और स्मृति चौधरी ने मुंबई में सेंडरमेंट लॉन्च किया और यह अकाउंट एग्रीगेटर (AA) ढांचे का इस्तेमाल करके पब्लिक डोमेन में बना भारत के शुरुआती डेटा कलेक्टीबल्स ऐप्लिकेशंस में से एक था।


अब, वाइज के साथ दोनों को-फाउंडर्स एनएफटी सेगमेंट में उतर रहे है, जिसका बाजार भारत में तेजी से बढ़ रहा है। रारियो, गार्जियनलिंक, वाइब्रानियम, डिगिनूर, इकोन्ज, कोलेक्सियन, बियॉन्डलाइफ, वजीरएक्स एनएफटी मार्केटप्लेस आदि जैसे स्टार्टअप इस उभरते हुए बाजार का अधिकतम लाभ उठाने के लिए अनूठा नजरिया बना रहे हैं।


हालांकि, जहां कई स्टार्टअप बाजार या ग्राहक-केंद्रित पेशकश पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं, वहीं वाइज कुछ ही घंटों में अपने NFT को यूजर्स तक भेजने के लिए व्यवसायों, DAO और डेवलपर्स के साथ काम करना चाहता है।


Edited by Ranjana Tripathi