2021 में भारत की GDP में YouTube क्रिएटर्स ने दिए 10,000 करोड़ रुपये, जल्द लॉन्च होगा YouTube Courses

2021 में भारत की GDP में YouTube क्रिएटर्स ने दिए 10,000 करोड़ रुपये, जल्द लॉन्च होगा YouTube Courses

Tuesday December 20, 2022,

2 min Read

Google ने सोमवार को Google for India इवेंट लॉन्च किया और वर्ष 2023 के लिए अपनी भारत-संबंधित रणनीतियों के लिए रोडमैप तैयार किया. सर्च इंजन दिग्गज ने क्रिएटर्स के माध्यम से देश में अपने यूजर बेस का विस्तार करने के लिए नए प्रोडक्ट्स और सर्विसेज की भी घोषणा की.

भारत के लिए गूगल YouTube में नए जुड़ाव के साथ आया है. अमेरिका-बेस्ड कंपनी ने कहा है कि वह 2023 की पहली छमाही में YouTube Courses लॉन्च करेगी. YouTube Courses वीडियो के रूप में लर्निंग मैटेरियल शेयर करने का एक ऑनलाइन माध्यम होगा. इसमें रेफरेंस के लिए पीडीएफ और अन्य फाइलें भी शामिल होंगी. YouTube Courses भारत, अमेरिका और दक्षिण कोरिया में बीटा रूप में शुरू होंगे.

क्रिएटर्स के आधार पर YouTube Courses एक फ्री या पैड कैंपेन होने जा रहा है. पैड कंटेंट के लिए, Google अपनी मानक दरों के अनुसार फीस लेगा.

Google के अनुसार, YouTube की क्रिएटर इकॉनमी ने 2021 में भारत की GDP (Gross domestic product) में ₹10,000 करोड़ का योगदान दिया, और साथ ही साथ 7.5 मिलियन नए प्रकार के रोजगार पैदा किए. यह जानकारी ऑक्सफोर्ड इकोनॉमिक्स इम्पैक्ट रिपोर्ट से आई है, Google ने कहा.

YouTube ने यह भी घोषणा की कि वह हिंदी, मराठी, तमिल, तेलुगु, कन्नड़, गुजराती, बंगाली और अंग्रेज़ी में 100 से अधिक स्थितियों को कवर करते हुए विश्वसनीय कंटेंट बनाने और बढ़ाने के लिए Narayana, Manipal, Medanta, और Shalby सहित अधिक स्वास्थ्य संस्थानों के साथ काम करने के लिए विस्तार करेगा.

YouTube विभिन्न भाषाओं में एकाधिक ऑडियो ट्रैक्स के साथ सिंगल वीडियो रखने की क्षमता का भी टेस्ट कर रहा है.

YouTube एआई-सक्षम समाधान, Aloud को आगे बढ़ा रहा है, जो हेल्थ सर्विस प्रोवाइडर्स के एक छोटे समूह को डबिंग की प्रक्रिया को सरल बनाने और ऐसा कंटेंट बनाने की अनुमति देगा जो एक ही वीडियो को कई ऑडियो ट्रैक्स के साथ अपलोड करने का समर्थन करती है.

YouTube के इस कदम से घरेलू एडटेक कंपनियों जैसे BYJU'S, Unacademy और Physics Wallah को सीधी टक्कर मिल सकती है. इनमें से कई प्लेटफॉर्म्स Google के स्वामित्व वाले प्लेटफॉर्म पर शुरू हुए हैं.

जबकि एजुकेशनल कंटेंट YouTube पर कई वर्षों से उपलब्ध है, यह क्रिएटर्स को दर्शकों को अधिक व्यापक, संरचित सीखने का अनुभव प्रदान करने की अनुमति देगा. बदले में, क्रिएटर्स को विज्ञापन, चैनल की सदस्यता और सब्सक्रिप्शन के अलावा एक नया मुद्रीकरण विकल्प प्राप्त होगा.