[YS Exclusive] स्कूल में सीखी क्रॉस स्टीचिंग ने बना दिया जगत ‘चाची’; 50 की उम्र में शुरू किया स्मॉल बिजनेस

By रविकांत पारीक
February 14, 2022, Updated on : Mon Feb 14 2022 09:29:04 GMT+0000
[YS Exclusive] स्कूल में सीखी क्रॉस स्टीचिंग ने बना दिया जगत ‘चाची’; 50 की उम्र में शुरू किया स्मॉल बिजनेस
देहरादून की रहने वाली 56 वर्षीय हेमलता पाल Chachi Cross Stitch की फाउंडर हैं, जोकि हैंडीक्राफ्ट्स का स्मॉल बिजनेस हैं। हेमलता ने अपने स्कूल के दिनों में क्रॉस स्टीचिंग सीखी थी लेकिन बाद में 50 की उम्र में इसे नए आयाम देते हुए बिजनेस का रूप दिया।
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

'उम्र महज एक नंबर है' ये बात हमने अक्सर सुनी है, लेकिन उत्तराखंड की राजधानी देहरादून की रहने वाली हेमलता पाल उर्फ 'चाची' ने इसे सही साबित कर दिया है। उन्होंने 50 की उम्र पार करने के बाद हैंडीक्राफ्ट्स का स्मॉल बिजनेस शुरू किया। वे Chachi Cross Stitch की फाउंडर और क्रिएटर हैं।


क्रॉस स्टीचिंग धागे की कढ़ाई (embroidery) का एक रूप है जो सदियों से चली आ रही है, और इसे बहुत ही मेहनत और बारीकी के साथ किया जाता है। क्रॉस स्टिच में एक्स-आकार के टांके शामिल होते हैं जो कपड़े पर समान और खुली बुनाई जैसे ऐडा या लिनन के साथ किए जाते हैं। डिजाइन पारंपरिक या आधुनिक हो सकते हैं।

Chachi Cross Stitch

हेमलता पाल ने अपने बिजनेस वेंचर Chachi Cross Stitch की शुरूआत के बारे में YourStory के साथ बातचीत में बताया, "मैंने अपने स्कूल के दिनों में क्रॉस स्टीचिंग सीखी थी और मुझे इस आर्ट से बेहद लगाव था। मुझे क्रॉस स्टीचिंग को लेकर जुनून था। लेकिन फिर बड़े होने पर शादी के बाद घर की जिम्मेदारियां निभाने और बेटी के लालन-पोषण में स्टीचिंग पीछे छूट गई।"

Chachi Cross Stitch Products

Chachi Cross Stitch के प्रॉडक्ट्स

उन्होंने आगे कहा, "इन सब के बावजूद मेरा क्रॉस स्टीचिंग के प्रति जुनून कभी कम नहीं हुआ। दो साल पहले लॉकडाउन के दिनों में जब मैं घर की सफाई कर रही थी तब मेरी भतीजी कीमी ने मेरे द्वारा क्रॉस स्टीचिंग से बनाया हुए लॉयन (शेर) देखा। फिर उन्होंने कहा कि 'चाची' आपने बहुत ही सुंदर और प्यारा लॉयन बनाया है। आप इसे (क्रॉस स्टीचिंग को) फिर से शुरू क्यों नहीं करती?"


फिर हेमलता को उनकी बेटी (वर्तमान में अमेरिका में रह रही है) और उनके पति, जोकि एक रिटायर्ड बैंकर हैं, ने उन्हें फिर से क्रॉस स्टीचिंग शुरू करने के लिए प्रेरित किया और उन्हें समर्थन दिया। उनकी भतीजी ने Instagram पर उनका अकाउंट बनाकर आर्टवर्क की तस्वीरें अपलोड की।


बहुत जल्द ही उन्हें लोगों से ऑर्डर मिलने शुरू हो गए और तब से पीछे मुड़कर नहीं देखा। उनकी भतीजी अपनी चाची के साथ मिलकर प्रोडक्ट्स की पैकेजिंग में भी हाथ बटाती है।

हेमलता पाल 'चाची' अपने प्रोडक्ट्स को InstaMojo के जरिए ऑनलाइन बेच रही है। उनके प्रोडक्ट्स की रेंज 150 रुपये से शुरू होकर 800 रुपये तक होती है, जोकि काफी किफायती है।


केंद्रीय जनजातीय मामलों के मंत्री अर्जुन मुंडा ने भी 'चाची' द्वारा बनाए गए क्रॉस स्टीच हैंडीक्राफ्ट्स की सराहना की है।

Chachi Cross Stitch

केंद्रीय मंत्री अर्जुन मुंडा ने भी 'चाची' द्वारा बनाए गए क्रॉस स्टीच हैंडीक्राफ्ट्स की सराहना की है।

बेहद सकारात्मक दृष्टिकोण के साथ बिजनेस चलाने के लिए कड़ी मेहनत और लगन की जरुरत होती है, जो चाची अपनी क्रॉस स्टीचिंग के जरिए बखूबी दिखाती है। वह हर चुनौती को एक नई सीख के रूप में देखती है।

'चाची' की चिट्ठी

हेमलता बताती है कि क्रॉस स्टीचिंग बेहद सफाई, बारीकी और मेहनत से किया जाने वाला काम है। वे पारंपरिक और आधुनिक, दोनों तरह के डिजाइन करके प्रोडक्ट्स बनाती है। प्रोडक्ट्स की पैकेजिंग के साथ वे अपने कस्टमर्स के लिए अपने हाथों से लिखी हुई खास चिट्ठी भी भेजती है।


चाची बताती है, "मैं अपने कस्टमर्स के साथ प्यार बांटना चाहती हूँ। कस्टमर्स जब भी अपने प्रोडक्ट्स के साथ उन्हें मिली चिट्ठी पढ़ते हैं तब उन्हें खास तरह की खुशी मिलती है और उस अनुभव को वे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के जरिए हमारे साथ साझा करते हैं। और ये बात मुझे सबसे ज्यादा प्रेरणा देती है। इससे मुझे आत्म-संतुष्टि का एहसास होता है। मैं रुपये कमाने से ज्यादा प्यार बांटने और प्यार पाने में विश्वास रखती हूँ, जिससे मेरे कस्टमर्स और मुझे, दोनों को ही खास जुड़ाव महसूस होता है। मेरे सभी कस्टमर्स के साथ मेरा स्नेह का रिश्ता है।"


आज चाची सभी आंत्रप्रेन्योर्स के लिए अपने जुनून को पूरा करने, धैर्य और अपनी रुची में महारत हासिल करने की सीख देती है।


Edited by Ranjana Tripathi