Rapido ने महाराष्ट्र में बंद कीं सभी सर्विसेज, बॉम्बे हाई कोर्ट के आदेश के बाद उठाया कदम

By yourstory हिन्दी
January 13, 2023, Updated on : Fri Jan 13 2023 10:41:01 GMT+0000
Rapido ने महाराष्ट्र में बंद कीं सभी सर्विसेज, बॉम्बे हाई कोर्ट के आदेश के बाद उठाया कदम
रैपिडो शुक्रवार दोपहर 1 बजे तक महाराष्ट्र में अपनी सभी सेवाएं बंद करने पर सहमत हो गई.
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

बॉम्बे हाई कोर्ट (Bombay High Court) ने बाइक-टैक्सी एग्रीगेटर रैपिडो (Rapido Bike Taxi) को महाराष्ट्र में अपनी सभी सेवाओं को सस्पेंड करने का निर्देश दिया है. इसकी वजह है कि कंपनी इस बात को लेकर भौतिक तथ्यों का खुलासा करने में विफल रही है कि उसके पास ऑपरेट करने के लिए लाइसेंस नहीं है और वह अवैध रूप से काम कर रही है. रैपिडो शुक्रवार दोपहर 1 बजे तक महाराष्ट्र में अपनी सभी सेवाएं बंद करने पर सहमत हो गई. इसमें टूव्हीलर पैसेंजर सर्विस, टूव्हीलर पार्सल सर्विस और ऑटो सर्विस शामिल है.

यह रोक 20 जनवरी 2023 तक लागू रहेगी. बॉम्बे हाई कोर्ट ने मंगलवार को महाराष्ट्र में बाइक टैक्सी की अनुमति देने वाली नीति तैयार करने में अनिश्चितता के लिए महाराष्ट्र सरकार को फटकार लगाई थी और कहा था कि उसे किसी न किसी रूप में अपना रुख स्पष्ट करना होगा. कोर्ट की बेंच पुणे और मुंबई में रैपिडो बाइक टैक्सी सेवाओं की संचालक रोपेन ट्रांसपोर्टेशन सर्विसेज प्राइवेट लिमिटेड द्वारा दायर एक याचिका पर सुनवाई कर रही थी. यह याचिका राज्य सरकार द्वारा 29 दिसंबर 2022 को कंपनी को जारी की गई उस कम्युनिकेशन के खिलाफ थी, जिसमें उसे बाइक टैक्सी एग्रीगेटर लाइसेंस की अनुमति देने से इनकार किया गया था.

कर्नाटक में अवैध घोषित हो चुके हैं Ola, Uber Rapido के ऑटो

इससे पहले अक्टूबर 2022 में कर्नाटक में ओला (Ola), उबर (Uber) और रैपिडो (Rapido Bike Taxi) के ऑटो को अवैध घोषित कर दिया गया था. कर्नाटक ट्रांसपोर्ट विभाग ने ओला की पेरेंट कंपनी ANI Technologies, उबर और रैपिडो को नोटिस जारी किया था. राज्य सरकार का कहना है कि इन कंपनियों के ऑटो अवैध हैं और आदेश दिया गया था कि इनकी ऑटो सर्विसेज बंद हो जानी चाहिए. साथ ही यात्रियों से, राज्य सरकार द्वारा निर्धारित किराए से ज्यादा चार्ज नहीं वसूला जाना चाहिए.

Ola में 200 कर्मचारियों की छंटनी

इस बीच एक खबर यह भी है कि Ola ने अपनी टेक और प्रोडक्ट टीम से करीब 200 कर्मचारियों की छंटनी कर दी है. Inc42 की रिपोर्ट के अनुसार, ओला ने ऐसा अपनी रिस्ट्रक्चरिंग एक्सरसाइज के तहत किया है. यह छंटनी ओला के विभिन्न वर्टिकल्स जैसे ओला कैब्स, ओला इलेक्ट्रिक और ओला फाइनेंशियल सर्विसेज में इस हफ्ते शुरू हुई. ओला ने एक बयान में कहा है कि हम दक्षता में सुधार के लिए नियमित रूप से रिस्ट्रक्चरिंग एक्सरसाइज करते हैं. हमारे पास ऐसे रोल्स भी हैं जिनकी अब कोई जरूरत नहीं है. हम अपने प्रमुख प्राथमिकता वाले क्षेत्रों में सीनियर टैलेंट सहित इंजीनियरिंग और डिजाइन में नई भर्तियां करना जारी रखेंगे. इस बारे में डिटेल में पढ़ें...

यह भी पढ़ें
OLA और Cashfree ने सैकड़ों कर्मचारियों को नौकरी से निकाला: रिपोर्ट


Edited by Ritika Singh