कैंसर ने ली थी माँ की जान, अब बेटी ने शुरू किया मानव बालों से बने विग और एक्सटेंशन का व्यवसाय

By Palak Agarwal|8th Jan 2020
Clap Icon0 claps
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Clap Icon0 claps
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

किसी अपने को खोने की क्षति हम सभी को प्रभावित करती है, लेकिन हर किसी के पास इसका सामना करने का अपना अलग तरीका होता है।


क

निष्ठा मलिक, ब्यूक्स की फाउंडर



निष्ठा मलिक 17 साल की थीं, और उनका 18वां जन्मदिन सिर्फ दो दिन दूर था जब उनकी माँ ने अंतिम सांस ली। यह उनके लिए एक दिल दहलानेवाला क्षण था। उन्होंने अपनी मां को फेफड़े के कैंसर से जूझते देखा और आखिरकार इस बीमारी ने उनकी जान ले ली।


निष्ठा कहती हैं,

“डॉक्टरों ने हमें एक सप्ताह पहले सूचित किया था कि मेरी माँ की हालत गंभीर है। जब मैंने अपनी मां को खोया तब मैं अपनी कक्षा 12 की बोर्ड परीक्षा दे रही थी। लेकिन, मैंने उनसे वादा किया था कि मैं परीक्षा नहीं छोड़ूंगी। यह एक ऐसी सिचुएशन थी जिसने मुझे हिलाकर रख दिया। एक छोर पर, मैं अपने स्कूली जीवन के सबसे महत्वपूर्ण चरण में थी; दूसरी ओर, मैं सबसे खराब स्थिति का सामना कर रही थी जिसकी केवल मैं ही कल्पना कर सकती हूं।”


उनकी माँ की मृत्यु ने उनके दिल और जीवन को झकझोर कर रख दिया था, लेकिन निष्ठा ने किसी तरह खुद को संभाला। 2012 में 12वीं कक्षा पूरी करने के बाद, उन्होंने अपनी स्नातक की पढ़ाई पूरी की और आंत्रप्रेन्योरशिप में मास्टर करने के लिए लंदन चली गईं। उन्होंने एक ऑर्गेनिक हेयर केयर कंपनी में भी काम किया, लेकिन वह संतुष्ट नहीं थी।


2019 में, निष्ठा भारत वापस आ गईं और देश में ऑर्गैनिक हेयर केयर मार्केट (organic hair care market) की खोज की।


वह तब निराश हो गईं जब उन्होंने देखा कि उद्योग में कमी है, खासकर जब यह विग और हेयर एक्सटेंशन की बात आती है तो। लेकिन इसने उन्हें अपने उस दर्द भरे पल का अहसास दिला दिया क्योंकि उन्होंने अपनी माँ को इलाज की प्रक्रिया के दौरान अपने बाल खोने के बाद विग ढूंढने के लिए संघर्ष करते देखा था। उन्होंने तुरंत फैसला किया कि यही वह काम है जिसे वह करने जा रही है।


उन्होंने फैसला किया कि वह कीमोथेरेपी से गुजरने वाली महिलाओं को साहस और उम्मीद के साथ उन्हें क्वालिटी विग्स और एक्सटेंशन प्रदान करेंगी।


पहला कदम उठाते हुए

दो साल तक निष्ठा ने बाजार का गहन शोध किया। वे कहती हैं,


“मैंने पाया कि सिंथेटिक हेयर प्रोडक्ट्स ज्यादा मात्रा में थे और बाजार में कोई भी नहीं था जो 100 प्रतिशत मानव बाल से बने विग और एक्सटेंशन प्रदान करता हो। जब मैं लंदन में थी, तो मैंने ब्रांडों को इस व्यवसाय को करते देखा था; वे बहुत लोकप्रिय थे। लेकिन, भारत में, मैं उसे कहीं भी नहीं देख सकती थी।"


निष्ठा ने इस अप्रयुक्त बाजार पर ध्यान केंद्रित करने का फैसला किया और जून 2019 में अपनी कंपनी, ब्यूक्स (Beaux), जिसका अर्थ है ब्यूटीफुल, को लॉन्च किया। कैंसर रोगियों की मदद करने के अलावा, उन्होंने सोचा कि इंडस्ट्री में असली बाल लाने से उनके ग्राहक, विशेष रूप से महिलाएं, "सुंदर घने बाल पाएंगी जिसकी वे हकदार हैं।''


क

ब्यूक्स द्वारा निर्मित हेयर एक्सटेंशन

वे कहती हैं,

“हेयर एक्सटेंशन और विग कुछ नहीं हैं, बल्कि महिलाओं को देखने और अधिक आत्मविश्वास महसूस करने में मदद करने के लिए एक उपकरण है। कुछ महिलाओं के वास्तव में पतले बाल होते हैं, शायद आनुवंशिकी, तनाव या बीमारी के परिणामस्वरूप से ऐसे होते हैं, इससे उन्हें दैनिक आधार पर असुरक्षित महसूस होता है। या ऐसा भी होता है कि कि बाल केवल एक निश्चित बिंदु से आगे न बढ़ें, या लंबे हों लेकिन कम घने हों। उन मामलों में, हमें निश्चित रूप से हेयर एक्टेंशन से थोड़ी अतिरिक्त मदद की आवश्यकता होती है, ताकि हम वो बाल पा सकें जिसका हमने सपना देखा।"


व्यवसाय का निर्माण

शुरुआत करना कोई बड़ा संघर्ष नहीं था क्योंकि भारत दुनिया में बालों का सबसे बड़ा निर्यातक है। निष्ठा का कहना है कि ब्यूक्स 100 प्रतिशत प्राकृतिक बालों का उपयोग करता है और इसे दक्षिण भारत के मंदिरों से प्राप्त करता है, मुख्य रूप से तिरुपति बालाजी (जहां लोग धार्मिक अभ्यास के रूप में अपने बालों का मुंडन कराते हैं)।


उन्होंने कंपनी की शुरुआत 8 लाख रुपये की पूंजी से की थी, जिसे उन्होंने अपने पिता से उधार लिया था। प्रोसेसिंग युनिट कोटा, राजस्थान में है, जहाँ इकट्ठे बाल विभिन्न प्रक्रियाओं से गुजरते हैं, जिनमें प्री कंडीशनिंग, धुलाई और कंडीशनिंग एक बार नहीं, बल्कि दो बार होती है।


एक तैयार प्रोडक्ट के अंत में युनिट से निकलने से पहले एक मल्टी-स्टेप क्वालिटी कंट्रोल होता है। ब्यूक्स विग्स, टॉपर्स, कलर हेयर स्ट्रैंड्स / स्ट्रीक्स, हेयर स्क्रंचीज और हेयर रैप्स बनाता है। छह महीने में, जून 2019 में लॉन्च होने के बाद, कंपनी ने 12-15 लाख रुपये की औसत बिक्री की है, और दक्षिण अफ्रीका, दुबई और तुर्की को निर्यात करना शुरू कर दिया है।


क

ब्यूक्स द्वारा निर्मित हेयर विग्स

निष्ठा कहती हैं,

“मेरे पास लंदन में भी क्लाइंट्स हैं, और हम मुंबई में विभिन्न सैलून और अटलांटिस और दुबई में पाम जुमेरा में भी मौजूद हैं। मैं अपने प्रोडक्ट्स को स्टॉक करने के लिए एक जानी मानी चैन के साथ बातचीत कर रही हूं, जो पूरे भारत में 950 सैलून चलाती है।”


वह पूरे भारत में विभिन्न प्रदर्शनियों में अपने उत्पादों का प्रदर्शन करती हैं और मानव बाल एक्सटेंशन का उपयोग करने के बारे में जागरूकता फैलाती हैं।


वह पर्ल अकादमी, दिल्ली में सेशन का भी संचालन करती हैं। कंपनी वर्तमान में अपनी वेबसाइट Indiamart, Instagram और Facebook जैसे सोशल मीडिया पोर्टल के माध्यम से प्रोडक्ट बेचती है। कंपनी ने कई मेकअप आर्टिस्ट के साथ भी कोलैबोरेशन किया है जो अपने ग्राहकों के लिए ब्यूक्स का उपयोग करते हैं।





कंपनी फरवरी से अमेजन, फ्लिपकार्ट और थर्ड पार्टी वेबसाइट पर बिक्री शुरू करेगी। बिक्री के बीच, निष्ठा ने यह नहीं भुलाया कि उन्होंने ब्यूक्स क्यों शुरू किया, और इसके लिए वे कैंसर रोगियों को मुफ्त में मदद करती हैं जो उनसे संपर्क करते हैं।


चुनौतियों और आगे के रास्ते को नेविगेट करना

जागरूकता पैदा करना सबसे बड़ी चुनौतियों में से एक रहा है, निष्ठा कहती हैं कि लोग अक्सर मानव बाल से बने एक्सटेंशन और विग का उपयोग करने के कारणों और लाभों को नहीं समझते हैं। सिंथेटिक विग्स में बहुत कम शैल्फ लाइफ होता है; वे केवल एक दिन या अधिकतम एक-दो दिनों तक चलते हैं और आप उनके साथ प्रयोग नहीं कर सकते। दूसरी ओर, मानव बाल एक्सटेंशन और विग 10 साल से अधिक समय तक चलते हैं, और उन्हें धोया जा सकता है, स्ट्रेंथन किया सकता है, कलर किया जा सकता है, और बहुत कुछ किया जा सकता है।


निष्ठा बताती हैं,

“सिंथेटिक हेयर एक्सटेंशन की कीमत खुदरा में लगभग 3,000 रुपये है। लोग केवल एक या दो बार उनका उपयोग कर सकते हैं और वे सिर के लिए भी अच्छे नहीं हैं। दूसरी ओर, हमारे एक्सटेंशन की कीमत लगभग 15,000 रुपये और ये 10 वर्षों से अधिक चलता है। लेकिन लोग अभी भी पूरी जानकारी के बिना अपनी च्वॉइस तय करते हैं।”
क

ब्यूक्स मेन टोपी

वह कहती हैं कि उनके प्रोडक्ट थोड़े महंगे हैं, ऐसा इसलिए है क्योंकि वे "100 प्रतिशत प्राकृतिक हैं और एक बार के निवेश के साथ वर्षों तक चलते हैं।" वह कहती हैं कि स्वीकृति भी एक चुनौती है क्योंकि बहुत से लोग दूसरों को यह बताने से परहेज करते हैं कि वे विग का इस्तेमाल करते हैं।


निष्ठा का दावा है कि भारत में केवल कुछ सैलून हैं जो वास्तविक बाल विग प्रदान करते हैं, लेकिन वो भी "100 प्रतिशत प्राकृतिक नहीं" हैं।


ब्यूक्स, दिवा डिवाइन के साथ कंपटीशन करता है, जो एक परिवार द्वारा संचालित व्यवसाय है जो 20 वर्षों से भारत में इसी तरह के विग और बाल एक्सटेंशन के साथ काम कर रहा है। भविष्य की योजनाओं के बारे में बात करते हुए, निष्ठा कहती हैं कि वह कई देशों में विस्तार करना चाहती हैं।


वह भारत के ग्रामीण शहरों में भी पहुँचना चाहती हैं, और मानव बाल विग्स / एक्सटेंशन और उनके लाभों के उपयोग पर लोगों और कैंसर रोगियों को शिक्षित करना चाहती है।


Get access to select LIVE keynotes and exhibits at TechSparks 2020. In the 11th edition of TechSparks, we bring you best from the startup world to help you scale & succeed. Register now! #TechSparksFromHome

Clap Icon0 Shares
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Clap Icon0 Shares
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

Latest

Updates from around the world