लॉकडाउन: ओटीटी प्लेटफॉर्म और ऑनलाइन गेमिंग की हुई चाँदी, जबकि पारंपरिक मीडिया और बॉक्स ऑफिस का निकल रहा है दम

By Sohini Mitter
April 24, 2020, Updated on : Fri Apr 24 2020 08:31:30 GMT+0000
लॉकडाउन: ओटीटी प्लेटफॉर्म और ऑनलाइन गेमिंग की हुई चाँदी, जबकि पारंपरिक मीडिया और बॉक्स ऑफिस का निकल रहा है दम
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

कोरोना वायरस के चलते पैदा हुए हालातों ने ओटीटी प्लेटफॉर्म्स को एक नया बूस्ट दिया है, जबकि पारंपरिक मीडिया इस समय से जूझ रही है।

लॉकडाउन के बाद वीडियो स्ट्रीमिंग प्लेटफॉर्म्स पर ट्रैफिक बढ़ा है।

लॉकडाउन के बाद वीडियो स्ट्रीमिंग प्लेटफॉर्म्स पर ट्रैफिक बढ़ा है।



COVID-19 के प्रकोप और राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन का उद्योगों पर स्पष्ट प्रभाव पड़ा है। आर्थिक गतिविधियों को रोकने और खपत कम करने के अलावा, महामारी ने लोगों में व्यवहारिक और जीवन शैली में बदलाव भी किया है। जिस तरह से हम जीते हैं, खेलते हैं, काम करते हैं और खर्च करते हैं वह इस समय बदल गया है।


सबसे अधिक प्रभावित क्षेत्रों में से एक मीडिया और मनोरंजन रहा है। एक विज्ञापन-निर्भर इस उद्योग के लिए ये बेहद कठिन समय है।


केपीएमजी के एक अध्ययन में कहा गया है,

"पिछले कुछ हफ्तों के दौरान मीडिया की खपत में बढ़ोतरी हुई है, क्योंकि लोग घरों पर बने हुए हैं।"


लेकिन मोनेटाइजेशन एक चुनौती है क्योंकि या क्षेत्र एफएमसीजी, वित्तीय सेवाओं, मोटर वाहन, ईकॉमर्स, और रियल एस्टेट कंपनियों के विज्ञापन खर्चों से अपने राजस्व का एक हिस्सा प्राप्त करता है, जो महामारी के चलते मंदी के प्रभाव से जूझ रहे हैं।


इसके विपरीत सब-सेगमेंट में सब्सक्रिप्शन आय वाले प्लेटफॉर्म जैसे ओटीटी, ऑनलाइन गेमिंग और डिजिटल मीडिया के लिए यह समय अच्छा साबित हो रहा है, क्योंकि उपभोक्ता घर में क्वालिटी कंटेन्ट के लिए इन प्लेटफॉर्म पर आ रहे हैं।


गिरीश मेनन, पार्टनर और लीडर - एम एंड ई, केपीएमजी इन इंडिया कहते हैं,

“जब हम एक नए सामान्य की ओर बढ़ते हैं तो प्राथमिकताओं में बदलाव हो सकता है। काम और परिवार के बीच संतुलन, धन और रहन सहन का मूल्यांकन किया जा सकता है, जिनमें से मीडिया और मनोरंजन एक बड़ा हिस्सा है जो हमारे जीवन में एक बड़ी भूमिका निभाता है।”

दिलचस्प बात यह है कि एक ओर घर में मनोरंजन हो रहा होता है, तब फिल्मों, इवेंट्स और थीम पार्कों जैसे बाहरी उपभोग मॉडल में लॉकडाउन और सोशल डिस्टेन्सिंग के कारण "नाटकीय गिरावट" देखी जा रही है।





YourStory ने भारत के M & E सेक्टर पर महामारी के प्रभाव का करीब से विश्लेषण किया है।

YouTube और OTT प्लेटफॉर्म की हुई चाँदी

लॉकडाउन के सबसे बड़े लाभार्थियों में से एक ओटीटी या वीडियो-स्ट्रीमिंग प्लेटफॉर्म रहा है। माजूड़ा हालातों में लोगों के घरों में रहने के चलते ओटीटी प्लेटफॉर्म्स पर ट्रैफिक बढ़ा है।


YouTube, जो पहले से ही भारत में व्यापक लोकप्रियता प्राप्त कर चुका है इसने देश में ग्राहकों की संख्या में 20.5 प्रतिशत की वृद्धि देखी है। Mindshare India and Vidooly (वीडियो एनालिटिक्स प्लेटफॉर्म) के एक संयुक्त अध्ययन के अनुसार, यह 2020 की पहली तिमाही में यूट्यूब 300 बिलियन से अधिक बार देखा गया है, 2019 की चौथी तिमाही के बाद 13 प्रतिशत बढ़ रहा है।


दो-तिहाई से अधिक YouTube दर्शकों की संख्या 18 से 34 आयु वर्ग से आई है, जो मंच पर सबसे सक्रिय समूह बना हुआ है और 90 प्रतिशत से अधिक वीडियो व्यू मोबाइल उपकरणों के माध्यम से आए, जो मीडिया की खपत में व्यवहारिक बदलाव का संकेत देते हैं।


सुब्रत कर, सह-संस्थापक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी, विदुली कहते हैं,

“दुनिया भर में लॉकडाउन के परिणामस्वरूप दर्शकों के व्यवहार में महत्वपूर्ण बदलाव आया है, विशेष रूप से ऑनलाइन सामग्री की खपत के मामले में। ऐसे परिदृश्य में, रिटेंशन दर और वीडियो देखने का समय सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले चैनलों को फ़िल्टर करने और पहचानने के लिए प्रमुख मीट्रिक होगा।"
डिज्नी





दरअसल ऐप एनी के अनुसार YouTube और वीडियो-स्ट्रीमिंग की दिग्गज कंपनी नेटफ्लिक्स ने 2020 की पहली तिमाही में वैश्विक स्तर पर शीर्ष स्थान पाया है। नेटफ्लिक्स ने स्टॉक प्राइस और सब्सक्राइबर की संख्या में भी वृद्धि देखी है क्योंकि अन्य मनोरंजन विकल्पों की अनुपस्थिति में लॉकडाउन के चलते दर्शकों को यह प्लेटफॉर्म भा रहा है।


नेटफ्लिक्स ने फिल्म थिएटरों और सिनेप्लेक्सों के बंद होने से बढ़त प्राप्त की है। इसने शीर्ष फिल्म स्टूडियो को वीडियो-स्ट्रीमिंग प्लेटफॉर्म पर अपने अप्रकाशित शीर्षकों को उतारने का नेतृत्व किया, जिससे नेटफ्लिक्स को लगभग हर सप्ताह नए टाइटल का प्रीमियर करने की सहूलियत मिली है।


2020 की पहली तिमाही में दर्शकों को हॉटस्टार के साथ डिज़नी+ ने भी कंटेंट उपलब्ध कराया, जिसे 2019 में अधग्रहित किया गया था।


कुछ ओटीटी प्लेटफॉर्म यहां तक कि कोरोनोवायरस संकट के मद्देनजर सब्सक्रिप्शन पाने के लिए मुफ्त सेवा अवधि बढ़ा रहे हैं। कुल मिलाकर डिजिटल सब्सक्रिप्शन रेवेन्यू के बढ़ने की संभावना है और वह लोगों में इसकी आदत बनाने से हो रहा है।

सोशल मीडिया और ऑनलाइन गेमिंग

लोकप्रिय वीडियो के नेतृत्व वाले सोशल प्लेटफॉर्म जैसे फेसबुक और इंस्टाग्राम ने सामग्री की खपत में महत्वपूर्ण वृद्धि दर्ज की है। एक औसत उपयोगकर्ता द्वारा बिताया गया समय पहले के 1.5 घंटों की तुलना में प्रति दिन चार घंटे तक बढ़ गया है।


इसके अलावा इन प्लेटफार्मों पर COVID-19 से जुड़ी सामग्री के संदर्भ में यूजर द्वारा बड़ी खपत दर्ज़ की गई है। डाउनलोड के मामले में सबसे ज्यादा फायदा टिकटॉक को हुआ है। वायरल शॉर्ट-फॉर्म वीडियो निर्माण ऐप को 2020 की पहली तिमाही में iOS और Android पर सबसे अधिक डाउनलोड किया गया था। मार्च में इस ऐप का उपयोग चरम पर था।


FaDf



2019 में एक ब्लॉकबस्टर वर्ष के बाद यहां तक कि ऑनलाइन गेमिंग भी बढ़ रहा है। ऑल इंडिया गेमिंग फेडरेशन (AIGF) का कहना है कि लॉकडाउन में यह 12 प्रतिशत बढ़ा है।


AIGF के सीईओ रोलैंड लैंडर्स ने YourStory को बताया,

“ऑनलाइन कौशल गेमिंग का कोई प्रतिकूल प्रभाव नहीं देखा गया है क्योंकि खिलाड़ी फ़िज़िकल गेमिंग के विपरीत डिजिटल रूप से भाग ले रहे हैं। ऑनलाइन कार्ड गेम और डिजिटल ई-स्पोर्ट्स ने पिछले कुछ हफ्तों में एक उच्च वृद्धि देखी है क्योंकि लोग घर के अंदर हैं। ऑनलाइन गेमिंग की ओर जाने वाले डेटा की मात्रा भी बढ़ रही है और अगर यह स्थिति बनी रहती है तो यह संख्या बढ़ती रहेगी।”

2020 की पहली तिमाही में गेमिंग ऐप्स एंड्रॉइड और iOS पर नए डाउनलोड में भी शीर्ष पर रहे।

जोखिम में है ‘घर के बाहर का मनोरंजन’

घर के बाहर या फिल्मों, घटनाओं, थीम पार्कों जैसे आउटडोर मनोरंजन के विकल्प इस समय COVID -19 के चलते बुरी तरह प्रभावित हुए हैं।


सामाजिक दूरी के "नए सामान्य" के चलते मल्टीप्लेक्स, इवेंट वेन्यू, बच्चों के पार्कों आदि में काफी कम फुटफॉल और टिकट की बिक्री कम होने की उम्मीद है। केपीएमजी का मानना है कि फिल्म बॉक्स ऑफिस इस समय एक आपदा का सामना कर रहा है।


न केवल COVID-19 थिएटर श्रृंखलाओं के विस्तार को धीमा कर देगा बल्कि यह कई आउटलेट्स को बंद करने की ओर भी ले जाएगा क्योंकि किराये की लागत इसे बॉटम लाइन पर ले आएगी। विश्लेषकों के अनुसार, सामान्य स्थिति में लौटने में फुटफॉल्स को 12 सप्ताह तक का समय लग सकता है।


केपीएमजी के अनुसार,

हालांकि सकारात्मक पक्ष पर आउट-ऑफ-होम उद्योग को मनोरंजन वितरण मॉडल में तेजी से इनोवेशन देखने की संभावना है। इन समय में उपभोक्ता व्यवहार की भविष्यवाणी करने के लिए एआई और एमएल पर निर्भरता भी बढ़ेगी।

ऑनलाइन टिकटिंग मेजर्स, जिनकी आय बाहरी इवेंट्स पर टिकी है, नए सामान्य के अनुकूल होने की कोशिश कर रहे हैं। उदाहरण के लिए, BookMyShow, ने हाल ही में Live From HQ एक नई श्रृंखला लॉन्च की है, जो लोगों के लिविंग रूम में लाइव मनोरंजन लाता है।





ये भारत के प्रमुख कलाकारों, बैंड और कलाकारों की विशेषता वाली कॉमेडी, थिएटर, नृत्य, संगीत आदि की लाइव-स्ट्रीम की जाने वाले इवेंट्स हैं। मामूली शुल्क पर बुक माय शो ऐप पर पंजीकरण के बाद शो को इंस्टाग्राम लाइव पर देखा जा सकता है।

पारंपरिक मीडिया को चुनौती

COVID-19 पारंपरिक मीडिया जैसे टीवी और प्रिंट के लिए कड़ी चुनौती पेश कर रहा है। विश्लेषकों का कहना है कि यह मध्यम से मध्यम अवधि में जारी रहने की संभावना है।


जबकि घर में अधिक लोगों के साथ टीवी देखने में वृद्धि हुई है। इस समय प्रॉडक्शन बंद है, जिसके चलते ताजा कंटेन्ट की कमी पैदा हो गयी है। समाचार चैनलों को छोड़कर, अधिकांश प्रसारकों ने पिछले शो के पुन: चलने का सहारा लिया है।


उपभोक्ताओं की सैलरी कट ने भी उन्हे झटका दिया है। कई उपयोगकर्ताओं ने लॉकडाउन शुरू होने के बाद से अपने अखबार की सदस्यता छोड़ने की बात करने के लिए सोशल मीडिया का सहारा लिया है। विशेषज्ञों का मानना है कि ये विज्ञापन-व्यय दबाव एक कमजोर अर्थव्यवस्था के चलते घरेलू खपत को डुबो देंगे।


हालांकि प्रिंट मीडिया प्रतिबंध हटाने के बाद प्रचलन से उबरने के संकेत दिखा सकता है, लेकिन विज्ञापन विमुद्रीकरण मध्य अवधि में एक चुनौती बना रहेगा। सदस्यता उत्पादों में अधिक निवेश और इनोवेशन किए जाने की संभावना है।


केपीएमजी के मेनन ने कहा,

"COVID-19 के अनुभव से हमारे रोजमर्रा के जीवन में डिजिटल प्रौद्योगिकियों के एकीकरण में दीर्घकालिक आगे बढ़ते बदलाव की संभावना है, इसी के साथ भारत के 'डिजिटल बिलियन' प्रक्षेपवक्र में तेजी आने की संभावना है।"

महामारी के बाद की दुनिया पहले से ही बहुत अलग दिख रही है!