गिग वर्कर्स के लिए समस्या को हल करके ईवी मोबिलिटी स्पेस जीतना चाहता है दिल्ली स्टार्टअप Baaz Bikes

By Naina Sood
April 30, 2022, Updated on : Sat Apr 30 2022 04:35:22 GMT+0000
गिग वर्कर्स के लिए समस्या को हल करके ईवी मोबिलिटी स्पेस जीतना चाहता है दिल्ली स्टार्टअप Baaz Bikes
Baaz Bikes गिग वर्कर्स के लिए बाइक, बैटरी स्वैप स्टेशन और सॉफ्टवेयर सहित एक एंड-टू-एंड प्लेटफॉर्म का निर्माण कर रहा है, ताकि उन्हें पैसे बचाकर इनकम बढ़ाने और लागत प्रभावी तरीके से अपनी यात्रा शुरू करने में मदद मिल सके।
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

मौजूदा समय में ऑटोमोबाइल इंडस्ट्री और स्टार्टअप दुनिया का मूलमंत्र निश्चित रूप से इलेक्ट्रिक वाहन (ईवी) में निहित है। ग्रीन फ्यूचर की ओर कदम बढ़ने वाले अब इंडस्ट्री के दिग्गज केवल Ola Electricऔर Ather Energyही नहीं हैं, बल्कि भारत भर में कई स्टार्टअप हैं जो ईवी क्रांति और बिल्डिंग सॉल्यूशंस में हर सेगमेंट / हितधारक के लिए काम कर रहे हैं।


ईवी स्पेस में ऐसा ही एक स्टार्टअप है Baaz Bikesजो अपने "लागत प्रभावी" एंड-टू-एंड ईवी मोबिलिटी प्लेटफॉर्म के साथ गिग/डिलीवरी वर्कर्स की मोबिलिटी जरूरतों को हल करना चाहता है। आसान शब्दों में कहें तो काम के बदले भुगतान के आधार पर रखे गए कर्मचारियों को गिग वर्कर कहा जाता है, उदाहरण के लिए जोमैटो, स्विगी, ब्लिंकइट आदि के लिए काम करने वाले डिलीवरी एग्जीक्यूटिव।


दिल्ली स्थित स्टार्टअप अपनी इन-हाउस असेंबल बाइक्स को अपने रेंटल पार्टनर्स की चेन को बेचता है, जो इन बाइक्स को गिग वर्कफोर्स को किराए पर देने के लिए प्लेटफॉर्म का इस्तेमाल करते हैं। स्टार्टअप ने सभी क्षेत्रों में ऑटोमैटिक बैटरी स्वैप स्टेशन / मशीनें स्थापित की हैं, जिन्हें गिग वर्कर्स या “बाजीगर” द्वारा एक्सेस किया जा सकता है, जो रेंटल पार्टनर्स से फुल ऑन-ग्राउंड समर्थन प्राप्त कर सकते हैं।


इसका उद्देश्य बाइक, बैटरी स्वैप स्टेशनों और सॉफ्टवेयर सहित पूरे इकोसिस्टम का निर्माण करना है, ताकि एक गिग वर्कर को सबसे अधिक लागत प्रभावी तरीके से अपनी यात्रा शुरू करने में मदद मिल सके। 

Baaz Bikes

खासतौर से "बाजीगर" के लिए बनी बाइक

Baaz Bikes को फाउंडर्स की एक पूरी टीम अनुभव शर्मा, शुभम श्रीवास्तव, साहिल सिंह मलिक, अभिजीत सक्सेना और करण सिंगला ने शुरू किया था। उन्होंने एक मजबूत संस्थापक टीम और क्षेत्र विशेषज्ञता के साथ स्टार्टअप की नींव रखी, जिसने उन्हें एक विशेष उद्देश्य के साथ उत्पाद बनाने में मदद की।


मोटरस्पोर्ट के प्रति उत्साही और उभरते इंजीनियर IIT दिल्ली के ऑटोमोबाइल क्लब — Axlr8r Formula Racing में एक साथ आए थे। उन्होंने मिलकर एक फॉर्मूला कार बनाई थी, जिसके द्वारा वे जर्मनी में प्रतिष्ठित एफ1 सर्किट पर अपनी इलेक्ट्रिक कार चलाने वाली पहली और एकमात्र भारतीय टीम बन गए।


अनुभव कहते हैं, “कई ऑटो प्रोजेक्ट्स पर एक साथ काम करते हुए, हमने एक टीम बनाई थी। हमने महसूस किया कि सफल विश्व स्तरीय ईवी बनाने के लिए हमारे पास अद्वितीय जानकारी थी और अवसर का लाभ उठाया जाना चाहिए।”


2018 में, इंजीनियरों ने अपने पहले उद्यम, ElecTorq Technologies (पैरेंट कंपनी) के साथ उद्यमशीलता की यात्रा शुरू की। Vogo Automotive और Rapido Bike Taxi जैसे ग्राहकों के लिए प्रमुख ऑटो उत्पादों का निर्माण करते हुए, उन्होंने अपने प्रमुख उत्पाद, Baaz Bikes पर काम करना जारी रखा। बाइक की पहली पीढ़ी 2019 तक तैयार हो गई थी।

Team Axlr8r Formula Racing (IIT-Delhi Automobile Club)

Team Axlr8r Formula Racing (IIT-Delhi Automobile Club)

महामारी ने संस्थापकों के लिए एक अनूठा अवसर प्रदान किया, जिन्होंने 'डिलीवरी कल्चर' के उदय को देखा और इसके पीछे वर्कफोर्स की समस्या को हल करने का फैसला किया।


संस्थापक कहते हैं, “कोई विशिष्ट प्लेटफॉर्म नहीं था जो गिग वर्कर्स के जीवन को आसान बनाने पर केंद्रित हो। उनकी इन-हैंड इनकम इस बात पर निर्भर करती है कि वे कितना कमाते और खर्च करते हैं। Shadowfax, Zomato, Dunzo इत्यादि जैसी कई कंपनियां हैं, जो उनकी कमाई बढ़ाने पर ध्यान केंद्रित कर रही हैं। जितने अधिक ऑर्डर, उतनी अधिक इनकम। हमारा ध्यान खर्च करने वाले पक्ष पर है, जिसमें वाहन की खरीद, रखरखाव और संचालन की लागत शामिल है, जो एक गिग वर्कर के लिए बनाए रखने या वहन करने के लिए बहुत अधिक है।”


अगर देखा जाए तो, एक गिग वर्कर एक रेंटल कंपनी से संपर्क करता है और रेंट पर एक ईवी के लिए एक निश्चित कीमत का भुगतान करता है, जो 5,000 रुपये से शुरू होकर 8,000 रुपये प्रति माह है। अब, यह खर्च हर महीने उसे देना ही है, जबकि यह जरूरी नहीं है कि वो हर महीने ज्यादा पैसे ही कमाए, आय कम और ज्यादा भी हो सकती है। इसके अलावा, उसे उस ईवी के चार्जिंग और टेक्निकल सपोर्ट का भी खर्च खुद ही वहन करना है।


संस्थापक कहते हैं कि यही वह जगह है जहां Baaz Bikes काम करती है और एक अलग पहचान बनाने की कोशिश कर रही है। इसका फोकस्ड मार्केट गिग वर्कर्स के लिए एक उद्देश्य-निर्मित उत्पाद सबसे बनाना है।


अनुभव कहते हैं, “दोपहिया वाहन के इस्तेमाल को लेकर प्रदाताओं के बीच भिन्न मत होता है। हम कॉन्सेप्ट पर फोकस्ड हैं और विशेष रूप से गिग वर्कर्स के लिए समाधान बना रहे हैं। यह एक मजबूत उत्पाद है, इसमें कोई प्लास्टिक कम्पोनेंट्स नहीं है जो टूट सकता है, और ज्यादा खर्च कराए बगैर प्रति दिन 120 किलोमीटर तक जाने के लिए डिजाइन किया गया है।” 


दूसरी बात यह कि, प्लेटफॉर्म रेंटल पार्टनर को एक निश्चित कीमत (30,000 रुपये प्रति बाइक) पर बाइक बेचता है, जो आगे इसे कम से कम 1,500 रुपये के मासिक किराए पर गिग वर्कर को किराए पर देता है। फिर वर्कर से प्रति किलोमीटर के आधार पर चार्ज लिया जाता है, जो उसके लिए फायदेमंद साबित होता है, खासकर उन दिनों में जब उसकी डिलीवरी सीमित होती है।


रेंटल पार्टनर सूक्ष्म उद्यमियों के रूप में काम करते हैं और किसी भी समस्या के मामले में वर्कर को संपर्क करने का विकल्प प्रदान करते हुए, पूरे जमीनी समर्थन का ध्यान रखते हैं।


वे कहते हैं, "गिग वर्कर के लिए कुल लागत दोनों ही मामलों में समान हो सकती है, लेकिन उन्हें कम अग्रिम लागत, लंबी दूरी और अवधि में आरामदायक एर्गोनॉमिक्स का लाभ होगा, एक हाइपरलोकल बैटरी स्वैप नेटवर्क मिलेगा जो वाहन के अपटाइम को अधिकतम करेगा, और एक ऑन-ग्राउंड सपोर्ट इकोसिस्टम भी मिलेगा।”


तीसरा अंतर, संस्थापकों के अनुसार, पूरे इकोसिस्टम के निर्माण की वैल्यू है जिसमें बाइक, बैटरी स्वैप और सॉफ्टवेयर शामिल हैं। यह बाज जैसे खिलाड़ी के लिए दूसरों से अलग करता है जो हाइपरलोकल स्पेस में काम करता है। 


यह आइडिया ताइवान की कंपनी Gogoro के नेटवर्क के समान ही है, जिसमें इन-हाउस स्मार्टस्कूटर और 2,000 गोस्टेशन का संपूर्ण मॉड्यूलर बैटरी स्वैपिंग इंफ्रास्ट्रक्चर है। यह हीरो, यामाहा, एयॉन मोटर, ईरेडी, और ईमोविंग, ऑटो उत्पादों (कार्बन बेल्ट, बैटरी सेल और परफॉर्मेंस टायर) जैसे वाहन निर्माता भागीदारों को वाहन इनोवेशन प्रदान करता है, इसके अलावा इसकी अपनी इलेक्ट्रिक स्कूटर शेयर करने की सेवा भी है।


वे कहते हैं, “हमारा लक्ष्य हर उस चीज के लिए वन-स्टॉप शॉप बनाना है जो एक गिग वर्कर को अपनी यात्रा के साथ शुरू करने की आवश्यकता होती है। थर्ड पार्टी या भागीदारों पर सीमित निर्भरता के साथ सब कुछ घर में पेश किया जाएगा।”

Baaz Bikes

रेवेन्यू मॉडल

प्लेटफॉर्म लगभग 20 प्रतिशत के मार्जिन पर रेंटल पार्टनर को बाइक की बिक्री के माध्यम से पैसा कमाता है। इसके अलावा, स्टार्टअप बैटरी स्वैप पर चार्ज किए जाने वाले प्रति किलोमीटर की लागत के माध्यम से भी पैसा कमाना चाहता है।


एक सिंगल बैटरी लगभग 50-55 किलोमीटर तक चलती है। 


वर्तमान में, स्टार्टअप प्रति किलोमीटर लागत पर लाभदायक है और लगभग 50 बाइक और स्वैप स्टेशन नई दिल्ली के दो प्रमुख क्षेत्रों-साकेत और मालवीय नगर में हैं। वर्तमान में किराना और रेस्तरां में स्वचालित बैटरी स्वैप स्टेशन स्थापित किए गए हैं।


स्टार्टअप ने हरियाणा के फरीदाबाद में अपनी असेंबली फैसिलिटी स्थापित की है, और अगले 120 दिनों में 1,000 बाइक और वित्त वर्ष 2023 के अंत तक 5,000 का उत्पादन देख रहा है। एक डीलर द्वारा खरीदे गए बेड़े का आकार 50 से 250 बाइक के रूप में कम से शुरू हो सकता है।


संस्थापक बताते हैं, “हमारी डिमांड योजनाओं को सुलझा लिया गया है। दिल्ली को लगभग 70 समूहों में विभाजित किया गया है और हमारा लक्ष्य 2023 के मध्य तक (40,000 से अधिक डिलीवरी एक्जिक्यूटिव) इन सभी समूहों में प्लेबुक को दोहराने का है। यह एक रेडियल एक्सपेंशन होगा। हमने डिस्ट्रीब्यूशन और डिलीवरी में बेहतर यूनिट इकोनॉमिक्स के लिए एसेट लाइट और स्केलेबल बिजनेस मॉडल बनाया है।”

Baaz Bikes

कंपटीशन, मार्केट साइज और भविष्य की योजनाएं

छोटे आकार की स्थानीय कंपनियों और Yulu Bikes और Zypp जैसे दोपहिया किराये के स्टार्टअप हैं जो इसी स्पेस में काम कर रहे हैं।


निकटतम प्रतिस्पर्धा युलु बाइक्स से आती है जो युलु के स्वामित्व वाले और संचालित शेयर्ड मोबिलिटी मॉडल को फॉलो करती है जहां लोग इन इलेक्ट्रिक बाइक को छोटी या लंबी अवधि (गिग वर्कर्स के लिए लंबी किराये की योजना) के लिए निकटतम पब्लिक प्वाइंट से उठा सकते हैं।


समान मॉडल को थर्ड-पार्टी फ्रैंचाइजी पार्टनर्स द्वारा कंट्रोल किया जाता है। हालाँकि, युलु के टार्गेट ऑडियंस पूरी तरह से गिग वर्कर्स पर केंद्रित नहीं हैं, बल्कि ऐसे लोग हैं जिन्हें कम दूरी तय करने के लिए दूसरे वाहन की आवश्यकता होती है।


Baaz Bikes को गुरुग्राम स्थित जिप से भी प्रतिस्पर्धा का सामना करना पड़ रहा है। D2C EV स्टार्टअप गिग वर्कर्स और लॉजिस्टिक्स-केंद्रित है और ईएमआई पर स्कूटर खरीदने में अपने डिलीवरी राइडर्स की सहायता करता है।


Baaz Bikes ने अब तक लगभग 2.3 मिलियन डॉलर (प्री-सीरीज ए) जुटाए हैं, और इसे Kalaari Capital, AdvantEdge, 9Unicorns और सुमंत सिन्हा (सीएमडी, Renew Power) का समर्थन प्राप्त है। स्टार्टअप सीरीज ए फंडिंग के लिए निवेशकों के साथ बातचीत कर रहा है, और निकट भविष्य में राउंड को क्लोज करने का लक्ष्य है। यह चालू वित्त वर्ष के अंत तक $5 मिलियन की औसत रन रेट (ARR) देख रहा है।


वे कहते हैं, “हम पहले से ही प्रति किमी के आधार पर एक लाभदायक कंपनी हैं। हम उस ओर से संघर्ष नहीं कर रहे हैं। हमारा ध्यान अभी उत्पाद विकास और शोधन पर है, और हम उसमें भारी निवेश कर रहे हैं।”


भविष्य में कंस्ट्रक्शन, मैन्युफैक्चरिंग, रिटेल, ट्रांसपोर्ट और लॉजिस्टिक जैसे क्षेत्रों से डिलीवरी एग्जीक्यूटिव की मांग में वृद्धि जारी रहेगी। मैनेजमेंट कंसल्टिंग फर्म रेडसीर की एक हालिया रिपोर्ट के अनुसार, अधिकांश मांग भारत के रेड-हॉट क्विक कॉमर्स मार्केट से है, जिसके 2025 तक 15 गुना बढ़ने की उम्मीद है, जो 5.5 बिलियन डॉलर के बाजार का प्रतिनिधित्व करता है और भारत में 20 मिलियन से अधिक घरों को संबोधित करता है।


Edited by रविकांत पारीक