2022 में ई-कॉमर्स सेक्टर में आई गिरावट: रिपोर्ट

2022 में ई-कॉमर्स सेक्टर में आई गिरावट: रिपोर्ट

Monday February 27, 2023,

3 min Read

लॉकडाउन के बाद के महीनों में बढ़ोतरी देखने के बाद कैलेंडर वर्ष 2022 में ई-कॉमर्स की वृद्धि धीमी हो गई. बढ़ती मुद्रास्फीति के साथ-साथ बाजारों और मॉल में वापसी ने उपभोक्ताओं को सब कुछ ऑनलाइन खरीदने से बचने पर मजबूर किया है.

महामारी के दौरान ई-कॉमर्स में वृद्धि, कुछ मामूली गिरावट के अलावा, डिजिटल चैनलों की ओर उपभोक्ता बदलाव के कारण अपेक्षाकृत बढ़ती रही. हालांकि, उपभोक्ता मांग में बाद की मंदी के कारण कैलेंडर वर्ष 2022 में ई-कॉमर्स के ऑर्डर वॉल्यूम में कमी आई. कंसल्टिंग फर्म रेडसीर ने सोमवार को एक नोट में कहा, एफएमसीजी प्लेयर की तुलना में प्रभाव थोड़ा कम रहा है, क्योंकि ई-कॉमर्स मूल्य ग्रामीण मांग पर कम निर्भर है.

रेडसीर की रिपोर्ट के मुताबिक बड़ती मुद्रास्फीति, शहरी संगठित क्षेत्र में बेरोजगारी और ग्रामीण क्षेत्रों में वास्तविक मजदूरी में गिरावट को देखते हुए निकट भविष्य में उपभोक्ता मांग कमजोर रहेगी.

मुद्रास्फीति, सामान्य रूप से, विभिन्न प्रकार के प्रोडक्ट्स के लिए उपभोक्ता मांग में कमी आई है, और यह विशेष रूप से उन उपभोक्ताओं के लिए सच है जो आय वर्ग के निचले सिरे पर हैं जो या तो सस्ते प्रोडक्ट्स पर स्विच कर रहे हैं या छोटे पैक खरीद रहे हैं.

दिसंबर तिमाही में, किराने का सामान, उपकरण, सामान्य व्यापार, मोबाइल आदि श्रेणियों के लिए ई-कॉमर्स ऑर्डर वॉल्यूम में गिरावट दर्ज की गई.

इस बीच, समग्र मांग में मंदी उन स्टार्टअप्स को नुकसान पहुंचा रही है, जो फंडिंग विंटर की ओर देख रहे हैं.

रेडसीर ने कहा, “यह स्टार्टअप्स के लिए कठिन समय है. उनके पास वर्तमान में छूट और अन्य लीवर के माध्यम से विकास को चलाने की सीमित क्षमता है, जो एक आसान फंडिंग वातावरण के दौरान अच्छा काम करता है. इसलिए, स्टार्टअप्स को कुशल इकाई अर्थशास्त्र पर ध्यान देना चाहिए और अपने मुख्य प्रस्तावों पर टिके रहकर लाभप्रदता में सुधार करना चाहिए."

रेडसीर के विश्लेषकों ने कहा कि "भारत" पर ध्यान केंद्रित करने वाले स्टार्टअप्स को बड़े पैमाने पर बाजार के उपभोक्ताओं के तंग बटुए को फिट करने के लिए अपनी स्टोर-कीपिंग यूनिट रणनीति को फिर से देखने की जरूरत है. दूसरी रणनीति प्रीमियम श्रेणियों पर दोगुनी करना है, जिनकी कीमत कम है. उन्होंने कहा कि सभी क्षेत्रों में बाजार के दबाव के खिलाफ अच्छा प्रदर्शन किया है.

अक्टूबर, 2022 में आई रेडसीर की रिपोर्ट में बताया गया कि ऑनलाइन फेस्टिव सेल के दौरान ई-कॉमर्स कंपनियों की बिक्री 27 फीसदी बढ़कर 40,000 करोड़ रुपये पर पहुंच गई है. रेडसीर स्ट्रैटजी कंसल्टिंग की तरफ से जारी रिपोर्ट के मुताबिक, फ्लिपकार्ट समूह ने ऑनलाइन बिक्री बाजार में अपनी शीर्ष स्थिति को बरकरार रखा है. जबकि, मीशो ऑनलाइन ऑर्डर के मामले में दूसरे स्थान पर रही है.

रिपोर्ट कहती है कि अक्टूबर के आखिरी हफ्ते में खत्म हुई पहली फेस्टिव सेल में ऑनलाइन प्लेटफॉर्म की बिक्री में सालाना आधार पर 27 फीसदी की बढ़ोतरी दर्ज की गई है. इस दौरान इन ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म ने 5.7 अरब डॉलर यानी 40,000 करोड़ रुपये मूल्य के उत्पादों की बिक्री की.

नेशनल एसोसिएशन ऑफ सॉफ्टवेयर एंड सर्विसेज कंपनीज (नेसकॉम) की मानें तो भारत का ई-कॉमर्स बाजार कोविड-19 महामारी से मिली चुनौतियों के बाद भी साल 2021 में 56.6 मिलियन डॉलर के अनुमानिक राजस्‍व के साथ हर साल 5 फीसदी की दर से बढ़ रहा है.

यह भी पढ़ें
क्या Zomato से खाना मंगाना होने वाला है महंगा?

Montage of TechSparks Mumbai Sponsors