ताजे फूलों की डिलीवरी करने वाले स्टार्टअप Hoovu Fresh ने जुटाई 6.45 करोड़ रुपये की फंडिंग

फरवरी, 2019 में दो बहनों यशोदा करुतुरी और रिया करुतुरी ने Hoovu Fresh की स्थापना की थी. इस स्टार्टअप का उद्देश्य हर दिन ताजे फूल सस्ती कीमत पर उपलब्ध कराना है. यह स्टार्टअप सप्लाई चेन को छोटा करके और पैकेजिंग और इनोवेशन में तकनीक का लाभ उठाकर उच्च गुणवत्ता वाले ताजा फूल मुहैया कराता है.

ताजे फूलों की डिलीवरी करने वाले स्टार्टअप Hoovu Fresh ने जुटाई 6.45 करोड़ रुपये की फंडिंग

Tuesday December 06, 2022,

3 min Read

पूजा के ताजे फूलों के एक स्टार्टअप Hoovu Fresh ने Sauce.VC के नेतृत्व में में 6.45 करोड़ रुपये जुटाए हैं. उसने यह फंडिंग एक प्री-सीरीज़ ए राउंड में जुटाई है और इसमें कई एंजल इंवेस्टर्स शामिल हुए हैं. Hoovu का मतलब कन्नड़ में फूल होता है.

इन एंजल इंवेस्टर्स में संगीत अग्रवाल (मोकोबारा के संस्थापक), अक्षय दुजोदवाला (मंगलम ऑर्गेनिक्स में सीएसओ), निखिल भंडारकर (पैंथेरा पीक कैपिटल के संस्थापक), Mylktree फैमिली ऑफिस, कैफे कॉफी डे (CCD) के फैमिली ऑफिस आदि शामिल हुए.

फरवरी, 2019 में दो बहनों यशोदा करुतुरी और रिया करुतुरी ने Hoovu Fresh की स्थापना की थी. इस स्टार्टअप का उद्देश्य हर दिन ताजे फूल सस्ती कीमत पर उपलब्ध कराना है. यह स्टार्टअप सप्लाई चेन को छोटा करके और पैकेजिंग और इनोवेशन में तकनीक का लाभ उठाकर उच्च गुणवत्ता वाले ताजा फूल मुहैया कराता है.

यशोदा और रिया कहती हैं, “Hoovu एक अखिल भारतीय ब्रांड है जो गुणवत्तायुक्त और पूजा के ताजे फूल मुहैया कराने के लिए जाना जाता है. हमारा मानना है कि फूल ही वह तरीका है, जिससे लाखों भारतीय हर दिन अपना आभार व्यक्त करते हैं. चाहे प्रार्थना में इस्तेमाल किया जाए, अपने बालों को सजाने के लिए या किसी प्रियजन की तस्वीर पर टांगने के लिए. हम उन पलों को हर किसी के लिए खूबसूरत बनाना चाहते हैं.

यशोदा और रिया ने आगे बताया कि स्थानीय खेतों, इनोवेटिव पैकेजिंग और कई वितरण चैनलों के साथ साझेदारी करके, Hoovu इस टर्नअराउंड समय को 12-24 घंटों तक कम करने में सक्षम रहा है, जिससे फूलों की शेल्फ लाइफ दो से पांच गुना बढ़ जाती है. हमारी विकसित प्रसंस्करण और पैकेजिंग तकनीक के साथ हमारे फूल 2-3 दिनों के औसत की तुलना में 15 दिनों तक ताज़ा रहते हैं, जो उद्योग में अनसुना है. इस तरह हम किसान और अंतिम ग्राहक दोनों के लिए मूल्य बनाने में सक्षम हैं.

Hoovu बेंगलुरु, हैदराबाद और मुंबई में अपना ऑपरेशन चला रहा है. Big Basket, Zepto, Milk Basket और अन्य ग्रॉसरी ऐप के जरिए फूलों का ऑर्डर दिया जा सकता है. Hoovu Fresh मंदिर के फूलों और अन्य पूजा सामग्री से अगरबत्ती भी बनाता है जिसे www.hoovufresh.com पर खरीदा जा सकता है.

कौन हैं यशोदा और रिया?

यशोदा और रिया का पारिवारिक व्यवसाय खेती का ही था और एक समय उनके पिता केन्या में दुनिया का सबसे बड़ा गुलाब का खेत चलाते थे. उस दौरान दोनों ने उस कारोबार में भी काम किया है और दोनों ने बुके फूलों की खेती पर फोकस किया. यशोदा और रिया कहती हैं कि लेकिन उन्होंने जल्द ही महसूस किया कि बुके फूल इंडस्ट्री काफी ऑर्गेनाइज्ड है, जबकि पूजा फूल इंडस्ट्री असंगठित है.

बैंगलोर में जन्मी और पली-बढ़ी बहनें दो साल इथियोपिया (अफ्रीका) में रहीं और करीब 4 साल अमेरिका में पढ़ाई की. 27 वर्षीय रिया ने स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी से साइंस, टेक्नोलॉजी एंड सोसाइटी में बैचलर की उपाधि प्राप्त की है और 25 वर्षीय यशोदा ने अमेरिका के सेंट लुइस में वाशिंगटन यूनिवर्सिटी से अकाउंटिंग में मास्टर और बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन में बीएस किया है. अपनी पढ़ाई पूरी करने के बाद उन्होंने पारिवारिक व्यवसाय में काम किया, पूर्वी अफ्रीका में विदेशी कार्यों को संभाला.

पढ़ने और लिखने का शौक रखने वाली रिया ने अमेरिका में अपने कार्यकाल के बाद टाइम्स ऑफ इंडिया, डेक्कन हेराल्ड, स्टैनफोर्ड डेली और बे सिटी बीकन (Bay City Beacon) में काम किया है.


Edited by Vishal Jaiswal