Brands
YSTV
Discover
Events
Newsletter
More

Follow Us

twitterfacebookinstagramyoutube
Yourstory

Brands

Resources

Stories

General

In-Depth

Announcement

Reports

News

Funding

Startup Sectors

Women in tech

Sportstech

Agritech

E-Commerce

Education

Lifestyle

Entertainment

Art & Culture

Travel & Leisure

Curtain Raiser

Wine and Food

Videos

ys-analytics
ADVERTISEMENT
Advertise with us

एक छोटी पान की दुकान से लेकर 300 करोड़ रुपये के कारोबार पर नजर रखने वाली फूड मैन्युफैक्चरिंग कंपनी तक, कुछ ऐसी है SCPL की कहानी

एक छोटी पान की दुकान से लेकर 300 करोड़ रुपये के कारोबार पर नजर रखने वाली फूड मैन्युफैक्चरिंग कंपनी तक, कुछ ऐसी है SCPL की कहानी

Monday December 20, 2021 , 7 min Read

अपने सपनों का पीछा करने के लिए बड़े शहरों में जाने वाले लोगों के बारे में अक्सर कई कहानियां सुनी होंगी, लेकिन कुछ ऐसे भी लोग हैं जिनके पास अपनी जड़ों से जुड़े रहते हुए अपने गृह शहरों में सफलता पाने का साहस होता है। शीतल कूल प्रोडक्ट्स (एससीपीएल) के संस्थापक अपने शहर - अमरेली को मानचित्र पर रखने के मिशन पर हैं।


गुजरात के अमरेली में स्थित एससीपीएल के कार्यकारी प्रमुख यश भुवा कहते हैं, "इस शहर ने हमें बहुत दिया है, अब इसे वापस देने का समय आ गया है।"


गली में पान की दुकान से सार्वजनिक रूप से सूचीबद्ध फूड मैन्युफैक्चरिंग कंपनी के निर्माण तक, जिसका लक्ष्य अगले वित्तीय वर्ष तक 300 करोड़ रुपये का कारोबार करना है, एससीपीएल ने एक लंबा सफर तय किया है। कंपनी अब गुजरात के सौराष्ट्र क्षेत्र से पूरे भारतीय बाजार पर कब्जा करने की कोशिश कर रही है।


एससीपीएल अन्य फूड आइटम के अलावा आइसक्रीम, डेयरी प्रोडक्ट्स और नमकीन भी बनाती है। गुजरात राज्य ने अब कंपनी को इस क्षेत्र में 50 आइसक्रीम पार्लर स्थापित करने की मंजूरी दे दी है, जो अमूल के बाद अब तक का सबसे बड़ा है।


लेकिन एससीपीएल ने अपनी छोटी सी दुकान को एक लाभदायक व्यवसाय में कैसे बदल दिया? यश कहते हैं कि ऐसा इसलिए है क्योंकि उनके पिता और चाचा ने कंपनी को मालिक के रूप में नहीं बल्कि अपने समाज की सेवा करने के तरीके के रूप में बनाया था।

विपरीत परिस्थितियों को अवसरों में बदलना

एससीपीएल का जन्म तब हुआ जब जगदीश भुवा ने अपने जीवन में एक नया कदम उठाते हुए परिवार के कृषि व्यवसाय को छोड़कर 1987 में अमरेली की एक गली में शीतल पान एंड कोल्ड ड्रिंक्स नाम से पान और कोल्ड ड्रिंक काउंटर की दुकान शुरू की। उनके छोटे भाई, भूपत, दिनेश और संजय जल्द ही उनके साथ जुड़ गए।


परिवार ने केवल व्यवसाय शुरू ही किया था, और इससे पहले कि वे अपना उद्यम स्थापित कर सकें, स्थानीय नगरपालिका ने 1989 में दुकान को ध्वस्त कर दिया।


भुवा बंधुओं के लिए यह छोटी सी दुकान ही उनकी रोजी-रोटी का जरिया थी। दो साल तक संघर्ष करने के बाद 1991 में अमरेली बस स्टैंड के सामने पैसे का इंतजाम कर एक और छोटी दुकान खरीदी।


यश ने योरस्टोरी को बताया, “जब मेरे चाचा और पिता ने यह दुकान स्थापित की, तब शहर में जन्माष्टमी मेला भी लग रहा था। कई विक्रेता वहां स्टॉल लगाते थे और अच्छी बिक्री करते थे। उन्होंने इस मौका को भुनाने और वहां आइसक्रीम बेचने के बारे में सोचा।”


मेले में बेचने के लिए भाइयों ने एक स्थानीय विक्रेता से घर की बनी आइसक्रीम मंगवाई। प्रतिक्रिया उनकी अपेक्षा से परे आई और इस छोटे से कदम ने उनके लिए जीवन की दिशा बदल दी।


यश बताते हैं, “लोगों से इतनी सकारात्मक प्रतिक्रिया मिलने के बाद, संस्थापकों ने अपनी दुकान में आइसक्रीम बेचने का फैसला किया। एक कदम दूसरे की ओर ले गया और व्यवसाय इतना अच्छा बढ़ गया कि 1998 में, हमने श्री शीतल इंडस्ट्रीज के रूप में अपना स्वयं का आइसक्रीम उत्पादन स्थापित किया।” 


दुर्भाग्य से, 1998 में जगदीश का निधन हो गया, लेकिन उनके भाइयों ने अपने बड़े भाई की विरासत को आगे बढ़ाया और 2012 में, श्री शीतल इंडस्ट्रीज एक सीमित इकाई में बदल गई।


अगले साल, जगदीश, भूपत और दिनेश ने सौराष्ट्र क्षेत्र के लोगों को शुद्ध गुणवत्ता वाला दूध पहुंचाने की महत्वाकांक्षी परियोजना शुरू की। इसने डेयरी सेगमेंट में उनके जाने का मार्ग प्रसस्त किया। इस प्रकार, 2013 में अमरेली और गिर जिले के आंतरिक गांवों के किसानों से दूध सोर्सिंग कर एससीपीएल ने आस-पास के क्षेत्रों में एफएसएसएआई (भारतीय खाद्य सुरक्षा और मानक प्राधिकरण) मानक दूध पहुंचाना शुरू किया।


2015 और 2016 तक, कंपनी ने फ्रोजन फूड्स, नमकीन, और मिठाई पेश करके अपने उत्पाद पोर्टफोलियो को और विविधता प्रदान की और यहां तक कि अपने उत्पादों के माध्यम से अमरेली से बाहर बेचना शुरू किया।


यश कहते हैं, "हर विविधीकरण मेरे चाचा और पिता की कड़ी मेहनत और विनम्र दृष्टिकोण था, जो आत्मनिर्भरता में विश्वास करते थे।"


वे कहते हैं, “जब मेरे चाचा और पिता ने आइसक्रीम यूनिट शुरू की, तो राज्य में बिजली की स्थिति अच्छी नहीं थी, जो कि सबसे बड़ी चुनौती थी। तत्कालीन सीएम नरेंद्र मोदी द्वारा ज्योति ग्राम योजना की शुरुआत के बाद स्थिति में सुधार हुआ। हम एक स्व-वित्त पोषण मॉडल में विश्वास करते थे।”


संस्थापकों के समर्पण, धैर्य और दृढ़ता ने 2017 में एससीपीएल को सार्वजनिक रूप से सूचीबद्ध कंपनी बना दिया। एससीपीएल के पास अब छह अलग-अलग राज्यों में 300 से अधिक वितरकों का एक मजबूत वितरण नेटवर्क है और इसके 35,000 से अधिक खुदरा आउटलेट हैं।

k

जगदीश भुवा के निधन के बाद भुवा ब्रदर्स की एक पुरानी तस्वीर

समुदाय को वापस देना

एससीपीएल की ग्रोथ के महत्वपूर्ण कारणों में से एक, यश का मानना है कि समुदाय को वापस देने का कंपनी का मूल मूल्य है।


वे कहते हैं, “एससीपीएल ने जिलों के आंतरिक गांवों के किसानों से सीधे दूध मंगवाकर उन्हें मजबूत किया। हमारे पास 1,500 से अधिक लोगों का कार्यबल है जहां 800 से अधिक महिलाएं हैं। हम शीतल कूल पार्लर के माध्यम से 60 से अधिक परिवारों को आत्मानिर्भर बनने के लिए सशक्त बना रहे हैं और अगले साल के अंत तक इस संख्या को दोगुना करने की योजना बना रहे हैं।”


यश ने योरस्टोरी को यह भी बताया कि एससीपीएल ने शुरू से ही बैकवर्ड और फॉरवर्ड इंटीग्रेशन पर फोकस किया है।


इसमें प्रति दिन 30,000 नालीदार बक्से (corrugated boxes) की एक इन-हाउस निर्माण फैसिलिटी है और 55 से अधिक संदर्भित कंटेनरों द्वारा पूरी तरह से कंपनी के स्वामित्व वाली लॉजिस्टिक है। कंपनी के पास प्रतिदिन एक लाख बिस्कुट कोन और सात हजार लीटर लिक्विड चॉकलेट की इन-हाउस निर्माण क्षमता है। 1.5 और 1.25 मेगावाट-पवन परियोजनाएं और 1.2 मेगावाट सौर परियोजनाएं हैं जिसके परिणामस्वरूप आंतरिक ऊर्जा उत्पादन होता है।

चुनौतियां और प्रतियोगिता

एससीपीएल एक क्षेत्रीय ब्रांड है जो मेट्रो शहरों में अपना मार्ग प्रशस्त कर रहा है। कंपनी के सामने सबसे बड़ी चुनौती अमूल, मदर डेयरी, वाडीलाल, हैवमोर आदि जैसी दिग्गज कंपनियों के साथ प्रतिस्पर्धा है।


यश का कहना है कि ये कंपनियां पुराने ब्रांड हैं और अच्छा प्रदर्शन कर रही हैं। "हम अभी भी खुद को पोजीशन कर रहे हैं और यह अपनी गति से हो रहा है।"


एससीपीएल ने महाराष्ट्र में अपनी उपस्थिति दर्ज कराई है। यश का दावा है कि कंपनी की कुल आइसक्रीम बिक्री का 20 प्रतिशत 50 से अधिक वितरकों के वितरण नेटवर्क के साथ राज्य से उत्पन्न होता है और 25 प्रतिशत सीएजीआर (चक्रवृद्धि वार्षिक वृद्धि दर) से बढ़ रहा है। इसने राजस्थान, मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश, जम्मू और कश्मीर और अन्य क्षेत्रों में भी प्रवेश किया है।


एससीपीएल के नमकीन और मिठाई ई-कॉमर्स मार्केटप्लेस पर भी उपलब्ध हैं।

भविष्य की योजनाएं 

एससीपीएल के पास तमाम विस्तार योजनाएं हैं और 2022 तक अपने आइसक्रीम पार्लरों की संख्या को दोगुना करने का लक्ष्य है, जिससे महाराष्ट्र और गुजरात जैसे राज्यों में अधिक रोजगार पैदा करने में मदद मिलेगी जहां कंपनी विस्तार करने का लक्ष्य बना रही है।


कंपनी नई श्रेणियों में प्रवेश करने की भी योजना बना रही है, जिसके बारे में यश का मानना है कि अभी इस बारे में बात करना जल्दबाजी होगी।


एससीपीएल एक पुराना पारिवारिक व्यवसाय है जो लोगों में निवेश करता है।


यश कहते हैं, “जब हम लोगों को बताते हैं कि हम अमरेली से हैं, तो उनका दूसरा सवाल यह है कि यह कहाँ है? हम चाहते हैं कि हर कोई हमारे शहर को पहचानें और हम अपने कारोबार में इसी तरह के विकास का लक्ष्य लेकर चल रहे हैं।"


Edited by Ranjana Tripathi