कैसे दो इंजीनियरों ने मिलकर खड़ी कर दी ड्रोन कंपनी, TSAW Drones की कहानी...

TSAW Drones ने हाल ही में कोलकाता में अपनी तरह की पहली B2C दवा ड्रोन डिलीवरी सेवा शुरू की है, जो पहले से ही कोलकाता के अन्य क्षेत्रों में दवा वितरित करने के लिए TATA 1mg के साथ काम कर रही है और एफएमसीजी और ई-कॉमर्स जैसे अन्य क्षेत्रों में अपनी सेवाओं का विस्तार करने की योजना बना रही है.

कैसे दो इंजीनियरों ने मिलकर खड़ी कर दी ड्रोन कंपनी, TSAW Drones की कहानी...

Thursday July 13, 2023,

6 min Read

हाइलाइट्स

  • TSAW Drones एक ड्रोन टेक और ड्रोन लॉजिस्टिक्स सर्विस स्टार्टअप है.
  • यह मेक इन इंडिया ड्रोन मैन्युफैक्चरिंग ब्रांड बनने की ओर अग्रसर है
  • कंपनी ने सीड फंडिंग राउंड में 325K डॉलर जुटाए हैं

भारत में, अलग-अलग सेक्टर में ड्रोन का उपयोग धीरे-धीरे बढ़ रहा है, खासकर एरियल सिनेमेटोग्राफी, ज़मीन का सर्वे करने, कृषि और खनन गतिविधियों, आपदा प्रबंधन, निर्माण गतिविधियों और राष्ट्रीय राजमार्गों और रेलवे पटरियों के मानचित्रण आदि के लिए. वहीं, कमर्शियल ड्रोन्स का इस्तेमाल लॉजिस्टिक्स, फूड डिलीवरी, दवाइयों की डिलीवरी आदि में किया जाता है. बता दें कि Unmanned Aerial Vehicles (UAVs) को आसान भाषा में ड्रोन कहा जाता है.

वर्तमान में, कुल ग्लोबल ड्रोन इम्पोर्ट में भारत की हिस्सेदारी 22.5% है. हालाँकि अधिकांश ड्रोन सैन्य गतिविधियों के लिए काम में लिए जाते हैं, लेकिन अब कमर्शियल ड्रोन भी लोकप्रिय हो रहे हैं. 900 मिलियन अमेरिकी डॉलर से अधिक के कुल मूल्य के साथ, कमर्शियल ड्रोन सेक्टर के सैन्य उद्योग से अधिक होने का अनुमान है. 2025 तक, भारत दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा ड्रोन बाजार होने का अनुमान है.

ट्रेड प्रमोशन काउंसिल ऑफ इंडिया (TPCI) की एक रिपोर्ट के मुताबिक, भारत सरकार 2030 तक भारत को ग्लोबल ड्रोन हब बनाने की योजना बना रही है, और उम्मीद है कि वित्त वर्ष 2024 तक ड्रोन निर्माण उद्योग का कुल कारोबार ₹ 60-80 करोड़ से बढ़कर ₹ 900 करोड़ हो जाएगा.

TSAW Drones एक ड्रोन टेक और ड्रोन लॉजिस्टिक्स सर्विस स्टार्टअप है. किशन तिवारी और रिमांशु पांडे ने मिलकर साल 2019 में इसकी स्थापना की थी. यहां TSAW की फुल फॉर्म Technit Space and Aero Works है.

यह स्टार्टअप अपनी अत्याधुनिक तकनीक के साथ टेक्नोलॉजी सर्विसेज मुहैया कर रहा है और मेक इन इंडिया ड्रोन मैन्युफैक्चरिंग ब्रांड बनने की ओर अग्रसर है. यह अपने हाल ही में लॉन्च किए गए लॉजिस्टिक्स सर्विस प्रोवाइडर DRONECO के साथ ग्राहकों तक सामान पहुंचाने के प्राथमिक लक्ष्य के साथ स्वच्छ और सुरक्षित लॉजिस्टिक्स समाधान प्रदान करने के लिए भी प्रतिबद्ध है.

how-two-engineers-together-set-up-a-drone-company-tsaw-drones

TSAW Drones ने हाल ही में कोलकाता में अपनी तरह की पहली B2C दवा ड्रोन डिलीवरी सेवा शुरू की है, जो पहले से ही कोलकाता के अन्य क्षेत्रों में दवा वितरित करने के लिए TATA 1mg के साथ काम कर रही है और एफएमसीजी और ई-कॉमर्स जैसे अन्य क्षेत्रों में अपनी सेवाओं का विस्तार करने की योजना बना रही है.

जहां एक ओर किशन ने MNIT से मैकेनिकल इंजीनियरिंग में BTech किया है, वहीं दूसरी ओर रिमांशु ने सिविल इंजीनियरिंग में BTech किया है.

YourStory से बात करते हुए TSAW Drones के को-फाउंडर और सीईओ किशन तिवारी बताते हैं, "कंपनी लॉजिस्टिक्स ड्रोन पेश करके कनेक्टिविटी के महत्वपूर्ण मुद्दे को हल कर रही है. कंपनी शहरों में सीमित कनेक्टिविटी, ई-कॉमर्स, मेडिकल सप्लाई डिस्ट्रीब्यूशन और आवश्यक वस्तुओं के परिवहन जैसी महत्वपूर्ण गतिविधियों में बाधा उत्पन्न होने वाली चुनौतियों को पहचानती है. ड्रोन टेक्नोलॉजी के इनोवेटिव उपयोग के माध्यम से, TSAW Drones का लक्ष्य ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों के बीच के अंतर को खत्म करना, कुशल और भरोसेमंद लॉजिस्टिक्स कनेक्टिविटी की सुविधा प्रदान करना है. इस मिशन को आगे बढ़ाने के लिए, TSAW Drones ने DRONECO लॉन्च किया है, जो एक सहायक ब्रांड है जो लॉजिस्टिक्स इंडस्ट्री में क्रांति लाने के लिए प्रतिबद्ध है."

बिजनेस मॉडल के बारे में पूछे जाने पर तिवारी बताते हैं, "TSAW Drones बिजनेस-टू-बिजनेस (B2B) और बिजनेस-टू-गवर्नमेंट (B2G) मॉडल के तहत काम करता है. यह चयन लॉजिस्टिक्स बाजार में पर्याप्त मात्रा को लक्षित करने के उद्देश्य से किया गया था, जो भारत की जीडीपी में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है. इसके अलावा, B2G पहलू सरकार की इंट्रा-सिटी कनेक्टिविटी को बढ़ाने और कुशल लॉजिस्टिक्स संचालन के लिए टेक्नोलॉजी का लाभ उठाने के लिए स्टार्टअप की आवश्यकता के साथ मेल खाता है."

को-फाउंडर किशन तिवारी आगे समझाते हैं, "TSAW Drones एक प्रोडक्ट सूट मुहैया करता है जिसमें लॉजिस्टिक्स ड्रोन और सॉफ्टवेयर सॉल्यूशन शामिल हैं. लॉजिस्टिक्स ड्रोन का उपयोग विभिन्न लॉजिस्टिक्स उद्देश्यों, संचालन को सुव्यवस्थित करने और दक्षता बढ़ाने के लिए किया जाता है. कंपनी द्वारा मुहैया किए गए सॉफ्टवेयर सॉल्यूशन टर्नअराउंड टाइम (TAT) को कम करने, ट्रैफ़िक की भीड़ को कम करने, लागत को कम करने और टाइम मैनेजमेंट को ऑप्टीमाइज करते हैं. ड्रोन टेक्नोलॉजी और एडवांस सॉफ्टवेयर सिस्टम को इंटीग्रेट करके, TSAW Drones का लक्ष्य लॉजिस्टिक्स इंडस्ट्री में क्रांति लाना है."

how-two-engineers-together-set-up-a-drone-company-tsaw-drones

फंडिंग के बारे में पूछे जाने पर किशन बताते हैं, "कंपनी ने सीड फंडिंग राउंड में We Founder Circle, Chandigarh Angel Network, log9, और Zypp Electric जैसे उल्लेखनीय निवेशकों से सफलतापूर्वक 325K डॉलर जुटाए हैं."

TSAW Drones दो तरीकों से रेवेन्यू कमाता है. पहला, लॉजिस्टिक्स सेक्टर में ड्रोन का उपयोग करके. कंपनी विभिन्न लॉजिस्टिक उद्देश्यों के लिए ड्रोन-बेस्ड सॉल्यूशन मुहैया करती हैं.यह सर्विस कॉन्ट्रैक्ट्स और पार्टनरशिप के जरिए भी रेवेन्यू हासिल करती है. दूसरा, TSAW Drones सर्विस के रूप में ड्रोन से संबंधित सॉफ्टवेयर सॉल्यूशन मुहैया करता है. यह ग्राहकों को लेटेस्ट और कस्टमाइज्ड ड्रोन सॉफ्टवेयर सॉल्यूशन प्रदान करता है, जिससे सॉफ्टवेयर लाइसेंसिंग या सब्सक्रिप्शन मॉडल के माध्यम से रेवेन्यू हासिल होता है."

हालांकि, को-फाउंडर्स ने रेवेन्यू के आंकड़ों का खुलासा नहीं किया.

इस बिजनेस को खड़ा करने में किन कठिनाइयों का सामना करना पड़ा? इसके जवाब में किशन बताते हैं, "TSAW Drones को अपना बिजनेस खड़ा करने में कई चुनौतियों का सामना करना पड़ा, विशेष रूप से COVID-19 महामारी की शुरुआत के दौरान. भारत में ड्रोन इंडस्ट्री के शुरुआती चरण के कारण कोर टीम बनाने में शुरुआती मुश्किलें आईं. इस उभरते सेक्टर में एक कुशल और अनुभवी टीम का निर्माण एक महत्वपूर्ण बाधा साबित हुई. हालाँकि, कंपनी ने लचीलेपन और अनुकूलन क्षमता का प्रदर्शन किया, और तेजी से बढ़ते ड्रोन सेक्टर में एक प्रमुख खिलाड़ी के रूप में उभरने के लिए इन चुनौतियों का सफलतापूर्वक सामना किया."

how-two-engineers-together-set-up-a-drone-company-tsaw-drones

TSAW Drones की टीम

TSAW Drones की USP (unique selling proposition) के बारे में समझाते हुए सीईओ किशन तिवारी कहते हैं,"कंपनी की USP और मूल्य प्रस्ताव कई प्रमुख पहलुओं में निहित है. हमारे ड्रोन टेक सॉल्यूशन 50% फास्ट डिलीवरी कराते हैं, जिससे ग्राहकों का बहुमूल्य समय बचता है. इसके अलावा, लागत में बचत होती है, नए व्यावसायिक अवसर खुलते हैं, शून्य उत्सर्जन में योगदान मिलता है और समग्र ग्राहक अनुभव बढ़ता है."

वर्तमान में, कंपनी के तीन सक्रिय ग्राहक हैं (Medvolant, TATA 1MG, और Khanaiya life care medicines) जिनके साथ यह सक्रिय रूप से कारोबार कर रही है. ये ग्राहक अपनी लॉजिस्टिक जरूरतों को पूरा करने और ड्रोन टेक्नोलॉजी का लाभ उठाने के लिए TSAW Drones द्वारा मुहैया की गई सेवाओं और समाधानों का उपयोग कर रहे हैं.

भविष्य की योजनाओं के बारे में पूछे जाने पर किशन बताते हैं, "आने वाले समय में, TSAW Drones ने उत्तर प्रदेश, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड आदि सहित भारत के प्रमुख राज्यों में अपनी डिलीवरी सेवाओं का विस्तार करने के लिए एक रणनीतिक योजना तैयार की है, जबकि ऑस्ट्रेलियाई और अफ्रीकी क्षेत्रों पर विशेष ध्यान देने के साथ अंतरराष्ट्रीय बाजारों को भी लक्षित किया है. 2024 के अंत तक DRONECO के माध्यम से कंपनी का लक्ष्य डिलीवरी को 300 प्रतिशत तक बढ़ाना है. इन अवसरों का लाभ उठाकर, कंपनी का लक्ष्य अपने ग्राहक आधार को व्यापक बनाना और ग्लोबल ड्रोन इंडस्ट्री में एक प्रमुख खिलाड़ी के रूप में अपनी स्थिति को मजबूत करना है."

यह भी पढ़ें
कैसे अपनी टेक्नोलॉजी की बदौलत MSMEs का बिजनेस बढ़ाने में मदद कर रहा है Shiprocket