सामाजिक मुद्दों को लेकर 101 साल की उम्र में भी लड़ रहा है बेंगलुरु का ये स्वतंत्रता सेनानी

By yourstory हिन्दी
January 26, 2020, Updated on : Sun Jan 26 2020 12:48:28 GMT+0000
सामाजिक मुद्दों को लेकर 101 साल की उम्र में भी लड़ रहा है बेंगलुरु का ये स्वतंत्रता सेनानी
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

1947 के बाद से देश के उतार-चढ़ाव के साक्षी रहे एचएस डोरेस्वामी लगभग 70 वर्षों से उस स्वतंत्र भारत में सांस ले रहे हैं जिसके लिए उन्होंने फाइट की थी। विभिन्न सामाजिक मुद्दों से लड़ने की बात आने पर यह गैर-राजनेता कभी पीछे नहीं हटता है।


k

फोटो क्रेडिट: deccanchronicle



उस समय दोपहर का समय था, जब मैं जयनगर में उनके छोटे से घर में एचएस डोरेस्वामी से मिली थी। उनके रेड ऑक्साइड फ्लोर वाले पीले रंग के घर में बहुत कम फर्निशिंग है, लेकिन उनको मिले पुरस्कार और गांधी मूर्तियों के साथ अधिकांश दीवारें उस घर की शोभा बढ़ाती हैं। जब मैं उनसे मिलती हूं तो वरिष्ठ स्वतंत्रता सेनानी गर्मजोशी से मेरा स्वागत करते हैं और अपने लंच को जल्द फिनिश करने के लिए कहते हैं।


एक पुरानी लकड़ी की कुर्सी पर आराम से बैठने के बाद, मैंने देखा कि डोरेस्वामी ने अपनी मदद से ही चावल और सांबर तैयार किए थे। उन्होंने लंच के बाद मुझे अपने सामने वाले कमरे में बैठने के लिए बुलाया, जहां उनका एक बेड था जिस पर बैठकर वे आराम करते हैं और आने वाले लोगों के बात करते हैं। हमारी बातचीत शुरू ही हुई थी एक फोन कॉल ने हमें डिस्टर्ब कर दिया। जब वे उस कॉल का अच्छी अंग्रेजी में जवाब दे रहे थे, तभी पहली बार मेरी नजर उनके भारी झुर्रियों वाले चेहरे पर पड़ी। उनके उस फ्रेंडली चेहरे पर अभी तक चमक फीकी नहीं पड़ी थी।


मूल रूप से मैसूरु के पास हारोहल्ली के रहने वाले, डोरेस्वामी काफी शिक्षित हैं। उनका पालन-पोषण उनके दादा-दादी ने किया क्योंकि उन्होंने पांच साल की उम्र में अपने पिता को खो दिया था। डोरेस्वामी जब युवा थे तब कई कांग्रेसी उनके 'शानबाग थाथा' (उनके दादा जो गाँव के क्लर्क के रूप में काम करते थे) से मिलने के लिए उनके गाँव के घर में आते थे।


वे कहते हैं कि उनके (कांग्रेस नेताओं) भाषणों ने शुरुआती स्वतंत्रता संग्राम के दिनों में मेरे परिवार को बेहद प्रेरित किया। राष्ट्र भर में बहुत गर्म और गुस्से का माहौल व्याप्त था। हाई स्कूल में, डोरेस्वामी ने माई अर्ली लाइफ, एक पुस्तक पढ़ी जो गांधी के युवा दिनों पर थी।


डोरेस्वामी याद करते हैं,

"एक पार्ट में यह कहा गया- 'एक सामाजिक कार्यकर्ता को स्वैच्छिक गरीबी को गले लगाना चाहिए।" इस विचार ने मुझे विशेष रूप से प्रभावित किया। हालाँकि मुझे इसके निहितार्थ का एहसास नहीं हुआ, फिर भी इसी दर्शन ने मुझे जीवन में बहुत बाद में अपने मूल्यों को ढालने में मदद की।”


स्वतंत्रता संग्राम के दिन

वे कहते हैं कि हमारा मुख्य उद्देश्य भारत में ब्रिटिश शासन को बाधित करने वाले महत्वपूर्ण आधिकारिक दस्तावेजों को नष्ट करना था।


“मैं बेंगलुरु में मिलों को बंद करने के लिए मिलों के कर्मचारियों और नेताओं को दबाने में भी शामिल था, जो पैराशूट कपड़े (एक विशेष कपड़ा सामग्री जो हवाई जहाज के अंदरूनी हिस्सों को अस्तर करने के लिए उपयोग किया जाता था।) का निर्माण करते थे। हम किसी भी तरह की औद्योगिक गतिविधि को बाधित करना चाहते थे जिसने उनके विश्व युद्ध के प्रयास में अंग्रेजों को सहायता दी हो।"


डोरेस्वामी आगे याद दिलाते हैं,

"किसी प्रकार, हम एक कट्टर कम्युनिस्ट नेता और मिल मालिक एनडी शंकर को मना लेते हैं। हमारे मनाने के बाद वे अस्थायी रूप से अपनी पार्टी से इस्तीफा दे देते हैं और स्वतंत्रता आंदोलन में कूदने और अपने कर्मचारियों को उत्पादन बंद करने के लिए आंदोलन करते हैं। हम इस बड़े पैमाने पर जागृति में सफल रहे और, परिणामस्वरूप, बिन्नी मिल्स, राजा मिल्स और मिनर्वा मिल्स ने लगभग दो सप्ताह तक अंग्रेजों के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया। इसने तत्कालीन मैसूर प्रेसीडेंसी के तहत आने वाली कई अन्य मिलों को अनिश्चित काल के लिए काम बंद करने के लिए प्रेरित किया।"


जेल मेरे लिए विश्वविद्यालय की तरह था

101 वर्षीय डोरेस्वामी को 1944 में जेल में भी बंद किया गया था क्योंकि हिरासत में उनके एक साथी कॉमरेड ने उन्हें बम फेंकने के मामले में पार्टनर बताया था। वे कहते हैं कि अगर सच कहूं तो, तो मैंने बेंगलुरु सेंट्रल जेल में अपने 14 महीने के प्रवास का आनंद लिया। यह लगभग 500 स्वतंत्रता सेनानियों के लिए गर्व की बात थी जो वहां बंद थे। जेल मेरे लिए विश्वविद्यालय की तरह निकला, मैंने अपना अधिकांश समय नाटकों में अभिनय करने, नई भाषाएँ सीखने और वॉलीबॉल खेलने में बिताया।


जेल से रिहा होने के बाद, डोरेस्वामी ने कुछ वर्षों के लिए एक प्रकाशन डिपो साहित्य मंदिर चलाया। हालाँकि, उन्हें अपने मित्र की अंतिम इच्छा को पूरा करने के लिए जल्द ही इसे बंद करना पड़ा और मैसूर का रुख करना पड़ा, जिसने स्वतंत्रता संग्राम में योगदान देने के लिए अपने डूबते अखबार पौरवानी को आगे बढ़ाने का अनुरोध किया था।


k

फायरब्रांड स्वतंत्रता सेनानी गर्व से कहते हैं, “मैंने पहली बार उस साप्ताहिक कांग्रेस अखबार को एक दैनिक अखबार में बदल किया। इसकी कीमत तब तीन पैसे रखी गई थी। 1947 के मैसूर चलो आंदोलन के दौरान, जिसने वोडेयार महाराजाओं को भारत में प्रवेश करने के लिए मजबूर किया, उस दौरान मुझे टीटी शर्मा मिले और मैंने उनको महाराजाओं के बारे में पेपर विलाप करने और उस समय की जिम्मेदार सरकार को ध्यान में रखते हुए 10 स्ट्रॉन्ग वर्ड वाली राय लिखने के लिए कहा। आठवें कॉलम के प्रकाशित होने तक, मुझे मुख्य सचिव की ओर से एक नोटिस मिला, जिसमें मुझे प्रकाशन से पहले एक सरकारी पैनल के समक्ष सभी लेखों की समीक्षा करने को कहा गया था। मैंने उनकी चेतावनी को टाल दिया और एक विशेष बॉक्स आइटम के साथ अंतिम दो को प्रकाशित करने के लिए आगे बढ़ा, जहां मैंने सार्वजनिक रूप से फ्री स्पीच पर अंकुश लगाने के ऐसे प्रयास की निंदा की।"


डोरेस्वामी 15 अगस्त, 1947 की उस आधी रात को जीवंतता के साथ याद कर सकते हैं, जिसने हर भारतीय को स्वतंत्रता दी। जश्न केवल उसी पूरी रात नहीं हुआ। त्यौहार का मिजाज था और लोग अपने घरों को रोशनी और तिरंगे झंडों से जा रहे थे। 


उनके सपनों का भारत

जैसे ही मैंने उनसे पूछा कि क्या वह आज अपने सपनों के भारत में रह रहे हैं, उनका उत्साह कम हो गया। एक ऐसा इंसान जो सर्वोदय समाज (सभी के लिए प्रगति) में विश्वास करता हो उसके लिए भ्रष्ट राजनेताओं और स्वार्थी, बेशर्म सामाजिक कार्यकर्ताओं वाला भारत निराश करता है।


वे कहते हैं, “हमने एक स्वतंत्र भारत के लिए गरीबी को मिटाने, सत्ता का विकेंद्रीकरण करने और जनता की सरकार की स्थापना करने के लिए लड़ाई लड़ी, लेकिन आज जो सरकारें हैं उनका कोई नैतिक मूल्य नहीं है। वे कॉर्पोरेट संस्कृति को प्रोत्साहित करके अमीरों को अमीर बनाने में मदद करती हैं। चुनाव धन शक्ति और जाति द्वारा संचालित होते हैं। हर उम्मीदवार या तो भाजपा, कांग्रेस या कम्युनिस्ट है। लोगों के नेता के बारे में क्या।" मैं पूछती हूं कि क्या उन्हें लगता है कि वर्तमान पीढ़ी उन मूल्यों की बहुत कीमत रखती है जिसके लिए उन्होंने लड़ाई लड़ी थी।


खैर आज केवल 10 प्रतिशत भारत वास्तव में स्वतंत्र है; बाकी 90 प्रतिशत वह नहीं है।


राजनीति में शामिल होने के विचार ने कभी डोरेस्वामी को मोहित नहीं किया यहां तक कि अपने बड़े भाई के माध्यम से भी जो पहले बेंगलुरु के मेयर थे।


वे कहते हैं,

“आपातकाल के दिनों और इंदिरा की कांग्रेस ने मेरी राजनीतिक विचारधाराओं का मोहभंग कर दिया। मैं कोई ऐसा व्यक्ति था जो समग्र विकास में विश्वास करता था और इसलिए मैं सुश्री गांधी की शासन की तानाशाही शैली का सम्मान करने नहीं आया था।”


उन्होंने उस समय भी इंदिरा गांधी को पत्र लिखकर कहा था कि 1975 के आपातकाल के दौरान वे तानाशाह की तरह व्यवहार न करें।


कई सामाजिक बदलावों के लिए लड़ने में फ्रंटनर

डोरेस्वामी के लिए उम्र महज एक नंबर है। भूमिहीन और विस्थापित समुदायों के अधिकारों के लिए लड़ना उनके डीएनए का हिस्सा है। बार-बार अस्पताल में भर्ती होना और बीमार पड़ना भले ही उनके सामाजिक कार्यों में कभी-कभी बाधा उत्पन्न कर सकता है, लेकिन वे इससे धीमे नहीं पड़ते हैं। पिछले तीन वर्षों में, डोरेस्वामी ने अत्यधिक समर्पण के साथ तीन सामाजिक समस्याओं को लेकर काम किया है। सबसे पहले, उन्होंने एक टीम को लीड किया जिसने मांडूर लैंडफिल में बेंगलुरु के कचरे के डंपिंग के खिलाफ विरोध किया।


वे कहते हैं,

“पिछले सात सालों से इस लैंडफिल में हर रोज लगभग 30,000 टन अंधाधुंध डंप किया जा रहा था। मैंने महसूस किया कि आसपास के क्षेत्रों में रहने वाले लोगों को इससे समस्याएं हो रहीं थीं। इसने मुझे उनके लिए कुछ न करने के चलते अपराधबोध कराया। इसलिए, मैंने इसे समाप्त करने के लिए खुद को आगे किया।"


दूसरा, उन्होंने बेंगलुरू और उसके आसपास की लगभग 40,000 एकड़ भूमि को अवैध रूप से हड़पने के खिलाफ 39-दिवसीय विरोध प्रदर्शन किया। एटी रामास्वामी समिति की रिपोर्ट ने उन अपराधियों को जेल में डालने का सुझाव दिया था जिन्होंने जमीन को मनमाने ढंग से वितरित करने के लिए फर्जी टाइटल जारी की थी। डोरस्वामी ने इस समस्या को उठाया था, जिसके बाद इस मामले में विधायी कार्यवाही की निगरानी के लिए विशेष अदालतें स्थापित की गई थीं।


अंत में, बेंगलुरु के सबसे अधिक पसंद किए जाने वाले इस स्वतंत्रता सेनानी ने पीड़ित किसानों के लिए भी भूमि के समतावादी वितरण की मांग करते हुए सामने से आए थे।


हम 70 साल से गरीबी में रहे हैं। और किसान आत्महत्या कर रहे हैं। यह सिर्फ उनका पेट भराने की जिम्मेदारी लेने लेने तक पर्याप्त नहीं है; सरकार को लंबे समय में उन्हें वित्तीय रूप से टिकाऊ बनाने के लिए एक तरीका निकालने की जरूरत है। इसी संदर्भ में, मैंने गरीबी पर चर्चा न होने पर बेलगुम में शीतकालीन विधानसभा सत्र को बंद करने की धमकी दी। वे कहते हैं कि उन्हें ये मानना पड़ा क्योंकि उनके लिए मुझे गंभीरता से नहीं लेना मुश्किल है।

आदर्श सामाजिक कार्यकर्ता को लेकर डोरेस्वामी की परिभाषा

उनसे पूछें कि एक आदर्श सामाजिक कार्यकर्ता कौन है, तब डोरेस्वामी संक्षेप में बताते हैं:

“कोई व्यक्ति जो भौतिकवादी, सत्ता का भूखा, भयभीत, आश्रित और प्रतिशोधी नहीं है। आज के सामाजिक कार्यकर्ता बिना किसी दृढ़ विश्वास के कारणों की तलाश में हैं। उनका एक दिवसीय विरोध ज्यादातर प्रचार के लिए है और वास्तविक सामाजिक चिंता में निहित नहीं है। यह बंद होना चाहिए, हम अकेले विरोध करके कुछ लड़ाई नहीं जीत सकते।” 


-अमूल्या राजप्पा


Clap Icon0 Shares
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Clap Icon0 Shares
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

हमारे दैनिक समाचार पत्र के लिए साइन अप करें