रिलायंस जियो जैसी होगी Jio AirFiber की एंट्री? घुटनों पर आने को मजबूर हो सकते हैं छोटे खिलाड़ी!

जब रिलायंस जियो आया था, तो कुछ ही महीनों में छोटी-छोटी टेलिकॉम कंपनियां बंद हो गईं. अब जियो एयर फाइबर ऐसी ही क्रांति कर सकता है और ब्रॉडबैंड मार्केट के छोटे खिलाड़ियों को बोरिया बिस्तर बांधकर मार्केट से निकलना पड़ सकता है.

रिलायंस जियो जैसी होगी Jio AirFiber की एंट्री? घुटनों पर आने को मजबूर हो सकते हैं छोटे खिलाड़ी!

Tuesday August 30, 2022,

3 min Read

Reliance Industries की 45वीं एजीएम (Reliance AGM) में मुकेश अंबानी (Mukesh Ambani) ने कई अहम घोषणाएं कीं. इसमें सबसे बड़ी घोषणा रही 5जी से जुड़ी, जिसका पूरे देश को बेसब्री से इंतजार है. रिलायंस के अलावा एयरटेल (Airtel) भी 5G की दिशा में तेजी से काम कर रहा है. ऐसे में दूसरों से टक्कर लेने के लिए रिलायंस ने एक खास घोषणा की, जिसके तहत मुकेश अंबानी ने जियो एयर फाइबर (Jio AirFiber) का ऐलान कर दिया. अब सवाल ये है कि जियो एयर फाइबर क्या है, कैसे काम करेगा और इसके जरिए मुकेश अंबानी किस पर निशाना साध रहे हैं?

पहले जानिए क्या है जियो एयर फाइबर

जियो एयर फाइबर एक वायरेस सर्विस होगी, जो 5जी नेटवर्क पर आधारित होगी. इसकी मदद से अल्ट्रा हाई स्पीड इंटरनेट मुहैया कराया जा सकेगा. यह एक तरह का डिवाइस होगा, जिसे सिर्फ पावर देने की जरूरत होगी. जैसे ही आप इसे बिजली से कनेक्ट कर के स्टार्ट करेंगे, यह एक वाई-फाई मॉडेम या हॉट-स्पॉट की तरह काम करेगा और आपको इंटरनेट मिलने लगेगा. इसकी मदद से बड़ी आसानी से घर, ऑफिस, दुकान या किसी भी जगह को वाई-फाई हॉट-स्पॉट में बदला जा सकेगा.

तो क्या अब ब्रॉडबैंड के बाजार पर कब्जा करेगा जियो?

सितंबर 2016 में पहली बार रिलायंस जियो ने टेलिकॉम मार्केट में एंट्री मारी, जिसके बाद कॉलिंग और इंटरनेट डेटा बहुत ज्यादा सस्ते हो गए. जियो के प्लान इतने ज्यादा सस्ते थे कि कई छोटी टेलिकॉम कंपनियां तो कॉम्पटीशन भी नहीं कर पाईं और बंद हो गईं. वोडाफोन और आइडिया जैसे बड़े प्लेयर भी भारी नुकसान के चलते बंद होने की कगार पर जा पहुंचे और आखिरकार दोनों का मर्जर हो गया. अभी भी वोडा-आइडिया मुनाफा कमाने के लिए संघर्ष कर रहा है. 5जी तकनीक के तहत एयर फाइबर लाकर रिलायंस जियो अब ब्रॉडबैंड मार्केट के टारगेट कर रहा है. मुकेश अंबानी एजीएम में बोल भी चुके हैं कि सबसे सस्ता और बढ़िया 5जी ऑफर किया जाएगा.

रिलायंस जियो ने जियो फाइबर के जरिए भी ब्रॉडबैंड मार्केट को टारगेट करने की कोशिश की थी, लेकिन उसमें एक बड़ी दिक्कत ये आई कि उसके लिए फाइबर नेटवर्क बिछाना पड़ रहा है. रिलायंस जियो फाइबर धीरे-धीरे तमाम जगहों पर फाइबर बिछा रहा है, लेकिन अधिकतर जगहों पर अभी तक नहीं पहुंच सका है. 5जी एयरफाइबर के दम पर रिलायंस जियो एक ही बार में पूरे देश में अपना नेवटर्क फैलाकर तेजी से लोगों को अपनी ओर खींच सकेगा. यानी एक बात तो यह समझिए कि इसके आते ही छोटे-छोटे ब्रॉडबैंड सर्विस प्रोवाइडर खत्म हो सकते हैं. यानी जैसा रिलायंस जियो के वक्त हुआ था, वैसा फिर से हो सकता है. टेलिकॉम मार्केट पर कब्जा करने के बाद अब जियो एयरफाइबर की मदद से रिलायंस जियो ब्रॉडबैंड मार्केट पर भी कब्जा कर सकता है.

कई फायदे हैं इसके

इसका एक बड़ा फायदा ये होगा कि अल्ट्रा हाई स्पीड होने की वजह से आप एक साथ कई सारे काम कर सकेंगे. यहां तक कि रिलायंस जियो की प्लानिंग तो मैच में एक साथ कई कैमरों की स्ट्रीमिंग दिखाने की है. यानी घर बैठे-बैठे मैच देखने का अनुभव स्टेडियम से भी शानदार हो जाएगा.

5जी की मदद से क्लाउड गेमिंग बहुत का अनुभव बहुत ही शानदार हो जाएगा, भले ही आप एक जगह बैठे हों या फिर कहीं चल रहे हों.

5जी की वजह से लोगों की पैसों की बचत भी होगी. जियो एयर फाइबर को जियो क्लाउड पीसी के साथ जोड़कर इसका बहुत ही बेहतर इस्तेमाल हो सकेगा. आपको अपने कम्प्यूटर को अपग्रेड करने की जरूरत नहीं होगा, बल्कि जियो पीसी क्लाउड का इस्तेमाल कर के आप आसानी से जितना बेहतर चाहे, उतने बेहतर कंप्यूटर का इस्तेमाल कर सकते हैं. यानी आपके पैसों की बचत होगी.