मिलें ऑटो ड्राइवर के उस बेटे से जो अब टीम इंडिया के लिए खेलते हुए झंडे गाड़ रहा है

मिलें ऑटो ड्राइवर के उस बेटे से जो अब टीम इंडिया के लिए खेलते हुए झंडे गाड़ रहा है

Monday October 18, 2021,

3 min Read

एक ऑटो ड्राइवर का बेटा आज क्रिकेट के मैदान पर झंडे गाड़ रहा है। कहा जाता है कि लगन और कठिन परिश्रम के दम पर किसी भी मुश्किल हालात से बाहर आकर सफलता हासिल की जा सकती है और इस कथन को क्रिकेटर चेतन साकरिया ने बखूबी सच साबित किया है। गुजरात के भावनगर में जन्मे चेतन को आज क्रिकेट के मैदान पर उनके जोरदार प्रदर्शन के चलते भारत समेत पूरी दुनिया जान रही है।


बचपन से ही क्रिकेट के शौकीन रहे चेतन के लिए उनका शुरुआती समय कठिनाइयों से भरा हुआ था। घर की आर्थिक स्थिति को ध्यान में रखते हुए उनके पिता उन्हें पढ़ाई पर फोकस करने पर बल दिया करते थे लेकिन चेतन ने तो अपने लिए क्रिकेट के मैदान पर भविष्य बनाना चुन रखा था।

k

चेतन के लिए उनके जीवन का सबसे बड़ा मौका तब आया जब उनका चयन पहली बार सौराष्ट्र की अंडर-19 क्रिकेट टीम के लिए हुआ। सौराष्ट्र के लिए बेहतरीन प्रदर्शन करते हुए चेतन ने कूच विहार ट्रॉफी में 6 मैचों में 18 विकेट चटकाए थे।

पिता से किया था वादा

अपने एक इंटरव्यू में चेतन ने उस समय को याद करते हुए बताया है कि जब उन्होने अपने चहेते क्रिकेट खिलाड़ियों को देखते हुए अपने पिता से भी क्रिकेट में आगे जाने का जिक्र किया था तब उनके पिता ने उनसे कहा था कि ‘इस खेल के लिए काफी अधिक पैसों की जरूरत होगी, इसके अलावा पॉलिटिकल सपोर्ट का भी होना जरूरी हैं, इसलिए ये हमारे बस की बात नहीं है।‘ अपने पिता की इस बात का जवाब देते हुए चेतन ने तब उनसे कहा था कि ‘पापा आप सही बोल रहे हैं लेकिन मैं एक दिन ये करके दिखाऊँगा।‘


गौरतलब है कि तब चेतन के पास क्रिकेट की प्रैक्टिस करने के लिए अच्छे जूते खरीदने तक के पैसे नहीं हुआ करते थे और घर पर टीवी ना होने के चलते चेतन टीम इंडिया के क्रिकेट मैच को देखने के लिए अपने पड़ोसियों के घर जाया करते थे।

फिर आया बड़ा दिन

चेतन के लिए उनके जीवन का सबसे बड़ा मौका तब आया जब उनका चयन पहली बार सौराष्ट्र की अंडर-19 क्रिकेट टीम के लिए हुआ। सौराष्ट्र के लिए बेहतरीन प्रदर्शन करते हुए चेतन ने कूच विहार ट्रॉफी में 6 मैचों में 18 विकेट चटकाए थे। चेतन के इस प्रदर्शन को देखते हुए उनका चयन एमआरएफ़ फेस फाउंडेशन में हो गया और यहाँ से उनकी तैयारियों को जरूरी रफ्तार मिलने लगी।


चेतन ने साल 2018 में सौराष्ट्र टीम से रणजी ट्रॉफी के लिए डेब्यू किया था। इसी दौरान चेतन ने सैय्यद मुश्ताक अली ट्रॉफी में बेहतरीन प्रदर्शन किया और इसी के बाद उनके आईपीएल के लिए नोटिस किया गया। साल 2021 की आईपीएल नीलामी में चेतन को राजस्थान रॉयल्स ने 1.20 करोड़ रुपये की भारी-भरकम राशि के साथ अपने साथ जोड़ा था। चेतन इसी साल जुलाई में टीम इंडिया के लिए श्रीलंका के खिलाफ अपना वनडे और टी20 डेब्यू भी कर चुके हैं।


अपने पिता से किया वादा पूरा करने वाले चेतन के लिए ये साल सफलताओं के साथ काफी कठिन भी रहा है। इस साल चेतन ने अपने भाई और फिर अपने पिता को खो दिया है। चेतन की मेहनत पर गर्व करते हुए उनकी माँ ने मीडिया को बताया है कि वे जल्द ही अपना नया घर लेने पर विचार कर रहे हैं।


Edited by Ranjana Tripathi