मिलें उस शख्स से जो बीते 26 वर्षों से हर दिन आवारा पशुओं को खिला रहा है खाना

By Apurva P & रविकांत पारीक
February 07, 2022, Updated on : Mon Feb 07 2022 05:03:52 GMT+0000
मिलें उस शख्स से जो बीते 26 वर्षों से हर दिन आवारा पशुओं को खिला रहा है खाना
बड़ा प्रभाव एक छोटी सी शुरूआत से होता है। लखनऊ के चंद्र प्रकाश जैन बीते 26 वर्षों से अपने घर के पास आवारा गायों, कुत्तों और बिल्लियों को बिना किसी रुकावट के, हर दिन खाना खिला रहे हैं।
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

सामाजिक कार्य अक्सर बड़े पैमाने पर प्रभाव पैदा करने से जुड़ा होता है। हालांकि, 56 वर्षीय चंद्र प्रकाश जैन इस बात का एक प्रमुख उदाहरण हैं कि इसकी शुरुआत घर से कैसे की जा सकती है।


लखनऊ के नादरगंज के रहने वाले चंद्र प्रकाश पिछले 26 से अधिक वर्षों से हर दिन गली के जानवरों को खाना खिला रहे हैं।


चंद्र प्रकाश कहते हैं, “लगभग 26 साल पहले, मेरे पिता ने मुझे अपनी आय का 12.5 प्रतिशत दान के लिए अलग रखने के लिए कहा था। उस समय मेरी आमदनी कम थी लेकिन फिर भी मैं अपने वेतन का एक हिस्सा दान करने में कामयाब रहा। जानवरों को खिलाने की मेरी यात्रा वहीं से शुरू हुई।”


"जो भूखे जानवर को खिलाता है, अपनी आत्मा को खिलाता है" कहावत में विश्वास करने वाले चंद्र प्रकाश ने आस-पास के जानवरों को खिलाना शुरू कर दिया और आज तक सेवा के लिए समर्पित है।

Chandra Prakash Jain

दिनचर्या

अपनी पत्नी, दो बेटों और एक बहू के साथ रहने वाले चंद्र प्रकाश केंद्र सरकार के कर्मचारी हैं; वह 90 के दशक की शुरुआत से भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (IMD), लखनऊ में काम करते हैं।


उनका दिन सुबह 4 बजे से ही शुरू हो जाता है। वह उठते हैं, प्रार्थना करते हैं, और हाथ में रोटी या बन्स के पैकेट लेकर सैर पर निकल जाते हैं। वह रास्ते में मिलने वाले सभी जानवरों को खिलाते हैं - चाहे वह गाय, बिल्ली या कुत्ता हो - और सुबह 5 बजे घर वापस आ जाते हैं।


चंद्र प्रकाश अपने घर के पास लगभग 3 किमी के क्षेत्र में चलते हैं। वह शाम को अपना दिन समाप्त करने से पहले - रात 8 बजे से 9.30 बजे के बीच ऐसा ही करते हैं। वह इसे हर एक दिन करते हैं, और इस तथ्य की परवाह किए बिना कि यह एक चिलचिलाती धूप या सर्दी का दिन है, या यदि वह अस्वस्थ हैं, यह वर्षों से लगातार चल रहा है।

पशुओं को चारा खिलाते हुए चंद्र प्रकाश

पशुओं को चारा खिलाते हुए चंद्र प्रकाश

वे कहते हैं, “मुझे परवाह नहीं है कि मेरे रास्ते में कोई बाढ़, हवा या पहाड़ है। मुझे केवल उन्हें खिलाने की परवाह है। बदले में वो भी मुझे उतना ही प्यार करते हैं। किसी भी जानवर ने मुझे अभी तक किसी भी तरह से नुकसान नहीं पहुंचाया है।”


उनके अनुसार, दुर्लभ अवसरों पर ही किसी और ने उनकी अनुपस्थिति में जानवरों को खिलाया है।

जानवरों से है प्यार

यह पूछने पर कि उन्हें क्या प्रेरित और गतिशील रखता है, चंद्र प्रकाश के पास केवल एक ही उत्तर है: उनका प्यार।


उनका कहना है कि ये जानवर अक्सर सुबह-शाम उनका इंतजार करते थे। "वो मुझे उछल-कूद कर, मेरे पैरों के आस-पास रहकर, मुझे लगभग गले लगाकर बहुत प्यार दिखाते हैं। इससे मुझे आत्मविश्वास मिलता है और आगे बढ़ने की प्रेरणा मिलती है।"


इन आवारा जानवरों के लिए प्यार यही कारण है कि उन्हें अपना पालतू जानवर नहीं चाहिए था। जब वह हर दिन कई जानवरों को खिलाते हैं तो उन्हें एक पालतू जानवर की देखभाल करने और उस पर पूरा ध्यान देने का कोई मतलब नहीं दिखता।


वर्षों से, मूक आत्माओं को खिलाने की पूरी प्रक्रिया उनके लिए एक शौक बन गई है कि उन्हें रोजाना उन्हें खाना खिलाने में मजा आता है। चंद्र प्रकाश हर दिन 70 से अधिक गायों और कुत्तों को खिलाने का दावा करते हैं


आज तक चंद्र प्रकाश इन सभी जानवरों को अपनी आमदनी से खिला चुके हैं। आगे भी, वह 2024 में सेवानिवृत्त होने के बाद जारी रखने और अधिक जानवरों को खिलाने के लिए दृढ़ संकल्पित है।


अंत में चंद्र प्रकाश कहते हैं, "मैं अपने या अपने परिवार की आय का उपयोग करके बिना किसी दान या बाहरी मदद के गरीबों और वंचितों की सेवा करना चाहता हूं।"


Edited by Ranjana Tripathi

Clap Icon0 Shares
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Clap Icon0 Shares
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close