124 माह में पैसा हो जाएगा डबल, 100% सेफ्टी के साथ इस स्कीम की है गारंटी

By Ritika Singh
July 09, 2022, Updated on : Sat Jul 09 2022 07:45:25 GMT+0000
124 माह में पैसा हो जाएगा डबल, 100% सेफ्टी के साथ इस स्कीम की है गारंटी
KVP को मिनिमम 1000 रुपये में लिया जा सकता है. मैक्सिमम निवेश की कोई लिमिट नहीं है.
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

हर कोई ऐसा निवेश विकल्प तलाशता है, जिसमें व्यक्ति का पैसा सुरक्षित भी रहे और रिटर्न भी अच्छा हो. अगर आप भी ऐसी ही स्कीम की खोज में हैं तो डाकघर (Post Office) का किसान विकास पत्र (KVP) राइट चॉइस हो सकता है. डाकघर में जमा पैसों पर सॉवरेन गारंटी होती है, इसलिए किसी भी लिमिट तक पैसा पूरी तरह सेफ रहता है. इसके अलावा KVP (Kisan Vikas Patra) में मौजूदा ब्याज दर पर 124 महीनों में पैसा डबल होने की गारंटी है. 


KVP को मिनिमम 1000 रुपये में लिया जा सकता है. मैक्सिमम निवेश की कोई लिमिट नहीं है. KVP को सिंगल या जॉइंट में, 10 साल से अधिक उम्र के नाबालिग और दिमागी रूप से कमजोर व्यक्ति के नाम पर लिया जा सकता है. इसे किसी भी डिपार्टमेंटल पोस्‍ट ऑफिस से खरीद सकते हैं. किसान विकास पत्र को जारी होने के ढाई साल बाद भुनाया जा सकता है.

ब्याज दर की डिटेल

पोस्ट ऑफिस के KVP में अभी सालाना 6.9 प्रतिशत की दर से ब्याज मिल रहा है. यह ब्याज दर 1 अप्रैल 2020 से लागू है. इस ब्याज दर पर निवेश करने पर आपका पैसा 124 महीने (10 साल और 4 महीने) की अवधि में डबल हो जाएगा. चूंकि किसान विकास पत्र स्मॉल सेविंग्स स्कीम में आता है, इसलिए ब्याज दर हर तिमाही पर तय होती है.

कितने भी खाते खोलने की सुविधा

किसान विकास पत्र के अंतर्गत कितने भी खाते खोले जा सकते हैं. KVP में नॉमिनेशन की सुविधा रहती है. इसके अलावा सर्टिफिकेट को एक व्यक्ति के नाम से दूसरे व्यक्ति के नाम पर और एक डाकघर से दूसरे डाकघर में ट्रांसफर किया जा सकता है.

अगर मैच्योरिटी से पहले करना हो बंद

KVP को मैच्योरिटी से पहले किसी भी समय बंद कर सकने की सुविधा है. लेकिन इसके लिए कुछ शर्तें हैं-

  • खाताधारक की मृत्यु होने पर, जॉइंट अकाउंट के मामले में किसी एक या सभी खाताधारकों की मृत्यु पर
  • गिरवीं होने की स्थिति में राजपत्र अधिकारी द्वारा जब्त करने पर
  • कोर्ट के आदेश पर
  • जमा की तारीख से 2 साल और 6 महीने बाद