हौसले की मिसाल! ओडिशा की एसिड-अटैक सर्वाइवर ने अपने दोस्त से की शादी, बताया "जीवन का सबसे अच्छा दिन”

राज्य के जगतसिंहपुर जिले की रहने वाली राउल ने एसिड हमले की दर्दनाक यादों को दूर करने का फैसला किया और अपने प्रेमी सरोज साहू (30) के साथ सोमवार, 1 मार्च को शादी रचा ली। राउल ने इसे उसके "जीवन का सबसे अच्छा दिन” बताया है।

हौसले की मिसाल! ओडिशा की एसिड-अटैक सर्वाइवर ने अपने दोस्त से की शादी, बताया "जीवन का सबसे अच्छा दिन”

Wednesday March 03, 2021,

3 min Read

एक एसिड हमले ने उसके चेहरे को पूरी तरह से झुलसा दिया और वह दोनों आंखों से अंधी हो गयी, फिर भी भयावह घटना ओडिशा की 29 वर्षीय प्रमोदिनी राउल उर्फ ​​रानी को अपने पैरों पर वापस आने से नहीं रोक सकी।


राज्य के जगतसिंहपुर जिले की रहने वाली राउल ने एसिड हमले की दर्दनाक यादों को दूर करने का फैसला किया और अपने प्रेमी सरोज साहू (30) के साथ सोमवार, 1 मार्च को शादी रचा ली। राउल ने इसे उसके "जीवन का सबसे अच्छा दिन” बताया है।


समाचार एजेंसी एएनआई से बात करते हुए राउल ने कहा, "18 अप्रैल, 2009 को मुझ पर एसिड हमला हुआ था। मैं सरोज, जो कि अब मेरे पति हैं, से इलाज के दौरान 2014 में मिली थी। इस पूरे सफर में उन्होंने हमेशा मुझे सपोर्ट किया है।"

हिंदुस्तान टाइम्स की एक ख़बर के अनुसार, राउल ने कहा, "एक ऐसे समाज में जहां एक लड़की के चेहरे को शादी के लिए ज्यादा महत्व दिया जाता है, मैं कभी सपने में भी नहीं सोच सकती थी। मैं अपने परिवार और अपने प्रेमी के परिवार की सहमति से शादी करना चाहती थी।" शादी सोमवार शाम को जगतसिंहपुर जिले के उनके गांव कनकपुर में हुई।


लोकमत की एक रिपोर्ट के अनुसार, "प्रमोदिनी का जीवन हमेशा के लिए बदल गया, जब जगतसिंहपुर में एक अर्धसैनिक जवान ने उस पर एसिड फेंक दिया क्योंकि उसने उसके शादी के प्रस्ताव को अस्वीकार कर दिया था। इस हमले में वह 80 प्रतिशत जल गई थी और अपनी आंखों की रोशनी भी खो दी। वह नौ महीने तक आईसीयू में रही और कटक के अस्पतालों में पांच साल तक दर्दनाक जीवन बिताया।"


वह सरोज, जो एक चिकित्सा प्रतिनिधि थे, से 2014 में तब मिली जब एक निजी क्लिनिक में उनका इलाज चल रहा था। सरोज ने रानी को सपोर्ट करते हुए उसकी देखभाल करने के लिए अपनी नौकरी छोड़ दी। जब रानी ठीक होने लगीं, तो वह 2015 में Sheroes के हेल्पडेस्क में शामिल हो गई। सरोज भी इस फाउंडेशन में शामिल हो गए, जो एक कैफे चेन चलाता है।


2016 में जब सरोज ने प्रमोदिनी को प्रपोज किया था, तो उसने उसे देखा नहीं था क्योंकि वह अपनी आंखों की रोशनी खो चुकी थी। जुलाई 2017 में आंख की सर्जरी कराने के बाद, वह आंशिक रूप से देख सकती थी। फिर, जोड़े ने Sheroes में सगाई करने का फैसला किया, जहाँ उसने अपनी पहली नौकरी और एक नया जीवन शुरू किया था।