मिलें एसिड अटैक सर्वाइवर लक्ष्मी अग्रवाल से

By रविकांत पारीक
January 24, 2020, Updated on : Thu Apr 08 2021 10:45:42 GMT+0000
मिलें एसिड अटैक सर्वाइवर लक्ष्मी अग्रवाल से
लक्ष्मी अग्रवाल एक एसिड अटैक सर्वाइवर है। लक्ष्मी अग्रवाल की कहानी को लेकर फिल्म निर्देशक मेघना गुलजार ने अभिनेत्री दीपिका पादुकोण को मुख्य भूमिका में लेते हुए 'छपाक' फिल्म भी बनाई।
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

लक्ष्मी अग्रवाल एक एसिड अटैक सर्वाइवर है, जो एसिड अटैक पीड़ितों के अधिकारों के लिए एक प्रचारक और टीवी होस्ट और टेडेक्स स्पीकर है। वह भारत में एसिड अटैक सर्वाइवर्स की मदद के लिए समर्पित एनजीओ छांव फाउंडेशन की पूर्व निदेशक रह चुकी हैं। साल 2014 में, उन्हें अमेरिका में मिशेल ओबामा द्वारा अंतर्राष्ट्रीय महिला सम्मान का पुरस्कार दिया गया। हाल ही में रिलीज हुई फिल्म 'छपाक' उनके जीवन पर आधारित है, जिसे मेघना गुलजार ने डायरेक्ट किया और दीपिका पादुकोण ने और उनकी(लक्ष्मी) भूमिका अदा की।


k

लक्ष्मी अग्रवाल राष्ट्रीय राजधानी नई दिल्ली की रहने वाली हैं। लक्ष्मी का जन्म 1 जून, 1990 को एक मध्यम वर्गीय परिवार मेंं हुआ। घर की आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं होने के कारण लक्ष्मी ने दिल्ली के खान मार्केट में किताबों के एक दुकान पर काम करना शुरू कर दिया। हालांकि लक्ष्मी बचपन से ही सिंगर बनना चाहती थी लेकिन महज 15 साल की उम्र में हुए एक हादसे ने उनके सपनों की तस्वीर ही बदलकर रख दी।


अपने साथ हुए हादसे के बारे में बात करते हुए टाइम्स ऑफ इंडिया को दिए एक इंटरव्यू में लक्ष्मी ने बताया,

"मैं 15 साल की थी जब एक 32 वर्षीय व्यक्ति को मुझसे प्यार हो गया। मैं उसे अटैक से पहले से ही जानती थी और उसकी बहनें मेरी दोस्त थी। उस आदमी ने मेरे सामने शादी का प्रस्ताव रखा और मैं डर गई। उस वक्त मैं अपने सपनों के बारे में सोच रही थी। उस आदमी के घर पर एक सेलफोन था और जब उसने मुझे फोन किया, तो मैंने उसे बताया कि मुझे उसमें कोई दिलचस्पी नहीं है और मैंने उसे कहा कि आगे से कभी भी मुझे फोन नहीं के। हमले से दस महीने पहले, वह आदमी मुझे घूरने और परेशान करने लगा। मैं कहीं पर भी जाती थी, वो वहाँ आके मुझे थप्पड़ मार देता था। जो उसके मन में आता था, वो मेरे साथ करता था।"


इंटरव्यू में लक्ष्मी ने आगे कहा,

"अब आप मुझसे पूछेंगे कि मैंने उनके व्यवहार पर आपत्ति क्यों नहीं की या अपने माता-पिता को यह नहीं बताया। लड़कियों को परिवार के लिए दायित्व माना जाता है और पुरुष बच्चे का हमेशा स्वागत किया जाता है। एक लड़की के जन्म के क्षण से, उसके माता-पिता शिक्षा की तुलना में उसके दहेज के बारे में अधिक चिंता करते हैं। मैं इन सभी समस्याओं के बारे में अपने माता-पिता को नहीं बता सकती। अगर मैं उन्हें उस आदमी के बारे में बताती, तो वे मुझे घर पर ही रहने को कहते, मुझे स्कूल नहीं जाने दिया जाता और आखिरकार मेरी शादी किसी से करवा दी जाती।”





एसिड अटैक वाले दिन को याद करते हुए लक्ष्मी ने बताया,

"जब मैंने सोचा कि सब कुछ ठीक होगा, अगले दिन सुबह 10.45 बजे, मैंने उस आदमी को अपने छोटे भाई की प्रेमिका के साथ बाइक पर मेरे घर के पास इंतज़ार करते देखा। वे बीयर की बोतल और गिलास ले जा रहे थे। हमले के बाद, मुझे एहसास हुआ कि बीयर की बोतल में एसिड था। मैं बस स्टॉप की ओर चल रही थी और उनके इरादों के बारे में मुझे कुछ पता नहीं था। मैं बस स्टॉप से ​​कुछ ही कदम दूर थी जब उस लड़की ने मुझे धक्का दिया और मैं नीचे गिर गई। फिर उन्होंने मुझ पर तेजाब फेंक दिया। मैंने अपना होश खो दिया और सोचा कि यह सब मेरे सपनों में हो रहा है। मुझे कुछ समय बाद होश आया, लेकिन कोई भी मेरी मदद के लिए आगे नहीं आया। मुझे लगा जैसे किसी ने मेरे पूरे शरीर को आग लगा दी हो। फिर, एक आदमी आगे आया, मेरे चेहरे पर पानी छिड़क दिया और पीसीआर को बुलाया। मेरे हाथों और चेहरे से मेरी त्वचा टपक रही थी। जैसे ही मैं अस्पताल पहुंची, उन्होंने मुझ पर 20 बाल्टी पानी डाला। डॉक्टरों ने मेरे माता-पिता से कहा कि मैं जीवित नहीं रहूंगी। लेकिन मुझे अपनी कहानी को आप सभी के साथ साझा करने के लिए बचना था।”


k


लोगों ने मेरे परिवार को मुझे इंजेक्शन देकर मारने की सलाह दी

उसके बाद अब तक सात सर्जरी हो चुकी हैं। लक्ष्मी ने आगे कहा,

“मैंने अटैक से पहले अपनी नाक पर एक निशान लगाया था। मैंने ऑपरेशन के दौरान उसे हटाने के लिए डॉक्टर से कहा था। अपनी शुरुआती दो सर्जरी के बाद, मैंने सोचा कि मैं पहले से ज्यादा सुंदर लगूंगी। लेकिन जब मैंने पहली बार शीशे में अपना चेहरा देखा, तो मैं डर गई। मैंने आत्महत्या करने की सोची। जब मैं घर पहुंची, तो मेरे पड़ोसी और मेरे कुछ पारिवारिक मित्र "लड़की है, इसकी शादी कैसे होगी अब?' 'बॉडी के किसी और पार्ट पे एसिड डाल देता, चेहरे पर ही क्यूँ?' जैसी बातें कहने लगे। किसी एक ने मुझे एक इंजेक्शन लाकर दिया और कहा ये मुझे मार डालेगा।”


लक्ष्मी ने आगे कहा,

"उस व्यक्ति ने एक बार मुझ पर हमला किया, लेकिन समाज ने मुझ पर बार-बार हमला किया।"


एसिड-बिक्री पर लगवाया बैन

हालाँकि, लक्ष्मी ने अपने परिवार, विशेष रूप से अपने पिता को इस बात के लिए प्रेरित करने और उनकी मदद करने का श्रेय दिया कि इस दुनिया में कुछ भी असंभव नहीं है। 2006 में, उन्होंने (लक्ष्मी ने) एसिड की बिक्री पर प्रतिबंध लगाने के लिए सुप्रीम कोर्ट में जनहित याचिका दायर की। 2013 में, अदालत ने लक्ष्मी के पक्ष में फैसला सुनाया और राज्य सरकारों को केवल खुदरा विक्रेताओं को चुनने के लिए एसिड-बिक्री लाइसेंस जारी करने का निर्देश दिया। और एसिड बेचने के लिए अधिकृत किसी भी आउटलेट को खरीदारों को एड्रेस प्रूफ और एक फोटो पहचान पत्र के लिए पूछना अनिवार्य था, ताकि किसी अप्रिय घटना के मामले में उनका पता लगाया जा सके।





हालांकि, इस सब के बावजूद, लक्ष्मी ने कहा कि न केवल बिक्री, बल्कि एसिड हमले अभी भी जारी हैं। उन्होंने मथुरा के एक कांस्टेबल के हालिया मामले का हवाला दिया, जिस पर एक सिरफिरे प्रेमी ने एसिड से हमला किया था।


लक्ष्मी ने कहा,

"हमारे देश में पुलिस तक सेफ नहीं है।"


मिशेल ओबामा ने दिया अवार्ड

लक्ष्मी अग्रवाल को मिशेल ओबामा द्वारा वर्ष 2014 में महिला साहस पुरस्कार मिला। वह एक अंतरराष्ट्रीय स्तर पर एक प्रेरक वक्ता हैं और इस अपराध से निपटने वाले कानून में बदलाव करने के लिए भारत के सर्वोच्च न्यायालय में एक जनहित याचिका दायर करने का श्रेय दिया गया है।

k

मिशेल ओबामा के साथ लक्ष्मी अग्रवाल

लक्ष्मी ने देश भर में महिलाओं पर इस तरह के हमलों की बढ़ती संख्या का हवाला देते हुए, एसिड की बिक्री पर पूर्ण प्रतिबंध लगाने का भी अनुरोध किया था। उसने एसिड हमलों के बारे में जागरूकता पैदा करने के लिए विभिन्न आंदोलनों का नेतृत्व किया और पूरी तरह से एसिड की बिक्री पर प्रतिबंध लगाने के लिए अभियान चलाया।


'छपाक' बायोपिक

क


लक्ष्मी की अदम्य भावना ने मेघना गुलज़ार को उनके जीवन पर एक बायोपिक बनाने के लिए प्रेरित किया जिसमें दीपिका पादुकोण ने उनकी भूमिका निभाई। उन्होंने कहा,

“मैंने कभी स्कूल में पदक तक नहीं जीता। मुझ पर बायोपिक बनेगी, किसी सोचा भी नहीं होगा? मैं मेघना जी की शुक्रगुजार हूं कि उन्होंने मेरे काम को एक फिल्म में बदलने के लायक समझा। दीपिका जैसी हस्ती ने मेरा रोल निभाया है। मैं सिर्फ यह कहना चाहती हूं कि यह फिल्म उस हमलावर पर एक सख्त तमाचा है, जिसने सोचा था कि उसने मेरा जीवन बर्बाद कर दिया है और समाज को जिसने मुझे एक अपराधी की तरह देखा है।”


लक्ष्मी अग्रवाल वर्तमान में स्टॉप सेल एसिड (Stop Sale Acid) फाउंडेशन की संस्थापक है। यह फाउंडेशन एसिड अटैक और एसिड की बिक्री के खिलाफ एक अभियान के रूप में कार्य करता है। लक्ष्मी के इस अभियान में उन्हें राष्ट्रव्यापी समर्थन मिला है। लक्ष्मी अग्रवाल को महिला और बाल विकास मंत्रालय, पेयजल और स्वच्छता मंत्रालय और उनके अभियान स्टॉप सेल एसिड के लिए यूनिसेफ से 'अंतर्राष्ट्रीय महिला सशक्तिकरण पुरस्कार 2019' भी मिला है।


लक्ष्मी अग्रवाल की कहानी प्रेरणादायक है, न केवल एसिड अटैक सर्वाइवर्स के लिए बल्कि आम जनता के लिए भी। लक्ष्मी ने हमेशा समाज द्वारा निर्धारित सौंदर्य मानकों पर सवाल उठाया है और जनता को ऐसे जघन्य अपराधों का शिकार होने वाले लोगों के प्रति अधिक संवेदनशील बनाया है। लक्ष्मी ने समाज की बुराइयों और आंतरिक सुंदरता के महत्व को भी परिप्रेक्ष्य में लाया।


Clap Icon0 Shares
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Clap Icon0 Shares
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close