अब बस 15 मिनट में चार्ज हो जाएगा फोन, इस कंपनी ने पेश की है अल्ट्रा फास्ट चार्जिंग तकनीक

यह तकनीक इस साल के अंत तक फोन में नज़र आ सकती है। कंपनी ने अपनी इस तकनीक के पहले वर्जन को 2013 में सबके सामने पेश किया था।

(सांकेतिक चित्र)

(सांकेतिक चित्र)



बाज़ार में मोबाइल फोन आने के साथ ही लगातार इस्तेमाल के साथ उसकी बैटरी के जल्दी खत्म हो जाने और उसे बार-बार चार्ज करने की समस्या लोगों के बीच आम रही है। बीते कुछ सालों में तकनीक में हुए सुधार के जरिये हमें इस दिशा में कई बड़े बदलाव देखने को मिले हैं जिसमें अधिक क्षमता वाली बैटरी से लैस फोन और उनकी तेज़ चार्जिंग वाले फीचर्स ने ग्राहक वर्ग में अपनी खास जगह बनाई है।

 

फास्ट चार्जिंग तकनीक में लगातार हुए विकास का लाभ अब प्रभावी तरीके से हमें देखने को मिल रहा है। हाल ही में अमेरिकी चिपसेट निर्माता कंपनी क्वालकॉम ने क्विक चार्ज 5 नाम की अल्ट्रा फास्ट चार्जिंग तकनीक को लांच किया है। कंपनी का दावा है कि इस तकनीक के जरिये स्मार्टफोन की बैटरी महज़ 5 मिनट में 0 से 50 प्रतिशत तक चार्ज हो जाएगी।

क्या हैं इसके फीचर्स?

क्वालकॉम की इस तकनीक में पावर आउटपुट 100 वाट से भी अधिक है, इसी के साथ यह तकनीक 2एस बैटरी सिस्टम को भी सपोर्ट करती है, मतलब जिन फोन में दो बैटरियों का इस्तेमाल होता है उन्हे भी इसके जरिये फास्ट चार्जिंग सपोर्ट मिलेगा। क्विकचार्ज में डबल और ट्रिपल चार्ज टेक्नालजी का सपोर्ट दिया गया है, जिससे बैटरी लाइफ मेंटेन रखने में यूजर को ख़ासी मदद मिलेगी।

 

इसके पहले क्वालकॉम ने जून 2017 में क्विक चार्ज 4+ लांच किया था, जिसमें चार्जिंग क्षमता 45 वाट तक ही सीमित थी। कंपनी के दावे के अनुसार नई तकनीक में बैटरी चार्जिंग के दौरान 10 डिग्री सेल्सियस अधिक कूलिंग अनुभव यूजर को मिलेगा। महज 5 मिनट में 50 प्रतिशत बैटरी चार्ज करने वाली यह तकनीक हालांकि 0 से 100 प्रतिशत बैटरी चार्ज करने के लिए कुल 15 मिनट का समय लेती है।

किसे मिलेगा सपोर्ट?

क्विक चार्ज 5 का सपोर्ट पहले स्नैपड्रैगन 865 और स्नैपड्रैगन 865+ सपोर्ट वाली डिवाइसेस को मिलेगा। क्वालकॉम के अनुसार अभी यह तकनीक टेस्टिंग फेज़ में है, लेकिन इससे लैस पहली डिवाइस साल 2020 की तीसरी तिमाही में बाज़ार में नज़र आ सकती है।

 

क्वालकॉम के अनुसार यह तकनीक सैमसंग के गैलेक्सी एस20 5जी और एलजी वी30 जैसी डिवाइसेस में नज़र आ सकती है, हालांकि आने वाले समय में क्वालकॉम स्नैपड्रैगन 700 सिरीज़ के लिए भी इसका सपोर्ट दे सकता है।




किससे है मुक़ाबला?

यूं तो क्वालकॉम ने क्विकचार्ज 5 तकनीक को जमीन पर उतारा नहीं है लेकिन फिर भी अन्य कंपनियों की तकनीक से इसे टक्कर मिलने की पूरी संभावना है, इसमें वनप्लस वार्प चार्ज, ओप्पो 125 वॉट फ्लैश चार्ज टेक्नालजी और हुआवे सुपरचार्ज शामिल है। ओप्पो का दावा है कि उसकी तकनीक 4000 एमएएच बैटरी को महज 5 मिनट में 41 प्रतिशत तक चार्ज कर देती है, जबकि बैटरी को पूरी तरह चार्ज होने में 20 मिनट का समय लगता है।

 

वन प्लस के वार्प चार्ज 30T की बात करें तो कंपनी गेमिंग के दौरान भी महज 30 मिनट में 70 प्रतिशत बैटरी चार्ज करने का दावा करती है, जबकि फुल बैटरी चार्ज के लिए ये एक घंटे का समय लेता है, हालांकि इस तकनीक की मदद से तेज़ रफ्तार चार्जिंग के लिए यूजर को वन प्लस चार्जर की ही जरूरत पड़ती है।

कैसे काम करती है फास्ट चार्जिंग?

ये समझना भी कतई मुश्किल नहीं है कि इस तरह की फास्ट चार्जिंग काम कैसे करती है? फास्ट चार्जिंग तकनीक के जरिये बैटरी को भेजे जाने वाले करंट में बढ़ोत्तरी की जाती है। उदाहरण के तौर पर एक साधारण यूएसबी चार्जर के जरिये बैटरी में 0.5 एम्पियर करंट और 5 वोल्ट का इस्तेमाल करते हुए 2.5 वाट की पावर भेजी जाती, जबकि फास्ट चार्जिंग के लिए करंट की मात्रा बढ़ा दी जाती है।

 

अब वनप्लस वार्प 30 की बात करें तो इसके जरिये फोन की बैटरी में 6 एम्पियर करंट को 5 वोल्ट पर भेजा जाता है जिससे फोन की बैटरी को 30 वाट की पावर मिलती है। इस तरह फास्ट चार्जिंग तकनीक के जरिये फोन की बैटरी में करंट की मात्रा तब तक भेजी जाती है जब तक बैटरी का वोल्टेज अधिकतम ना हो जाए और ऐसे फोन सामान्य चार्जर की तुलना में कई गुना तेजी से चार्ज होता है।

 

वहीं अगर हम वापस क्वालकॉम के क्विक चार्ज की बात करें इसे सबसे पहले 2013 में इसके पहले वर्जन क्विक चार्ज 1.0 को सबके सामने लाया गया था, उसके बाद 2014 में क्विक चार्ज 2.0, 2016 में क्विक चार्ज 3.0 और 2017 में क्वालकॉम ने क्विक चार्ज 4.0 और क्विक चार्ज 4+ पेश किया था, उस हिसाब से क्विक चार्ज 5 क्वालकॉम की इस तकनीक का छठा वर्जन है।