केरल में लॉकडाउन के दौरान आदिवासी बच्चों को पढ़ाने के लिये दोहरी भूमिका निभा रहे हैं पुलिस अधिकारी

केरल के विथुरा पुलिस स्टेशन के पुलिस अधिकारी आदिवासी बच्चों को पढ़ाने के लिये कठिन इलाकों और पहाड़ियों पर जाते हैं।

केरल में लॉकडाउन के दौरान आदिवासी बच्चों को पढ़ाने के लिये दोहरी भूमिका निभा रहे हैं पुलिस अधिकारी

Friday August 07, 2020,

2 min Read

नोवेल कोरोनावायरस के प्रकोप के बाद से, भारत भर में फ्रंट लाइन में पुलिस फोर्स कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए कड़ी मेहनत कर रही हैं। इस दौरान हम सब ने ऐसे दृश्य भी देखे हैं जहाँ पुलिस अधिकारियों ने नागरिकों को उनका जन्मदिन मनाने में मदद की है।


हालांकि, केरल के तिरुवनंतपुरम जिले के विथुरा पुलिस स्टेशन के पुलिस अधिकारी, पास के जंगल में एक आदिवासी समुदाय के बच्चों को पढ़ाने के लिए अपनी ड्यूटी परे जाते हुए शिक्षक बनकर दोहरी भूमिका निभा रहे हैं।


बच्चों को पढ़ाने वाले विथुरा स्टेशन के पुलिस अधिकारी (फोटो साभार: TheNewsMinute)

बच्चों को पढ़ाने वाले विथुरा स्टेशन के पुलिस अधिकारी (फोटो साभार: TheNewsMinute)


द न्यूज मिनट के अनुसार, इस क्षेत्र के छात्रों को शिक्षा प्रदान करने के लिए पुलिस अधिकारियों को कठिन इलाकों और पहाड़ियों से होकर गुजरना पड़ता है।


कुछ दिनों पहले, विथुरा में एक पुलिस स्टेशन को चाइल्ड-फ्रैंडली स्पेस के रूप में फिर से बनाया गया था और इसका उद्घाटन केरल के पुलिस महानिदेशक लोकनाथ बेहरा द्वारा किया गया था। स्टेशन में ई-लर्निंग और ऑनलाइन शिक्षा के लिए आवश्यक सभी सुविधाएं हैं, विशेष रूप से कल्लुप्पाड़ा (Kallooppara) आदिवासी समुदाय के बच्चों के लिए।


व्यवस्था के बावजूद, जिन नौ छात्रों ने कक्षाओं के लिए साइन अप किया था, वे उस स्थान तक नहीं पहुंच पाए, क्योंकि यह छह किलोमीटर दूर था।


यह तब था जब पुलिस अधिकारियों ने इन बच्चों को सीधे उनके घरों के करीब से जोड़ने का फैसला किया। द लॉजिकल इंडियन के अनुसार, उप-निरीक्षक एसएल सुधेश, आदिवासी कार्यकर्ता धन्या रमन, और अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक मनोज अब्राहम ने आवास में ही एक स्टडी सेंटर को स्पॉंसर किया।


डीजीपी लोकनाथ बेहरा की सहायता से प्रोजेक्टर, टेलीविजन, टैबलेट, कुर्सियां और बोर्ड जैसी कक्षाएं संचालित करने के लिए आवश्यक सभी संसाधनों की खरीद की गई। स्टुडेंट पुलिस कैडेट (एसपीसी), साथ ही साथ सरकारी उच्चतर माध्यमिक विद्यालय के साथ काम करने वाले शिक्षकों ने भी मदद की।


विथुरा स्टेशन हाउस के अधिकारी एस श्रीजिथ ने कहा,

"उन सभी के समर्थन से हमने उपकरणों की व्यवस्था की और स्थानीय लोगों ने एक सीमित समय में नरकट और बांस के साथ 300 वर्ग फुट की कक्षा बनाई। फिर, हमने अध्ययन केंद्र की व्यवस्था की।"

उन्होंने आगे बताया, स्टेशन के कुछ अधिकारी और एचएसएस के कुछ शिक्षक नियमित रूप से कक्षाएं संचालित करते हैं। यहां तक कि हम बच्चों के साथ रहने का आनंद लेते हैं और वे हमारे साथ समय बिताने का आनंद लेते हैं।