बेबी केयर उत्पादों की खोज को लेकर पति-पत्नी की इस जोड़ी ने शुरू किया अपना स्टार्टअप

By Sujata Sangwan
February 24, 2022, Updated on : Thu Feb 24 2022 06:44:47 GMT+0000
बेबी केयर उत्पादों की खोज को लेकर पति-पत्नी की इस जोड़ी ने शुरू किया अपना स्टार्टअप
साल 2019 में पति-पत्नी विशाल मित्तल और मधुरिमा रूंगटा द्वारा में स्थापित गुरुग्राम स्थित हनीहनी एक ऑनलाइन मदर-एंड-बेबी ब्रांड है, जो उत्पादों की एक श्रृंखला पेश करता है। दिल्ली-एनसीआर में इसके तीन ऑफलाइन स्टोर हैं और साल 2022 में इस संख्या को बढ़ाने का लक्ष्य है।
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

अपने बच्चे के लिए सबसे अच्छे उत्पादों की तलाश में पति-पत्नी की जोड़ी विशाल मित्तल और मधुरिमा रूंगटा ने साल 2019 में HunyHunyकी स्थापना की थी। गुरुग्राम स्थित यह वन-स्टॉप डेस्टिनेशन एक संपूर्ण पेरेंटिंग यात्रा के लिए सभी आवश्यक सामान प्रदान करने का दावा करता है।


मदर एंड बेबी ब्रांड की सह-संस्थापक और निदेशक मधुरिमा कहती हैं, “यह एक बहुत ही व्यक्तिगत अनुभव के साथ शुरू हुआ जब हमने पैरेंटहुड में प्रवेश किया। इसलिए, एक तरह से हम हमारी खूबसूरत बेटी और हनीहनी के साथ जुड़वां बच्चों के माता-पिता बन गए।”


वे आगे कहती हैं कि जब उनकी बेटी का जन्म हुआ, तो उन्होंने भी सभी माता-पिता की तरह ही "ऑनलाइन शॉपिंग और रिटेल स्टोर्स" के माध्यम से उसके लिए सर्वश्रेष्ठ उत्पादों की खोज की और महसूस किया कि पालन-पोषण अनिवार्य रूप से एक लक्जरी बन गया है।

HunyHuny

वे कहती हैं, “उदाहरण के लिए जब हम बच्चों का पालना खरीदने गए तो वहाँ कुछ ही ब्रांड थे जो उन उत्पादों को बेच रहे थे। शुरुआती सीमा लगभग 40,000 रुपये से 50,000 रुपये थी, जो कि एक भारतीय मध्यम वर्ग के माता-पिता के बजट से बहुत अधिक है। प्रत्येक शिशु उत्पाद की खरीद के साथ जैसे ही यह अहसास होने के साथ हमें व्यवसाय में उतरने का विचार आया ताकि किसी भी भारतीय माता-पिता को अपने बच्चों के लिए बुनियादी चीजों को प्राप्त करने के बारे में कभी भी दो बार सोचना न पड़े।”


विशाल रैकस्पेस और ट्राईकोर सॉल्यूशंस प्राइवेट लिमिटेड के पूर्व निदेशक हैं, जबकि मधुरिमा कंपनी सेक्रेटरी और "एक विजनरी माँ" हैं। दोनों ने 35 लाख रुपये के शुरुआती निवेश के साथ कंपनी को बूटस्ट्रैप करने का फैसला किया था।


अभी तक स्टार्टअप के पास लगभग 170 एसकेयू हैं। यह सात श्रेणियों में उत्पाद वैरिएंट पेश करता है, जिसमें बेबी एसेंशियल, बेबी वियर, बेबी फ़र्नीचर, बेबी ट्रांसपोर्ट, बेबी एक्सेसरीज़, मैटरनिटी लॉन्जरी और मैटरनिटी वियर शामिल हैं।


मधुरिमा कहती हैं, "हमारे पास उत्पादों की एक श्रृंखला है, लेकिन सबसे अधिक बिकने वाली वस्तुओं में हनीहनी के बच्चों के पालने और स्ट्रोलर हैं।"


हनीहनी अपनी वेबसाइट के के साथ ही और दिल्ली-एनसीआर में फैले तीन ऑफलाइन स्टोर के जरिये बिक्री करता है।


मधुरिमा कहती हैं, "हमने अपने स्टोर पूरे भारत में शुरू करने के लिए फ्रैंचाइज़ इंडिया को ऑन-बोर्ड किया है, जिसकी शुरुआत टियर 1 शहरों से होती है।"


180 ग्राहकों से शुरू होकर 15,000 से अधिक बच्चों तक पहुंचने के लिए हनीहनी ने दावा किया है कि इसने स्थापना के बाद से 400 प्रतिशत की वृद्धि देखी गई है। ग्राहक बड़े पैमाने पर नए माता-पिता और दादा-दादी हैं, जिनमें से अधिकांश ऑर्डर महिलाओं और टियर 1 शहरों से आते हैं।


मधुरिमा कहती हैं, "उत्पाद की गुणवत्ता और किफायती मूल्य निर्धारण प्रमुख ड्राइविंग कारक हैं। वीडियो कॉल जैसी सेवाओं की भी व्यवस्था की जाती है ताकि कहीं भी बैठे माता-पिता देख सकें और अनुभव कर सकें कि उत्पाद उनके बच्चे की जरूरतों को कैसे पूरा करेगा। इसके अलावा, चूंकि हमारे उत्पादों को कारखानों से सीधे उपभोक्ता तक पहुंचाया जाता है, यह थर्ड पार्टी की लागत में काफी कटौती करता है।”


हनीहनी दिल्ली सहित दुनिया के विभिन्न हिस्सों में अपने उत्पाद तैयार करता है। वे कहती हैं, “हम प्रीमियम गुणवत्ता, अंतरराष्ट्रीय स्तर के कपड़े और आवश्यक वस्तुओं के निर्माण के लिए छोटे नौकरी करने वालों को संलग्न करते हैं। हमारे बेबी ट्रांसपोर्ट और फर्नीचर चीन, यूरोप और न्यूजीलैंड में निर्मित होते हैं।”


स्टार्टअप में वर्तमान में 18 सदस्यों की एक टीम है। विशाल के एक मित्र और सहयोगी हेमंत नायक साल 2020 में एक निदेशक और मुख्य रणनीति अधिकारी के रूप में हनीहनी में शामिल हुए हैं।

HunyHuny

बाज़ार और भविष्य

डेटा ब्रिज मार्केट रिसर्च की एक रिपोर्ट के अनुसार, भारत में शिशु उत्पादों का बाजार आकार साल 2020 में 1.6 बिलियन डॉलर था और इसके 16.9 प्रतिशत की सीएजीआर से बढ़ने की उम्मीद है।


हनीहनी कई घरेलू और अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ियों के साथ प्रतिस्पर्धा करता है, जिसमें चिक्को, ग्रेको, फिशर प्राइस, मदरकेयर, फर्स्टक्राई और कई अन्य नाम शामिल हैं।


लेकिन स्टार्टअप का मानना है कि कीमत, गुणवत्ता और विशिष्टता के कारण यह भीड़ भरे बाजार में अलग खड़ा है।


हनीहनी इस साल की बैलेंस शीट लगभग 4 करोड़ रुपये पर बंद कर रही है। वित्त वर्ष 2021 में इसका राजस्व 80 लाख रुपये था।

मधुरिमा कहती हैं, ”ऑनलाइन बिक्री से होने वाला राजस्व 80 प्रतिशत और ऑफ़लाइन राजस्व 20 प्रतिशत है।”


स्टार्टअप भारत भर से सालाना 14,000 से अधिक ऑर्डर का दावा करता है, जिसमें झारसुगुडा जैसे ओडिशा के छोटे शहर जम्मू और कश्मीर में शामिल हैं।

HunyHuny

माँ और शिशु उत्पादों के स्टार्टअप के लिए आगे क्या है? संस्थापकों के अनुसार, वे अब 20 करोड़ रुपये का निवेश जुटाना चाहते हैं।


मधुरिमा कहती हैं, “हमारी योजना अगले पांच वर्षों में पूरे भारत में टियर 1 और टियर 2 शहरों में फ्रैंचाइज़ी स्टोर खोलने की है। हम मध्य पूर्व और यूरोप से शुरू होकर अंतरराष्ट्रीय बाजार में भी कदम रखेंगे।”


Edited by Ranjana Tripathi