Brands
YSTV
Discover
Events
Newsletter
More

Follow Us

twitterfacebookinstagramyoutube
Yourstory

Brands

Resources

Stories

General

In-Depth

Announcement

Reports

News

Funding

Startup Sectors

Women in tech

Sportstech

Agritech

E-Commerce

Education

Lifestyle

Entertainment

Art & Culture

Travel & Leisure

Curtain Raiser

Wine and Food

Videos

ys-analytics

RajasthanITDay: फिल्ममेकर कबीर खान ने बताया वो किस्सा जब बॉलीवुड ने बचाई उनकी ज़िंदगी

कबीर खान ने यहां iStart Youth Internatioanl Film Festival में दिखाई जा रही फिल्मों की सराहना की और यंग फिल्ममेकर्स का मार्गदर्शन करते हुए उन्हें बधाई दी. उन्होंने राज्य सरकार की इस स्टार्टअप कॉन्क्लेव पहल को भी खूब सराहा.

RajasthanITDay: फिल्ममेकर कबीर खान ने बताया वो किस्सा जब बॉलीवुड ने बचाई उनकी ज़िंदगी

Tuesday March 21, 2023 , 5 min Read

राजस्थान सरकार के DoITC द्वारा आयोजित 'स्टार्टअप कॉन्कलेव' इवेंट के दूसरे दिन बॉलीवुड के मशहूर फिल्ममेकर कबीर खान ने शिरकत की. यहां उन्होंने 'एक था टाइगर: द लाइफ एंड टाइम्स ऑफ कबीर खान' (Ek Tha Tiger: The Life and Times of Kabir Khan) थीम पर अपनी ज़िंदगी और फिल्म मेकिंग एक्सपीरियंस के बारे में बात की.

बता दें कि राज्य सरकार द्वारा इस इवेंट का आयोजन राजस्थान आईटी दिवस (Rajasthan IT Day) को सेलिब्रेट करने के लिए किया जा रहा है. इस इवेंट के जरिए सरकार राज्य के युवाओं को स्टार्टअप करने, स्टार्टअप्स को फंड्स मुहैया करने, आंत्रप्रेन्योर्स को सपोर्ट करने और रोजगार पैदा करना चाहती है.

कबीर ने अपने सेशन में बताया कि वो फिल्ममेकर बनना नहीं चाहते थे. उन्होंने बस अपनी बड़ी बहन से एक दिन यूंहीं बातों-बातों में कह दिया कि जहां आप एडमिशन के लिए अप्लाई कर रहे हो, वहां मेरे लिए भी अप्लाई कर देना. और इस तरह उनका दाखिला दिल्ली की जामिया मिल्लिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी में हो गया. यहां मास कम्यूनिकेशन कोर्स में शाहरुख़ ख़ान उनसे दो साल सीनियर हुआ करते थे.

कबीर ने बताया कि शाहरुख़ को जब मुंबई से बुलावा आ गया तो वो बिना कोर्स पूरा किए ही वहां चले गए और बाद में उनके नोट्स मैंने ले लिए. बकौल कबीर - शाहरुख़ बहुत ही इंटेलीजेंट स्टूडेंट थे. कबीर युवाओं को अपनी डिग्री पूरी करने पर जोर देते हैं.

rajasthan-it-day-istart-startup-conclave-filmmaker-ek-tha-tiger-the-life-and-times-of-kabir-khan

जब कोर्स के दौरान कबीर को मशहूर फिल्ममेकर साजिद नाडियादवाला के दादा ए के नाडियादवाला ने फिल्म में एक्टिंग करने का ऑफर दिया, तो उन्होंने मना कर दिया. उन्हें तुरंत शूटिंग करने के लिए कहा गया लेकिन कबीर ने कहा कि मैं पहले अपना कोर्स पूरा करुंगा, उसके बाद ही इंडस्ट्री में कदम रखूंगा. इस पर साजिद के दादा थोड़ा खफा हुए. कबीर उनकी शख़्सियत से भी वाकिफ़ नहीं थे, तो जब उन्होंने नाम पूछा तो, साजिद के दादा ने कहा, 'मुंबई (तब बॉम्बे) में किसी से भी पूछ लेना'.

अपना कोर्स पूरा करने के बाद कबीर ने डॉक्यूमेंट्रीज बनाना शुरु किया. जिसकी झलक आज भी उनकी हर फिल्म में नज़र आती है. फिर चाहे वह पहली फिल्म 'काबुल एक्सप्रेस' हो, या 'न्यूयॉर्क', 'एक था टाइगर', 'फैंटम', 'बजरंगी भाईजान', 'ट्यूबलाइट' और '83'. उन्होंने हिंदी फिल्म इंडस्ट्री को एक से बढ़कर एक सुपरहिट फिल्में दी है.

कबीर ने यहां एक किस्सा बताते हुए बताया कि कैसे बॉलीवुड ने उनकी जान बचाई. वे एक डॉक्यूमेंट्री शूट करने के लिए अफगानिस्तान में एंट्री करने की कोशिश कर रहे थे. चूंकि पाकिस्तान से वीजा नहीं मिला, तो इधर से एंट्री कर नहीं सकते थे. तो उन्होंने कजाकिस्तान से एंट्री करने की कोशिश की, लेकिन हर बार फैल हो जाते. फिर उन्हें एक रूस का एक कार्गो हेलीकॉप्टर दिखा, जो दवाइयां लेकर जा रहा था. उन्होंने पायलट को करीब 2000 डॉलर दिए और उसमें छिपकर गए. पायलट जब हेलीकॉप्टर को लैंड करने में असमर्थ था, तो उन्हें काफी ऊंचाई से कूदना पड़ा. जिसमें चोट लगने का खतरा था.

उन्होंने आगे बताया, थोड़ा देर बाद उनका सामना एक तालिबानी मुजाहिद्दीन से हुआ. जिसके पास तमाम हथियार थे. तब उन्हें लगा कि ये उन्हें किडनैप कर लेगा और फिर मार देगा. लेकिन अगले ही पल उस मुजाहिद्दीन ने गाना गाया - 'मेरे सपनों की रानी कब आएगी तू', तब कबीर को अहसास हुआ कि अब जान बची. फिर उन्होंने उससे काफी बातें कि. और उसके साथ एक जेल में गए जहां करीब 40 लोग और थे. वे वहां दो दिन तक रुके. तालिबानियों ने उनकी खूब सेवा की. खाना खिलाया. जब कबीर वहां से निकलने लगे, तो उस मुजाहिद्दीन से उनका सैटेलाइट फोन मांगा. उसने अपने घर फोन लगाया. 4 साल बाद अपने रिश्तेदारों से बात की और उन्हें बताया कि वह जिंदा है. अपनी बेटी से फोन पर बात करते हुए वह शख्स फूट-फूटकर रोया.

कबीर ने इस वाकये को अपनी पहली फिल्म 'काबुल एक्सप्रेस' में बताया है. इस फिल्म में जॉन अब्राहम और अरशद वारसी मुख्य भूमिकाओं में नज़र आए.

फिल्म 'बजरंगी भाईजान' में नवाज़ुद्दीन सिद्दीक़ी के कैरेक्टर चांद नवाब को उन्होंने यूट्यूब वीडियो देखने के बाद फिल्म की कहानी में जोड़ा था.

कबीर ने दर्शकों के सवालोंं के जवाब भी दिए. उन्होंने बताया कि चाहे फिल्ममेकिंग हो, या स्टोरीटेलिंग के लिए घूमना, नई चींजे एक्सप्लोर करना और नेटवर्किंग करना बेहद जरूरी है.

कबीर ने यहां iStart Youth Internatioanl Film Festival में दिखाई जा रही फिल्मों की सराहना की और यंग फिल्ममेकर्स का मार्गदर्शन करते हुए उन्हें बधाई दी. उन्होंने राज्य सरकार की इस स्टार्टअप कॉन्क्लेव पहल को भी खूब सराहा.

कबीर खान ने अपने अगली फिल्म के बारे जानकारी देते हुए बताया कि वे अभिनेता कार्तिक आर्यन को लीड रोल के लिए फाइनल कर चुके हैं. बाकी कि कास्टिंंग चल रही है. अगले महीने से शूटिंग शुरू हो सकती है. हालांकि उन्होंने फिल्म की कहानी के बारे में कोई जानकारी साझा नहीं कि. बस इतना बताया कि बाकी फिल्मों की तरह ये भी रियल लाइफ इवेंट्स पर बेस्ड है.

यह भी पढ़ें
RajasthanITDay: 'चाणक्य नीति' से डॉ राधाकृष्णन पिल्लई ने सीखाए स्टार्टअप को सफल बनाने के मंत्र