एक बार फिर मुकेश अंबानी-गौतम अडानी होंगे आमने-सामने, दोनों चाहते हैं फ्यूचर रिटेल को खरीदना

पिछले दिनों कई मामलों में गौतम अडानी और मुकेश अंबानी आमने-सामने रहे हैं. इसी बीच खबर आ रही है कि अब एक बार फिर से दोनों में टक्कर होगी. दोनों ही फ्यूचर रिटेल को खरीदने की कोशिश में हैं.

एक बार फिर मुकेश अंबानी-गौतम अडानी होंगे आमने-सामने, दोनों चाहते हैं फ्यूचर रिटेल को खरीदना

Friday November 11, 2022,

3 min Read

एक बार फिर गौतम अडानी (Gautam Adani) और मुकेश अंबानी (Mukesh Ambani) आमने सामने होने वाले हैं. इस बार टक्कर होगी फ्यूचर रिटेल (Future Retail) के लिए. रायटर्स की एक खबर के मुताबिक दोनों ही अरबपतियों ने फ्यूचर रिटेल लिमिटेड के लिए बोली लगा दी है. बता दें लंबे वक्त से किशोर बियानी के फ्यूचर ग्रुप की कंपनी फ्यूचर रिटेल के लिए मुकेश अंबानी और अमेजन (Amazon) के जेफ बेजोस (Jeff Bezos) के बीच तनातनी चल रही थी. अब इस लड़ाई में गौतम अडानी समेत और भी कई दिग्गजों ने हिस्सा ले लिया है.

कौन-कौन हैं दावेदार?

फ्यूचर रिटेल को खरीदने के लिए पहली दावेदार है April Moon Retail Private Ltd, जो अडानी एयरपोर्ट होल्डिंग्स और फ्लेमिंगो ग्रुप का ज्वाइंट वेंचर है. इसके अलावा दूसरी दावेदार है मुकेश अंबानी की रिलायंस रिटेल. इनके अलावा 13 और कंपनियों ने भी फ्यूचर रिटेल को खरीदने के लिए रुचि (Expressions Of Interest) दिखाई है.

फ्यूचर रिटेल को खरीदने के लिए रुचि पत्र दाखिल करने की आखिरी तारीख इसी महीने निकल चुकी है. बता दें कि आज जो फ्यूचर रिटेल बिक रही है, वह कभी भारत की दूसरी सबसे बड़ी रिटेलर थी. यह कंपनी अपना बिजनस 3.4 अरब डॉलर में अपने असेट रिलायंस इंडस्ट्रीज को बेचना चाह रही थी. हालांकि, अमेजन के साथ लीग फाइट के चलते यह डील फाइनल नहीं हो सकी और कंपनी के खिलाफ दिवालिया की प्रक्रिया शुरू हो गई.

अगस्त 2020 में फ्यूचर समूह ने रिलायंस इंडस्ट्रीज की कंपनी रिलायंस रिटेल वेंचर्स लिमिटेड (RRVL) के साथ 24713 करोड़ रुपये के विलय समझौते की घोषणा की थी. समझौते के तहत खुदरा, थोक, लॉजिस्टिक एवं भंडारण खंडों में सक्रिय फ्यूचर समूह की 19 कंपनियों का रिलायंस रिटेल अधिग्रहण करने वाली थी. आरआरवीएल, आरआईएल समूह के तहत सभी खुदरा कंपनियों की होल्डिंग कंपनी है. हालांकि, अब यह डील कैंसिल हो चुकी है, क्योंकि फ्यूचर समूह के सिक्योर्ड लेंडर्स ने इसे नामंजूर कर दिया है.

अमेजन क्यों करता रहा सौदे का विरोध?

इस विलय समझौते की घोषणा के बाद से ही अमेजन इसका विरोध कर रही थी. विभिन्न अदालती मुकदमों में अमेजन ने यह कहते हुए इस सौदे का विरोध किया कि उसके साथ हुए फ्यूचर समूह के निवेश समझौते का यह करार उल्लंघन करता है. दरअसल, ई-कॉमर्स क्षेत्र की दिग्गज कंपनी अमेजन ने साल 2019 में एफआरएल की प्रवर्तक कंपनी फ्यूचर कूपन्स प्राइवेट लिमिटेड (एफसीपीएल) में 49 प्रतिशत हिस्सेदारी खरीदने के लिए एक निवेश करार किया था. इसके आधार पर उसने भविष्य में फ्यूचर रिटेल को खरीदने की योजना तैयार की थी. लेकिन इस बीच फ्यूचर रिटेल ने रिलायंस के साथ सौदा कर लिया.

क्यों कर्ज चुकाने में विफल रहा फ्यूचर समूह?

फ्यूचर रिटेल पर 29 लेंडर्स के एक कंसोर्टियम का 17,000 करोड़ रुपये का कर्ज है. वहीं फ्यूचर ग्रुप पर कुल कर्ज 30,000 करोड़ रुपये से ज्यादा है. रिलायंस के साथ सौदे से मिलने वाले पैसे से एफआरएल अपना कर्ज चुकाने चाहता था. हालांकि, अब रिलायंस के साथ सौदा खत्म होने के बाद एफआरएल ने बैंक ऑफ इंडिया के कर्ज के भुगतान में चूक कर दी. इसके बाद इस साल अप्रैल में बैंक एफआरएल के खिलाफ एनसीएलटी में गया था.

Montage of TechSparks Mumbai Sponsors