इनके रहते सलीके से फिल्माए जाते हैं सेक्स सीन, जानिए कैसे काम करती हैं ये इंटिमेसी कोऑर्डिनेटर

इंटीमेसी कोऑर्डिनेटर का मुख्य काम ऐसे सीन को फिल्माते समय यह सुनिश्चित करना है कि सेट पर किरदार निभा रहे अभिनेता व अभिनेत्री इस दौरान खुद सहज महसूस करें। ये काम करने वाली आस्था खन्ना बॉलीवुड की पहली और जानी-मानी इंटीमेसी कोऑर्डिनेटर हैं।
8 CLAPS
0

फिल्मों में अक्सर आपको अंतरंग या सेक्स सीन देखने को मिल जाते हैं और आप उन्हे देखते हुए कई बार असहज भी हो जाते होंगे, लेकिन जरा सोचिए जब आप उन सीन को देखते हुए इतने असहज हो रहे हैं तो जब उन्हे फिल्माया गया होगा तो अभिनय करने वाले कलाकारों के लिए यह फिल्माया जाना कितना मुश्किल रहा होगा होगा। आपको बता दें कि इस तरह के सीन जिन्हे फिल्माते हुए कोई भी असहज हो सकता है और ऐसा न हो इसके लिए एक खास इंसान को तैनात सेट पर तैनात किया जाता है।

इसी खास शख्स को इंटीमेसी कोऑर्डिनेटर कहते हैं। इंटीमेसी कोऑर्डिनेटर का मुख्य काम ऐसे सीन को फिल्माते समय यह सुनिश्चित करना है कि सेट पर किरदार निभा रहे अभिनेता व अभिनेत्री इस दौरान खुद सहज महसूस करें। ये काम करने वाली आस्था खन्ना बॉलीवुड की पहली और जानी-मानी इंटीमेसी कोऑर्डिनेटर हैं।

क्या है इंटीमेसी कोऑर्डिनेटर का काम?

अपने एक इंटरव्यू में आस्था खन्ना ने बताया कि उन्हे प्रोड्यूसर द्वारा हायर किया जाता है और मुख्य काम यही है कि डायरेक्टर का विजन पर्दे पर नज़र आना चाहिए, लेकिन वो इसके लिए कई तरह के समाधानों और आइडिया पर काम करती हैं। आस्था के अनुसार उनके काम के जरिये यह सुनिश्चित हो पाता है कि कहानी पर किसी भी तरह का कोई प्रभाव नहीं पड़ा है, जबकि इस दौरान कलाकारों की सीमाओं का भी ख्याल रखा गया है।

आस्था ने अनुसार उनका काम एक डांस कोरियोग्राफर की तरह की है, लेकिन इस दौरान वह अंतरंग सीन को कोरियोग्राफ करती हैं

कैसे काम करती हैं इंटीमेसी कोऑर्डिनेटर?

आस्था के पास इस काम को करने के कई तरीके हैं, जिनके जरिये कलाकारों के बीच ऐसे सीन फिल्माए जाने के दौरान भी एक सजह माहौल बना रहता है। आस्था कुछ खास सीन के लिए अपने पास कई तरह के प्रॉप भी रखती हैं जो एक सीन के दौरान कलाकारों के नग्न अवस्था में दिखने पर भी निजी अंगों को छिपा कर रखते हैं।

आस्था खन्ना एक सर्टिफाइड इंटीमेसी कोऑर्डिनेटर हैं, जिन्हे लॉस एंजेलिस स्थित इंटीमेसी प्रोफेशनल्स असोशिएशन से सर्टिफिकेट मिला हुआ है। गौरतलब है कि खन्ना बॉलीवुड में लगातार काम कर रही हैं और अब उन्हे उनके काम के लिए पहचान भी मिल रही है।

क्यों है इंटीमेसी कोऑर्डिनेटर की जरूरत?

आस्था के अनुसार पश्चिमी देशों में फिल्म शूट होने से पहले ही कलाकारों के साथ जरूरी कांट्रैक्ट साइन होते हैं और अंतरंग सीन के लिए उनकी सहमति भी ली जाती है, हालांकि भारत की फिल्मों और खास कर बॉलीवुड में कई बार ऐसा होता है कि फिल्म पूरी शूट हो जाने के बाद कांट्रैक्ट साइन होते हैं, ऐसे में इंटीमेसी कोऑर्डिनेटर का काम बेहद अहम हो जाता है।

इनका मानना है कि बॉलीवुड में एक ओर जहां अधिकतर कलाकार एक दूसरे से सामाजिक तौर पर जुड़े हुए हैं, ऐसे में उनके लिए आपस में अंतरंग सीन करना अधिक असहज होता है और इसी जगह इंटीमेसी कोऑर्डिनेटर की जरूरत अधिक पड़ती है। आस्था खन्ना का मानना है कि भारत में इंटीमेसी कोऑर्डिनेटर की अधिक जरूरत है और यह मांग लगातार बढ़ती रहेगी। आस्था इस मांग के पीछे ‘मी टू’ अभियान को एक बड़ा कारण मानती हैं।

Edited by Ranjana Tripathi

Latest

Updates from around the world