छोटे शहरों में लोगों तक खबरें पहुंचा रहा है यह शॉर्ट न्यूज़ प्लेटफॉर्म

  • +0
Share on
close
  • +0
Share on
close
Share on
close

दिल्ली में स्थित शॉर्टपीडिया का मेट्रो शहरों के साथ, यूपी और बिहार जैसे राज्यों में बड़ा यूजर बेस है। मंच सकारात्मक और एजुकेशनल स्टोरीटेलिंग के साथ ताजा कंटेन्ट यूजर्स के सामने परोसता है।

शॉर्टपीडिया के सह-संस्थापक; (बाएँ से दाएँ) विनीता जैन, अमरजीत सिंह, गुरजीत सिंह, और मयंक जैन

शॉर्टपीडिया के सह-संस्थापक; (बाएँ से दाएँ) विनीता जैन, अमरजीत सिंह, गुरजीत सिंह, और मयंक जैन



भारत में लगभग 1,600 बोलियों के साथ 30 से अधिक भाषाएँ बोलने वाले लोग हैं, जो इसकी विविधता को विशाल बनाते हैं। भारत में लगभग 45 करोड़ हिंदी भाषी वर्तमान में हमारे देश के 22 करोड़ अंग्रेजी बोलने वालों से दोगुने बड़े बाज़ार का निर्माण करते हैं। कंटेन्ट प्लेटफ़ॉर्म पहले से ही इन क्षेत्रों में तेजी से बढ़ते आगे बढ़ रहे हैं।


वैश्विक स्तर पर समाचार की खपत को आसान बनाने के लक्ष्य के साथ विनीता जैन, अमरजीत सिंह, गुरजीत सिंह और मयंक जैन ने 2017 में शॉर्टपीडिया की शुरुआत की थी।


दिल्ली में स्थित शॉर्टपीडिया का मेट्रो शहरों के साथ-साथ उत्तर प्रदेश और बिहार जैसे राज्यों में यूजर बेस है। मंच  सकारात्मक और शैक्षिक कहानी के साथ हर दिन ताजा सामग्री की आपूर्ति करता है।


मयंक ने योरस्टोरी को बताया,

“हमारा लक्ष्य बड़े पैमाने पर हमारे दर्शकों को विश्वसनीय जानकारी के साथ शिक्षित करना है और उन्हें फ्रेश कंटेन्ट प्रदान करने में लगातार मदद करना है जो उनके जीवन में मूल्य जोड़ता है। इसके अलावा, हमारा ध्यान कंटेन्ट उद्योग में एक जीत हासिल करने के लिए विज्ञापन की खपत को वितरित करने के दौरान मंच के अनुभव को मास्टर करने पर लिए है।”


टियर II और III शहरों में खपत

उपयोगकर्ताओं के शॉर्टपीडिया के व्यापक वर्गीकरण में वे लोग शामिल हैं जो ताज़ा, फ़िल्टर्ड और प्रासंगिक सामग्री चाहते हैं और वे लोग जो हर दिन सीखना और खुद को विकसित करना चाहते हैं। इसमें खेल के मनोरंजन से लेकर राजनीति तक और बीच में सबकुछ शामिल है।


ये सामग्री कई प्रारूपों में उपलब्ध हैं, जो उपयोगकर्ता को न केवल पढ़ने, बल्कि देखने और सुनने के लिए प्रोत्साहित करती है।


स्टार्टअप के मुख्य उत्पाद अधिकारी मयंक ने कहा,

“हमारा ध्यान कुछ स्थानीय राज्यों पर है जहां सामग्री की खपत का व्यवहार अनुकूल है जैसे कि यूपी और बिहार। COVID-19 ने यूजर्स की एक नई लहर को मंच पर ला दिया है, क्योंकि समाचार उपभोग के डिजिटल प्लेटफॉर्म पर जाने के लिए उपयोगकर्ताओं की एक बड़ी संख्या है।”

शुरुआत में, समाचार मंच को अच्छी प्रतिक्रिया मिली लेकिन यह केवल शीर्ष मेट्रो शहरों से था। हालांकि, पिछले साल से यह टियर- II और III शहरों की संख्या में शानदार उछाल देख रहा है।


वह आगे कहते हैं, "हमने देखा है कि इन क्षेत्रों के यूजर्स के पास गुणवत्ता और विश्वसनीय सामग्री तक पहुंच नहीं है। इसलिए सही प्रकार के लक्ष्यीकरण के साथ, शॉर्टपीडिया उनकी पसंद का डिजिटल प्लेटफॉर्म बन सकता है।”

उनके अनुसार शॉर्टपीडिया के ऑडियो न्यूज फीचर ने टियर- II और टियर III शहरों के दर्शकों के बीच अपार लोकप्रियता हासिल की है। इसकी कुल ऑडियो खपत का लगभग 65 प्रतिशत केवल इन्हीं शहरों से हुआ है।


शॉर्टपीडिया इनशॉर्ट्स और वायरलशॉट्स जैसे स्टार्टअप्स के साथ प्रतिस्पर्धा करता है। एक्सक्लूसिव फीचर्स के साथ जैसे ऑडियो न्यूज़ ऑन द गो, वीडियो एग्रीगेशन और एआई-पावर्ड इंटरफ़ेस के साथ शॉर्टपीडिया का लक्ष्य शॉर्ट न्यूज इंडस्ट्री पर खड़ा होना है।


अब तक स्टार्टअप के पास 1.7 मिलियन से अधिक डाउनलोड हो चुके हैं और महीने-दर-महीने वृद्धि देखी जा रही है।




संस्थापक टीम

इस विचार की शुरुआत विनीता के एक साधारण विचार से हुई, जो अख़बारों को पढ़ना पसंद नहीं करती थी, लेकिन थोड़े-थोड़े अंतराल में ख़बरों से अप-टू-डेट रहना चाहती थी।


विनीता कहती हैं,

"जब मुझे एहसास हुआ कि मेरे जैसे बहुत से लोग हैं, जो समय की कमी या व्यस्त कार्यक्रम के कारण दैनिक समाचार पत्र नहीं पढ़ना चाहते हैं। न केवल समाचार, बल्कि अन्य प्रारूप भी हैं जो पढ़ने के लिए बहुत लंबे हैं जैसे किताबें, शोध, रिपोर्ट, आदि।"

बारीकियों पर विचार मंथन के बाद विनीता ने मयंक, गुरजीत और अमरजीत के साथ मिलकर 2017 में इस अवधारणा को बनाया।


टीम ने पाया कि वर्तमान डिजिटल प्लेटफ़ॉर्म विज्ञापन दिखाने के दौरान माध्यमों में सहज उपभोग के अनुभव की अनुमति नहीं देते हैं, जो इन प्लेटफार्मों का एक बड़ा हिस्सा हैं।


शॉर्टपीडिया को गुरुग्राम स्थित हडल में इंक्यूबेटेड था। हडल के साथ टीम बड़े भारतीय बाजार पर कब्जा करने के लिए ऑडियो और भाषाओं से परे प्लेटफार्मों, उपभोग माध्यमों तक पहुंच बढ़ाने की दिशा में काम कर रही है।


आज चार सदस्यों की कोर टीम के अलावा शॉर्टपीडिया में टेक्नालजी, सामग्री, संपादकीय, ग्राफिक्स और ब्रांड रणनीति के 20 कर्मचारी हैं।

विकास और विस्तार

जबकि एप्लिकेशन अपने उपभोक्ताओं के लिए फ्री है, स्टार्टअप के लिए मॉनेटाइजेशन पर मुख्य ध्यान विज्ञापनों के माध्यम से है और इसमें बड़े ब्रांडों और एजेंसियों से प्रायोजित लेख भी शामिल हैं।


मयंक बताते हैं,

"हडल के साथ हमारे त्वरण प्रयासों के माध्यम से, हम प्रमुख विकास उद्योगों पर ध्यान केंद्रित करने के लिए अपने प्रयासों को समेकित कर रहे हैं और सभी हितधारकों के लिए प्रासंगिक मूल्य सुनिश्चित करने के लिए विज्ञापनदाताओं के लिए हमारे उत्पाद ऑफरिंग पर इनोवेशन करते हैं। यह हमारे उद्देश्य के अनुरूप है, जबकि विज्ञापनदाताओं को अधिकतम मूल्य प्राप्त करने के लिए दर्शकों के लिए सबसे निर्बाध अनुभव प्राप्त करना है।”

टीम का दावा है कि मार्च में कोविड-19 के प्रकोप से पहले के छह महीनों में राजस्व में 65 लाख रुपये की बढ़ोतरी हुई है। यह आगे चलकर चालू वित्त वर्ष में 2 करोड़ रु पहुँचने की उम्मीद है।


कंपनी को आज तक बूटस्ट्रैप किया गया है। आगे बढ़ते हुए समाचार मंच की योजना मंच और टेक्नालजी क्षमताओं को बढ़ाने के लिए रणनीतिक निवेशकों को ऑन-बोर्ड लाने की है।


मयंक आगे कहते हैं,

"हम दृढ़ता से मानते हैं कि भविष्य वर्नाकुलर का है और इसलिए हम अपने प्रासंगिक, क्रिस्प और महत्वपूर्ण कंटेन्ट को शाब्दिक भाषाओं में वितरित करना चाहते हैं। हम इन अंत-उपयोगकर्ताओं को बेहतर लक्ष्य और सामग्री वितरित करने के लिए अपनी क्षमता बढ़ाने पर भी काम कर रहे हैं। टीयर- II और III शहरों से आने वाले इंटरनेट उपयोगकर्ताओं की अगली लहर के लिए एक समाचार मंच का निर्माण करना हमारे प्रमुख फोकस क्षेत्रों में से एक होगा।"

Want to make your startup journey smooth? YS Education brings a comprehensive Funding Course, where you also get a chance to pitch your business plan to top investors. Click here to know more.

  • +0
Share on
close
  • +0
Share on
close
Share on
close

Our Partner Events

Hustle across India