टीचर्स डे पर UGC का तोहफा, सिंगल गर्ल चाइल्ड से लेकर रिटायर टीचर्स तक के लिए फेलोशिप और ग्रांट

ये पांच योजनाएं एकल बालिका संतान के लिए ‘सावित्री ज्योतिराव फुले फेलोशिप‘, ‘डॉ. राधाकृष्णन यूजीसी पोस्ट-डॉक्टरल फेलोशिप’, ‘सेवानिवृत्त शिक्षक फेलोशिप’, ‘सेवारत शिक्षक अनुसंधान अनुदान’ तथा भर्ती किये गये नये शिक्षकों के लिए ‘डॉक्टर डीएस कोठारी अनुसंधान’ अनुदान हैं.

टीचर्स डे पर UGC का तोहफा, सिंगल गर्ल चाइल्ड से लेकर रिटायर टीचर्स तक के लिए फेलोशिप और ग्रांट

Monday September 05, 2022,

4 min Read

सोमवार 5 सितंबर को टीचर्स डे के मौके पर विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) कई फेलोशिप एवं रिसर्च ग्रांट्स की घोषणा करेगा जो कि देशभर के हाईअर एजुकेशनल इंस्टीट्यूशंस और हाईअर एजुकेशन वाले स्टूडेंट्स के लिए फायदेमंद होगा. यूजीसी के अध्यक्ष जगदीश कुमार ने कहा है कि आयोग टीचर्स डे के अवसर पर एकल बालिका संतान और सेवानिवृत्त शिक्षकों समेत विभिन्न लोगों के लिए पांच फेलोशिप एवं शोध अनुदान की शुरुआत करेगा.

ये पांच योजनाएं एकल बालिका संतान के लिए ‘सावित्री ज्योतिराव फुले फेलोशिप‘, ‘डॉ. राधाकृष्णन यूजीसी पोस्ट-डॉक्टरल फेलोशिप’, ‘सेवानिवृत्त शिक्षक फेलोशिप’, ‘सेवारत शिक्षक अनुसंधान अनुदान’ तथा भर्ती किये गये नये शिक्षकों के लिए ‘डॉक्टर डीएस कोठारी अनुसंधान’ अनुदान हैं. कुमार ने कहा, ‘‘शिक्षक दिवस पर यूजीसी कई शोध योजनाओं की घोषणाएं कर रहा है, जिससे देशभर में उच्च शिक्षण संस्थान लाभान्वित होंगे.’’

सावित्री ज्योतिराव फुले फेलोशिप

इस फेलोशिप का उद्देश्य एकल बालिका की शिक्षा को बढ़ावा देना है और शोध कार्य को आगे बढ़ाने के लिए प्रोत्साहित करना है, जिससे पीएचडी डिग्री प्रदान की जा सके. इस फेलोशिप का कुल कार्यकाल पांच साल का होगा.

मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालयों/कॉलेजों/संस्थानों में किसी भी स्ट्रीम/विषय में पीएचडी करने वाली कोई भी सिंगल गर्ल चाइल्ड इस फेलोशिप के लिए आवेदन कर सकती है. उसे नियमित और पूर्णकालिक पीएचडी कार्यक्रम में रजिस्टर्ड होना चाहिए. उम्मीदवारों की आयु 40 वर्ष से कम (सामान्य श्रेणी में) और 45 वर्ष से कम होनी चाहिए यदि वे आरक्षित श्रेणियों से आवेदन कर रहे हैं.

सेवानिवृत्त हो चुके शिक्षकों को शोध के लिए फेलोशिप

‘सेवानिवृत शिक्षक फेलोशिप’ सेवानिवृत्त हो चुके शिक्षकों को शोध के अवसर प्रदान करने के लिए शुरू किया जा रहा है. इसके तहत 100 स्थान हैं और फेलोशिप के तहत चयनित उम्मीदवारों को प्रतिमाह 50000 रुपये तथा सालाना 50000 रुपये आकस्मिक निधि के रूप में दिये जाएंगे.

इच्छुक उम्मीदवारों की अधिकतम आयु 67 वर्ष होनी चाहिए. उम्मीदवारों ने 10 पूर्णकालिक उम्मीदवारों के पीएचडी शोध प्रबंधों का सफलतापूर्वक पर्यवेक्षण किया हो. इसमें से तीन ने पिछले 10 वर्षों के दौरान अपनी डिग्री प्राप्त की हो. साथ ही, आवेदक ने प्रिंसिपल इंवेस्टीगेटर के रूप में राष्ट्रीय/अंतर्राष्ट्रीय एजेंसियों द्वारा वित्त पोषित कम से कम तीन फंडेड प्रोजेक्ट्स को संभाला हो. इस फेलोशिप का कार्यकाल तीन साल या 70 साल तक, जो भी पहले हो, होगा.

सेवारत शिक्षकों के लिए रिसर्च ग्रांट

‘सेवारत शिक्षक अनुसंधान अनुदान’ में नियमित नियुक्त शिक्षकों को शोध के मौके दिये जाएंगे. इसमें 200 चयनित उम्मीदवारों को दो साल के लिए 10-10 लाख रुपये दिये जाएंगे.

इच्छुक उम्मीदवारों की अधिकतम आयु 50 वर्ष होनी चाहिए और उनके आवेदन जमा करने की तिथि से विश्वविद्यालय/संस्थान में न्यूनतम 10 वर्ष की सेवा शेष होनी चाहिए. इसके अलावा, उम्मीदवार  पांच पूर्णकालिक उम्मीदवारों के पीएचडी शोध प्रबंध का सफलतापूर्वक पर्यवेक्षण किए हों और राष्ट्रीय/अंतर्राष्ट्रीय सरकार या निजी एजेंसियों द्वारा वित्त पोषित कम से कम दो फंडेंड रिसर्च प्रोजेक्ट्स को पूरा किए हों.

नवनियुक्त शिक्षकों के लिए रिसर्च ग्रांट

नवनियुक्त शिक्षकों से जुड़े ‘डॉ. डीएस कोठारी शोध अनुदान’ नियमित रूप से नियुक्त शिक्षकों के लिए है. इसके तहत 132 चयनित उम्मीदवारों को दो साल के लिए 10-10 लाख रुपये का सहयोग प्रदान किया जाएगा.

इस ग्रांट के लिए इच्छुक उम्मीदवार स्थायी पदों पर हाल ही में नियुक्त असिस्टेंट प्रोफेसर होने चाहिए. न्यूनतम पांच शोध पत्रों के साथ पीएचडी की डिग्री होनी चाहिए और पद में शामिल होने की तारीख से दो साल की अवधि के भीतर आवेदन करना चाहिए.

डॉ. राधाकृष्णन यूजीसी पोस्ट डॉक्टरल फेलोशिप

‘डॉ. राधाकृष्णन यूजीसी पोस्ट डॉक्टरल फेलोशिप’ के तहत भारतीय विश्वविद्यालयों एवं संस्थानों में भाषाओं समेत विज्ञान, अभियांत्रिकी, प्रौद्योगिकी, मानविकी और समाज विज्ञान में उच्च अध्ययन एवं शोधन के लिए एक मौका प्रदान किया जाएगा.

इसमें 900 सीट हैं, जिनमें से 30 फीसद महिलाओं के लिए आरक्षित हैं. चयनित उम्मीदवारों को 50,000 रुपये प्रतिमाह फेलोशिप तथा 50000 रुपये सलाना आकस्मिक राशि दी जाएगी.

इस छात्रवृत्ति के लिए आवेदन करने वाले उम्मीदवारों को पीएचडी डिग्री के साथ बेरोजगार उम्मीदवार होना चाहिए और यूजीसी पोस्ट-डॉक्टोरल फेलोशिप के लिए पहली बार आवेदक होना चाहिए. उनके पास पोस्टग्रेजुएट लेवल पर न्यूनतम 55 प्रतिशत अंक या समकक्ष होना चाहिए. रिजर्व्ड कैटेगरीज और ट्रांसजेंडर के लिए 5 प्रतिशत अंकों की छूट है. उम्मीदवारों की आयु 35 वर्ष से कम (सामान्य श्रेणी में) और 40 वर्ष से कम होनी चाहिए यदि वे आरक्षित/महिला/ट्रांसजेंडर श्रेणियों से आवेदन कर रहे हैं.


Edited by Vishal Jaiswal