[Techie Tuesday] भारतीय सड़कों के लिए बिना ड्राइवर वाली गाड़ी बना रहा 21 साल का यह स्टूडेंट-आंत्रप्रेन्योर

गगनदीप रीहल की उम्र भले ही 21 साल है, लेकिन वह इसी उम्र में एक आंत्रप्रेन्योर, इनोवेटर, लेखक और मेंटॉर बन चुके हैं। फिलहाल वह माइनस जीरो नाम की एक स्टार्टअप को खड़ा करने में लगे हैं, जिसका मकसद देश में सेल्फ-ड्राइविंग इलेक्ट्रिक कारों को किफायती और सुलभ बनाना है।

[Techie Tuesday] भारतीय सड़कों के लिए बिना ड्राइवर वाली गाड़ी बना रहा 21 साल का यह स्टूडेंट-आंत्रप्रेन्योर

Tuesday June 08, 2021,

7 min Read

मार्क ट्वेन की एक कहावत है- "उम्र शरीर से अधिक मन की अवस्था है। यदि आप इसे गंभीरता से नहीं लेते, तो यह मायने नहीं रखती।"

21 वर्षीय गगनदीप रीहल के लिए अपने लक्ष्यों को हासिल करने में उम्र कभी भी एक चुनौती नहीं रही। वह माइनस ज़ीरो के सह-संस्थापक हैं। यह एक स्टार्टअप है, जिसका उद्देश्य भारत में सस्ती सेल्फ-ड्राइविंग इलेक्ट्रिक कारों का निर्माण करना है। रीहल इसके जरिए भारत में सेल्फ-ड्राइविंग व्हीकल के सपने को साकार करने में व्यस्त है।

इस साल के अप्रैल में, गगनदीप और उनके सह-संस्थापक ने जालंधर में एक इलेक्ट्रिक ऑटोरिक्शा के साथ भारत का पहला सेल्फ-ड्राइविंग टेस्ट किया।

केवल चार महीनों में 50,000 रुपये की राशि के साथ विकसित, इस तिपहिया प्रोटोटाइप ने कई जटिल ड्राइविंग अभ्यास किए, जो भारतीय सड़कों के हिसाब से शानदार रहीं।

गगनदीप का दावा है कि यह वाहन अपने कैमरा सूट पर निर्भर करता है। साथ ही यह लेन मार्किंग और महंगे LiDAR पर शून्य निर्भरता जैसे फीचर के साथ लैस है। यह अत्यधिक कम्प्यूटेशनल रूप से कुशल AI द्वारा संचालित होता है और डेटा पर इसकी निर्भरता कम है।

वे कहते हैं, “यह पहली बार है जब किसी कंपनी ने भारतीय सड़कों पर चालक रहित वाहन का परीक्षण किया है। भारत में सड़कों पर ट्रैफिक नियमों का पालन करने वालों की संख्या काफी कम है। इसलिए, हर चीज को वास्तविक समय में प्रॉसेस करने की आवश्यकता होती है। अब पहले टेस्ट ड्राइव के बाद, हमें विश्वास है कि सेल्फ-ड्राइविंग कारें जल्द ही एक वास्तविकता बन जाएंगी क्योंकि जो भारतीय सड़कों पर काम कर सकता है वह कहीं भी काम कर सकता है।”


गगनदीप इंजीनियरिंग की पढ़ाई करते हैं और अभी अपने ग्रैजुएशन के दूसरे वर्ष में ही है। हालांकि उन्होंने इसी उम्र में एक एआई शोधकर्ता, लेखक, टेक्नोलॉजिस्ट और आंत्रप्रेन्योर का मुकाम हासिल कर लिया हैं, जो एप्लाइड आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, प्रोडक्ट डिजाइन और संज्ञानात्मक और मानव-केंद्रित एआई में अंतर-अनुशासनात्मक अनुसंधान, ऑटोनॉमस व्हीकल और रोबोटिक्स से संबंधित कई परियोजनाओं से जुड़ा हुआ है।


गगनदीप एक मेंटर भी हैं, और दुनिया भर में 65 से अधिक डेवलपर और हैकिंग इवेंट्स को जज कर चुके हैं। कई प्रमुख सम्मेलनों को वह संबोधित कर चुके हैं। साथ ही एनआईटी हमीरपुर, आईआईटी जैसे कई प्रतिष्ठित संस्थानों में वह गेस्ट लेक्चरर हैं।

खुद से सीखकर बढ़ना

गगनदीप ने बहुत छोटी उम्र में ही खुद से सीखने की दिशा में अपना पहला कदम बढ़ा दिया था। इसकी शुरुआत किताबें पढ़ने से हुई थी, जो उनकी मां उन्हें उपहार में देती थीं।


वह कहते हैं, "इसने मुझे चीजों को सीखने के नए जरियों का पता लगाने के लिए प्रेरित किया और इसने जीवन के शुरुआती चरणों में ही मेरी रुचियों पता लगाने में भूमिका निभाई।"


अपना पहला डेस्कटॉप और इंटरनेट कनेक्शन प्राप्त करने से गगनदीप के लिए सीखने की एक पूरी नई दुनिया खुल गई। गूगल, यूट्यूब, ऑनलाइन संसाधनों और कोडिंग के साथ। 16 साल की उम्र में आने तक उन्होंने ब्लॉकचेन, एआई और रोबोटिक्स के साथ प्रयोग करना शुरू कर दिया था।


युवा आंत्रप्रेन्योर कहते हैं, "मैं दो चीजों पर अपना ध्यान केंद्रित करने में सक्षम था - एआई और लेखन। यही से मेरा सफर शुरू हुआ।"


गगनदीप सिर्फ 16 साल के थे जब उन्होंने अपनी पहली किताब प्रकाशित की। तब से अब तक वह, तीन और प्रकाशित कर चुके हैं और उनके टुकड़े कई पत्रिकाओं और पत्रिकाओं में भी छपे हैं।

f

भारत में ड्राइविंग इनोवेशन

डेटा पर एआई निर्भरता को कैसे कम किया जाए, इस पर एक शोध पत्र लिखते हुए गगनदीप को इंजीनियरिंग के पहले वर्ष के दौरान सेल्फ-ड्राइविंग वाहनों में रुचि हुई।


मौजूदा समय में AI काफी हद तक डेटा पर निर्भर है। उदाहरण के लिए, सेल्फ-ड्राइविंग कार बनाने वाली कंपनी को केवल एक शहर में वाहन को सटीक बनाने के लिए लगभग 20 लाख मील का ड्राइविंग डेटा इकठ्ठा करना होगा।


वे कहते हैं, "डेटा इकठ्ठा करना न केवल एक महंगा मामला है, बल्कि इसे वास्तविक समय में अपडेट रखना एक बड़ा काम है, खासकर भारत जैसे देश के लिए जहां सड़क निर्माण कभी नहीं रुकता है।"


गगनदीप ने अपनी सीखी चीजों को लागू करने का फैसला किया और पहला प्रोटोटाइप विकसित करने के लिए अपने दोस्त गुरसिमरन कालरा के साथ 'माइनस जीरो' लॉन्च किया।

f

'टॉप टू बॉटम' लर्निंग अप्रोच का पालन करना

सीखने के दौरान आमतौर पर बॉटम-डाउन अप्रोच होता है, जहां लोग कुछ सीखते हैं और फिर उस सीखी चीज को लागू करने का एक तरीका ढूंढते हैं।


दूसरी ओर गगनदीप टॉप-डाउन अप्रोच में विश्वास करते हैं। उनके अनुसार, यदि आप किसी चीज पर काम करना चाहते हैं, तो संसाधनों की मदद से उस पर काम करना शुरू करें। जैसे ही आप काम करते हैं, वैसे ही आप सीखने लगते हैं।


एक तकनीकी विशेषज्ञ के रूप में, गगनदीप का मानना है कि न केवल इस क्षेत्र का मास्टर होना महत्वपूर्ण है, बल्कि अपनी सोच को लागू करने और लगातार इनोवेशन के साथ इसे आगे बढ़ाने में सक्षम होने के लिए नेतृत्व कौशल भी होना चाहिए।


इसके अलावा, उनके लिए किसी बड़े या छोटे विचार, या टियर- I या टियर- III उत्पाद होना ही जरूरत नहीं है। मायने यह रखता है कि "आप एक निश्चित समस्या को सुलझाने के लिए किस नजरिए के साथ आगे बढ़ते हैं।"


वे बताते हैं, “मूल रूप से, हर समस्या मूल बातों के इर्द-गिर्द घूमती है। इस तरह हम केवल चार महीनों में सेल्फ-ड्राइव प्रोटोटाइप को लॉन्च करने में सक्षम हो सके थे।”

f

यह बिल्कुल भी आसान नहीं है

स्टार किड बनना आसान नहीं है। अपने करियर को अपना जीता-जागत रिज्यूमे बनाने के दौरान गगनदीप को कई चुनौतियों का भी सामना करना पड़ा।


16 साल की उम्र में, उन्हें जुनूनी-बाध्यकारी विकार (ओसीडी) का पता चला था, जिसके कारण उन्हें अत्यधिक दवा दी गई थी। यह वह समय भी था जब उन्होंने लेखन के लिए अपने स्वभाव की खोज की। वह फिर किताबें लिखने और उन्हें स्वयं प्रकाशित करने में तल्लीन हो गए। गगनदीप ने स्कूल खत्म होने तक अपने ओसीडी पर काबू पा लिया।


उनका कहना है कि उनके लिए दूसरा सबसे बड़ा झटका ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी के लिए स्कॉलरशिप नहीं मिल पाना था, जबकि उन्हें एडमिशन मिल रहा था।


उन्होंने आगे कहा, “पढ़ाई पर प्रति वर्ष 40 लाख रुपये खर्च करना किसी भी भारतीय मध्यमवर्गीय परिवार के लिए आसान नहीं है। इसलिए, मुझे उस सपने को छोड़ना पड़ा।”


हालांकि गगनदीप कहते हैं, इनसे उन्हें छोटे सपने और लक्ष्य निर्धारित करने में मदद मिली, जिन्हें जल्दी से हासिल किया जा सकता है, जिससे प्रगति की भावना और आगे बढ़ने का आत्मविश्वास मिला।

आगे की राह

गगनदीप का मानना है कि माइनस जीरो 2023 तक भारतीय सड़कों के लिए एक सेल्फ-ड्राइव तकनीक तैयार कर लेगी। कई पेटेंट पर काम चल रहा है, और वह एआई बनाने के लिए संज्ञानात्मक एआई अवधारणाओं पर भी काम कर रहे हैं, जो किसी की भावनात्मक बुद्धि की नकल कर सकते हैं।


वह 'फर्मी सेंटर फॉर एप्लाइड साइंसेज' नाम से एक शोध संस्थान विकसित करने के लिए भी काम कर रहे हैं। यह संस्थान छात्रों को इंटर्नशिप की पेशकश करेगा और उनके विचारों को विकसित करने में मदद करेगा। यह एक गैर-लाभकारी संगठन है, लेकिन अभी बहुत शुरुआती स्तर पर है।


छात्रों और युवा तकनीकी विशेषज्ञों के लिए, गगनदीप के पास तीन सलाह हैं -

- विचारों से अधिक उन्हें लागू करना मायने रखता है: "लोग विचारों को चुरा सकते हैं, लेकिन उसे लागू करने का तरीका खुद का होता है, जो अंतर पैदा करता है। साथ ही, विचारों को सही समय पर लागू करना महत्वपूर्ण है।"


-हमेशा एक बैकअप योजना रखें: "जब तक किसी के पास ठोस समर्थन न हो, उन्हें असफल होने और वैकल्पिक तरीकों पर स्विच करने के लिए अच्छी तरह से तैयार रहना चाहिए।"


-सीजीपीए सिर्फ एक संख्या है: "टॉपर होना अच्छा है लेकिन अगर वास्तव में कुछ ऐसा है जिसे सीखने की जरूरत है, तो उन्हें अकादमिक क्षेत्र से बाहर निकलने और सीखने के अवसरों की तलाश करने की जरूरत है।"


गगनदीप अंत में कहते हैं, "वास्तविक दुनिया की समस्याओं को हल करने के लिए व्यावहारिक अनुभव प्राप्त करें। आगे की चुनौतीपूर्ण भूमिकाओं के लिए खुद को तैयार करें। साथ ही जरूरत पड़ने पर अपनी पेशेवर यात्रा के माध्यम से किसी भी उतार-चढ़ाव को संभालने की मानसिक मजबूती हासिल करें।"


Edited by Ranjana Tripathi