अच्छा लीडर बनने के तीन मंत्रा, मुकेश अंबानी खुद करते हैं फॉलो

By yourstory हिन्दी
November 24, 2022, Updated on : Thu Nov 24 2022 02:31:31 GMT+0000
अच्छा लीडर बनने के तीन मंत्रा, मुकेश अंबानी खुद करते हैं फॉलो
अंबानी ने कहा कि आप में से प्रत्येक 1.4 अरब भारतीयों के लिए महत्वपूर्ण ऊर्जा सॉल्यूशन डिजाइन करने के लिए आवश्यक ज्ञान और कौशल से लैस है. आपके पास भारत के लिए आवश्यक लीडर बनने के लिए सभी आवश्यक कौशल हैं.
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

कारोबारी मुकेश अंबानी ने मंगलवार को कहा कि भारत की अर्थव्यवस्था 2047 तक 13 गुना बढ़कर 40,000 अरब डॉलर पर पहुंच सकती है. इसके साथ ही भारत दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन जाएगा. गुजरात के गांधीनगर स्थित पंडित दीनदयाल एनर्जी विश्वविद्यालय के 10वें दीक्षांत समारोह में उन्होंने कहा कि स्वच्छ ऊर्जा, जैव-ऊर्जा और डिजिटल क्रांति जैसी तीन महत्वपूर्ण (गेम चेंजिंग) क्रांतियां आने वाले दशकों में भारत की आर्थिक वृद्धि की अगुवाई करेंगी.


अंबानी ने कहा कि आप में से प्रत्येक 1.4 अरब भारतीयों के लिए महत्वपूर्ण ऊर्जा सॉल्यूशन डिजाइन करने के लिए आवश्यक ज्ञान और कौशल से लैस है. आपके पास भारत के लिए आवश्यक लीडर बनने के लिए सभी आवश्यक कौशल हैं.


उन्होंने कहा कि भारत के भविष्य का लीडर होने के कारण आपको यह सुनिश्चित करना चाहिए कि हमारा देश स्वच्छ और ग्रीन ऊर्जा सेक्टर में क्रांति करे. यह एक ऐसा लक्ष्य है जिसे आपमें से प्रत्येक को मिशन मोड में पूरा करना चाहिए.


इस दौरान अंबानी ने छात्रों को सफलता के लिए तीन मंत्र भी दिए. उन्होंने कहा कि एक उज्ज्वल भविष्य आपके ऊपर निर्भर करता है.

1. थिंक बिग

भविष्य के लिए अच्छा लीडर बनने के लिए अंबानी ने पहला मंत्र बड़ा सोचने का दिया. अंबानी ने छात्रों को एक दुस्साहसी सपने देखने वाला बनने के लिए कहा.


अंबानी ने कहा, "इस दुनिया में अब तक बनाई गई हर बड़ी चीज एक सपना था जिसे असंभव माना जाता था. आपको अपने सपने को साहस के साथ अपनाना होगा, इसे दृढ़ विश्वास के साथ पालना होगा और इसे साहसिक और अनुशासित होकर साकार करना होगा.

केवल एक यही तरीका है जिससे आप असंभव को संभव बना सकते हैं."

2. थिंक ग्रीन

अंबानी ने दूसरा मंत्र थिंक ग्रीन का दिया. अंबानी के अनुसार, क्लीन एनर्जी मूवमेंट के लिए सबसे जरूरी चीज ग्रीन माइंडसेट को अपनाना है. यह अपनी प्रकृति के प्रति संवेदनशील होना है. यह ऐसे तरीकों की खोज करने को लेकर है जो बिना प्रकृति को नुकसान पहुंचाए उससे कुछ ले सकें. उन्होंने आगे कहा कि यह यह सुनिश्चित करने के बारे में है कि हम आने वाली पीढ़ियों के लिए एक बेहतर और स्वस्थ ग्रह छोड़ जाएं.

3. थिंक डिजिटल

अंबानी ने तीसरा मंत्र डिजिटली सोचने को लेकर दिया है. अंबानी का मानना है कि क्लीन एनर्जी सेक्टर में भारत को लीडर बनाने के मिशन में डिजिटलीकरण बड़ी भूमिका निभाएगा. उन्होंने कहा कि AI, रोबोटिक्स और IoT जैसी प्रौद्योगिकियां बदलाव के शक्तिशाली प्रवर्तक हैं. उन्होंने इन प्रोद्यौगिकियों को अपने लाभ के लिए इस्तेमाल करने के लिए कहा.


आखिर में अंबानी ने कहा कि भारत को ग्लोबल क्लीन एनर्जी लीडर बनाने के आपके मिशन में ये तीन मंत्र आपके अस्त्र होंगे. मुझे पूरा विश्वास है कि आप इस मिशन में सफल होंगे.


Edited by Vishal Jaiswal