वीकली रिकैप: पढ़ें इस हफ्ते की टॉप स्टोरीज़!

By रविकांत पारीक
January 16, 2022, Updated on : Sun Jan 16 2022 07:08:07 GMT+0000
वीकली रिकैप: पढ़ें इस हफ्ते की टॉप स्टोरीज़!
यहाँ आप इस हफ्ते प्रकाशित हुई कुछ बेहतरीन स्टोरीज़ को संक्षेप में पढ़ सकते हैं।
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

इस हफ्ते हमने कई प्रेरक और रोचक कहानियाँ प्रकाशित की हैं, उनमें से कुछ को हम यहाँ आपके सामने संक्षेप में प्रस्तुत कर रहे हैं, जिनके साथ दिये गए लिंक पर क्लिक कर आप उन्हें विस्तार से भी पढ़ सकते हैं।

एक करोड़ के नुकसान के बावजूद खड़ा किया 5 करोड़ रुपये का व्यवसाय

राहुल गोयल, जिन्होंने 2015 में एक ऑनलाइन एंड्रॉइड कार स्टीरियो ब्रांड के रूप में वुडमैन की शुरुआत की थी, उनकी उद्यमशीलता की यात्रा कठिन रही है। आज वह 5 करोड़ रुपये के राजस्व वाला व्यवसाय चला रहे हैं और उनके पास 2022 के लिए महत्वाकांक्षी विस्तार की योजना है।

राहुल गोयल

राहुल गोयल तब नोएडा स्थित एमिटी यूनिवर्सिटी में पढ़ रहे थे और साथ ही वे नई दिल्ली के करोल बाग में स्थित अपने कार एक्सेसरीज़ व्यवसाय में अपने पिता की मदद भी कर रहे थे। उनकी कंपनी कार मैट, स्पीकर और अन्य एक्सेसरीज बनाने का काम कर रही थी। एक दिन कार्यालय में काम करते हुए उन्होंने पाया कि उनके पिता के पास 'Woodman' ब्रांड के लिए एक पंजीकृत ट्रेडमार्क है, लेकिन उन्होंने कभी इसका इस्तेमाल नहीं किया था।


राहुल ने YourStory को बताया, “ऐसे समय में रहते हुए जब इंटरनेट की पहुंच इतनी गहरी हो गई है, मैंने अपने पिता से पूछा कि क्या वह ब्रांड ट्रेडमार्क का उपयोग करना चाहते हैं और क्या हम अपने उत्पादों को ऑनलाइन बेचेंगे। मेरे पिता इस बारे में बहुत सहायक थे, उन्होंने मौजूदा व्यवसाय को बढ़ाने के बजाय अपना एक ब्रांड, एक अलग इकाई शुरू करने की दिशा में मेरा मार्गदर्शन किया।”


चूंकि राहुल में पहले से ही उद्यमिता की आग थी, इसलिए एक नया व्यवसाय शुरू करना उनके लिए कठिन नहीं था। 2015 में उन्होंने Flipkartऔर Amazonजैसे ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म से संपर्क किया ताकि बाजार पर अपने एंड्रॉइड कार स्टीरियो सिस्टम को सूचीबद्ध किया जा सके।


राहुल कहते हैं, Flipkart ने 2015 में कार एक्सेसरी कैटेगरी लॉन्च की थी। जब उन्होंने अपने उत्पादों को सूचीबद्ध किया, तो मांग बढ़ी और सात महीने के भीतर उन्होंने लगभग 60 लाख रुपये का कारोबार किया। उन्हें 2016 में उनके विश्वविद्यालय से 'सर्वश्रेष्ठ उद्यमी' के रूप में भी सम्मानित किया गया था।


हालाँकि, उनके उद्यम में कई उतार-चढ़ाव देखे गए। राहुल को 1 करोड़ रुपये का भारी नुकसान हुआ और Woodmanको शुरू करने के केवल दो वर्षों में वह भारी कर्ज में डूब गए।


तो, राहुल को घाटे से उबरने और उस व्यवसाय को फिर से शुरू करने में क्या मदद मिली जो आज इतनी अच्छी स्थिति में है कि वह 2022 में महत्वाकांक्षी विस्तार का लक्ष्य बना रहे हैं? राहुल इसके जवाब में कहते हैं, "फोकस"।

सड़क सुरक्षा के प्रति जागरुकता फैलाने वाली महिला उद्यमी

सुबह में एक आरजे, दिन के दौरान एक उद्यमी और शाम को एक ट्रैफिक वार्डन - शुभी जैन से मिलते हैं, जो इंदौर ट्रैफिक पुलिस के नए तरीकों का इस्तेमाल करने के लिए शहर की चर्चा बन गई है।

शुभी जैन

भारत में ट्रैफिक मैनेज करने वाली युवतियों का नजारा आज भी दुर्लभ है, लेकिन इंदौर की रहने वाली शुभी जैन इस छवि को बदलने पर आमादा हैं। शुभी न केवल इंदौर में एक ट्रैफिक वार्डन हैं, बल्कि वह ट्रैफिक को नियंत्रित करने के लिए अनोखे तरीके भी अपनाती हैं।


वह YourStory से बात करते हुए कहती है, “जब मैं एक यातायात स्वयंसेवक के रूप में शामिल हुई, तो मैंने देखा कि जब हमने लोगों को रोका और उन्हें नियमों का पालन करने के लिए कहा, तो वे चिढ़ गए। इसलिए, मैंने फैसला किया कि जब मैं किसी से बात करूं, तो वे मेरे बारे में बुरा प्रभाव न डालें। मैंने इसे उन लोगों को धन्यवाद देकर किया जो पहले से ही नियमों का पालन कर रहे हैं। लोगों को यह आश्चर्यजनक लगा कि कोई उन्हें अपनी सुरक्षा के लिए जो कुछ कर रहा है उसके लिए उन्हें धन्यवाद दे रहा है, और एक मुस्कान के साथ।”


सिम्बायोसिस, पुणे से एमबीए स्नातक शुभी ने 2019 में अपने कॉलेज में 20-दिवसीय सोशल इंटर्नशिप प्रोग्राम के तहत इंदौर ट्रैफिक पुलिस के साथ स्वेच्छा से काम करना शुरू किया। इंदौर पुलिस कॉलेज के छात्रों के साथ यातायात नियमों और प्रबंधन जागरूकता के लिए एक स्वयंसेवी कार्यक्रम चला रही थी। वह 1,800 छात्रों के साथ ट्रैफिक मैनेजमेंट टीम में शामिल हुईं।


इंटर्नशिप की अवधि समाप्त होने के बाद, शुभी अपनी स्वेच्छा से ड्यूटी पर डटी रही। ट्रैफिक वॉलंटियर जैकेट पहने, 24 वर्षीया को ट्रैफिक नियमों के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए ट्रैफिक सिग्नल पर डांस करते हुए देखा जा सकता है। उनके डांस के वीडियो पहले ही सोशल मीडिया पर वायरल हो चुके हैं।


वह कहती हैं, “मैं एक उद्देश्य के लिए इसमें शामिल हुई और मुझे सड़क सुरक्षा के सामाजिक कारण से प्यार हो गया। मेरे लिए इसमें कोई मौद्रिक लाभ नहीं है, लेकिन मैं अभी भी स्वयंसेवा करना जारी रखती हूं और जब तक मैं कर सकती हूं, करूंगी।"


ट्रैफिक वार्डन होने के अलावा, शुभी ने जनवरी 2021 में अपने स्टार्टअप Maatiwala की स्थापना की - घरों में सभी बागवानी आवश्यकताओं के लिए एक वन-स्टॉप शॉप जहां कोई माली ऑनलाइन बुक कर सकता है।

बिहार की बेटी को गूगल से मिला 1.1 करोड़ का जॉब ऑफर

गूगल से एक करोड़ रुपये से अधिक पैकेज की नौकरी पाने वाली इस बिहार की बेटी का नाम संप्रीति यादव है, जो आने वाली 14 फरवरी से गूगल के लंदन ऑफिस में अपनी इस नई नौकरी की शुरुआत करेंगी।

संप्रीति यादव

पटना की मूल निवासी संप्रीति यादव पढ़ाई-लिखाई में हमेशा से टॉपर रही हैं। संप्रीति ने साल 2016 में जेईई मेंस की परीक्षा पास की थी और तब उन्हें दिल्ली टेक्नालजिकल यूनिवर्सिटी में दाखिला मिला था। यहीं से संप्रीति ने कंप्यूटर साइंस के साथ बीटेक की डिग्री पूरी की थी।


संप्रीति को मई 2021 में हुए कैंपस प्लेसमेंट के जरिये माइक्रोसॉफ्ट में नौकरी मिली थी, जहां उनका पैकेज 44 लाख रुपये था। गौरतलब है कि तब संप्रीति को माइक्रोसॉफ्ट के साथ अडोबी और फ्लिपकार्ट जैसी अन्य बड़ी कंपनियों से भी नौकरी का ऑफर मिला था।


संप्रीति माइक्रोसॉफ्ट में नौकरी करते हुए भी विभिन्न कंपनियों में नौकरियों के लिए ट्राई करती जा रही थीं। इसी बीच उन्होने अपना रेज्युमे गूगल को भी भेजा और गूगल से रेज्युमे शॉर्ट होने के बाद उन्हें इंटरव्यू के अगले चरण के लिए न्योता भी मिल गया।


गूगल ने संप्रीति का इंटरव्यू ऑनलाइन मोड के जरिये लिया है, जहां संप्रीति को कुल 9 राउंड के इंटरव्यू से गुजरना पड़ा है। हर राउंड में बेहतर प्रदर्शन करने बाद ही गूगल ने संप्रीति की इस नौकरी पर मुहर लगाई है।


मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार 1.1 करोड़ रुपये के भारी-भरकम वाले पैकेज की नौकरी के साथ आप संप्रीति गूगल के लंदन ऑफिस में काम करेंगी। संप्रीति ने अपने अनुभव को मीडिया के साथ साझा करते हुए बताया है कि वे हमेशा से ही अपना लक्ष्य निर्धारित करके ही आगे बढ़ी हैं और वे अन्य युवा इंजीनियरों को भी यही सलाह देना चाहती हैं।

अतंरिक्ष में ट्रैफिक मैनेजमेंट का ईकोसिस्टम बनाने वाला स्पेसटेक स्टार्टअप

यह स्टार्टअप, स्पेस सर्विलांस और स्पेस सिचुएशनल अवेयरनेस (SSA) पर केंद्रित है। यानी ऑर्बिट में वस्तुओं का ट्रैक करना और पूर्वानुमान करना कि वे भविष्य में किसी भी समय कहां होंगे। इसका उद्देश्य अंतरिक्ष मलबे से संबंधित समस्याओं को हल करना और टकराव के जोखिम को खत्म करना है।

digantara

अनिरुद्ध शर्मा, राहुल रावत और तनवीर अहमद ने मिलकर दिसंबर 2018 में दिगांतरा की स्थापना की। यह एक बिजनेस टू बिजनेस (B2B) और बिजनेस टू गवर्नमेंट (B2G) स्पेसटेक स्टार्टअप है। जब दिगांतरा को शुरू किया, उस वक्त अंतरिक्ष क्षेत्र यानी स्पेस सेक्टर में काफी तेजी देखी जा रही थी। हालांकि, स्पेसटेक स्टार्टअप को शुरू करना अपने आप में काफी चुनौती पूर्ण कार्य है।


शुरुआत में विश्वसनीयता बनाना सबसे बड़ी चुनौती थी। बेंगलुरु मुख्यालय वाली दिगांतरा को शुरू करने की पीछे की कहानी को बताने हुए अनिरुद्ध कहते हैं, “जब एक 17-18 वर्ष का व्यक्ति किसी निवेशक के पास जाकर यह कहता है कि वह उपग्रह या सैटेलाइट बनाना चाहता है, तो उसे गंभीरता से नहीं लिया जाता है। इसलिए, हमारा पहला लक्ष्य निवेशक समुदाय या बाजार में विश्वसनीयता बनाना था।” आपको बता दें, कि दिगांतरा योरस्टोरी के 2021 के सबसे सबसे होनहार टेक 50 स्टार्टअप में से एक है। 


अनिरुद्ध और राहुल के पास ना ही भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (IIT) और राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान (NIT) जैसे प्रतिष्ठित संस्थानों की डिग्री थी और न ही इनका एजुकेशन बैकग्राउंड एयरोस्पेस विषय में था। ऐसे में गैर-एयरोस्पेस डोमेन के बैकग्राउंड के साथ अनिरुद्ध और राहुल स्पेस सेक्टर में कारोबार शुरू करने की कठिनाइयों से अच्छी तरह वाकिफ थे।


अनिरुद्ध बताते हैं, "उस बाधा को तोड़ना वाकई मुश्किल था। इसलिए, हमने अपनी विश्वसनीयता का निर्माण शुरू किया, जिसने हमें अपना पहला प्रोटोटाइप बनाने के लिए भारतीय विज्ञान संस्थान (IISc) से 15 लाख रुपये का पहला अनुदान यानी ग्रांट हासिल किया।"

बेघरों को आश्रय देने वाली ट्रांसवुमन

नक्षत्र, एक ट्रांसवुमन ने समुदाय के सदस्यों और अन्य बेघर लोगों को भोजन, शिक्षा और आश्रय प्रदान करने के लिए एनजीओ नम्मने सुमने की शुरुआत की।

nakshatra

16 साल की उम्र में ट्रांसवुमन होने के कारण अपने माता-पिता द्वारा अस्वीकार किए जाने और घर से निकाल दिए जाने के कारण, नक्षत्र को पता है कि सड़कों पर रहना कितना कठिन है।


2017 में, उन्होंने कर्नाटक के गुलबर्गा में अपना घर छोड़ दिया, और बेहतर अवसर खोजने की उम्मीद में बेंगलुरु आ गई। लगभग तीन महीने सड़कों पर बिताने के बाद, नक्षत्र ट्रांसजेंडर समुदाय में शामिल हो गई। हालाँकि, इस प्रक्रिया में, उन्होंने यह भी महसूस किया कि ट्रांसजेंडर समुदाय के सदस्यों के पास ज्ञान की कमी थी क्योंकि वे केवल भीख माँगना या वेश्यावृत्ति जानते थे।


लेकिन नक्षत्र को भीख मांगने का सहारा लेना पड़ा क्योंकि उनके पास और कोई विकल्प नहीं था। हालाँकि, यह वह जीवन नहीं था जो वह अपने लिए चाहती थी। उन्होंने धीरे-धीरे अपनी शिक्षा के लिए पैसे बचाना शुरू कर दिया।


नक्षत्र ने अपनी मैकेनिकल इंजीनियरिंग को पूरा करने में कामयाबी हासिल की और बृहत बेंगलुरु महानगर पालिक (BBMP) के लिए स्वेच्छा से काम करना शुरू कर दिया, जो बेंगलुरु में नागरिक सुविधाओं और बुनियादी ढांचे के लिए जिम्मेदार प्रशासनिक निकाय है।

एक बार जब वह अपने पैरों पर खड़ी हो गई, तो नक्षत्र ने 2020 में बेघरों की मदद करने के लिए एक गैर सरकारी संगठन नम्मने सुमने (Nammane Summane) की शुरुआत की। बेंगलुरु में स्थित, यह LGBTQIA+ व्यक्तियों, अनाथों, एचआईवी के साथ रहने वाले व्यक्तियों, विकलांग लोगों, वरिष्ठ लोगों को आश्रय प्रदान करता है। नक्षत्र इसे 'समाज द्वारा अस्वीकार किए गए लोगों की शरण' के रूप में संदर्भित करता है।


नक्षत्र के अनुसार, भारत में अनाथ और बेघर ट्रांसवुमन के लिए ट्रांसवुमन द्वारा शुरू किया गया यह पहला आश्रय स्थल है।

हमारे दैनिक समाचार पत्र के लिए साइन अप करें