टाटा टेक्नोलॉजीज के IPO की खबर से क्यों उछले टाटा मोटर्स के शेयर, समझिए क्या है कनेक्शन

शुक्रवार को अचानक से टाटा मोटर्स के शेयरों में बढ़त देखने को मिली, जबकि पूरा शेयर बाजार बुरी तरह से टूटा था. सवाल ये है कि टाटा टेक्नोलॉजीज के आईपीओ से इसका क्या कनेक्शन है.

टाटा टेक्नोलॉजीज के IPO की खबर से क्यों उछले टाटा मोटर्स के शेयर, समझिए क्या है कनेक्शन

Monday March 13, 2023,

4 min Read

पिछले कई महीनों से सुनने को मिल रहा था कि जल्द ही टाटा टेक्नोलॉजीज का आईपीओ (Tata Technologies IPO) आने वाला है. अब इस खबर को और ज्यादा मजबूती मिल गई है, क्योंकि कंपनी ने सेबी (SEBI) के पास आईपीओ (IPO) लाने के लिए दस्तावेज जमा कर दिए हैं. इस खबर से वह निवेशक तो खुश हैं ही जिन्होंने टाटा टेक्नोलॉजीज में स्टेक लिया है या निवेश किया है. लेकिन शुक्रवार को अचानक से टाटा मोटर्स (Tata Motors) के शेयरों में बढ़त देखने को मिली, जबकि पूरा शेयर बाजार (Share Market) बुरी तरह से टूटा था. सवाल ये है कि आखिर ऐसा क्यों हुआ? इस तेजी के पीछे की वजह टाटा टेक्नोलॉजीज के आईपीओ को बताया जा रहा है. तो क्या वाकई ऐसा है या यह सिर्फ एक अफवाह है?

टाटा टेक्नोलॉजीज के आईपीओ से क्या है टाटा मोटर्स का कनेक्शन

टाटा मोटर्स ने टाटा टेक्नोलॉजीज में एक बड़ा स्टेक लिया हुआ है. बताया जा रहा है कि टाटा टेक्नोलॉजीज के आईपीओ के जरिए टाटा मोटर्स करीब 8,11,33,706 शेयर बेचने जा रही है. टाटा मोटर्स ने यह शेयर 7.40 रुपये प्रति शेयर के भाव पर खरीदे थे. टाटा मोटर्स को टाटा टेक्नोलॉजीज के आईपीओ से बड़ा फायदा होने की उम्मीद है. यही वजह है कि टाटा मोटर्स के शेयर गिरते बाजार में भी अचानक से चढ़ गए.

टाटा मोटर्स को हो सकता है 4-5 गुना तक का मुनाफा

अभी तक टाटा टेक्नोलॉजीज की तरफ से आईपीओ की कीमत तय नहीं की गई है, लेकिन विशेषज्ञों का मानना है कि यह 35-40 रुपये के बीच हो सकती है. उम्मीद है कि कंपनी करीब 18 हजार करोड़ रुपये के मार्केट कैप पर लिस्ट हो. टाटा मोटर्स ने कंपनी के शेयर 7.40 रुपये में खरीदे थे. ऐसे में टाटा मोटर्स को 4-5 गुना तक का मुनाफा होगा. यानी टाटा मोटर्स ने टाटा टेक्नोलॉजीज के शेयर करीब 60.03 करोड़ रुपये में खरीदे थे. अब कंपनी जब आईपीओ के जरिए इन शेयरों को बेचेगी तो वह करीब 300 करोड़ रुपये के बिक सकते हैं.

समझिए शेयर होल्डर्स को क्या होगा फायदा?

यहां एक बड़ा सवाल ये उठ सकता है कि अगर टाटा टेक्नोलॉजीज का आईपीओ आता है तो इससे टाटा मोटर्स को फायदा होगा, लेकिन शेयर होल्डर्स क्यों खुश हो रहे हैं? क्यों लोग इस कंपनी के शेयर खरीद रहे हैं? ऐसा इसलिए हो रहा है क्योंकि जब टाटा टेक्नोलॉजीज का आईपीओ आएगा तो टाटा मोटर्स को तगड़ा मुनाफा होगा. इसकी वजह से कंपनी का कैश फ्लो अचानक से बढ़ जाएगा. वित्त वर्ष 2023 की तीसरी तिमाही में टाटा मोटर्स ने अनुमान से अधिक मुनाफा कमाया है, जिससे पहले ही कंपनी की अच्छी इमेज बनी हुई है. यानी आने वाले दिनों में कंपनी को और ज्यादा मुनाफा होगा, जिसके चलते कंपनी के शेयरों का भाव बढ़ रहा है.

करीब 10 फीसदी हिस्सेदारी बेच सकती है कंपनी

इस आईपीओ के तहत कुछ नए शेयर होंगे और कुछ शेयर ऑफर फॉर सेल के तहत बाजार में जारी किए जाएंगे. कंपनी करीब 10 फीसदी की हिस्सेदारी आईपीओ के तहत ऑफर कर सकती है. इस कंपनी में अभी सबसे बड़ी शेयर होल्डर कंपनी टाटा मोटर्स है, जिसके बाद 72.48 फीसदी हिस्सेदारी है. इसके अलावा Alpha TC Holdings के पास 8.96% हिस्सेदारी है. वहीं बाकी की हिस्सेदारी टाटा ग्रुप के अन्य एंटिटी के पास है.

18 साल बाद आएगा टाटा का कोई आईपीओ

टाटा ग्रुप की करीब आधा दर्जन कंपनियां शेयर मार्केट में लिस्टेड हैं. इसमें से सबसे आखिरी कंपनी टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज़ यानी टीसीएस (TCS) है. TCS का 5500 करोड़ रुपये का आईपीओ 18 साल पहले 2004 में बाजार में आया था, लेकिन उसके बाद ​से टाटा ग्रुप की किसी भी कंपनी का आईपीओ नहीं आया है. TCS का आईपीओ रतन टाटा के दौर में आया था. साल 2017 में एन चंद्रशेखरन (N Chandrasekaran) के टाटा संस (Tata Sons) के चेयरमैन बनने के बाद यह टाटा ग्रुप का पहला आईपीओ होगा. टाटा टेक्नोलॉजीज ने अभी केवल आईपीओ लाने की प्रक्रिया की शुरुआत की है.

तगड़ी कमाई करती है ये कंपनी

वित्त वर्ष 2021-22 में टाटा टेक्‍नोलॉजी की कुल इनकम 3530 करोड़ रुपये थी. इस कंपनी का मुख्यालय पुणे में है. कंपनी के ज्यादातर ग्राहक नॉर्थ अमेरिका, यूरोप और एशिया पैसेफिक तक फैले हुए हैं. कंपनी के चार बिजनेस सेग्मेंटस हैं जिसमें रिसर्च एंड डेवलपमेंट, वैल्यू एडेड रीसेलिंग, इंजीनियरिंग और डिजिटल एंटरप्राइज है. कंपनी आईपीओ के जरिये जुटाए गए फंड का इस्‍तेमाल ई-वाहन सेग्‍मेंट को मजबूती देने और एविएशन सेक्टर को बढ़ावा देने में कर सकती है.

यह भी पढ़ें
रतन टाटा की Tata Technologies ने IPO के लिए SEBI के पास जमा किए ड्राफ्ट पेपर