विश्व पर्यावरण दिवस: कैसे ये स्टार्टअप सस्टेनेबिलिटी को बढ़ावा दे रहे हैं

पर्यावरण संरक्षण की दिशा में इन स्टार्टअप्स द्वारा किये जा रहे प्रयास का लाभ निश्चित रूप से पूरी मानव जाति पर पड़ेगा. एक कहावत है, “हमें यह पृथ्वी अपने पूर्वजों से विरासत में नहीं मिली है; हमने इसे अपने बच्चों से उधार लिया हैं, इसी को ध्यान में रखकर ये नई पीढ़ी को एक सुरक्षित भविष्य देना चाहते हैं."

विश्व पर्यावरण दिवस: कैसे ये स्टार्टअप सस्टेनेबिलिटी को बढ़ावा दे रहे हैं

Monday June 05, 2023,

7 min Read

आज दुनिया ग्लोबल वार्मिंग और पर्यावरणीय गिरावट के कारण होने वाले जलवायु परिवर्तन से जूझ रही है, इन 5 भारतीय स्टार्ट-अप्स ने उद्यमशीलता क्षमताओं के माध्यम से पर्यावरण की रक्षा के लिए एक पहल की है. अंधे व्यावसायिक लक्ष्यों के युग में, इन स्टार्ट-अप्स ने भावी पीढ़ी को सौंपने के लिए एक स्थायी ग्रह की कल्पना की है.घरेलू और बिजली के उपकरणों से लेकर स्किनकेयर और बेबीकेयर प्रोडक्ट्स तक, इन स्टार्टअप्स ने पारंपरिक तरीकों को बदल दिया है. यह परिवर्तन आधुनिक तकनीक के उपयोग के माध्यम से प्राचीन पारंपरिक पद्धतियों के साथ है.

उनके प्रोडक्ट्स पर्यावरण को कोई नुकसान पहुंचाए बिना उपभोक्ताओं को सकारात्मक परिणाम देने के लिए दृढ़संकल्पित हैं. निम्नलिखित स्टार्ट-अप भारत को अंतर्राष्ट्रीय समुदाय में अपने लिए एक जगह बनाने में मदद करने के उद्देश्य से काम कर रहे हैं, जिसने 2030 तक एक स्थायी ग्रह बनाने की प्रतिज्ञा की है क्योंकि उन्होंने पर्यावरण के लिए काम करने के लिए एक भी दिन निर्धारित नहीं किया है, बल्कि वे अपने माध्यम से पर्यावरण सुरक्षा की दिशा में हर दिन जुटे हैं.

world-environment-day-how-these-startups-are-promoting-sustainability

EcoSoul Home

EcoSoul पृथ्वी के सबसे नवीकरणीय संसाधनों से प्लास्टिक-मुक्त और पेड़-मुक्त उत्पाद (प्रोडक्ट्स) बनाकर पर्यावरण की सुरक्षा और लोगों को एक स्थायी जीवन शैली प्रदान करने के मिशन में जुटा है. वैश्विक मैक्रो-टेलविंड के सिंगल यूज़ प्लास्टिक से दूर करने और इकोफ्रैंडली रोजमर्रा की आवश्यक वस्तुओं के प्रति लोगों की बढ़ती रूचि के साथ, EcoSoul नित्य अपना विस्तार कर रहा है. पर्यावरण के अनुकूल उत्पादों की बढ़ती मांग को देखते हुए इकोसोल एशियाई देशों के लोगों की मांग की आपूर्ति करने को प्रतिबद्ध है. उन्होंने सिंगल यूज़ प्लास्टिक या कागज के सामानों के 25% मूल्य के बराबर इकोफ्रैंडली वस्तुओं का विकल्प पेश कर घरेलू-अनिवार्य बाजार को मौलिक रूप से बाधित कर दिया है. इसके विपरीत, शुरुआती इको-फ्रेंडली होम एसेंशियल प्रतियोगी ब्रांडों ने अपने उत्पादों की कीमत मुख्यधारा के प्लास्टिक या कागज-सामान ब्रांडों के 1.8x से 2.5x ही रखी है. EcoSoul के द्वारा बनाये जा रहे उत्पाद/सामग्री इसी कारण आज उपभोक्ताओं की पहली पसंद है.

अब तक, EcoSoul ने लगभग 2M किलोग्राम CO2, साथ ही 3M पाउंड प्लास्टिक और 24 हज़ार पेड़ों को बचाया है और यह वैश्विक पर्यावरण-अनुकूल घरेलू आवश्यक वस्तुओं के बाज़ार में एक सकारात्मक परिवर्तन ला रहा है.

Exalta India

Exalta India पर्यावरण सुरक्षा के एक दूरदर्शी मिशन में पूरी क्षमता से जुटा है, जो अभूतपूर्व सौर ऊर्जा क्षेत्र में नवाचारों के माध्यम से सस्टेनेबिलिटी का नेतृत्व कर रहा है. यह स्टार्टअप सौर ऊर्जा से चले वाले उपकरणों को बनाकर पर्यावरण संरक्षण के प्रति अपनी प्रतिबद्धता स्पष्ट कर दी है. इसके द्वारा निर्मित अद्वितीय, उच्च-गुणवत्ता और लागत प्रभावी टिकाऊ ऊर्जा समाधान प्रदान करने वाले वस्तुएं ही इस स्टार्टअप की पहचान है. इस प्रकार Exalta ने कार्बन फुटप्रिंट को प्रभावी ढंग से रोकने के साथ-साथ बिजली उत्पादन और खपत को कम करने की दिशा में एक कारगर प्रयास कर रहा है.

Exalta के सोलर एसी स्वच्छ, अधिक कूलिंग क्षमता के लिए जाना जाता है. इसके लिए इस स्टार्टअप ने नए तकनीकों को अपनाकर अपनी अटूट प्रतिबद्धता साबित कर दी हैं. स्टार्टअप की पहल निर्विवाद रूप से एक हरित और स्थायी भविष्य का मार्ग प्रशस्त कर रही है. एक स्वस्थ और उज्ज्वल कल को बढ़ावा देने के लिए एक दृढ़ समर्पण के साथ, एक्साल्टा अपने उत्पादों और सेवाओं की क्षमता को बढ़ाने के लिए लगातार प्रयास करता है, दूसरों को हमेशा के लिए एक स्थायी दुनिया की ओर इस यात्रा में शामिल होने के लिए प्रेरित करता है.

Qaadu

Qaadu जैसा कि नाम से ही स्पष्ट है कि स्टार्टअप किस मिशन में जुटा है. दक्षिण-भारत में Qaadu को जंगल के रूप में जाना जाता है और यह स्टार्टअप प्राकृतिक और शुद्ध सामग्री का उपयोग करके अपने नाम के अनुरूप हर्बल बेबी केयर और पर्सनल केयर उत्पादों का उत्पादन करता है. इस स्टार्टअप की अवधारणा ग्रीन लिविंग को बढ़ावा देना है. यह अपने उत्पादों के लिए कच्चे माल को गहरे जंगलों या विशेष रूप से समर्पित जड़ी-बूटियों के बगीचों से इकट्ठा करता है. पूरे परिवार के लिए व्यक्तिगत देखभाल और अच्छे स्वास्थ्य के प्रति उनका समग्र दृष्टिकोण इनके सभी उत्पादों में दिखता है. 2020 में दूरदर्शी शफीन कलाथिंगल द्वारा स्थापित, QAADU का मुख्यालय कालीकट, केरल में है.

उनके उत्पादन में उपयोग की जाने वाली सभी कच्ची सामग्री, प्रभाव और उपभोक्ता सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए एक कठोर गुणवत्ता जाँच प्रक्रिया से गुजरती है. स्टार्टअप हानिकारक रसायनों का उपयोग न करके और टिकाऊ और पर्यावरण के अनुकूल उत्पादों के निर्माण के माध्यम से पर्यावरण संरक्षण के अभियान में अपने तरीके से जुटा है.

Kinu Baby Care

Kinu Baby Care का टैगलाइन "लव फ्रॉम मदर नेचर" है. अपने टैगलाइन के अनुरूप यह स्टार्टअप स्वस्थ बच्चों और खुशहाल घरों को बनाने के लिए सुरक्षित, जैविक, व्यावहारिक और सस्ती वस्तुओं का उत्पादन और बिक्री कर स्वस्थ्य जीवन के लिए प्रकृति की अहमियत का संचार करती है. दिल्ली स्थित यह कंपनी बेबी केयर के लिए प्राकृतिक उत्पाद बनाती है जो केवल जैविक घटकों से बने और किसी प्रकार के रसायनों और पैराबेंस से रहित होते हैं जो जहरीले रसायनों को छोड़ते हैं और प्रकृति को नुकसान पहुंचाते हैं. यह स्टार्टअप नई माताओं को अपने बच्चों की सामान्य और संवेदनशील त्वचा के लिए प्राकृतिक, विष मुक्त और उपयुक्त सामान चुनकर जिम्मेदार विकल्प चुनने के लिए प्रोत्साहित करता है.

कठोर अनुसंधान एवं विकास के साथ, किनू द्वारा उपयोग किए जाने वाले कच्चे माल को प्राकृतिक संसाधनों से प्राप्त किया जाता है जो बच्चे की त्वचा के पीएच संतुलन को बनाए रखते हैं और नैदानिक रूप से परीक्षण और प्रमाणित होते हैं. किनू की स्थापना नवजात शिशुओं की संवेदनशील त्वचा की देखभाल करने और शिशुओं के लिए सुरक्षित और प्राकृतिक सामान उपलब्ध कराने के लक्ष्य के साथ की गई थी. हमने लोगों के जीवन की गुणवत्ता में सुधार करने के लिए निर्धारित किया है, विशेष रूप से उन लोगों के लिए जो प्रकृति की शक्ति में विश्वास करते हैं, ऐसे उत्पादों का उत्पादन और वितरण करके जो सीधे परिवारों की उन्नत भलाई में योगदान करते हैं.

Dharishah Ayurveda

Dharishah Ayurveda एक ब्रांड है जो आयुर्वेद को सस्टनैबल और स्वच्छ तरीके से प्रदान करता है क्योंकि यह पारंपरिक दवाओं और आधुनिकीकरण के संयोजन के साथ उत्पादों का उत्पादन करता है. ब्रांड 100% प्राकृतिक चीजों का उपयोग करने, प्राचीन परंपराओं का पालन करके और उन्हें आधुनिक उपचारों में समाहित करके पारंपरिक हर्बल दवाओं की निगरानी और विनियमन करने का दावा करता है.

आयुर्वेद प्राकृतिक सामग्री उगाने से लेकर उन्हें प्रोसेस करने तक, पूरा सेटअप यहाँ विशेषज्ञों की देखरेख में होता है. धारीशाह क्रूरता-मुक्त उत्पादों को भी बढ़ावा देता है क्योंकि यह जानवरों पर शून्य उत्पाद परीक्षण करता है. उनका दृष्टिकोण धरती पर वापस लौटकर और स्थानीय लघु-स्तरीय उद्यमों को बढ़ावा देकर एक संतुलन स्थापित करना है. उनके सभी फॉर्मूलेशन 100% प्लांट-आधारित हैं जिन्हें न्यूनतम अपशिष्ट उत्पन्न करने के लिए आधुनिक तकनीक के माध्यम से परिष्कृत किया जाता है. उनके सभी पैकिंग सामग्री, कच्चे माल और सेवाओं को तत्काल पर्यावरण को बनाए रखने और संभावित एकाधिकार को न खिलाने के अपने दृष्टिकोण को पूरा करने के लिए स्थानीय रूप से प्राप्त किया जाता है.

पर्यावरण संरक्षण की दिशा में इन स्टार्टअप्स द्वारा किये जा रहे प्रयास का लाभ निश्चित रूप से पूरी मानव जाति पर पड़ेगा. एक कहावत है, “हमें यह पृथ्वी अपने पूर्वजों से विरासत में नहीं मिली है; हमने इसे अपने बच्चों से उधार लिया हैं, इसी को ध्यान में रखकर ये नई पीढ़ी को एक सुरक्षित भविष्य देना चाहते हैं."

यह भी पढ़ें
Recykal के सहयोग से Licious बना प्लास्टिक न्यूट्रल ब्रांड


Edited by रविकांत पारीक