जानिए कैसे अपने एग्रीटेक स्टार्टअप के जरिए किसानों के दुख दूर कर रहा है किसान का यह बेटा

By Sohini Mitter
April 03, 2020, Updated on : Thu Apr 08 2021 10:45:44 GMT+0000
जानिए कैसे अपने एग्रीटेक स्टार्टअप के जरिए किसानों के दुख दूर कर रहा है किसान का यह बेटा
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

करन होन (Karan Hon) महाराष्ट्र के अहमदनगर जिले के एक सीमांत किसानों के परिवार में पले बड़े। उस समय वे मिडिल स्कूल में थे, जब वह अपने पिता के साथ शाम को स्थानीय मंडी में फल और सब्जियाँ बेचने के लिए जाते थे।


करन होन

करन होन, Farmpal के फाउंडर



करन बताते हैं,

"लेकिन हम शाम को हमेशा निराश होकर लौटते थे क्योंकि हमारी फसलों को कभी भी वे दाम नहीं मिले जिनके वे हकदार थे, और कभी-कभी उनको बेचना भी मुश्किल होता जाता था।"


90 के दशक में जब मैकेनिकल इंजीनियरिंग की पढ़ाई करने के लिए करन पुणे गए तो भी उनके यह बात परेशान करती रही। उन्होंने सुजलॉन एनर्जी, महिंद्रा सत्यम, एसएपी, और एक्सेंचर में दो दशक लंबा करियर बिताया। लेकिन, कृषि क्षेत्र में कुछ करने की उनकी इच्छा बरकरार रही।


जैसा कि 2017 में भारत स्मार्टफोन क्रांति देख रहा था और जिसका ग्रामीण इलाकों में भी प्रभाव महसूस किया जा सकता था, उसी दौरान करण ने फार्मपाल (Farmpal) शुरू करने के लिए अपनी नौकरी छोड़ दी। उनका मिशन फसल कटाई के बाद की सप्लाई चैन को व्यवस्थित करने के लिए टेक्नोलॉजी का उपयोग करना था ताकि किसानों को आसानी से खरीदार मिलें, सब्ज़ी मंडियों में बेहतर दरें प्राप्त कर सकें, और अपनी आय में वृद्धि कर सकें।


YourStory से बात करते हुए करन ने कहा,

"हमें एहसास हुआ कि किसानों की आय केवल तभी बढ़ेगी जब वे व्यापारियों और बिचौलियों के माध्यम से जाने के बजाय सीधे खरीदारों को बेचेंगे। 2016-17 के आसपास, उनमें से कई ने स्मार्टफोन का उपयोग करना शुरू कर दिया था। हमें पता था कि यह एक टेक्नोलॉजी सलूशन बनाने का सही समय है जो बड़े पैमाने पर प्रभाव पैदा कर सकता है।”


इसे बड़े स्तर पर लाना जरूरी थी, यह देखते हुए कि भारत में 90 मिलियन कृषि घराने हैं, जिनमें से 70 प्रतिशत कर्ज से परेशान हैं। किसान अपनी उपज से बहुत कम पैसा कमाते हैं, जबकि 80 प्रतिशत भारत के कृषि-व्यापार को नियंत्रित करने वाले बिचौलियों की जेब में जाता है।





मुख्य समस्या और उसका समाधान

महाराष्ट्र, गुजरात और कर्नाटक के किसानों के साथ व्यापक शोध के बाद, फार्मपाल ने पाया कि मंडियों में मूल्य निर्धारण उनकी सबसे बड़ी चिंता थी। इसके अतिरिक्त, डिमांड-सप्लाई बेमेल थी जिसके परिणामस्वरूप उच्च अपव्यय होता था। इसलिए, इस एग्रीटेक स्टार्टअप ने एक डिजाइन तैयार किया।


इसने एक ऐप-बेस्ड प्लेटफॉर्म विकसित किया जो खरीदारों से सीधे ऑर्डर रजिस्टर करता है, कैटेगरी-वाइज डिमांड को एनालाइज करता है, डेली डिमांड के आधार पर गतिशील कीमतों को ठीक करता है, और 1,000+ किसानों के अपने नेटवर्क को ऑर्डर ट्रांसफर करता है।


फार्मपाल की प्राइस कंपैरिजन फीचर यह सुनिश्चित करती है कि किसानों को जो भाव आम तौर पर मंडियों में मिलेगा वे अपनी उपज को उससे 20 से 30 प्रतिशत अधिक पर बेच सकते हैं। करने कहते हैं,

“यह कृषक समुदाय के लिए हमारे प्रमुख वादों में से एक है। हम उन्हें प्रीमियम कीमतों की पेशकश करने में सक्षम हैं क्योंकि टेक्नोलॉजी फार्म से फोर्क तक कम से कम चार से सात बिचौलियों को समाप्त करती है।”
k

इस साल 5000 किसानों का नेटवर्क बनाने की योजना है Farmpal की


किसान अपनी फसल को खेतों से चार किलोमीटर की दूरी पर स्थित फार्मपाल कलेक्शन सेंटरों में लाते हैं, ताकि उन्हें खुद से बाजारों में जाने के लिए लंबी दूरी की यात्रा न करनी पड़े। यह समय और अपव्यय को कम करता है, यह सुनिश्चित करता है कि फल और सब्जियां अंतिम ग्राहकों तक पहुंचने पर अपनी ताजगी बनाए रखें।


करन कहते हैं,

“पारंपरिक मॉडल में, फसल कटने के बाद की सप्लाई को मेज तक पहुंचने में 36 से 40 घंटे लगते हैं, जिससे 25 से 30 प्रतिशत अपव्यय होता है। हम शून्य अपव्यय के साथ इसे घटाकर 12 से 15 घंटे कर सकते हैं। हम उपज भेजने से पहले अपने संग्रह केंद्रों पर गुणवत्ता जांच और नवीन पैकेजिंग करते हैं।”


पुणे स्थित स्टार्टअप ने एक थर्ड-पार्टी लॉजिस्टिक पार्टनर के साथ भी करार किया है, जिसका डिलीवरी फ्लीट शहर में कलेक्शन सेंटरों से फार्मपाल के डिस्ट्रीब्यूशन सेंटरों तक ताजा उत्पादन पहुंचाता है, और फिर इसे ग्राहकों के घर तक डिलीवर किया जाता है।


भविष्य में, फार्मपाल की योजनाओं में आधुनिक कृषि प्रौद्योगिकियों, उपज बढ़ाने के तरीके, मौसम के अपडेट और फसल से संबंधित जोखिमों की जानकारी जैसी सुविधाओं को अपने ऐप में शामिल करना है। करन कहते हैं,

"किसानों को फसल जोखिमों का विश्लेषण करने, अपनी बुवाई और फसल चक्रों को संशोधित करने और हमारे प्लेटफॉर्म के माध्यम से संपूर्ण फसल सूची का प्रबंधन करने में सक्षम होना चाहिए।"



संचालन और बिजनेस मॉडल

HoReCa सेगमेंट में स्टार्टअप बी 2 बी ग्राहक सेवाएं देता है, जिसमें होटल व्यवसायी, खुदरा विक्रेता, और कैटरर्स (रेस्तरां / कैफे) शामिल हैं। यह 500 से अधिक ऐसे क्लाइंट्स को साइन-अप करने का दावा करता है, जिनमें प्रमुख होटल चेन जैसे रेडिसन, लेमन ट्री, आदि शामिल हैं। रिटेलर की ओर से, फार्मपाल भारत के सबसे बड़े हाइपरमार्केट चेन में उत्पादन करता है, जिसमें बिग बाजार, स्टार बाजार, मोर (अब अमेजॉन के स्वामित्व वाली कंपनी), बिगबास्केट, और अन्य शामिल हैं।


करण ने बताया, "रिलायंस फ्रेश और अन्य रिटेल चेन के साथ बातचीत चल रही है।" दो साल से कुछ अधिक समय में, एग्रीटेक स्टार्टअप ने 10 टन की डेली सप्लाई पर 7 करोड़ रुपये का रिटर्न (ARR) मारा है। भारत की कृषि क्षेत्र की पवित्र त्रिमूर्ति कहे जाने वाले- आलू-टमाटर-प्याज इसकी बास्केट के 40 प्रतिशत होते हैं, इसके अलावा इसमें यह लगभग 50 किस्मों का उत्पादन करता है।


करण का अनुमान है कि फार्मपाल 2020 के अंत तक 30 से 40 टन की सप्लाई करने में सक्षम होगा, और अपने एआरआर को 35 करोड़ से 40 करोड़ रुपये तक बढ़ाएगा। यह उस समय तक अपने किसान नेटवर्क को 5,000 से अधिक करने की योजना भी बना रहा है।




वे कहते हैं,

“हम इस साल की तीसरी तिमाही तक मुंबई में प्रवेश करने की योजना बना रहे हैं। वह अल्पकालिक वृद्धि का ध्यान रखेगा।"


फार्मपाल का राजस्व मॉडल दोतरफा है। हालांकि यह होटल और हाइपरमार्केट चेन जैसे इंस्टीट्यूशनल क्लाइंट्स के साथ एनुअल बल्क-परचेज डील पर स्ट्राइक करता है, यह छोटे रेस्तरां या किराना के साथ एक-लेन-देन पर 20-25 प्रतिशत सकल मार्जिन अर्जित करता है।


एग्रीटेक स्टार्टअप ने डार्टमाउथ कॉलेज से एमबीए पुनीत सेठी को स्ट्रेटजी और बिजनेस डेवलपमेंट का नेतृत्व करने के लिए एक सह-संस्थापक के रूप में रखा है। इस बीच, करन खुद से प्रोडक्ट और ऑपरेशन्स पर ध्यान केंद्रित करते हैं। वर्तमान में, फार्मपाल में 65 कर्मचारी हैं, और अधिक से अधिक जोड़ने की योजना है क्योंकि यह मार्केट में अपने पैर जमा रहा और इसे वर्कफोर्स की जरूरत है।





फंडिंग और उद्योग का परिदृश्य

स्टार्टअप कुछ ही समय में प्री-सीरीज ए राउंड फंडिंग में $2 मिलियन जुटाने के लिए वीसी के साथ बातचीत कर रहा है। यह नए क्षेत्रों में विस्तार करने और अपने टेक प्लेटफॉर्म को रैंप करने के लिए इस फंड का इस्तेमाल करेगा। इससे पहले, इसने अनडिस्क्लोज्ड एंजेल इन्वेस्टर्स से एक सीड राउंड की फंडिंग में 3 करोड़ रुपये जुटाए थे।


संस्थापक कहते हैं,

“सबसे बड़ी चुनौती यह है कि हम पूरी तरह से असंगठित क्षेत्र में हैं। यह अवसर भी है लेकिन पूरी सप्लाई चैन में सांस्कृतिक परिवर्तन लाना आसान नहीं है। हम किसानों को ऑनलाइन बैंक हस्तांतरण स्वीकार करने के लिए आश्वस्त करते हुए भी मुद्दों का सामना करते हैं। उनमें से ज्यादातर कैश ऑन डिलीवरी पसंद करते हैं।”
क

Farmpal इस साल $2 मिलियन की प्री-सीरीज A राउंड फंडिंग लेने की योजना बना रहा है


लेकिन, बेहतर रिटर्न का वादा और लोन चुकाने की संभावना किसानों को फार्मपाल जैसे एग्रीटेक प्लेटफार्मों को आगे बढ़ाने में मदद कर रही है। लेकिन यह इस क्षेत्र में एकमात्र नहीं है। नैसकॉम का अनुमान है कि भारत में 450 से अधिक एक्टिव एग्रीटेक स्टार्टअप्स हैं, और 2019 में इस क्षेत्र में फंडिंग 300 प्रतिशत बढ़ गई है।


फार्मपाल का मुकाबला निन्जाकार्ट, हराबाग, टेक्नीफिबिज, फ्रेश वीएनएफ, ईकोजन, क्रोफार्म और कई अन्य लोगों से है। हालाँकि, यह भारत की कृषि अर्थव्यवस्था और सकल घरेलू उत्पाद में इसके योगदान को देखते हुए 'विजेता ही सबकुछ ले जाता है' वाला बाजार नहीं है।


करन अंत में कहते हैं,

"हमें केवल एक ही नहीं, बल्कि लाखों किसान-परिवारों का उत्थान करना है।"

Clap Icon0 Shares
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Clap Icon0 Shares
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close