लंदन में पढ़ते हुए नींबू से मिली पैसे बचाने की तरकीब, किया स्टार्टअप, मिली 8 करोड़ की फंडिंग

By रविकांत पारीक
November 23, 2022, Updated on : Wed Nov 23 2022 10:15:53 GMT+0000
लंदन में पढ़ते हुए नींबू से मिली पैसे बचाने की तरकीब, किया स्टार्टअप, मिली 8 करोड़ की फंडिंग
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

फिनटेक स्टार्टअप Galgal Money ने एंजल निवेशकों से 1 मिलियन डॉलर (करीब 8 करोड़ रुपये) जुटाए हैं. इस फंडिंग ने स्टार्टअप को ऐप लॉन्च करने और ग्राहक अधिग्रहण में तेजी लाने में सक्षम बनाया है. इसके अलावा, फर्म ग्राहक अनुभव को तेजी से बढ़ाने के लिए प्रोडक्ट पोर्टफोलियो में निवेश करने और भारत में युवाओं के लिए नियो-बैंकिंग अनुभव को बढ़ाने वाली सुविधाओं की पेशकश पर जोर देगा.


हर्ष छत्रपति और अरुण अय्यर द्वारा 2021 में स्थापित, Galgal Money एक नए जमाने का मुंबई स्थित फिनटेक स्टार्टअप है. यह मनी मैनेजमेंट को आसान बनाने और बचत को तनाव मुक्त बनाने के उद्देश्य से युवाओं के लिए कुशल बैंकिंग समाधान लाने पर ध्यान केंद्रित करता है.


अपने एआई सिस्टम के जरिए, Galgal ऐप उपयोगकर्ताओं को सूचित करने के लिए बनाया गया है जब वे अधिक या कम खर्च करते हैं. यह मनी मैनेजमेंट व्यवहार की समझ पर आधारित है. अगली बार जब वे खर्च करना चुनते हैं, तो उपयोगकर्ता के पास खर्च के बारे में अच्छा महसूस करने, या दोषी महसूस करने का विकल्प होता है.


Galgal के को-फाउंडर, हर्ष छत्रपति, Galgal को डेवलप करने के पीछे अपनी प्रेरणा के बारे में बताते हैं, “इंपीरियल कॉलेज लंदन में अपनी पढ़ाई करते हुए, मैंने खुद को मनी मैनेजमेंट के मुद्दे का सामना करते हुए पाया. और ये वह मुद्दा है जिसका सामना आज के दौर के अधिकांश छात्र करते हैं. फिक्स पॉकेट मनी और संभावित खर्चों की अधिकता के साथ, हम युवा वयस्क तब निराश हो जाते हैं जब हम बचत करना चाहते हैं, लेकिन कर नहीं पाते. इसने मुझे एक अच्छा समाधान बनाने के लिए प्रेरित किया जो भारत में युवाओं के लिए बैंकिंग को बदल देगा और सभी के लिए मनी मैनेजमेंट को आसान बना देगा. भारतीय नींबू से प्रेरित, Galgal का मिशन उपयोगकर्ताओं को उनके पैसे का अधिकतम लाभ उठाने में मदद करना है.


वहीं, को-फाउंडर अरुण अय्यर, अपने विचार रखते हुए कहते हैं, “हमने इस समस्या में बड़ा अवसर देखा. वर्तमान में, 375 मिलियन Gen z (10-25 वर्ष की उम्र वाले) है, जो कि भारत की आबादी का 25% से अधिक है, चाहे वे छात्र हों, पहले जॉब करने वाले हों, कॉलेज फ्रेशर हों, या उद्योगी हों.


Galgal ऐप के काम करने के तरीके पर बात करते हुए, अरुण अय्यर बताते हैं, “जैसे ही Galgal अकाउंट में पैसा जमा होता है, Galgal ऐप उपयोगकर्ताओं को एक ऐसा बजट बनाने की अनुमति देता है जो गतिशील रूप से अपराध-मुक्त शेष राशि की गणना करता है. Galgal एनालिटिक्स इंजन ऑटोमैटिक रूप से उपयोगकर्ता के खर्च करने के पैटर्न को परख लेता है. इसके आधार पर उपयोगकर्ता को समय-समय पर यह सुनिश्चित करने के लिए प्रेरित किया जाता है कि वे हमेशा अपने फाइनेंस के नियंत्रण में रहें. यह एक अति-व्यक्तिगत अनुभव बनाता है, जिससे फाइनेंस को मैनेज करने में आसानी होती है. हर बार जब कोई उपयोगकर्ता गैर-जरूरी चीजों पर पैसा खर्च करता है, तो यह उनसे पूछता है कि उन्हें खर्च के बारे में अच्छा लगा या बुरा. यह पूरे अनुभव को मज़ेदार, सरल और शिक्षाप्रद बनाता है.”


बाजार में अन्य खिलाड़ियों के विपरीत, Galgal क्रेडिट शुल्क या किसी अन्य छिपे हुए शुल्क के बिना एक आकर्षक VISA प्रीपेड कार्ड मुहैया करता है. प्रोडक्ट बीटा स्टेज में ही, कंपनी ने अपनी वेबसाइट के जरिए 5,000 से अधिक लोगों की प्रतीक्षा सूची तैयार की है. ऐप अब लाइव है और Android और Apple दोनों डिवाइसेज के लिए उपलब्ध है.

हमारे दैनिक समाचार पत्र के लिए साइन अप करें