भारत वापस लौटने पर क्रेडिट कार्ड लेने में आई दिक्कत, किया स्टार्टअप, मिली 47 करोड़ की फंडिंग

By रविकांत पारीक
October 03, 2022, Updated on : Tue Oct 04 2022 06:41:22 GMT+0000
भारत वापस लौटने पर क्रेडिट कार्ड लेने में आई दिक्कत, किया स्टार्टअप, मिली 47 करोड़ की फंडिंग
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

ग्लोबल नियो-बैंकिंग प्लेटफॉर्म Vance ने Hummingbird Ventures के नेतृत्व में सीड राउंड में 5.8 मिलियन डॉलर (करीब 47 करोड़ रुपये) जुटाए हैं. इस राउंड में Global Founders Capital, YCombinator, Soma Capital और एलन रटलेज (Alan Rutledge) और गोकुल राजाराम जैसे अनुभवी ऐंजल्स की भी भागीदारी देखी गई.


Vance का लक्ष्य 'वैश्विक नागरिकों' के बढ़ते समूह के लिए समाधान तैयार करना है. रिमोट वर्क अपनाने से लेकर अलग-अलग सेक्टर्स में इक्विटी में निवेश करने की इच्छा तक, दुनिया पहले से कहीं अधिक परस्पर जुड़ी हुई है. फिर भी, जबकि उपभोक्ताओं की महत्वाकांक्षा और जरूरतों ने सीमाओं को पार कर लिया है, बैंकिंग इंडस्ट्री की नींव क्षेत्र-विशिष्ट और पुरातन बनी हुई है.


स्टैनफोर्ड ड्रॉपआउट पार्थ गर्ग द्वारा 2022 में स्थापित, Vance वैश्विक नागरिकों के वित्तीय सेवाओं के साथ जुड़ने के तरीके को बदल रहा है. उनका विजन एक सर्वव्यापी बैंकिंग प्लेटफॉर्म का निर्माण करना है, जो यूजर्स को अलग-अलग अकाउंट्स को मैनेज करने, करेंसी एक्सचेंज करने और अंततः बाजारों में इक्विटी में निवेश करने की अनुमति देगा. मल्टी-करेंसी वॉलेट के विपरीत, Vance अकाउंट यूजर्स को अलग-अलग देशों में लोकल रेल का उपयोग करके लेनदेन करने की अनुमति देता है. प्लेटफॉर्म का लक्ष्य यूजर्स को अमेरिका में डायरेक्ट डेबिट का उपयोग करने में सक्षम बनाना, और उसी अकाउंट से भारत के यूपीआई रेल का निर्बाध रूप से लाभ उठाना है.


Vance का जन्म पार्थ के व्यक्तिगत अनुभव से हुआ था, जब वे 8 महीने पहले भारत आए थे और अमेरिका और यूएई में क्रेडिट हिस्ट्री होने के बावजूद क्रेडिट कार्ड प्राप्त करने में चुनौतियों का सामना करना पड़ा. वह वर्तमान में 4 देशों में अकाउंट मैनेज करते हैं. यह महसूस करते हुए कि दूसरे लाखों लोगों को भी इसी तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ता होगा, वे समाधान खोजने के लिए निकल पड़े.


Vance के फाउंडर सीईओ पार्थ गर्ग कहते हैं, “पिछले एक दशक में बैंकिंग और पेमेंट्स में तेजी आई है, लेकिन जब इंटरनेशनल ट्रांजेक्शन की बात आती है, तो हम अभी भी पुराने मैकेनिज्म पर चलते हैं. यह ग्लोबल बैंकिंग पर जमीनी स्तर से पुनर्विचार करने का समय है. लगातार बढ़ती वैश्विक जनसंख्या के साथ, एक ग्लोबल बैंक पहले से कहीं अधिक समय की आवश्यकता है."


Vance का डिस्रप्टिव सॉल्यूशन यूजर्स के लिए कई रास्ते खोलता है. Vance के साथ, अंतरराष्ट्रीय यात्री लोकल लोगों की तरह खर्च कर सकते हैं, प्रवासी अपने देश में लाइव दरों पर पैसे भेज सकते हैं, और सीमा पार फ्रीलांसर भारी कमीशन के बिना पेमेंट्स प्राप्त कर सकते हैं.


कई ऐसी कंपनियां है जो एक समान समस्या को हल करने के लिए काम कर रही हैं, लेकिन वास्तव में एक अंतरराष्ट्रीय बैंक बनाने से बहुत दूर हैं. Vance एक ऐसी दुनिया की कल्पना करता है जहां आपको एक इकोसिस्टम में वित्तीय रूप से शामिल होने के लिए कई देशों में कई बैंक अकाउंट्स की आवश्यकता नहीं है. इसका लक्ष्य एक सीमा रहित बैंकिंग अकाउंट बनाना है जो उन बैंकिंग प्रोडक्ट्स का उपयोग करने के लिए है जो वर्तमान में संभव नहीं हैं. सीमाओं के पार Uber के गतिशील ग्राहक अनुभव की तरह, Vance लोगों को किसी भी देश में सिर्फ एक इंटरफेस के माध्यम से बैंकिंग करने देगा.


Hummingbird Ventures के एशिया लीड अक्षय मेहरा कहते हैं, “Vance में, हमने निरंतर निष्पादन, उत्कृष्टता की संस्कृति और एक उभरती टेक कंपनी बनाने की इच्छा देखी है. पार्थ और टीम लगातार यथास्थिति पर सवाल उठाते हैं और वैश्विक स्तर पर प्रवासियों के लिए परिवर्तन को प्रभावित करने के लिए लोगों का सही समूह हैं. हम वैश्विक नागरिकों के लिए नियोबैंक बनने के अंतिम लक्ष्य के साथ, Vance के निकट-भविष्य में वैश्विक नागरिकों के लिए नियोबैंक बनने को लेकर बेहद उत्साहित हैं.


Vance, YCombinator के Winter 2022 बैच का हिस्सा था और 2022 के अंत तक यूएई और यूके में लाइव होने की योजना बना रहा है. 2023 की पहली तिमाही तक, पांच अतिरिक्त देशों में लॉन्च करने का लक्ष्य है. स्टार्टअप का लक्ष्य अगले 6 महीनों में अपनी 10-सदस्यीय टीम को 30 तक विस्तारित करने के लिए अपने सीड राउंड का लाभ उठाना है. फंडिंग का उपयोग रेमिटेंसेज, सेविंग्स अकाउंट्स और इन्वेस्टमेंट्स जैसे प्रोडक्ट्स बनाने के लिए भी किया जाएगा.