बस एक बार लगाएं पौधा और सारी जिंदगी कमाएं मुनाफा, 4-5 लाख रुपये तक की होगी कमाई

अगर आप आंवले की खेती करते हैं तो एक बार की मेहनत में सारी जिंदगी मुनाफा कमा सकते हैं. आंवले के बहुत सारे हेल्थ बेनेफिट्स हैं, इसलिए इसकी तगड़ी डिमांड है.

बस एक बार लगाएं पौधा और सारी जिंदगी कमाएं मुनाफा, 4-5 लाख रुपये तक की होगी कमाई

Friday December 09, 2022,

4 min Read

यूं तो किसान साल में अधिकतर दिन अपने खेतों में काम करते हैं, लेकिन कुछ फसलें ऐसी भी होती हैं, जिनसे मेहनत बच सकती है और कमाई बढ़ सकती है. ऐसी ही एक खेती होती है बांस की खेती, जिसके बारे में हम आपको पहले ही बता चुके हैं. अगर आप ऐसी कोई और खेती करना चाहते हैं तो आंवले की खेती (Amla Farming) कर सकते हैं. इसमें बस एक बार आपको आंवले के पेड़ लगाने होंगे और फिर सारी जिंदगी उससे फल मिलते ही रहेंगे. आंवले का इस्तेमाल औषधीय (Health benefits of amla) रूप से खूब होता है, ऐसे में आप मोटी कमाई कर सकते हैं. आंवले की खेती के मामले में पहले नंबर पर है यूपी. इसके बाद नंबर आता है मध्य प्रदेश और तमिलनाडु का. आइए जानते हैं कैसे की जाती है आंवले की खेती(How to do Amla Farming) और इस खेती से कितना मुनाफा (profit in Amla Farming) कमाया जा सकता है. इस खेती को आप एक बिजनेस आइडिया (Business Idea) की तरह भी देख सकते हैं.

पहले जानिए आंवले से होते हैं क्या फायदे

आंवले में विटामिन सी भरपूर मात्रा में पाया जाता है. इसकी वजह से इसे खाने से इंसान बहुत से रोगों से बचा रहता है. आंवले के बारे में तो यह भी कहा जाता है कि आंवला सौ मर्ज की एक दवा है. इसमें कैल्शियम, आयरन, फास्फोरस, विटामिन ए, विटामिन ई समेत कई तरह के पोषक तत्व होते हैं. आंवले का स्वाद काफी कसैला होता है, लेकिन यह भोजन पचाने में मददगार होता है. आंवले का मुरब्बा बनाकर भी लोग उसे खूब खाते हैं. इसके अलावा आचार, जैम, सब्जी और जैली बनाने में भी आंवले का इस्तेमाल होता है. आंवला खाने से आंखों की रोशनी भी बढ़ती है. इतना ही नहीं, आंवले का सेवन करने से डायबिटीज भी कंट्रोल होती है. इससे खून का प्रवाह अच्छे से बना रहता है और की सूजन संबंधी बीमारियों में फायदा मिलता है.

कैसे होती है आंवले की खेती?

आंवला एक गर्म जलवायु का पौधा है. यही वजह है कि इसे शुष्क प्रदेशों में उगाया जाता है. इस पौधे को ना तो लू से कोई नुकसान पहुंचता है, ना ही ठंड के पाले से इसे कोई दिक्कत होती है. हालांकि, शुरुआत में करीब 3 साल तक आपको पौधे का खास ध्यान रखना होता था, ताकि पौधा आसानी से पेड़ बन सके. एक बार पेड़ बन जाने के बाद आपको आंवले की चिंता करने की जरूरत नहीं है. एक वयस्क आंवले का पेड़ आसानी से 0-45 डिग्री के तापमान को झेल सकता है. इसके पौधे लगाने से पहले आपको खेत में ढेर सारी गोबर की खाद या वर्मी कंपोस्ट डालनी चाहिए. दो पौधों के बीच करीब 10-10 फुट की जगह छोड़नी चाहिए. अगर गर्मी का मौसम है तो हर 7-8 दिन में एक बार सिंचाई करें, वरना ठंड में 12-15 दिन में सिंचाई करनी चाहिए.

कितना खर्च और कितना मुनाफा?

आंवले के पौधे लगाए जाने के बाद उसका पेड़ करीब 4-5 साल में फल देने लगता है. वहीं 8-9 साल बाद एक पेड़ हर साल औसतन 1 कुंटल तक आंवला निकलता है. थोक बाजार में आंवला औसतन 20-25 रुपये प्रति किलो के हिसाब से बिकता है. यानी हर साल एक पेड़ से किसान को 2000 से 2500 रुपये की कमाई होती है. अगर एक हेक्टेयर में आंवले की खेती करें तो उसमें करीब 200 पौधे लगते हैं. यानी एक साल में सिर्फ 1 हेक्टेयर से आप 4-5 लाख रुपये की कमाई कर सकते हैं. वहीं लागत के नाम पर आपका सिर्फ एक बार इन पौधों के खरीदने पर बड़ा खर्च होगा. इसके बाद आपको सिर्फ सिंचाई, रख-रखाव, कीटनाशक, हार्वेस्टिंग आदि पर खर्च करना होगा. अगर आंवले के पेड़ों का सही से रख-रखाव किया जाए तो एक-एक आंवले का पेड़ 55-60 साल तक फल देता रह सकता है. इसका मतलब ये हुआ कि अगर आपने 20 साल की उम्र में आंवले का पौधा लगाया तो वह 80 साल की उम्र तक फल देता रहेगा यानी पूरी जिंदगी आंवले के फल से आपकी कमाई हो सकती है.