कुकीज के लिए इस महिला बैंकर की नैनो के पीछे भागते थे लोग, आज 12 स्टोर के साथ चला रही हैं बिजनेस

By Rekha Balakrishnan
March 09, 2020, Updated on : Thu Mar 12 2020 08:55:15 GMT+0000
कुकीज के लिए इस महिला बैंकर की नैनो के पीछे भागते थे लोग, आज 12 स्टोर के साथ चला रही हैं बिजनेस
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

व्हार्टन स्कूल ऑफ बिजनेस से ग्रेजुएट करने के बाद नेहा आर्य सेठी ने लोंगों को फायदा कमाते देख निवेश बैंकिंग में कदम रखा। उन्होंने एक वर्ष के लिए न्यूयॉर्क में एक निवेश बैंकर के रूप में काम किया। लेकिन उन्होंने महसूस किया कि फाइनेंस उनके बस की बात नहीं थी, और वह कुछ और करना चाहती थीं।


वे बताती हैं,

"मैंने पाया कि जिस चीज के लिए मैंने कड़ी मेहनत की थी, वो तो मुझे पसंद ही नहीं थी। और इसने मुझे असमंजस में डाल दिया।”

k


इसलिए, नेहा भारत वापस आ गईं और उन्होंने वही किया, जिसमें वे सबसे अच्छी थीं: बेकिंग। बचपन से ही उन्हें डेसर्ट काफी पसंद थीं। इसलिए उन्होंने खुद को व्यस्त रखने के लिए दोस्तों और परिवार के लिए बेकिंग शुरू की। वह कहती हैं कि उन्होंने शुरू में इसे बेजनेस में बदलने के बारे में नहीं सोचा था। वह पैसे निवेश करने को लेकर काफी सतर्क थीं। तभी एक दोस्त ने उन्हें सुझाव दिया कि जब तक उन्हें अच्छी जॉब नहीं मिल जाती तब तक बेकिंग जारी रखें। और तब टाटा नैनो के पीछे से शुरू हुआ पैशन प्रोजेक्ट अब एक फुल बिजनेस में बदल गया है।


स्वीटिश हाउस माफिया (SHM) के मुंबई, पुणे, कोलकाता में 12 स्टोर हैं और हाल ही में - बेंगलुरु में इसका एक स्टोर शुरू हुआ है। लेकिन शुरुआत में, नेहा बहुत सतर्क थीं। टाटा नैनो को उनके दोस्तों ने उनकी शादी के दौरान गिफ्ट में दिया था। उन्हें सिर्फ चार बजाज ओवन खरीदने थे, और इनग्रेडिएंट्स में खरीदने में पैसा निवेश करना था। पहले उन्होंने सोचा कि यह सब अस्थायी है, लेकिन उनकी कुकीज ने अपना जादू चलाया।


पहियों पर कुकीज़

यह 2013 था, और सोशल मीडिया पर इस बहादुर उद्यमी की प्रतिभा ने मुंबई को उनके कुकीज और डेसर्ट के बारे में जानकारी दी। वे कहती हैं,

“मैंने एक कैंपेन चलाया, 'इफ यू फॉलो द नैनो, यू गेट कुकीज’। जिन जगहों पर नैनो जाती थी उनको ट्विटर और फेसबुक पर हुई वोटिंग के आधार पर चुना गया था। इसे नेपियन सी रोड पर भेजें या लोअर परेल में भेजें! यह बहुत रोमांचक था, और हर कोई इसमें शामिल हो गया।"
k


नैनो से शहर में घूमने के दौरान कई अविस्मरणीय घटनाएं हुईं। वे याद करते हुए कहती हैं,

"एक बार किसी ने हमारे फेसबुक पेज पर कमेंट किया कि उसकी पत्नी गर्भवती थी और वह ब्रीच कैंडी अस्पताल में प्रसव में है, इसलिए कृपया ब्रीच कैंडी में ही डिलीवरी करें क्योंकि वह (पत्नी) नुटेला सी साल्ट कुकीज खाने को तरस रही थी।"


एक और बार कुछ ऐसा ही हुआ, बहुत तेज बारिश हो रही थी और नेहा ने सोचा कि इस दिन डिलीवरी करने का कोई मतलब नहीं है। तभी उन्होंने इसके लिए अपने सोशल मीडिया अकाउंट्स पर वोटिंग कराई और पता चला कि ऐसे ग्राहक थे जो उस दिन भी कुकीज चाहते थे।


इसलिए, उन्होंने शुक्रवार को कार्टर रोड पर रात 10 बजे देर से डिलीवरी की। नेहा ने सामान्य से कम कुकीज भेजीं, लेकिन वहां भारी भीड़ इंतजार कर रही थी, और उनका स्टाफ इतना अभिभूत था कि वे केओस से बचने के लिए वापस कार में जा घुसे।


इसके बाद, नेहा को ट्विटर पर मैसेज मिला और उन्हें सचेत किया गया कि भीड़ में बच्चों के बीच अराजक स्थिति बन रही है। वह कहती है: "मेरे स्टाफ ने मुझे सिनारियो के बारे में जानकारी देने के लिए कॉल किया।"


वे कहती हैं कि पुलिस हमारी नैनो को वहां से भगा रही थी क्योंकि इसके चलते अराजकता का महौल हो रहा था। इसके अलावा, कुछ सेलेब्रिटी की कार भी उनसे कुकीज खरीदने के लिए उनकी नैनो के पास आ रुकीं।


वे बताती हैं,

“उन दिनों, हमारे पास आज जैसी प्रसिद्धि नहीं थी। किसी को नहीं पता था कि हम कौन हैं। इसलिए, हम सिर्फ हर शाम कुकीज बेचने वाले नैनो थे।”


उस समय नेहा ने गुमनाम रहना चुना। यह एक मार्केटिंग चाल थी, वह कहती है, जब लोग आपको नहीं जानते हैं, तो वे आश्चर्यचकित होते हैं कि आप कौन हैं और आप कहाँ से आते हैं। वह इतनी जल्दी लेबल नहीं लगाना चाहती थीं और उत्पाद पर ध्यान केंद्रित करना चाहती थीं। इसके अलावा, उस समय, किसी एख पब्लिकेशन ने उन्हें 'बैटमैन ऑफ कुकीज़' कहा, और इसने लोगों में और रुचि पैदा की।


सड़क से दुकान तक

एक नैनो से कुकी व्यवसाय करने के एक साल बाद, नेहा ने महसूस किया कि एक दिन नैनो का पीछा करने का ट्रेंड अंततः दूर हो जाएगा। परमानेंट सप्लाई की आवश्यकता थी। इसलिए, उन्होंने इस आइडिया को भुनाने के बारे में सोचा। उन्होंने सितंबर 2014 में मुंबई में पहले स्वीटिश हाउस माफिया स्टोर का उद्घाटन किया और यह शब्द जंगल में आग की तरह फैल गया।


k


नेहा कहती हैं,

“जब एक बार हमारा स्टोर स्थापित हो गया, तो हमारे ग्राहकों को पता था कि वे जब चाहें तब मनोरम कुकीज खा सकते हैं। अब ग्राहक अपनी इच्छानुसार ऑर्डर कर सकते थे। पहली दुकान ने तुरंत ही शानदार सफलता हासिल की। हमारी कुकीज को लेकर ग्राहकों का प्यार देखकर मुझे दोहरी खुशी हुई। यह एक लाभदायक उद्यम निकला, जिसने हमें अन्य स्थानों पर स्टोर स्थापित करने के लिए प्रेरित किया।”


SHM की मेन ऑफरिंग फ्रेश बेक्ड कुकीज हैं, हालांकि वे कप केक के आइडिया के बारे में भी सोच रहे हैं। नेहा का कहना है कि उन्होंने नैनो, प्रोडक्ट और ब्रांड नाम की मार्केटिंग रणनीति के साथ शानदार निशाना मारा। ब्रांड का नाम उनके ब्रदर-इन-लॉ आकाश सेठी द्वारा दिया गया था। आकाश सेठी स्वीटी हाउस माफिया के सह-संस्थापक भी हैं।


सोशल मीडिया ने उनकी खूब मदद की और उन्होंने मार्केटिंग पर एक पैसा भी खर्च नहीं किया।


हैप्पी कुकीज

नैनो से एक ब्रिक-एंड-मोर्टार मॉडल में अपग्रेड के बीच कई सारी चुनौतियों का भी सामना करना पड़ा। नेहा कहती हैं कि एक कार के साथ यह सब उनके नियंत्रण में था और मैनेज करना आसान था।


k

“जब यह एक स्टोर की बात आती है, तो प्रक्रिया अधिक थकाऊ हो जाती है। आप एक अनुकूल स्थान का पता लगाते हैं और सुनिश्चित करते हैं कि स्टोर प्यारा लग रहा है। एक बार जब आपके पास स्टोर होते हैं, तो ओवरहेड लागत, अधिक लोगों को काम पर रखने की लागत और भुगतान करने के लिए किराया होता है। इसके अतिरिक्त, सर्वश्रेष्ठ विक्रेताओं से इन्वेंट्री और सर्वोत्तम गुणवत्ता की सामग्री भी आपकी जिम्मेदारियों में से हैं। स्टोर शुरू करने में कई अन्य चुनौतियां हैं जैसे बीएमसी से निपटना और अपने कर्मचारियों को प्रशिक्षित करना। लेकिन अंत में, यह सब इसके लायक है।”



नेहा के अनुसार, उनके लिए सबसे बड़ी खुशी की बात ये है कि उनकी कुकीज ग्राहकों को कितना खुश करती हैं।


वे कहती हैं,

“नैनो दिनों के दौरान, एक बार मुझे एक ईमेल मिला जिसमें कहा गया था कि मैं उनके परिवारों को कुकीज के जरिए साथ ला रही हूं। इस तरह की बात वास्तव में आपके साथ रहती है। यह आपको महसूस कराता है कि आप दुनिया को अपने छोटे से तरीके से बेहतर जगह बना रहे हैं। फैक्ट यह है कि हमें अदार पूनावाला द्वारा वित्त पोषित किया गया है और ये हमारे लिए किसी मान्यता से कम नहीं है।"


Sweetish हाउस माफिया के पास भविष्य की बहुत सारी योजनाएं हैं।


नेहा अंत में कहती हैं,

“हम भौगोलिक क्षेत्रों में विस्तार करना चाहते हैं, विभिन्न शहरों में जाना चाहते हैं, और अपनी अच्छाइयों को अधिक लोगों तक पहुंचाना चाहते हैं। हम एक ईकॉमर्स प्लेटफॉर्म स्थापित करना चाहते हैं ताकि हम देश के विभिन्न हिस्सों में लोगों के साथ जुड़ सकें और खुदरा स्थान में प्रवेश कर सकें।” 

हमारे दैनिक समाचार पत्र के लिए साइन अप करें