हर बिजनेस को लोन देने वाले फिनटेक स्टार्टअप Vayana Network की कहानी

साल 2017 में राम अय्यर ने कंपनी की शुरुआत की थी. Vayana एक B2B (बिजनेस-टू-बिजनेस) ट्रेड फाइनेंस मिडिएटर है जो बिजनेस लोन के लिए SMEs और कॉर्पोरेट्स को फाइनेंशियल इंस्टीट्यूट्स से जोड़ता है. यह SMEs/MSMEs को हर तरह के लोन दिलाने में मदद करता है.

हर बिजनेस को लोन देने वाले फिनटेक स्टार्टअप Vayana Network की कहानी

Wednesday August 24, 2022,

8 min Read

भारत में किसी भी बिजनेस के लिए "वक्त पर पेमेंट" होना सबसे बड़ा मुद्दा रहा है. उधारी एक रिवायत सी बन गई है. इसे प्रथा कहा जाए तो इसमें कोई अतिशयोक्ति नहीं होगी. इस बात से सभी वाक़िफ़ हैं कि बिजनेस का पेमेंट साइकिल घड़ी की सुई की तरह काम नहीं करता है. हम यह भी जानते हैं कि पेमेंट में देरी, हर बिजनेस पर असर डालती है. और अगर स्मॉल एंड मीडियम एंटरप्राइजेज (SMEs) के केस में इसे देखें तो पायेंगे कि अक्सर यही सबसे ज्यादा प्रभावित होते हैं. यहीं पर पुणे स्थित Vayana Networkपिक्चर में आता है.

आज वायना नेटवर्क का नाम देश की सबसे बड़ी ट्रेड फाइनेंस कंपनियों में शुमार है. साल 2017 में राम अय्यर ने कंपनी की शुरुआत की थी. Vayana एक B2B (बिजनेस-टू-बिजनेस) ट्रेड फाइनेंस मिडिएटर है जो बिजनेस लोन के लिए SMEs और कॉर्पोरेट्स को फाइनेंशियल इंस्टीट्यूट्स से जोड़ता है. यह SMEs/MSMEs को हर तरह के लोन दिलाने में मदद करता है.

वायना राम का पहला वेंचर नहीं है. IIM-अहमदाबाद ग्रेजुएट राम ने वायना से पहले CashTech Solutions की शुरुआत की थी. यह एशिया में कैश मैनेजमेंट सेलर है, जिसे उन्होंने 2004 में Nasdaq-लिस्टेड Fundtech को बेच दिया था.

कैशटेक के बाद, राम ने कंपनियों के बिजनेस ट्रेड को मैनेज करने में मदद करने के लिए बैंक सिस्टम सॉल्यूशन बनाना शुरू किया. उन्होंने महसूस किया कि कई बैंकरों के साथ काम करने के बाद वायना जैसी कंपनी की जरुरत थी.

Ram Iyer- Founder & CEO - Vayana Network

Vayana Network के फाउंडर और सीईओ, राम अय्यर

वायना नेटवर्क ने 25 अलग-अलग सेक्टर्स में 1000 से अधिक सप्लाई चेन के लिए 1.5 लाख से अधिक MSMEs को 10 बिलियन डॉलर से अधिक का लोन देने का दावा किया है. वायना आज भारत में 600 शहरों और 1400+ पिन कोड में और दुनिया भर के 20 देशों में फैला हुआ है.

हाल ही में YourStory ने वायना नेटवर्क में मार्केटप्लेस डिवीजन के डायरेक्टर और हेड कल्याण बासु से बात की. जहां हमने ये जाना कि कंपनी SMEs/MSMEs को लोन देकर आत्मनिर्भर भारत के सपने को पूरा करने में किस तरह मदद कर रही है.

YourStory [YS]: वायना नेटवर्क कैसे स्मॉल बिजनेसेज की मदद करता है? इसके प्रोडक्ट्स और सर्विसेज क्या हैं?

कल्याण बासु [KB]: वायना नेटवर्क में, हमारा मानना है कि छोटे या बड़े हर बिजनेस को समय पर वर्किंग कैपिटल (लोन) मिलना चाहिए. वायना कॉरपोरेट्स और उनके पार्टनर के लिए सप्लाई चेन फाइनेंस प्रोग्राम चलाता है.

वायना ने टेक्नोलॉजी और अपनी टीम के अनुभव की मदद से ऐसे प्रोडक्ट तैयार किए हैं, जो MSMEs को लोन देने के लिए ऋणदाताओं (lenders) के लिए इस यूनिट को सकारात्मक बनाते हैं. यह क्रेडिट की लागत को कम करते हैं. दो मुख्य कारण हैं जो पारंपरिक ऋणदाताओं को MSMEs को लोन देने से दूर रखते हैं — पहला - अपनी पैठ साबित करने में छोटे व्यवसायों की अक्षमता, और दूसरा - उन्हें सर्विस देने की लागत.

वायना के क्लाउड-बेस्ड सॉल्यूशन बैंकों को अपनी लागत कम करने, ग्राहकों को डिजिटलाइजेशन अपनाने, लेनदेन को डिजिटल रूप से ऑथेंटिकेट करने और रिपेमेंट्स को मॉनिटर करने में मदद करते हैं.

इनवॉइस के लिए हर बिजनेस का अपना फॉर्मेट होता है. वायना ने ऐसा सिस्टम बनाया है जो इनवॉइस को उनके फॉर्मेट के बावजूद, डेटा में कन्वर्ट करती है. यह बैंक के सिस्टम और कॉर्पोरेट के ईआरपी के लिए काम आता है. यह वायना के प्लेटफॉर्म के जरिए इनवॉइस की डिजिटल स्वीकृति सुनिश्चित करता है. यह बड़ी यूनिट द्वारा स्वीकार किए गए इनवॉइस के लिए फाइनेंसर द्वारा फंड डिस्बर्सल को पुख्ता करता है.

यह मुख्य समाधान सभी ट्रेड फाइनेंस प्रोडक्ट्स पर लागू होता है, चाहे बिजनेस यूनिट का आकार और प्रकार कुछ भी हो.

ट्रेड फाइनेंस प्रोडक्ट सूट के अलावा, वायना MSMEs को कुछ और भी सॉल्यूशन प्रोवाइड करता है ताकि मॉनिटरिंग और कंप्लायंस को सरल बनाया जा सके:

1. GST रिटर्न फाइल करने, ई-इनवॉइस और ई-वे बिल बनाने के लिए यूटिलिटी देने, उन्हें क्रेडिट दिलाने में मदद करता है.

2. कैशफ्लो मैनेजमेंट सॉल्यूशन MSMEs को receivables/payables रिकंसिलेशन को ऑटोमेट करने में मदद करते हैं.

3. GBS (Good Business Score), MSMEs को GST रिटर्न के आधार पर उनकी बिजनेस हेल्थ का डिटेल्ड एनालिसिस देता है.

पिछले साल, वायना नेटवर्क को गिफ्ट सिटी, गुजरात में एक इंटरनेशनल ट्रेड फाइनेंसिंग प्लेटफॉर्म (ITFS) खड़ा करने के लिए मंजूरी मिली. यह दुनिया भर के MSMEs और कॉरपोरेट्स को अपनी पसंद की मुद्रा में कहीं भी ट्रेड फाइनेंस करने की अनुमति देगा.

ये ट्रेड फाइनेंस ट्रांजेक्शन स्मॉल बिजनेसेज को पेमेंट हिस्ट्री बनाने की अनुमति देते हैं. इससे उधारदाताओं को भविष्य में होने वाली फाइनेंस संबंधी जरुरतों के लिए कैश फ्लो के आधार पर उनकी वैल्यूएशन करने में मदद मिलती है.

YS: MSMEs के लिए पैसे तक पहुंच की चुनौती का समाधान करने के लिए सप्लाई चेन फाइनेंस कैसे एक प्रभावी समाधान हो सकता है?

KB: सप्लाई चेन फाइनेंस (SCF) MSMEs को अनुमति देता है:

1. स्वयं उधारकर्ता (MSMEs) की स्टैंड-अलोन रिस्क रेटिंग के बजाय, बैंक फाइनेंस तक पहुंच; इस आधार पर कि वे किससे खरीदते हैं या बेचते हैं.

2. अपने ट्रेड ट्रांजेक्शन की ताकत और मात्रा के आधार पर बैंक लोन तक पहुंच और काउंटरपार्टी की बेहतर रिस्क प्रोफ़ाइल.

3. MSMEs को उनके इनवॉइस के बदले पेमेंट मिलता है, जिसके परिणामस्वरूप समय पर पेमेंट होता है, यह सुनिश्चित करते हुए कि उनके पास अपनी खरीदारी के लिए फंड्स है.

YS: MSMEs अपने बिजनेस को फाइनेंस के लिहाज़ से कैसे प्रोटेक्ट कर सकते हैं?

KB: MSMEs निम्नलिखित तरीकों से अपने बिजनेस की आर्थिक रूप से रक्षा कर सकते हैं: -

1. क्रेडिट को लायबिलिटी मानें - बिजनेस द्वारा लिया गया कोई भी लोन लायबिलिटी है जिसे चुकाने की आवश्यकता होती है. इस तरह के उधार पर ब्याज भुगतान भी इसके मार्जिन को कम करता है और इस तरह बिजनेस साइकिल बना रहता है. मुश्किल समय में, MSMEs को अधिक लोन लेने से पहले रिपेमेंट की योजना बनाने की जरुरत होती है.

2. कैश फ्लो को लेकर सतर्कता - सप्लाई चेन की समस्या अगले कुछ वर्षों तक जारी रहने की उम्मीद है. बिजनेस के मालिकों को यह समझने की जरुरत है कि वे क्रेडिट या ओडी लाइनों के जरिए अधिक खर्च न करें. उन्हें कलेक्शन पर कड़ी निगरानी और नियंत्रण रखने की भी आवश्यकता होगी.

3. इन्वेंटरी मैनेजमेंट - वस्तुओं और इनपुट की लागत में बढ़ोतरी के साथ, बिजनेसेज को प्रोडक्शन के लिए महीने-दर-महीने योजना बनाने की आवश्यकता होती है. इन्वेंट्री को कन्फर्म ऑर्डर तक सीमित करना चाहिए.

4. इंश्योरेंस - मुश्किल समय में, सही इंश्योरेंस प्लान के जरिए कंपनी और इसके कर्मचारियों की रक्षा करना महत्वपूर्ण है. निरंतरता सुनिश्चित करने और जोखिम को कम करने के लिए यह फायदे का सौदा है.

YS: MSMEs के लिए एक्सपोर्ट/इंपोर्ट फाइनेंस तक पहुंच को आसान बनाने के क्या मायने हैं?

KB: MSMEs इंडियन एक्सपोर्ट में लगभग 50% का योगदान करते हैं. उनमें से कई के पास स्थिर, व्यावसायिक संबंध हैं जो वे वर्षों से अच्छी तरह से सेवा कर रहे हैं. और फिर भी, विकास हमेशा MSMEs के लिए एक समस्या रही है, जो अक्सर अपने मौजूदा व्यवसाय को बनाने और उसका विस्तार करने में असमर्थ होते हैं. इसका एक कारण यह है कि MSME एक्सपोर्टर लगातार डिफ़ॉल्ट जोखिमों के खिलाफ विकास के अवसरों की तलाश कर रहे हैं.

MSME एक्सपोर्टर और इंपोर्टर के पास उधार देने वालों की लंबी लिस्ट नहीं होती है. ये अक्सर उनके अपने देश में मौजूदा बैंकिंग संबंधों तक सीमित होते हैं. उनके पास दूसरे देशों के अधिक फाइनेंसरों को खोजने या सस्ती दरों पर विदेशी मुद्राओं में उधार लेने की क्षमता बहुत कम है. फंड्स उपलब्ध होने पर भी कागजी कार्रवाई और डॉक्यूमेंटेशन बोझिल और समय लेने वाला हो सकता है.

अगर भारत की अर्थव्यवस्था को वित्त वर्ष 26-27 तक 5 ट्रिलियन अमेरिकी डॉलर बनना है, तो आने वाले वर्षों में एक्सपोर्ट को 1 ट्रिलियन अमेरिकी डॉलर से अधिक का योगदान करना होगा. आसान पहुंच और वहनीयता सुनिश्चित करके, MSMEs फंड्स के लिए इधर-उधर भागने के बजाय बिजनेस की ग्रोथ पर ध्यान केंद्रित करने में सक्षम होंगे. सबसे बड़ा एंप्लॉयर होने और एक्सपोर्ट में बड़ा योगदानकर्ता होने के नाते, उनकी वृद्धि और सफलता सीधे देश की GDP को प्रभावित करती है.

इसी साल जून महीने में वायना ने भारत में क्रॉस बोर्डर फाइनेंस सॉल्यूशंस लॉन्च किए हैं. इसके लिए Vayana ने Olea Global के साथ पार्टनरशिप की है. Olea एक डिजीटल सप्लाई चेन प्लेटफॉर्म है. यह सस्टेनेबल ट्रेड को सशक्त बनाता है.

क्रॉस बोर्डर फाइनेंस के बारे में अधिक जानकारी देते हुए, Vayana Network के फाउंडर और सीईओ, राम अय्यर ने कहा था, "सरकार, अपने "मेक इन इंडिया" प्रोग्राम और प्रोडक्शन लिंक्ड इंसेंटिव्स (PLI) के माध्यम से, भारतीय मैन्युफैक्चरिंग को विश्व स्तर पर प्रतिस्पर्धी बनने के लिए प्रोत्साहन दे रही है. ITFS (इंटरनेशनल ट्रेड फाइनेंस सर्विसेज) प्लेटफॉर्म और हमारी दूसरी क्रॉस बोर्डर सर्विसेज के साथ, हमारा उद्देश्य बिजनेसेज को ट्रेड फाइनेंस सॉल्यूशंस की एक बड़ी रेंज देना है. Olea के साथ साझेदारी सबसे स्मॉल बिजनेसेज को सबसे बड़े लोन देने वालों के साथ जोड़ने के हमारे दृष्टिकोण को पूरा करती है.”

सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम मंत्रालय के अनुसार, 27 मार्च, 2022 तक भारत में 7.9 मिलियन से अधिक सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम (MSME) हैं. भारतीय MSMEs तेजी से नकद के बजाय डिजिटल भुगतान को अपना रहे हैं, जिसमें 28% नकद लेनदेन की तुलना में 72% भुगतान डिजिटल मोड के माध्यम से किया गया है. डिजिटल अपनाने में वृद्धि इस क्षेत्र में और विकास की संभावनाएं दिखाती हैं.