टियर II शहरों में स्टार्टअप इकोसिस्टम का निर्माण करना चाहता है यह कोवर्किंग स्टार्टअप

By Apurva P
March 09, 2020, Updated on : Mon Mar 09 2020 10:31:31 GMT+0000
टियर II शहरों में स्टार्टअप इकोसिस्टम का निर्माण करना चाहता है यह कोवर्किंग स्टार्टअप
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

DevX का मुख्य टारगेट टेक स्टार्टअप्स और कॉर्पोरेट्स हैं। यह कोवर्किंग स्पेस के लिए हाइब्रिड मॉडल का उपयोग करता है। इसके सबसे बड़े क्लाइंट्स बड़े कॉरपोरेट्स हैं जो 40 से 50 प्रतिशत तक स्पेस लेते हैं; बाकी में स्टार्टअप और एसएमई होते हैं।

उमेश उत्तमचंदानी (बाएँ), रशित शाह, और पार्थ शाह, स्टार्टअप DevX के सह-संस्थापक

उमेश उत्तमचंदानी (बाएँ), रशित शाह, और पार्थ शाह, स्टार्टअप DevX के सह-संस्थापक



कोई भी स्टार्टअप शुरू करना आसान नहीं है, वो भी बिना किसी सहायक वातावरण के। इसी को दिमाग में रखते हुए उमेश उत्तमचंदानी, पार्थ शाह और रुशित शाह एक कम्युनिटी-ड्रिवन कोवर्किंग स्टार्टअप बनाने के लिए एक साथ आए। इनका सपना उद्यमी सपनों का पोषण करना था। अहमदाबाद स्थित देवएक्स (DevX) का जन्म उस चैनल के रूप में हुआ था जो स्टार्टअप, निवेशकों और पारिस्थितिकी तंत्र के अन्य स्तंभों को जोड़ता है।


उमेश कहते हैं,

“टियर II शहरों में अभी भी एक ऐसे प्लेटफॉर्म की कमी है जहां निवेशक और इनोवेटर्स एक साथ आ सकें और आपसी लाभ के लिए काम कर सकें। गुजरात में एक संपन्न स्टार्टअप इकोसिस्टम होने के लिए, स्थापित उद्यमियों और व्यापार मालिकों को सलाह और समर्थन देना होगा।"

वह कहते हैं कि

"राज्य में एक ठोस, सहयोगी पारिस्थितिकी तंत्र विकसित करने के लिए स्थापित उद्यमियों से एक मजबूत पुश की जरूरत है।"

तिकड़ी के अनुसार, गुजरात में बेहद जरूरी कोवर्किंग स्पेस नहीं था। इसने 2017 में देवएक्स की स्थापना करने के लिए उन्हें प्रेरित किया। देवएक्स हॉस्पिटैलिटी और टेक्नोलॉजी का मिश्रण है। आज देवएक्स पांच शहरों में फैला है: अहमदाबाद, वडोदरा, मुंबई, इंदौर और मोरजिम (गोवा)। संस्थापकों का दावा है कि गोवा का सेंटर भारत का पहला बीच-साइड कोवर्किंग स्पेस होगा। अभी तक देवएक्स के पास आठ सेंटर, 4,000+ सीटों का संचालन है, और इसमें DCB बैंक, थॉमसन रॉयटर्स, शेयरचैट, सुगरबॉक्स, मोबाइल टोरनेडो, अफोर्ड प्लान, QX ग्लोबल, अमेरिकन एक्सप्रेस आदि जैसे क्लाइंट्स हैं।

स्टार्टिंग अप

पार्थ एमबीए हैं और रुशित बीटेक ग्रेजुएट हैं। दोनों बचपन से एक दूसरे को जानते हैं और उनके पूर्वज घनिष्ठ मित्र भी थे। दूसरी ओर, उमेश और पार्थ ने खुद का स्टार्टअप शुरू करने से पहले बतौर कंसल्टेंट के रूप में काम किया था। इसके अलावा तीनों को डोमेस्टिक काउंसिल, नैसकॉम के पूर्व अध्यक्ष जैमिन शाह ने ज्वाइन किया।


संस्थापक कहते हैं वह (जैमिन) एक एक्टिव मेंटॉर की भूमिका निभाते हैं और उनका मजबूत नेटवर्क उद्योग में सही लोगों से जुड़ने में मदद करता है। देवएक्स को शुरू करने से पहले उन तीनों के अपने उद्यम थे। उन्होंने दो दशक की पब्लिक लिस्टेट आईटी ऑर्गनाइजेशन देव इनफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी के साथ एक नया वेंचर शुरू करने का फैसला किया, लेकिन जल्द ही एहसास हुआ कि जब बात स्टार्टअप इकोसिस्टम की आती है तो गुजरात इसमें पिछे रह गया।





उमेश भी एमबीए ग्रेजुएट हैं और बताते हैं कि,

“उस अनुभव से, हमें एहसास हुआ कि उद्यमियों के लिए कई सुविधाएं गायब थीं, खासकर टियर II शहरों में। इनमें बिजनेस रजिस्ट्रेशन में सपोर्ट, प्रोडक्ट डेवलपमेंट में सलाह देना और स्केलिंग के लिए फंड जुटाने जैसी सुविधाओं की कमी थी।” 

वर्तमान में, देवएक्स 48 लोगों की एक टीम है। इसने अप्रत्यक्ष रूप से 75 अन्य लोगों को नियुक्त किया है, जो इसके पेरोल पर नहीं हैं, लेकिन हाउसकीपिंग स्टाफ, सुरक्षा गार्ड, क्लीनर और बिजली मिस्त्री के तौर पर शामिल हैं।

DevX क्या ऑफर करता है?

DevX का मुख्य टारगेट टेक स्टार्टअप्स और कॉर्पोरेट्स हैं। यह कोवर्किंग स्पेस के लिए हाइब्रिड मॉडल का उपयोग करता है। इसके सबसे बड़े क्लाइंट्स बड़े कॉरपोरेट्स हैं जो 40 से 50 प्रतिशत तक स्पेस लेते हैं; बाकी में स्टार्टअप और एसएमई होते हैं। देवएक्स ने अहमदाबाद शहर से अपनी कोवर्किंग की यात्रा शुरू की थी। तब उनके पास उनके सबसे बड़े सेंटर में सबसे बड़ी इन्वेंट्री में 70-80 सीटें थीं।


DevX टीम

DevX टीम



उमेश कहते हैं,

“हमें अहमदाबाद में सबसे बड़ी अकाउंटिंग टेक्नोलॉजी फर्मों में से 20 सीटों के लिए एक इनक्वायरी मिली। हमें अहसास हुआ कि अगर हम अपना विजन दिखाने में कामयाब रहे तो यह डील हमारी ब्रांडिंग में बहुत बड़ा कारक बन सकती है। आखिरकार, हम उन्हें 500 सीटें लेने के लिए मना पाए। यह गुजरात में ही नहीं, बल्कि पूरे देश में 2017 में एक कोवर्किंग ऑपरेटर द्वारा की गई सबसे बड़ी डील थी। इसने देवएक्स के लिए हमारे विजन के लिए एक स्टेटमेंट के रूप में काम किया।"



DevX न केवल स्टार्टअप को एक लागत प्रभावी समाधान प्रदान करता है, बल्कि सहयोग और सह-निर्माण करने के लिए एक जगह है। वे कहते हैं,

“हम एक ऐसा वातावरण प्रदान करने का प्रयास करते हैं जहां उद्यमी समान विचारधारा वाले लोगों से घिरे हों। हमारी ऑफिस-कम-लर्निंग कल्चर किसी व्यक्ति को नेटवर्क बनाने और स्टार्टअप्स, मेंटर्स, और इनवेस्टर्स तक पहुंचने में सक्षम बनाता है।"

अच्छी तरह से डिजाइन किए गए ऑफिस स्पेस विशाल और खुले वर्कस्टेशन, अच्छी तरह से तैयार किए गए फर्नीचर, निजी केबिन, बैठक और सम्मेलन कक्ष, लाउंज और ब्रेकआउट एरियाज प्रदान करते हैं।


फेसिलिटीज में हाई स्पीड इंटरनेट, फोन बूथ और 24/7 सपोर्ट शामिल हैं। स्पेस में गेमिंग जोन, 80-90 लोगों के लिए इवेंट रूम, 50 सीटर ऑडिटोरियम, जिम, बेबी केयर रूम, मेडिटेशन और योगा क्लासेस और हैप्पीनेस जोन शामिल हैं। पोर्टफोलियो स्टार्टअप्स को बिना किसी इन्फ्रास्ट्रक्चर कॉस्ट के स्पेस आवंटित किया जाता है।


वे कहते हैं,

“हम स्टार्टअप को आकर्षित करने और बनाए रखने में सक्षम हैं क्योंकि हमारे पास एक विस्तारित निवेश शाखा है, जो शुरुआती चरण के स्टार्टअप के विकास पर केंद्रित है। हमारे पास 6 से 8 प्रतिशत इक्विटी भागीदारी के मुकाबले टिकट का आकार 30 से 50 लाख रुपये है। फंडिंग के अलावा, हम समर्पित मेंटरशिप सहायता प्रदान करते हैं, हमारे नेटवर्क / समुदाय तक पहुंच प्रदान करते हैं, और वैश्विक विस्तार में समर्थन करते हैं।”

अपनी इन्वेस्टमेंट आर्म के लिए, टीम ने लास ओलास वेंचर्स एलएलपी नाम से एक एंटाइटी बनाई है, जिसके तहत उन्होंने 2 करोड़ रुपये का एक छोटा फंड जुटाया है। इसमें से एक भागीदार देवएक्स है, जो ओवरऑल फंड का 15 प्रतिशत योगदान देता है। अब तक, इसने दो स्टार्टअप्स में निवेश किया है: क्विक्सोट ऑटोमोटिव टेक्नोलॉजीज और बिग स्पून फूड्स (मखनी ब्रदर्स)।


व्यवसायों को विकास पर ध्यान केंद्रित रखने में मदद करने के लिए उत्सुक, देवएक्स ने कानूनी से लेकर एचआर तक कई सेवा प्रदाताओं के साथ भागीदारी की है। जब उनसे पूछा गया कि उनके कोवर्किंग स्पेस के बारे में यूनीक किया है, तो उमेश कहते हैं कि वे "टेबल और कुर्सियां बेचने" के लिए स्टार्टअप शुरू नहीं हुआ था।


DevX को-वर्किंग स्पेस उन सभी सुविधाओं और सेवाओं को प्रदान करता है जिनकी किसी भी स्टार्टअप को आवश्यकता हो सकती है।

DevX को-वर्किंग स्पेस उन सभी सुविधाओं और सेवाओं को प्रदान करता है जिनकी किसी भी स्टार्टअप को आवश्यकता हो सकती है।



वे कहते हैं,

"पर्याप्त मांग है, और हम कोवर्किंग स्पेसेस के बारे में जागरूकता पैदा करके यह सुनिश्चित करना चाहते हैं कि प्रत्येक ऑपरेटर के इससे लाभ कमाए। हमारा समग्र दृष्टिकोण हमें सबसे अलग करता है।”

DevX का मुकाबला WeWork, CoWrks, 99Springboard, और Awfis के साथ है, जिसके जल्द ही टियर II और टियर III शहरों में प्रवेश करने की संभावना है।

ग्रोथ मैट्रिक्स

ग्लोबल कोवर्किंग अनकॉफ्रेंस कॉन्फ्रेंस के अनुसार, 2017 में दुनिया भर में कुल 1.7 मिलियन कोवर्किंग मेंम्बर थे; यह 2022 तक पांच-मिलियन के निशान को छूने की उम्मीद है। उमेश कहते हैं,

“चूंकि हमारी कई टियर II शहरों में उपस्थिति है, इसलिए हमारे पास क्वालिटी कस्टमर बेस है। स्थापना के बाद से हम साल दर साल 100 प्रतिशत बढ़ रहे हैं; अगले साल, हम 500 प्रतिशत वृद्धि दर्ज करने की संभावना रखते हैं क्योंकि कई डिजाइन सेंटर एक-दो महीने में लाइव हो जाएंगे।”

स्टार्टअप मेकर्स लैब्स और कॉर्पोरेट इनोवेशन स्थापित करने जैसे अन्य राजस्व धाराओं पर भी नजर गड़ाए हुए है। कॉर्पोरेट इनोवेशन एक ओपन इनोवेशन प्लेटफॉर्म है, जो उद्यमों और भीड़-स्रोत इनोवेटिव सॉल्यूशंस का समर्थन करने के लिए विकसित किया गया है।





जैसा कि देवएक्स बड़े ग्राहकों (70 से 500 सीटों तक) के लिए एक हाइब्रिड मॉडल को अपनाता है, यह एक खुली किताब नीति को भी अपनाता है। सेलिंग प्राइस टोटल कॉस्ट और 15 प्रतिशत के फ्लैट मार्जिन को जोड़कर निर्धारित की जाती है।


छोटे ग्राहकों (1 से 70 सीटों) के लिए, प्राइस के हिसाब से अलग-अलग होते हैं। स्टार्टअप का दावा है कि वह दिसंबर 2018 से लाभकारी हो गया है। इसने पिछले साल लगभग 1 मिलियन डॉलर कमाए थे। देवएक्स को $0.5 मिलियन के पूंजी निवेश के साथ बूटस्ट्रैप किया गया था। इसने मई 2019 में एक गुजरात-आधारित निवेशक से अपनी पहली राउंड की फंडिंग में $1 मिलियन हासिल किए थे। स्टार्टअप अब एक अतिरिक्त $3.5 मिलियन जुटाना चाह रहा है।

भविष्य की योजनाएं

स्टार्टअप अगले तीन वर्षों में कुछ प्रमुख मील के पत्थर हासिल करना चाह रहा है। इसमें सूरत, राजकोट, भुवनेश्वर, कोयम्बटूर, चंडीगढ़, नागपुर, और भोपाल में विस्तार करना शामिल है, और वड़ोदरा और इंदौर जैसे शहरों में अधिक सेंटर खोलना। यह अधिक स्टार्टअप को ऑन-बोर्ड करना और उनमें निवेश करना चाहता है।


उमेश कहते हैं,

"हम आक्रामक रूप से समर्थन, संरक्षक बनाने और स्टार्टअप का एक मजबूत पोर्टफोलियो बनाने का इरादा रखते हैं, जिसमें हम मूल्य जोड़ सकें और सफलता हासिल करने में मदद कर सकें।"

DevX की योजना भारत में अपने सभी सेंटर पर मेकर्स लैब्स और इनोवेशन हब स्थापित करने की है, और IoT- सक्षम और स्मार्ट कार्यालय शुरू करना है।


उमेश कहते हैं,

“हम यह सुनिश्चित करने के लिए अपने टेक्नोलॉजी प्लेटफॉर्म को बढ़ाना चाहते हैं कि नए ग्राहकों, इंटरनल टीम कम्युनिकेशन, प्रोजेक्ट मैनेजमेंट, अकाउंटिंग और अन्य लोगों को काम पर रखने जैसे हमारे ग्राहक के व्यवसाय से संबंधित सभी गतिविधियों को पूरा किया जाए। हमारे पास को-लिविंग डोमेन में विस्तार करने की भी योजना है।”