देखते ही देखते अर्श से फर्श पर आ गया टिकटॉक, बैन के बाद लोगों पर पड़ेगा ये असर!

30th Jun 2020
  • +0
Share on
close
  • +0
Share on
close
Share on
close

टिकटॉक को भारत में अपना सबसे बड़ा बाजार मिला और भारत को टिकटॉक के रूप में एक सही मायने में लोकतांत्रिक सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म मिला, हालांकि अब वह सब चीनी ऐप्स पर सरकार के प्रतिबंध के साथ बदलने को तैयार है।

(चित्र: टिकटॉक इंडिया)

(चित्र: टिकटॉक इंडिया)



जून 2019 में टिकटॉक ने मुंबई में एक खूबसूरत स्थल पर भारत में अपना पहला क्रिएटर लैब इवेंट आयोजित किया। बाइटडांस के स्वामित्व वाली कंपनी देश भर से 500 से अधिक क्रिएटर और इन्फ़्लुएन्सर' को एक साथ लाई। कंपनी का उद्देश्य था कि वो रचनात्मक क्षेत्र में दबदबा कायम कर सके।


टिकटॉक लैब इस दौरान रंग, उम्मीद, मस्ती और एक्शन से भरी हुई थी। इंटरैक्टिव वर्कशॉप और प्रेरणादायक वार्ता से लेकर फूड पेंटिंग और लाइव गेम्स तक, इसने अपने क्रीएटर्स को सबसे सामने पेश किया, जो देश के तमाम हिस्सों से आए हुए थे।


इसने मंच की लोकतांत्रिक प्रकृति को भी स्थापित किया, जहां जाति, पंथ, रंग, समुदाय और कंटेन्ट की पारंपरिक सीमाओं का कोई बंधन नहीं था।

देश में इतना पॉपुलर क्यों हुआ टिकटॉक?

टिकटॉक की खासियत उसके 14 भारतीय भाषाओं में उपलब्ध होने के साथ सरल, उपयोग करने में आसान होना था। यही कारण था कि टिकटॉक को जल्द ही देश में लोकप्रियता हासिल हो गयी।

टिकटॉक भारत के प्रमुख, निखिल गांधी ने योरस्टोरी को बताया, "टिकटॉक ने 14 भारतीय भाषाओं में उपलब्ध यूजर्स, कलाकारों, स्टोरीटेलर्स, शिक्षकों और परफॉर्मर को उनकी आजीविका के साथ जोड़ते हुए उन्हे भी अपने साथ जोड़ा जो बिल्कुल नए इंटरनेट यूजर्स थे।

इसके अतिरिक्त एक पूरी तरह से वीडियो-आधारित ऐप होने के नाते टिकटॉक ने भारत की साक्षरता को बड़े प्रभाव से विभाजित किया, यह देश के नुक्कड़ों से लेकर टियर II, III और IV शहरों तक भी पहुँच गया। वास्तव में जिन सबसे दिलचस्प रुझान और हैशटैग चैलेंज जिन्होने सोशल मीडिया में तूफान सा ला लिया, वो भारत से ही शुरू हुए।


कंपनी के एक अधिकारी ने पिछले साल YourStory को बताया था, "टिकटॉक ने यूजर्स को अपनी जुनून और रचनात्मक अभिव्यक्ति को साझा करने के लिए प्रेरित किया। यह एक ऐसी जगह है जहां हर कोई राष्ट्रीयता, जातीयता, लिंग या सामाजिक-आर्थिक स्तरों की परवाह किए बिना कंटेट क्रिएट कर सकता है।"



केवल दो वर्षों में भारत 200 मिलियन से अधिक उपयोगकर्ताओं के साथ टिकटॉक का सबसे बड़ा बाजार बन गया। अप्रैल 2020 के अंत में जब चीन-मुख्यालय वाली इस ऐप ने वैश्विक स्तर पर दो बिलियन डाउनलोड को पार कर लिया, भारत इसका सबसे बड़ा योगदानकर्ता था। उससे पहले 2019 में भारत ने वैश्विक ऐप डाउनलोड में दुनिया का नेतृत्व किया था, जिसमें टिकटॉक सबसे अधिक डाउनलोड किया गया था।


हालांकि पिछले दो महीनों में टिकटॉक के लिए चीजें बदलनी शुरू हो गईं क्योंकि मंच ने भारतीय यूजर्स से एक तरह का विरोध का सामना भी किया, जब ऐप पर किशोर यूजर्स द्वारा आपत्तिजनक सामग्री अपलोड की गई। यहां तक कि इसने गूगल प्ले स्टोर पर ऐप को बड़े पैमाने पर डाउनग्रेड किया और इससे मई में नए डाउनलोड में गिरावट आई।


बेशक इस बीच ऐप की सुरक्षा और गोपनीयता के बारे में चिंताएं भी बढ़ती रहीं।


(चित्र: टिकटॉक इंडिया)

(चित्र: टिकटॉक इंडिया)



और यह सब 59 चीनी ऐप्स पर भारत सरकार द्वारा जारी किए गए एक प्रतिबंध के साथ समाप्त हो गया, जिसमें सोमवार को टिकटॉक, वीचैट, शेयरइट, कैमस्कैनर और अन्य ऐप हैं। परिणामस्वरूप, टिकटॉक को भारतीय ऐप स्टोरों से बाहर कर दिया गया। हालाँकि, टिकटॉक लाइट ऐप का डेटा-लाइट संस्करण कुछ उपकरणों पर उपलब्ध है, लेकिन जल्द ही इसके भी बंद होने की संभावना है।


हालांकि, टिकटॉक इंडिया ने इसे एक "अंतरिम आदेश" कहा और एक बयान में स्पष्ट किया,

"भारत सरकार ने 59 ऐप्स को ब्लॉक करने के लिए एक अंतरिम आदेश जारी किया है, जिसमें टिकटॉक भी शामिल है और हम इसका अनुपालन करने की प्रक्रिया में हैं। हमें स्पष्टीकरण का जवाब देने और स्पष्टीकरण प्रस्तुत करने के अवसर के लिए संबंधित सरकारी हितधारकों के साथ मिलने के लिए आमंत्रित किया गया है। भारतीय कानून के तहत सभी डेटा गोपनीयता और सुरक्षा आवश्यकताओं का पालन करना जारी है और भारत में हमारे उपयोगकर्ताओं की कोई भी जानकारी किसी भी विदेशी सरकार के साथ साझा नहीं की गई है, जिसमें चीनी सरकार भी शामिल है।"

प्रतिबंध का संभावित असर

टिकटॉक महानगरों और छोटे शहरों दोनों में बड़ी संख्या में भारतीयों की आजीविका का साधन था। कई लोगों ने मंच को रातोंरात पैसा और स्टारडम प्रदान किया।


भारत के कुछ सबसे लोकप्रिय टिकटॉक इन्फ़्लुएन्सर किशोर हैं, जो 35-40 मिलियन के फॉलोवर्स तक पहुंच गए हैं। ये क्रिएटर्स वीडियो व्यूज़ के आधार पर कमाते हैं। वे नियमित रूप से आकर्षक ब्रांडों और शीर्ष ब्रांडों के साथ भागीदारी सौदों के साथ जुड़े हुए हैं।





जिन रचनाकारों की आजीविका टिकटॉक पर निर्भर करती है, वे स्वाभाविक रूप से सबसे अधिक प्रभावित होंगे। रिपोर्टों से पता चलता है कि कई टिकटॉक इन्फ़्लुएन्सर ने इंस्टाग्राम और यूट्यूब जैसे अन्य सोशल मीडिया प्लेटफार्मों पर उपयोगकर्ताओं साथ लाने के लिए दलीलें देना शुरू कर दिया है। दूसरी ओर ब्रांड्स एक विशाल और ईजी-टू-टैप युवा उपभोक्ता बाजार के लिए खड़े हैं, जिनतक पहुँचने के लिए ये क्रिएटर्स एक सस्ता विकल्प हैं।


प्रभावशाली मार्केटिंग एजेंसी एचडीके डिजिटल के अनुसार,

"शीर्ष टिकटॉक इन्फ़्लुएन्सर स्थानीय भाषाओं में अच्छी तरह से वाकिफ हैं। पेटीएम, वोडाफोन, कैडबरी, फॉग, आइडिया, फ्लिपकार्ट, इत्यादि जैसे ब्रांड पहले से ही इनका उपयोग कर रहे हैं क्योंकि एक छोटे बजट के भीतर, ब्रांडों को बड़ी मात्रा में जागरूकता और बिक्री उपलब्ध कराते हैं। टिकटॉक एक शक्तिशाली मंच है जिसमें बहुत अधिक संभावनाएं हैं जहां रुझान व्यवस्थित रूप से शुरू होते हैं।"
(चित्र: टिकटॉक इंडिया)

(चित्र: टिकटॉक इंडिया)



ब्रांड मार्केटर्स के लिए अन्य प्लेटफॉर्म पर जाना आसान हो सकता है, लेकिन यह अधिक लागत पर आएगा और इस तरह के समय में, जब कई व्यवसायों बने रहने के लिए संघर्ष कर रहे हैं, तो इसका मतलब यह भी हो सकता है कि घटते हुए मार्केटिंग बजट के कारण या तो उन्हे गुणवत्ता पर समझौता करना होगा या फिर उनका प्रयास अधूरा रह जाएगा।


इस बीच क्रिएटर्स के लिए प्रतिबंध एक तगड़ा झटका है। इंस्टाग्राम या यूट्यूब पर माइग्रेशन सफलता की गारंटी नहीं देता है, यह देखते हुए कि दोनों प्लेटफॉर्म पहले से ही कितने अधिक प्रतिस्पर्धी हैं। टिकटॉक प्रतिबंध अनिवार्य रूप से उन्हें वित्तीय अनिश्चितता के रास्ते पर रखता है।


कंपनी द्वारा जारी किए गए प्रतिबंध के बाद के बयान से टिकटॉक के स्थानीय कार्यालय और कर्मचारियों पर कोई स्पष्टता नहीं है।


टिकटॉक इंडिया के निदेशक सचिन शर्मा ने पिछले साल योरस्टोरी को बताया, "जब से हमने 2017 में यहां परिचालन शुरू किया, हमारी टीम बढ़ रही है। कुल मिलाकर बाइटडांस के भारत में 500 कर्मचारी हैं और इस साल के अंत तक 1,000 से अधिक बढ़ने का अनुमान है। इसमें से 25 प्रतिशत पूरी तरह से कंटेन्ट मॉडरेशन के लिए समर्पित है। "

लिंक्डइन नौकरी लिस्टिंग में एक त्वरित नज़र यह बताएगी कि बाइटडांस ने अपनी सभी स्वामित्व कंपनियों के लिए तकनीकी, इंजीनियरिंग, उत्पाद, डिजाइन, विपणन, बिक्री, प्रभावित प्रबंधन आदि सहित डिवीजनों में स्थानीय प्रतिभा का अधिग्रहण किया।


फिलहाल भारत में टिकटॉक की किस्मत अधर में लटकी है।


Want to make your startup journey smooth? YS Education brings a comprehensive Funding Course, where you also get a chance to pitch your business plan to top investors. Click here to know more.

  • +0
Share on
close
  • +0
Share on
close
Share on
close

Latest

Updates from around the world

हमारे दैनिक समाचार पत्र के लिए साइन अप करें

Our Partner Events

Hustle across India