बड़े पर्दे के विलेन और असल ज़िंदगी के सुपरहीरो सोनू सूद ने प्रवासी मज़दूरों के लिए वो कर दिखाया, जो बड़े-बड़े धुरंधर नहीं कर पाये

असल ज़िंदगी का सुपर हिरो!

बड़े पर्दे के विलेन और असल ज़िंदगी के सुपरहीरो सोनू सूद ने प्रवासी मज़दूरों के लिए वो कर दिखाया, जो बड़े-बड़े धुरंधर नहीं कर पाये

Saturday June 06, 2020,

13 min Read

"पर्दे पर एक जुनूनी एक्टर की तरह अभिनय का पीछा करने के साथ-साथ ज़िम्मेदार भारतीय नागरिक और अभिनेता सोनू सूद ने सामाज को बेहतर बनाने के कई अनोखे रास्ते तलाशे हैं। कोरोनावायरस महामारी में लॉकडाउन के दौरान प्रवासी मजदूरों के लिए वे एक फरिश्ता बनकर उभरे हैं, जानें इस यात्रा के बारे में सोनू ने अपनी बातचीत में योरस्टोरी से क्या कहा?"

अभिनेता, निर्माता और आज के सुपरहीरो सोनू सूद

अभिनेता, निर्माता और आज के सुपरहीरो सोनू सूद



कोरोनावायरस महामारी के बीच अभिनेता सोनू सूद वास्तविक दुनिया के सुपर हीरो बनकर सबके सामने आए हैं। एक अभिनेता जिसे भारतीय सिनेमा में खलनायक की भूमिका के लिए जाना जाता है, उन्होने दो महीने से चल रहे लॉकडाउन के दौरान हजारों प्रवासी श्रमिकों के लिए वो नेक काम किया जिसने उन्हें हिरो से सुपर हिरो बना दिया और होने लगी पूरी दुनिया में उनकी चर्चा।


सोनू सूद परोपकारिता और उदारता के कामों से काफी पहले से जुड़े हुए हैं और जिसका श्रेय वे अपने दिवंगत माता-पिता शक्ति सागर सूद और मां सरोज सूद के प्रभाव को देते हैं। निश्चित रूप से सोनू, जिन्होंने 2010 में सलमान खान अभिनीत दबंग में विलेन छेदी सिंह की भूमिका निभाते हुए लोकप्रियता हासिल की थी, उन्हे छह अलग-अलग भाषाओं में 60 से अधिक फिल्मों में अपनी छाप छोड़ने वाली भूमिकाओं के लिए भी जाना जाता है।


अपने दो दशक लंबे फिल्मी करियर के दौरान सोनू ने अंतरराष्ट्रीय फिल्मों के अभिनेता जैकी चैन के साथ, रणवीर सिंह के साथ सिंबा और शाहरुख खान के साथ हैप्पी न्यू ईयर जैसी ब्लॉकबस्टर फिल्मों में अभिनय किया है। 2016 में, उन्होंने अपने पिता के नाम पर अपना खुद का प्रोडक्शन हाउस, शक्ति सागर प्रोडक्शंस भी लॉन्च किया।


बहुत साफ शब्दों पर कहें तो पर्दे पर एक जुनूनी एक्टर की तरह अभिनय का पीछा करने के साथ-साथ इस ज़िम्मेदार भारतीय नागरिक ने सामाज को बेहतर बनाने के कई अनोखे रास्ते भी तलाशे हैं।


पिछले दिनों, पंजाब के मोगा में जन्मे इस अभिनेता-निर्माता ने विभिन्न पहलों के माध्यम से वंचितों का समर्थन किया है और विभिन्न कारणों से अपनी आवाज दी है, जिसमें उनके गृह राज्य पंजाब में नशीली दवाओं की लत के खिलाफ लड़ाई भी शामिल है। 2016 में उन्होंने अपनी माँ के नाम पर सरोज पहल शुरू की। यह पहल अटैक में बचे लोगों की मदद करने के लिए है और तब से वे इन लोगों के साथ-साथ अन्य अलग-अलग लोगों की मदद करने के लिए भी प्रतिबद्ध हैं।



सोनू सूद और उनकी दोस्त नीती गोयल ने लॉकडाउन के दौरान मुंबई शहर में फंसे प्रवासियों की मदद के लिए उन्हे घर भेजने की पहल शुरू की है।

सोनू सूद और उनकी दोस्त नीती गोयल ने लॉकडाउन के दौरान मुंबई शहर में फंसे प्रवासियों की मदद के लिए उन्हे घर भेजने की पहल शुरू की है।



बीते साल सोनू ने बैंकॉक में विशेष ओलंपिक एशिया पैसिफिक यूनिफाइड बैडमिंटन चैम्पियनशिप में भाग लेने वाले छात्रों की यात्रा और ठहरने की व्यवस्था को भी प्रायोजित किया था। इसी के साथ सोनू ने अपने एक फैन की शादी में शामिल होने के लिए श्रीलंका जाकर उसके सपने को भी पूरा किया।


अभी हाल ही में, अप्रैल में इस अभिनेता ने शक्ति अन्नदानम नाम से एक पहल शुरू की, जिसका नाम उनके दिवंगत पिता के नाम पर रखा गया, जिसके जरिये वो मुंबई में वंचितों को प्रतिदिन 150,000 से अधिक भोजन प्रदान करते हैं।


वास्तव में 29 मई को सोनू ने एर्नाकुलम, केरल के एक कारखाने से 150 असहाय महिला मजदूरों को उनके गृह राज्य ओडिशा ले जाने के लिए एक चार्टर्ड प्लेन की व्यवस्था भी की।


ये सब अपनी क्षमता अनुसार कोई भी कर सकता है, लेकिन माना जाता है कि दयालुता के ये कार्य उसके लिए स्वाभाविक रूप से आते हैं।

माता-पिता से प्रेरणा

इंजीनियर से अभिनेता बने सोनू के लिए ये जीवन के सबक और मूल्यों का परिणाम है जो उन्हें और उनकी बहनों, मोनिका और मालविका को उनके दिवंगत माता-पिता द्वारा सिखाया जाता रहा है।


सोनू ने मुंबई से फोन पर YourStory को बताया

“मेरी माँ और पिताजी मेरे जीवन के प्रमुख प्रेरणादायक स्तंभ थे। उन्होंने मुझे सिखाया कि आप तभी सफल होंगे जब आप किसी की मदद कर पाएंगे।”

सोनू की सफलता उन लोगों की संख्या के साथ बेजोड़ है, जिनकी उन्होंने मदद की है।


सोनू सूद के दिवंगत माता-पिता: पिता शक्ति सागर सूद और माता सरोज सूद (छवि क्रेडिट: सोनू सूद)

सोनू सूद के दिवंगत माता-पिता: पिता शक्ति सागर सूद और माता सरोज सूद (छवि क्रेडिट: सोनू सूद)



चूंकि भारत दो महीने पहले पूरी तरह से बंद हो गया था, इसलिए सोनू सूद ने वंचितों की मदद करने के लिए कई पहल की हैं। पंजाब में कामगारों को अग्रिम पंक्ति में व्यक्तिगत सुरक्षा उपकरण दान करना, गरीबों को पका हुआ भोजन उपलब्ध कराना या कोरोनोवायरस स्वास्थ्य देखभाल योद्धाओं जैसे कि डॉक्टर और नर्स अपने उपयोग के लिए  मुंबई के जुहू उपनगरों में उनके होटल की पेशकश करना है।


सोनू सूद ने कहा,

"मेरे माता-पिता ने मुझे सिखाया है कि मेरा पूरा जीवन अब मेरे कामों में नज़र आएगा।"


सोनू ने लगातार रोजाना लगातार 21 घंटों तक मजदूरों की कॉल लेकर उनके साथ बात कर और तमाम राज्यों से अनुमतियाँ लेकर उन्हे घर पहुंचाने का काम किया है।




अथक प्रयास

विडंबना यह है कि ऐसे समय में जब भारत की शहरी आबादी राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन के दौरान अचानक घर पर बैठने को लेकर विलाप कर रही है, सोनू सूद खुद को पहले से कहीं ज्यादा व्यस्त पा रहे हैं।


उनका दिन सुबह छह बजे से शुरू होता है और अगले दिन सुबह तक चलता है।


इस समय के दौरान उन्होंने और उनकी टीम ने कई राज्यों में विभिन्न स्तरों पर अधिकारियों के पास पहुंचकर, कई चैनलों के माध्यम से प्रवासी श्रमिकों के साथ समन्वय करते हुए उनके लिए परिवहन की व्यवस्था की है।


सोनू कहते हैं,

“अब मेरा दिन 18 घंटे का नहीं रह गया है। यह लगभग 20 से 22 घंटे लंबा है। हम शायद ही सोते हैं क्योंकि अभी बहुत कुछ करना बाकी है।”

'घर भेजो' या ‘Take (them) home’  पहल को सोनू सूद ने अपनी बचपन की दोस्त और संयोजक नीती गोयल के साथ लॉन्च किया है। इस जोड़ी ने और उनकी बढ़ती टीम ने 18,000 से अधिक प्रवासियों को उनके घर उनके परिवार के पास वापस भेजा है। लाला भगवानदास ट्रस्ट द्वारा संचालित पहल, खाना चाहिए द्वारा समर्थित है, जो लॉकडाउन के दौरान लोगों को खाना उपलब्ध करा रही हैं।


टीम के लिए सबसे खुशी का काम वो है जब प्रवासी श्रमिकों से भरी बसों को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया जाता है, जो अपनी यात्रा शुरू करने के लिए उत्सुक नज़र आते हैं।



चित्रण श्रेय: हृषिकेश

चित्रण श्रेय: हृषिकेश



सोनू बताते हैं जब उन्होने यह पहल शुरू की तब हजारों प्रवासी मजदूर एक हज़ार किलोमीटर से अधिक दूरी पैदल करने की ठान चुके थे।


सोनू खुद प्रवासी के रूप में शो बिजनेस में अपना करियर बनाने के लिए अपनी जेब में मात्र 5,500 रुपये के साथ 1998 में मुंबई आए। सोनू उन प्रवासियों से, जो बड़े शहरों में आकर रोज़गार की तलाश में रहते हैं, की दिक्कतों और तकलीफों से भलीभांती परिचित हैं।

भारत का राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन बड़े पैमाने पर कोरोनावायरस के प्रसार को रोकने के लिए एक महत्वपूर्ण प्रयास रहा है। हालांकि, लॉकडाउन के बीच व्यावसायिक गतिविधि के सामने आने के साथ भारत के प्रवासी श्रमिकों और दैनिक वेतन भोगियों को सबसे ज्यादा नुकसान हुआ है, जो कि संसाधनों की कमी के कारण आय के स्रोत की कमी और अनिश्चितता की भारी भावना से आहत हैं।


भारत में कोरोना वायरस संक्रमण की संख्या 2 लाख से पार जा चुकी है, जबकि देश में 24 मार्च से पहला लॉकडाउन शुरू किया गया था।

प्रवासियों की मदद

जैसे-जैसे कोरोनोवायरस के मामलों की संख्या बढ़ती रही, भारत के महानगरों में कई फंसे हुए प्रवासियों ने अपने परिवारों के साथ राजमार्गों पर सफर तय करना शुरू कर दिया। इस दौरान वे पैदल चलने को बाधित थे।


सोनू का मुंबई लोकल ट्रेन पास

सोनू का मुंबई लोकल ट्रेन पास



सोनू कहते हैं,

"जब मैंने इन सभी प्रवासियों को राजमार्गों पर देखा, तो मैंने महसूस किया कि आगे आना और उनके लिए कुछ सार्थक करना बेहद आवश्यक है और यही समय की मांग थी।”

उन्होंने प्रवासियों के एक समूह को आश्वस्त करना शुरू किया, जो दो-तीन दिनों तक पैदल चलते हुए कर्नाटक जाने वाले थे, ताकि वह उन्हें घर भेजने की व्यवस्था कर सकें। अपने वादे के अनुसार सोनू ने इन प्रवासियों के घर जाने के लिए कर्नाटक और महाराष्ट्र राज्य सरकारों के साथ-साथ चिकित्सकीय मंजूरी की अनुमति प्राप्त की।

उसके बाद तो बाकी सब इतिहास है।

जब से अभिनेता ने कर्नाटक के लिए 350 प्रवासियों के साथ पहली बस को हरी झंडी दिखाई, उनके पास कई हज़ार अनुरोध आने शुरू हो गए।


अनुरोध व्हाट्सएप, इन-पर्सन मीटिंग्स, सोशल मीडिया और एक टोल-फ्री हेल्पलाइन नंबर (18001213711) के माध्यम से आते हैं, जिसे उन्होंने हाल ही में प्रवासी श्रमिकों के लिए लॉन्च किया था। डर है कि सभी प्रवासी हेल्पलाइन नंबर का उपयोग करके अपनी टीम तक नहीं पहुंच पाए हैं, सोनू ने एक और फोन नंबर (9321472118) साझा किया है, जहां अनुरोध भेजे जा सकते हैं। 


वह व्यक्तिगत रूप से इन अनुरोधों का जवाब देने के लिए एक बिंदु बनाते हैं, जिससे कई लोग उसे अपना विवरण भेजने के लिए कहते हैं ताकि वह उनकी सहायता के लिए आगे आ सकें। अब तक सोनू और उनकी घर भेजो टीम ने प्रवासियों के साथ सैकड़ों बसों को देश के हर कोने में भेजा है। इसमें उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, राजस्थान, दक्षिण में कर्नाटक और केरल, ओडिशा, बिहार और झारखंड के मजदूर शामिल हैं। इस प्रभाव के बावजूद सोनू की चिंता अन्य राज्यों के उन हजारों लोगों के लिए भी है, जिनकी वह अभी तक मदद नहीं कर पाए हैं।





सोनू कहते हैं,

"मैं तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश और तेलंगाना के लोगों की मदद करना चाहता हूं, लेकिन इनमें से कई राज्य महाराष्ट्र के लोगों को इस समय स्वीकार नहीं कर रहे हैं, क्योंकि यहां कोरोना के बहुत से मामले हैं।"


गौरतलब है कि महाराष्ट्र 80 हज़ार से अधिक मामलों के साथ सबसे अधिक कोरोना प्रभावित राज्य है।


सोनू सूद ने प्रवासियों के लिए यह संदेश साझा किया।

सोनू सूद ने प्रवासियों के लिए यह संदेश साझा किया।


अच्छे के लिए विशेषाधिकार का उपयोग

सोनू अन्य राज्यों में फंसे लोगों की मदद करने के लिए भी अपने संपर्कों का लाभ उठा रहा है, निजी वाहनों से यात्रा करने वाले व्यक्तियों के लिए अंतरराज्यीय यात्रा की अनुमति प्राप्त कर रहे हैं और यहां तक कि उन्होने ओडिशा की महिला मजदूरों के लिए एक विमान किराए पर लिया था।


सोनू कहते हैं,

“यह विचार हर उस प्रवासी की मदद करने का है जिसने हमें अपनी सड़कों अपने कार्यालयों और अपने घरों को बनाने में मदद की। वे बेघर नहीं हो सकते। हमें यह सुनिश्चित करना होगा कि हर कोई अपने घर सुरक्षित पहुंच जाए। यह यात्रा मेरे लिए एक उम्मीद है कि मैं इसे पूरा कर सकूंगा।”

इस पहल में फिल्म उद्योग से जुड़े कई लोग सोनू के साथ आए हैं, इनमें निर्देशक और कोरियोग्राफर फराह खान कुंदर, निर्देशक रोहित शेट्टी और अभिनेत्री तब्बू शामिल हैं।


इसके अलावा, सोनू की पत्नी सोनाली, उनके चार्टर्ड अकाउंटेंट पंकज जलीसटगी, उनकी दोस्त नीती गोयल, हर्ष सिकारिया, केके मुखी, जैसे नाम भी उनका सहयोग कर रहे हैं।


सोनू विनम्रता के साथ कहते हैं,

“मेरी टीम हर दिन बहुत से लोगों के साथ बढ़ रही है, जो भोजन का आयोजन करने या वितरण में भाग लेने के लिए आगे आ रहे हैं। इन सभी छोटे कार्यों के लिए भी बहुत प्रयास की आवश्यकता होती है, इसलिए यह वास्तव में एक टीम प्रयास है।”



‘घर भजो’ और ‘खाना चाहिए’ की टीमें प्रवासियों को अलविदा कहती हुईं।

‘घर भजो’ और ‘खाना चाहिए’ की टीमें प्रवासियों को अलविदा कहती हुईं।



इन पहलों के लिए बहुत सारा वित्तपोषण अभिनेता ने खुद वहन किया है, हालांकि अब टीम कई लोगों को योगदान देने के लिए आगे आता देख रही है।


सोने ने कहा,

“इन अभियानों का वित्तपोषण हमने अपने दम पर शुरू किया, लेकिन बहुत सारे लोग अब इस आंदोलन का हिस्सा बनने और मदद करने के इच्छुक हैं। मुझे खुशी है कि हम उस संदेश को फैला सकते हैं कि हम इसे एक साथ कर सकें।”

श्रमिक एक्सप्रेस ट्रेनों की शुरुआत, जो सरकार द्वारा देश के विभिन्न हिस्सों में लॉकडाउन के दौरान फंसे लोगों के लिए आयोजित की गई थी, इसने भी कई श्रमिकों को घर वापस जाने में मदद की है, जिससे सड़क से यात्रा करने वालों की संख्या कम हो रही है।


सोनू आगे कहते हैं,

"लेकिन फिर भी अभी लाखों लोग फंसे हुए हैं और चूंकि ट्रेनें कुछ स्थानों तक सीमित हैं, वे उन लाखों प्रवासियों की मदद नहीं कर सकती हैं जो सड़कों पर चल रहे हैं और उनके पास खाने के लिए कुछ नहीं हैं। इसलिए मुझे लगता है कि वास्तव में इसे संबोधित करने की आवश्यकता है और जब तक अंतिम प्रवासी अपने घर नहीं पहुंचता, तब तक मैं काम करना चाहता हूं।”




पुरस्कार

लॉकडाउन के दौरान अपने मानवीय कार्यों के लिए सोनू को केंद्रीय कपड़ा और महिला एवं बाल विकास मंत्री स्मृति ईरानी, पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह और महाराष्ट्र के सभी क्षेत्रों के लोगों से बहुत प्रशंसा और सराहना मिली है। राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी, अनुभवी बल्लेबाज सुरेश रैना और सलामी बल्लेबाज शिखर धवन, अभिनेता अजय देवगन, आर माधवन और विवेक ओबेरॉय सहित अन्य ने भी उनकी सराहना की है।


इसी के साथ एक प्रवासी परिवार ने अपने नवजात बेटे का नाम उनके नाम पर रखा। अन्य लोगों ने सिफारिश की है कि अभिनेता को भारत रत्न, भारत के सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार से नवाजा जाए, जबकि अन्य लोग रेत प्रतिकृतियां भी बना रहे हैं और कथित तौर पर उनकी छवि में एक प्रतिमा का निर्माण कर रहे हैं।



प्रवासी सोनू सूद की रेत की मूर्ति बना रहे हैं।

प्रवासी सोनू सूद की रेत की मूर्ति बना रहे हैं।



सोनू अपने माता-पिता के प्रदर्शन को देखकर उसी विनम्रता के साथ सराहना को स्वीकार करते हैं। सोनू याद करते हैं, कि कैसे पेशे से प्रोफेसर उनकी माँ को अपने घर पर प्रतिदिन 150 से अधिक वंचित छात्रों को मुफ्त में पढ़ाने के लिए जाना जाता था। वह जरूरतमंदों को देने और किसी भी तरह से दूसरों की मदद करने की दृढ़ समर्थक थीं।


उन्होने कहा,

“मेरी माँ ने मुझे सिखाया कि गरीबों को देने से कोई गरीब नहीं हो जाता। मुझे सौभाग्यशाली होना लगता है कि भगवान ने मुझे दूसरों की मदद करने के लिए उपकरण के रूप में चुना है और मैं दूसरों की मदद करने की स्थिति में हूं।”

देने की खुशी

वास्तव में सोनू स्वीकार करते हैं कि इस दौरान उनकी "सबसे बड़ी व्यक्तिगत शिक्षा यह है कि किसी की सेवा करने से ज्यादा महत्वपूर्ण कुछ नहीं है जो वास्तव में आपकी जरूरत है।" वे कहते हैं हर प्रवासी की मुस्कुराहट देखना उनका सबसे बड़ा इनाम है और वे लगातार आभार से भरे हुए के उनके संदेश प्राप्त कर रहे हैं।


अपनी बात को आगे बढ़ाते हुए सोनू कहते हैं,

"वे (प्रवासी) सेल्फी, संदेश और वॉयस नोट भेजते हैं या हमें धन्यवाद देने के लिए वीडियो कॉल के माध्यम से कॉल करते हैं और हमें सूचित करते हैं कि वे अभी सुरक्षित हैं। मुझे लगता है कि इन लोगों को अपने परिवारों के साथ पुन: जुड़ते हुए देखना मेरे जीवन में अब तक का सबसे खास अहसास है।”

अपनी पहल में योगदान करने के लिए अब ऑफर देने के साथ इनमें से कई स्वयंसेवकों को सोनू का संदेश सरल है: अपने आस-पास एक जरूरतमंद व्यक्ति की मदद करें।


वह कहते हैं,

''इस तरह से मुझे लगता है कि हर इंसान को आगे आना चाहिए और कुछ अच्छा करना चाहिए। बेकार ना बैठें और ऐसा बिल्कुल ना सोचें कि आपके पास करने के लिए कुछ नहीं है। इसके बजाय किसी की मदद करें, फिर चाहें वो एक सब्जी विक्रेता हो, चौकीदार हो या जिसे किसी भी मदद की ज़रूरत है, क्योंकि आप ही हैं जो उनके जीवन में बदलाव ला सकते हैं।"


साथ ही सोनू यह भी कहते हैं,

"यह मात्र शुरुआत है, अभी तो मीलों जाना है।"