वाटर फॉर वॉयसलेस: यह समूह जानवरों की प्यास बुझाने के लिए मुफ्त में बांटता है पानी के कटोरे

By Aparajita Saxena|1st Oct 2020
यह समूह, जो ज्यादातर व्हाट्सएप और सोशल मीडिया चैनलों पर काम करता है, इसने अब तक पूरे भारत में 17,000 से अधिक पानी के कटोरे वितरित किए हैं।
Clap Icon0 claps
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Clap Icon0 claps
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

सनी जैन एक दिन अपने पड़ोस में टहल रहे थे जब उन्होंने एक कुत्ते को गंदे पोखर से पानी पीते देखा। जो कुछ उन्होने देखा उससे विचलित होकर उन्होने अपने घर के बाहर एक खाली कटोरा रखा और उसमें साफ पानी भर दिया। अगले कुछ दिनों में, कटोरा न केवल कुत्तों, बल्कि बकरियों, बिल्लियों, गायों और विभिन्न प्रजातियों के पक्षियों के लिए पानी का श्रोत बन गया था।


इनके कार्यों से प्रेरित होकर सनी के पड़ोसियों ने कटोरे भी लगाने शुरू कर दिए। इसने धीरे-धीरे बेंगलुरू से लगभग 70 किलोमीटर दूर तुमकुर में अपने इलाके में उन्होने एक प्रवृत्ति पैदा की- जहां हर कोई पक्षियों और जानवरों की प्यास बुझाने के लिए अपने घरों के बाहर पानी के कटोरे रखने लगा।


सनी ने इस मानवीय इशारे को नागरिकों और जानवरों के कार्यकर्ताओं के एक आंदोलन में बदल दिया, जिसमें जानवरों के लिए हर जगह पानी के एक साधारण कटोरे को रखने का आह्वान किया गया। उन्होंने व्हाट्सएप पर ‘वाटर फॉर वॉयसलेस’ नाम से एक समूह बनाया और तुमकुर और उसके आसपास पशु प्रेमियों को पानी के नि:शुल्क कटोरे वितरित करना शुरू किया।


सनी कहते हैं,

“पाँच साल पहले मैंने एक पिल्ले को मरते देखा था और इससे मेरी ज़िंदगी बदल गई। मैं खुद को पशु प्रेमी नहीं मानता, लेकिन मुझे जानवरों की सेवा करना बहुत पसंद है।”
'वाटर फॉर वॉयसलेस' कटोरे से पानी पीते कटोरे

'वाटर फॉर वॉयसलेस' कटोरे से पानी पीते कटोरे



समूह ने अपने शुरुआती दिनों में वितरण प्रणाली को सही करने के लिए बेंगलुरु पर ध्यान केंद्रित किया, लेकिन तब से इसका विस्तार मुंबई, दिल्ली, चेन्नई, कोयम्बटूर, होसुर और बेल्लारी तक हो गया है। सीमेंट के कटोरे दो आकारों में आते हैं- बड़े वाले जानवरों के लिए हैं और पक्षियों के लिए छोटे वाले। अपने घरों के बाहर रखने में दिलचस्पी रखने वाले लोग उन्हें अपने निकटतम स्वयंसेवकों से ले सकते हैं।


लगभग पांच साल पहले लॉन्च किए गए इस समूह ने अब तक देश भर में 17,000 से अधिक कटोरे वितरित किए हैं। संसाधन वितरण और लॉजिस्टिक्स कुछ ऐसे मुद्दे थे जिन पर सनी और उनकी टीम को शुरुआती दिनों में जूझना पड़ा, लेकिन जैसे-जैसे अधिक स्वयंसेवक इस कारण से जुड़ते गए वे परेशानी को बाहर निकालने में सफल रहे।


भारत में हर गर्मियों में पारा चढ़ जाता है और सैकड़ों जानवरों और पक्षियों की मौत हो जाती है, सनी जैन की इस पहल की स्थानीय हस्तियों, राजनेताओं और पुलिस विभागों ने सराहना की है साथ ही साथ पहल ने दान भी आकर्षित किया है।


सनी कहती हैं,

"मैं हमेशा भगवान से प्रार्थना करता हूं कि मैं अपनी जेब इतनी भर दूं कि मैं धरती पर मौजूद हर जानवर और पक्षी की मदद कर सकूं।" अपने शुरुआती दिनों में पहल पूरी तरह से सनी द्वारा वित्त पोषित थी। अब, लोग समूह के फ़ेसबुक पेज पर या उसके किसी व्हाट्सएप ग्रुप पर दान कर सकते हैं।
'वाटर फॉर वॉयसलेस’ कटोरे बेंगलुरु के विभिन्न हिस्सों में रखे गए हैं।

'वाटर फॉर वॉयसलेस’ कटोरे बेंगलुरु के विभिन्न हिस्सों में रखे गए हैं।

एक नागरिक की पहल

समूह का कहना है कि इंदिरानगर, बेंगलुरु के निवासी इस क्षेत्र में लगभग 500 कटोरे रखे हुए हैं। हालांकि क्षेत्र के एक पशु प्रेमी ने शिकायत की कि स्थानीय नगरपालिका कार्यकर्ता अक्सर बिना किसी कारण के कटोरे निकाल लेते हैं।


एक निवासी ने कहा, "हमने स्थानीय नगर निगम के साथ तर्क करने की कोशिश की, लेकिन वे पानी के कटोरे को दूर ले जाते हैं, यह कहते हुए कि इलाके में कुत्तों और जानवरों का जमावड़ा होता है।"


हालांकि कई स्थानों पर, स्थानीय पुलिस स्टेशन, किराना स्टोर के मालिक और सड़क के किनारे सब्जी बेचने वाले सनी की टीम द्वारा वितरित कटोरे को सुरक्षित रखने और भरने के लिए आगे आए हैं।


इसी तरह का काम करने वाला एक अन्य समूह हैदराबाद स्थित पशु जल बाउल परियोजना (AWBP) है, जो एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर लक्ष्मण मोलेटी द्वारा शुरू किया गया है। यह समूह तेलंगाना- हैदराबाद, सिकंदराबाद, मेडचल, रंगा रेड्डी के साथ-साथ पुणे और ठाणे में सबसे अधिक सक्रिय है।


सनी और लक्ष्मण दोनों के प्रयासों का विशेष रूप से ग्रामीण क्षेत्रों में बहुत अधिक प्रभाव पड़ा है जहां लोग आर्थिक उद्देश्यों के लिए अपने पशुधन पर निर्भर हैं।


2019 में, कच्छ क्षेत्र में देहाती पशु प्रजनकों के झुंडों को क्षेत्र में गंभीर सूखे के बाद अन्य क्षेत्रों में पलायन करना पड़ा और हीट स्ट्रोक ने उनके जानवरों को मार दिया। जिला प्रशासन द्वारा मवेशियों के लिए घास डिपो खोलने और पशु चारे पर अनुदान देने के बाद भी खानाबदोश समुदायों के सैकड़ों पशुधन को गर्मी और सूखे का नुकसान उठाना पड़ा।


भले ही पानी की कटोरे रखने के लिए जानवरों के कार्यकर्ताओं और प्रेमियों के साथ महानगरीय शहरों में स्थिति थोड़ी बेहतर है, लेकिन गर्मी और प्यास के कारण हर साल सैकड़ों जानवर मर जाते हैं।

'वाटर फॉर वॉयसलेस' के कटोरे से पानी पीती एक बिल्ली

'वाटर फॉर वॉयसलेस' के कटोरे से पानी पीती एक बिल्ली

अगला लक्ष्य

डेली वर्ल्ड की रिपोर्ट के अनुसार पिछले साल, एक सौ से अधिक हाथियों, हिरणों और तेंदुओं ने उत्तर प्रदेश से नेपाल के जंगलों में पलायन कर दिया था, क्योंकि इस क्षेत्र में भीषण सूखा पड़ा था। सनी का अगला लक्ष्य जंगलों में और जानवरों के भंडार में पानी के कटोरे रखना है।


सनी कहते हैं,

"वन विभाग की मदद से वन रेंजों सहित पूरे भारत में ‘वाटर फॉर वॉयसलेस’ की दृष्टि मुफ्त पानी के बर्तन उपलब्ध कराने की है।"


समूह ने पहले से ही वन अधिकारियों के साथ मिलकर टुमकुर और कृष्णगिरि में जंगलों में कटोरे रखे हैं, लेकिन अधिक जानवरों की सेवा के लिए अपनी पहुंच का विस्तार करने का प्रयास करता है।

Get access to select LIVE keynotes and exhibits at TechSparks 2020. In the 11th edition of TechSparks, we bring you best from the startup world to help you scale & succeed. Join now! #TechSparksFromHome

Latest

Updates from around the world