वीकली रिकैप: पढ़ें इस हफ्ते की टॉप स्टोरीज़!

By रविकांत पारीक
February 13, 2022, Updated on : Sun Feb 13 2022 03:19:21 GMT+0000
वीकली रिकैप: पढ़ें इस हफ्ते की टॉप स्टोरीज़!
यहाँ आप इस हफ्ते प्रकाशित हुई कुछ बेहतरीन स्टोरीज़ को संक्षेप में पढ़ सकते हैं।
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

इस हफ्ते हमने कई प्रेरक और रोचक कहानियाँ प्रकाशित की हैं, उनमें से कुछ को हम यहाँ आपके सामने संक्षेप में प्रस्तुत कर रहे हैं, जिनके साथ दिये गए लिंक पर क्लिक कर आप उन्हें विस्तार से भी पढ़ सकते हैं।

पावर बैंक रेंटल स्टार्टअप

A3Charge के लिए रेंटिंग प्रक्रिया सरल है। A3Charge ऐप डाउनलोड करना होगा, जो Google Play Store और Apple App Store पर उपलब्ध है।

A3Charge

कल्पना करें कि आप काम पर एक लंबे दिन के बाद घर जा रहे हैं और आपकी गाड़ी पंचर हो जाती है। आप परेशान होते हैं और अपने फोन को देखते हैं, लेकिन उसकी बैटरी खत्म हो गई है। तब आप अपने पावर बैंक को देखते हैं लेकिन वो भी डिस्चार्ज हो चुका है। यह निराशाजनक है ना? अब ऐसा नहीं होना चाहिए, क्योंकि अब आप A3Charge के साथ चलते-फिरते फोन चार्जर किराए पर ले सकते हैं। दिल्ली स्थित स्टार्टअप को अक्टूबर 2020 में मनु जैन, समीर पपनेजा और साहिल गुप्ता ने लॉन्च किया था।


YourStory के साथ बातचीत करते हुए संस्थापकों ने बताया, “हमारे प्रोडक्ट का उद्देश्य कम बैटरी की समस्याओं को दूर करना है जिनका सामना लगभग हर कोई करता है। चूंकि हम अपने फोन, टैबलेट, आईपैड पर बहुत समय बिताते हैं और पूरे दिन इयरफ़ोन, एयरपॉड्स और हेडफ़ोन का उपयोग करते हैं, ऐसे में बैटरी बहुत जल्दी कम हो सकती है। कई चार्जर और पावर बैंकों को अपने साथ रखने के विकल्प के रूप में हमने A3Charge की शुरुआत की है।”


ऐप पर क्विक मैप टूल आपको निकटतम A3Charge स्टेशन का पता लगाने में मदद करता है और आपको वहां ले जाता है। आप कई सदस्यता प्लान में से एक को चुन सकते हैं, मामूली सिक्योरिटी का भुगतान कर सकते हैं, क्यूआर कोड को स्कैन कर सकते हैं। इसके बाद A3Charge पावर बैंक किराए पर लेने के लिए आपका है। सदस्यता के दौरान यूजर्स निश्चित संख्या में स्वैप कर सकते हैं।


साहिल अपने प्रोडक्ट्स का विवरण यह कहते हुए देते हैं, “पावर बैंकों में एक साथ विभिन्न उपकरणों को पूरा करने के लिए आईओएस, एंड्रॉइड और टाइप सी सहित तीन बिल्ट-इन केबल हैं। वे iPhones, Android, iPads, AirPods, टैबलेट, हेडफ़ोन, इयरफ़ोन और अन्य सहित अधिकांश उपकरणों के साथ काम करते हैं। A3Charge के साथ एक बार में विभिन्न उपकरणों को चार्ज किया जा सकता है।”


वर्तमान में, ग्राहकों के लिए तीन सब्सक्रिप्शन प्लान हैं- मासिक प्लान की कीमत 199 रुपये है और यह 30 स्वैप के साथ आता है, 6 महीने का प्लान 699 रुपये का है और यह प्लान 150 स्वैप के साथ आता है और सालाना प्लान 999 रुपये का है और इसमें 333 स्वैप हैं। किसी भी योजना के साथ 499 रुपये की सिक्योरिटी जमा राशि का भुगतान करना होगा। एक बार स्वैप की संख्या समाप्त होने के बाद प्लान स्वतः समाप्त हो जाता है और इसे रीन्यू करना पड़ता है फिर चाहे उस पर कितना भी समय शेष हो।

डेंटिस्ट बनीं आंत्रप्रेन्योर, लॉन्च किया एथलेटिक फुटवियर और एक्सेसरीज ब्रांड

डॉ सिमरन मान सचदेवा घरेलू फुटवियर ब्रांड Kazarmax की फाउंडर हैं, जो आज बच्चों के फुटवियर के बाजार में अग्रणी साबित हो रहा है और धीरे-धीरे महिलाओं और पुरुषों के फुटवियर श्रेणी में भी अपनी जगह बना रहा है।

Kazarmax

डॉ सिमरन मान सचदेवा का जन्म और पालन-पोषण चंडीगढ़ में वकीलों के परिवार में हुआ था और उनकी शादी उद्यमियों के परिवार में हुई थी। बड़े होने के दौरान वे जानवरों के प्रति अपने प्रेम के चलते पशु चिकित्सक बनने का सपना देखा करती थीं। हालांकि जीवन ने उनके लिए कुछ और ही तय कर रखा था। इस बीच उन्होंने बोस्टन में अपनी डीडीएस डिग्री पूरी की और फिर देश वापस आ गईं।


सिमरन शादी करने के बाद दिल्ली चली गई और Medanta Hospital और Primus Hospital में दंत चिकित्सा की प्रैक्टिस शुरू कर दी।


वह YourStory को बताती हैं, “कुछ वर्षों तक प्रैक्टिस करने के बाद, मैंने अपने बच्चों की देखभाल के लिए इससे ब्रेक लिया। इस बीच, हम हरियाणा के शहर गुरुग्राम में चले गए। इसी शहर में मेरे ससुर ने 30 से अधिक वर्षों से परिधान निर्माण और निर्यात कारखाने स्थापित किए थे। मेरा मानना है कि यह मेरे उद्यमशीलता के भविष्य की दिशा में पहला कदम था।"


Kazarmaxको नवंबर 2017 में एक पैशन प्रोजेक्ट के रूप में लॉन्च किया गया था। तीन दशकों से गुरुग्राम में औद्योगिक जड़ें रखने वाले परिवार के साथ, यह एक कारखाना और गोदाम स्थापित करने के लिए सिमरन का पसंदीदा शहर था।


सिमरन बताती हैं, “Kazarmax जूते की हर जोड़ी अल्ट्रा-लाइटवेट, धोने योग्य, एंटी-स्किड है और यह किसी भी पशु प्रोडक्ट से मुक्त है। हमारे अधिकांश जूतों में मेमोरी फोम इनसोल उन्हें पूरे दिन पहनने के लिए उपयुक्त बनाता है। कंपनी ने छह महीने पहले मोजे, बेल्ट और हेयरबैंड जैसी श्रेणियों के साथ अपनी एक्सेसरीज लाइन लॉन्च की थी, जिन्हें लोगों द्वारा खूब पसंद किया जा रहा है।”

बॉडीबिल्डिंग का चमकता सितारा बन रही है ये महिला दिहाड़ी मजदूर

इसी साल 11 जनवरी को संगीता ने इंडियन फिटनेस फेडेरेशन द्वारा आयोजित की गई दक्षिण भारतीय बॉडीबिल्डिंग चैंपियनशिप में गोल्ड मेडल अपने नाम किया है। पुरुषों के वर्चस्व वाले इस खेल में संगीता दक्षिण भारत से इस प्रतियोगिता में हिस्सा लेने वाली नौ महिला प्रतियोगियों में से एक थीं।

एस संगीता

मन में लगन और अथक परिश्रम के बल पर किसी भी लक्ष्य को हासिल किया जा सकता है और एस संगीता इस बात का उत्कृष्ट उदाहरण हैं। पेशे से दिहाड़ी मजदूर संगीता आज बॉडीबिल्डिंग के क्षेत्र में तेजी से अपनी अलग पहचान स्थापित कर रही हैं। तिरुपति से आने वाली 35 वर्षीय संगीता दो बच्चों की माँ हैं और करीब पाँच साल पहले उन्होंने अपने पति को खो दिया था।


संगीता का दिन एक फैक्ट्री में भारी-भरकम माल उठाते हुए गुज़रता है और इसके बदले उन्हें दिहाड़ी के रूप में 200 रुपये मिलते हैं, लेकिन सगीता इन सब के बीच अपने सपने को पूरा करने में कोई कसर नहीं छोड़ रही हैं।


पति के देहांत के बाद संगीता के सिर पर उनके दोनों बच्चों के पालन-पोषण की ज़िम्मेदारी आ गई और इसके चलते उन्होंने एक टेनरी में काम करना शुरू कर दिया। हालांकि अपने इस संघर्ष के बीच संगीता को जो बात सबसे अधिक खुश करती है वो यह है कि वे अब अपने क्षेत्र की पहली महिला बॉडीबिल्डिंग चैंपियन बन चुकी हैं।


इसी साल 11 जनवरी को संगीता ने इंडियन फिटनेस फेडेरेशन द्वारा आयोजित की गई दक्षिण भारतीय बॉडीबिल्डिंग चैंपियनशिप में गोल्ड मेडल अपने नाम किया है। पुरुषों के वर्चस्व वाले इस खेल में संगीता दक्षिण भारत से इस प्रतियोगिता में हिस्सा लेने वाली नौ महिला प्रतियोगियों में से एक थीं।

पिता-पुत्र की यह जोड़ी वेयरहाउस ऑटोमेशन सॉल्यूशंस सेक्टर पर हासिल कर रही है जीत

मैन्युफेक्चरिंग कन्वेयर से वेयरहाउस ऑटोमेशन सेगमेंट में प्रवेश करने के लिए फरीदाबाद स्थित सैफी कॉन फैब सिस्टम्स ने काफी लंबी यात्रा तय की है। YourStoryके साथ बातचीत में दूसरी पीढ़ी के उद्यमी फ़राज़ आलम ने बताया कि कैसे उनका और उनके पिता का लक्ष्य कंपनी को इस सेगमेंट में एक प्रमुख खिलाड़ी बनाना है।

f

YourStory ने हाल ही में Atmos Systems के को-फाउंडर और Saifi Con Fab Systems के बिजनेस डेवलपमेंट हेड फ़राज़ आलम से बात की।


फरीदाबाद स्थित Saifi Con Fab Systemsकी शुरुआत उनके पिता खुर्शीद आलम ने साल 1987 में की थी। एक साधारण सामग्री निर्माण कंपनी से लेकर कन्वेयर बनाने तक, सैफी ने पिछले 35 वर्षों में काफी विस्तार किया है। यह कंपनी भारत के विकसित हो रहे मैनुफेक्चुरिंग और वेयरहाउस इकोसिस्टम का भी साक्षी रही है।


भारतीय मैनुफेक्चुरिंग उद्योग में तेजी से उभरने वाले नवीनतम रुझानों में से एक वेयरहाउस ऑटोमेशन है। यह एक ऐसा बाजार है जो उत्पादन की लागत प्रभावी पद्धति की बढ़ती आवश्यकता के कारण महत्वपूर्ण वृद्धि प्रदर्शित कर रहा है। इस प्रवृत्ति को ध्यान में रखते हुए, सैफी ने 2020 में एक स्मार्ट ऑटोमेशन सोल्यूशंस प्रोवाइडर ब्रांड Atmos Systems लॉन्च किया है।


Atmos Systems इंटरनेट ऑफ थिंग्स, ऑटोमेशन और अन्य जैसी तकनीकों का उपयोग करके टर्नकी वेयरहाउसिंग सोल्यूशंस प्रदान करता है।


Atmos पहले किसी कंपनी की विशिष्ट वेयरहाउसिंग जरूरतों की पहचान करता है, फिर स्मार्ट कन्वेयर और सॉफ्टवेयर समाधान सहित सही समाधान बनाने पर काम करना शुरू कर देता है जिसे पूरा होने में लगभग 15 दिन लगते हैं। एक बार सब कुछ हो जाने के बाद, यह क्लाइंट को इसे पेश करने से पहले परीक्षण करता है।


Atmos ने अपनी स्थापना के बाद से अब तक 10 करोड़ रुपये का राजस्व अर्जित किया है। फ़राज़ का कहना है कि पिता-पुत्र की जोड़ी का लक्ष्य आने वाले वर्षों में Atmos को एक शीर्ष वेयरहाउस समाधान प्रदाता बनाना है।

मासिक धर्म के प्रति जागरूकता करने वाली 14 वर्षीय लड़की

1M1B फाउंडेशन के एनजीओ पार्टनर्स के जरिए अनन्या ने तीन गांवों के सरपंच और करीब सौ स्कूल जाने वाली लड़कियों से बात की ताकि उनकी पीरियड्स की समझ का अंदाजा लगाया जा सके।

अनन्या मालदे

चौदह साल की अनन्या मालदे मासिक धर्म के पीछे के विज्ञान से अच्छी तरह वाकिफ थीं। उसने अपनी जीव विज्ञान कक्षा में सीखा था कि महिलाओं के लिए हर महीने मासिक धर्म होना एक प्राकृतिक शारीरिक क्रिया है। हालाँकि, उन्हें इसी के साथ मासिक धर्म के आसपास की सामाजिक अंधविश्वासों का भी पता चला जब उनकी घरेलू हेल्पर की छोटी बहन को मासिक धर्म के कारण सातवीं कक्षा से स्कूल छोड़ना पड़ गया।


वे YourStory को बताती हैं, "उन्होंने एक समारोह में यह घोषणा की थी कि वह इसके चलते अब विवाह योग्य उम्र में है। मैं यह सुनकर बहुत चौंक गई थी और तब तक यह नहीं पता था कि यह कितनी बड़ी समस्या है क्योंकि मेरे लिए यह निश्चित रूप से स्कूल छोड़ने का कारण नहीं लगता था।"


ऑनलाइन शोध से पता चला है कि युवा लड़कियों के लिए मासिक धर्म की अवधि एक बड़ी सामाजिक समस्या है। दसरा द्वारा प्रकाशित एक रिपोर्ट के अनुसार, स्कूलों में उचित मासिक धर्म स्वच्छता की कमी के कारण 23 मिलियन लड़कियों को स्कूल छोड़ना पड़ा है। इसने अनन्या को प्रोजेक्ट प्रगति शुरू करने के लिए प्रेरित किया, जिसका उद्देश्य अंधविश्वासों को दूर करना और ग्रामीण क्षेत्रों में युवा लड़कियों को पीरियड्स से जुड़े प्रोडक्ट उपलब्ध कराना है।


बेंगलुरु के नेशनल पब्लिक स्कूल इंदिरानगर में कक्षा नौ की छात्रा अनन्या 1M1B फ्यूचर लीडर प्रोग्राम में भी शामिल हुईं, जो मानव सुबोध द्वारा सह-स्थापित 10 लाख युवा चेंजमेकर्स को पोषित करने के लिए संयुक्त राष्ट्र से मान्यता प्राप्त गैर-लाभकारी पहल है। साल 2020 के नवंबर तक उन्होंने अपने गृह राज्य गुजरात पर ध्यान केंद्रित करते हुए इस परियोजना को शुरू किया क्योंकि क्षेत्रीय भाषा में उनके प्रवाह से उन्हें ग्रामीण आबादी के साथ बेहतर ढंग से जुड़ने में मदद मिली।


वे कहती हैं, “माता-पिता नहीं जानते कि पीरियड्स क्या होते हैं और महिलाओं में क्यों होते हैं। स्कूल के शिक्षक जो जानते हैं वे विषय को विस्तार से नहीं पढ़ाते हैं और कक्षा को यह बताते हुए विषय को देखते हैं कि लड़कियों को पीरियड्स आते हैं और यह बस इतना ही है। उन्हें सिखाने या समझाने में शर्म आती है।”


युवा चेंजमेकर के पास अब बेंगलुरु में अंग्रेजी माध्यम के सरकारी स्कूलों की एक सूची है, जहां वह जागरूकता सत्रों के माध्यम से सकारात्मक योगदान देने की उम्मीद करती हैं। बेंगलुरु में काम करना पहले एक चुनौती रही है क्योंकि वह कन्नड़ नहीं बोलती हैं। उन्हें न्यूयॉर्क में संयुक्त राष्ट्र मुख्यालय में 1M1B शिखर सम्मेलन में अपना काम प्रस्तुत करने के लिए भी चुना गया है।