रतन टाटा ने बदल दी इन 50 छोटे बिजनेस की किस्मत

दिग्गज उद्योगपति, निवेशक रतन टाटा स्टार्टअप्स में निवेश का अर्धशतक लगा चुके हैं. YourStory हिंदी की इस खास सीरीज — 'स्टार्टअप के सारथी' (Startup Ke Saarthi) में हम आपको उन स्टार्टअप्स के बारे में बताने जा रहे हैं, जिन्हें टाटा ने सपोर्ट (निवेश) किया है.

रतन टाटा ने बदल दी इन 50 छोटे बिजनेस की किस्मत

Thursday February 09, 2023,

13 min Read

दुनिया भर में लोग रतन नवल टाटा को सभी अवतारों में देखते हैं - चाहे वह उद्योगपति हों, निवेशक, परोपकारी, या लीडर. टाटा संस (Tata Sons) के मानद अध्यक्ष और टाटा ट्रस्ट (Tata Trust) के अध्यक्ष रतन टाटा (Ratan Tata) को आंत्रप्रेन्योर और स्टार्टअप से बड़ा लगाव है. यह उनका प्रेम ही है जो भारत के स्टार्टअप इकोसिस्टम में नई क्रांति लेकर आया है. देश के सबसे सम्मानित उद्योगपति टाटा ने कई नामचीन स्टार्टअप्स को सपोर्ट किया है.

YourStory हिंदी की इस खास सीरीज 'स्टार्टअप के सारथी' (Startup Ke Saarthi) में हम आपको उन स्टार्टअप्स के बारे में बताने जा रहे हैं, जिन्हें टाटा ने सपोर्ट (निवेश) किया है. और इसी की बदौलत इन स्टार्टअप्स ने न सिर्फ सफलता की नई इबारत लिखी, बल्कि देश में टेक्नोलॉजी और इनोवेशन को बढ़ावा मिला, रोजगार पैदा हुए. फलस्वरूप स्टार्टअप इकोसिस्टम (Indian Startup Ecosystem) का देश की जीडीपी में अहम योगदान रहा.


रतन टाटा के शुरुआती जीवन, शिक्षा और स्टार्टअप्स के प्रति प्रेम को बयां करता ये इंटरव्यू आपको जरूर देखना चाहिए. यहां वे YourStory की फाउंडर और सीईओ श्रद्धा शर्मा के साथ अपने अनुभव साझा करते नज़र आए...


12 सितंबर, 2022 को प्रकाशित फॉर्च्यून इंडिया की एक रिपोर्ट के मुताबिक, टाटा ने 53 स्टार्टअप्स में निवेश किया है. पेटकेयर, ई-कॉमर्स, हेल्थकेयर, जेनेटिक्स, फिनटेक/डिजिटल पेमेंट्स, ऑन-डिमांड, एनर्जी, मीडिया, इलेक्ट्रिकल्स, डेटा एनालिटिक्स, आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस (AI)...लगभग हर सेक्टर में, एंजेल फंडिंग से लेकर ग्रोथ राउंड तक, टाटा ग्रुप और इसकी सहायक कंपनियों ने निवेश किया है.

फॉर्च्यून इंडिया-वाटरफील्ड रिसर्च (12 सितंबर, 2022 की फॉर्च्यून इंडिया की रिपोर्ट) के अनुसार, टाटा की व्यक्तिगत संपत्ति ₹12,609 करोड़ आंकी गई है, जिसमें से अधिकांश (92.30% या ₹11,638 करोड़) टाटा संस में उनकी 0.83% हिस्सेदारी के कारण है. बाकी 971 करोड़ रुपये 28 स्टार्टअप्स में उनकी होल्डिंग का मूल्य है. रिपोर्ट में यह आंकड़े ट्रैक्सन से लिए गए थे. 28 में से, 23 स्टार्टअप में उनका संचयी निवेश (cumulative investment) ₹100.28 करोड़ था, जो 12 सितंबर, 2022 तक, बढ़कर ₹763.27 करोड़ हो गया था. अन्य पांच स्टार्टअप में, जिनमें टाटा के निवेश की जानकारी उपलब्ध नहीं हैं, लेकिन उनकी हिस्सेदारी के आधार पर मूल्यांकन ₹208 करोड़ होने का अनुमान है. टाटा के बाकी स्टार्टअप्स में निवेश की जानकारी का पता ट्रैक्सन द्वारा नहीं लगाया जा सका.

funding-mitra-startup-ke-saarthi-ratan-tata-backed-startups-tata-group-investments-ola-goodfellows-snapdeal-paytm-firstcry-cardekho-tracxn

साभार: FortuneIndia

कुछ स्टार्टअप्स में रतन टाटा ने अपनी पर्सनल कैपेसिटी से निवेश किया, तो कुछ में उन्होंने अपनी ग्लोबल इन्वेस्टमेंट कंपनी RNT Capital Advisors के जरिए भी पैसा लगाया है. इन स्टार्टअप्स में से कुछ स्टार्टअप ऐसे हैं जो यूनिकॉर्न (जिसकी वैल्यूएशन एक अरब डॉलर है) का दर्जा हासिल कर चुके हैं.

एक नज़र कुछ उन स्टार्टअप्स पर जिन्हें टाटा ने सपोर्ट किया है; सेक्टरवाइज, सबसे पहले ई-कॉमर्स:

Snapdeal

साल 2010 में कुनाल बहल और रोहित बंसल ने मल्टीपल कैटेगरी में देश के पहले ऑनलाइन मार्केटप्लेस Snapdeal की शुरूआत की थी. अगस्त, 2014 में टाटा ने इसमें निवेश किया था.

Urban Ladder

बैंगलुरु स्थित ऑनलाइन फर्नीचर बेचने वाले प्लेटफॉर्म Urban Ladderकी स्थापना जुलाई, 2012 में आशीष गोयल और राजीव श्रीवत्स ने की थी. नवंबर, 2014 में रतन टाटा ने इसमें पैसे लगाए थे. हालाँकि, नवंबर 2020 में, रिलायंस इंडस्ट्रीज (RIL) की रिटेल चेन ने इसमें 96 प्रतिशत हिस्सेदारी 182 करोड़ रुपये में खरीद ली थी.

CarDekho

देश की दिग्गज ऑटोटेक कंपनी CarDekhoकी स्थापना साल 2008 में जयपुर में हुई थी. अमित जैन इसके को-फाउंडर और सीईओ हैं जबकि अनुराग जैन; को-फाउंडर और सीओओ की भूमिका निभा रहे हैं. फरवरी, 2015 में टाटा ने इस कंपनी में निवेश किया था.

Paytm

बता दें कि साल 2010 में विजय शेखर शर्मा के स्वामित्व वाले Paytm की शुरुआत बतौर मोबाइल रिचार्जिंग प्लेटफॉर्म हुई थी. Paytm ही वह पहला स्टार्टअप है जो RBI से लाइसेंस हासिल कर देश का पहला पेमेंट्स बैंक बना. रतन टाटा ने Paytm की पैरेंट कंपनी One97 Communications में मार्च, 2015 में एक करोड़ रुपये का निवेश किया था. Paytm यूनिकॉर्न का दर्जा हासिल कर चुका है.

Kaaryah

जब निधि अग्रवाल (फाउंडर) को 113 निवेशकों ने पैसे देने से मना कर दिया तब जून, 2015 में KAARYAH Lifestyle Solutions में टाटा ने उन्हें समर्थन दिया था.

Blue Stone

ऑनलाइन ज्वैलरी बेचने वाले स्टार्टअप Bluestone में टाटा ने जुलाई, 2015 में निवेश किया था.

Firstcry

नवजात शिशुओं और बच्चों के लिए ऑनलाइन प्रोडक्ट्स बेचने वाले एशिया के सबसे बड़े मार्केटप्लेस FirstCry में - जनवरी, 2016 में टाटा ने इन्वेस्ट किया था.

Zivame

टाटा ने सितंबर, 2015 में देश के पहले ऑनलाइन लिंजरी बेचने वाले स्टार्टअप Zivame मे निवेश किया था. इसे ऋचा कर और कपिल कारेकर ने शुरू किया था.

Lenskart

ऑनलाइन रिटेलर Lenskart, जो आंखों के चश्मे, कॉन्टैक्ट लेंस आदि बेचता है, ने अप्रैल 2016 में टाटा से फंडिंग जुटाई थी. इस स्टार्टअप में टाटा की भूमिका मेंटर/एडवाइजर की भी है.

funding-mitra-startup-ke-saarthi-ratan-tata-backed-startups-tata-group-investments-ola-goodfellows-snapdeal-paytm-firstcry-cardekho-tracxn

रतन नवल टाटा, Chairman Emeritus of Tata Sons and Chairman of the Tata Trusts

फिनटेक/डिजिटल पेमेंट्स सेक्टर में काम कर रहे जिन स्टार्टअप्स में टाटा ने निवेश किया है, वे हैं:

Abra

अमेरिका स्थित यह स्टार्टअप दुनिया का पहला डिजिटल कैश, पीयर-टु-पीयर मनी ट्रांसफर नेटवर्क होने का दावा करता है. अक्टूबर, 2015 में टाटा ने Abraमें पैसे लगाए थे.

CashKaro

अलग-अलग प्लेटफॉर्म्स के जरिए शॉपिंग करने पर CashKaroकैशबैक ऑफर देता है. टाटा ने जनवरी, 2016 में इस स्टार्टअप में पैसे लगाए थे. गुड़गांव स्थित स्टार्टअप की स्थापना 2013 में स्वाति और रोहन भार्गव ने की थी.

ऑन-डिमांड सर्विसेज सेक्टर में काम कर रहे जिन स्टार्टअप्स में टाटा ने निवेश किया है, वे हैं:

Urban Comapny

लोकल सर्विसेज मुहैया करने वाले मार्केटप्लेस Urban Company का नाम पहले Urban Clap हुआ करता था. दिसंबर, 2015 में रतन टाटा ने इसमें निवेश किया था.

Ola

भाविश अग्रवाल के नेतृत्व वाले देश के पहले स्वदेशी कैब एग्रीगेटर Ola की पैरेंट कंपनी ANI Technologies Pvt Ltd में जुलाई, 2015 में रतन टाटा ने निवेश किया था. आगे चलकर उन्होंने 2019 में Ola Electric के सीरीज ए फंडिंग राउंड में भी निवेश किया. यह [Ola] यूनिकॉर्न का दर्जा हासिल कर चुका है.

Holachef

दूसरे फूडटेक स्टार्टअप्स से अलग मुंबई स्थित Holachef प्रोफेशनल कुक्स (रसोइये - शेफ) के हाथों बने पकवान डिलिवर करता था. साल, 2018 में इसने कारोबार बंद कर दिया, और बाद में इसी साल इसे Ola के स्वामित्व वाले Foodpanda Indiaने एक्वायर (अधिग्रहण) कर लिया था. लेकिन इससे पहले, टाटा ने सितंबर, 2015 में इसमें पैसे लगाए थे.

हेल्थकेयर/टेक सेक्टर में काम कर रहे जिन स्टार्टअप्स में टाटा ने निवेश किया है, वे हैं:

Lybrate

Lybrateडॉक्टर का अपॉइंटमेंट बुक करने के अलावा यह प्लेटफॉर्म ऑनलाइन कंसल्टेशन भी मुहैया करता है. जुलाई, 2015 में टाटा ने इसमें इन्वेस्ट किया था.

Swasth India

टेक-बेस्ट स्टार्टअप Swasth India डेटा एनालिटिक्स सर्विसेज मुहैया करता है. दिसंबर, 2014 में टाटा ने इसमें पैसे लगाए थे.

Cure.fit

हेल्थ और फिटनेस स्टार्टअप में Cure.fit में भी रतन टाटा ने निवेश किया है. Cure.fit फिटनेस सेंटरों की एक चेन ('Cult.fit' ब्रांड के तहत) है. इसके अलावा यह 'Eat.fit' - फूड डिलीवरी प्लेटफॉर्म, 'Care.fit' - हेल्थकेयर क्लीनिकों की चेन, और ऑनलाइन मेंटल-वेलनेस प्लेटफॉर्म 'Mind.fit' चलाता है.

Generic Aadhaar

रतन टाटा ने 2021 में महाराष्ट्र स्थित फार्मास्युटिकल स्टार्टअप Generic Aadhaar में अघोषित राशि का निवेश किया है. अर्जुन देशपांडे ने 2018 में Generic Aadhaar की स्थापना की थी. यह दवा कंपनियों से रियायती दरों पर जेनेरिक दवाएं मुहैया करता है.

डेटा एनालिटिक्स सेक्टर में काम कर रहे जिन स्टार्टअप्स में टाटा ने निवेश किया है, वे हैं:

Infinite Analytics

अमेरिका और मुंबई स्थित में टाटा ने अगस्त, 2015 में निवेश किया था.

Crayon Data

CRAYON DATAबिग डेटा कंपनी है. रतन टाटा ने नवंबर, 2015 में इसमें पैसे लगाए थे.

Tracxn

मार्केट रिसर्च स्टार्टअप Tracxnमें जनवरी, 2016 में टाटा ने इन्वेस्ट किया था.

एनर्जी सेक्टर में काम कर रहे जिन स्टार्टअप्स में टाटा ने निवेश किया है, वे हैं:

Altaeros

रिन्यूएबल एनर्जी सॉल्यूशन प्रोवाइड करने वाले इस स्टार्टअप में मार्च, 2014 में टाटा ने पैसे लगाए थे.

Repos Energy

मोबाइल-एनर्जी डिस्ट्रीब्यूशन स्टार्टअप Repos Energy घर-घर पेट्रोल-डीजल डिलीवर करता है. Repos के को-फाउंडर अदिति भोसले वलुंज और चेतन वलुंज हैं. इसमें टाटा ने साल 2019 में पहला टोकन इन्वेस्टमेंट और फिर अप्रैल, 2022 में दूसरा इन्वेस्टमेंट किया था.

Tork Motors

Tork Motors पुणे स्थित इलेक्ट्रिक मोटरसाइकिल स्टार्टअप है. रतन टाटा ने अक्टूबर 2019 में इसमें निवेश किया है.

मीडिया सेक्टर में काम कर रहे जिन स्टार्टअप्स में टाटा ने निवेश किया है, वे हैं:

YourStory

अगस्त 2015 में, रतन टाटा ने YourStory के लिए चैक (cheque) लिखा. कंपनी में वाणी कोला के नेतृत्व वाली वेंचर कैपिटल फर्म कलारी कैपिटल (Kalaari Capital) ने भी निवेश किया है. क्वालकॉम वेंचर्स (Qualcomm Ventures), और टीवी मोहनदास पई (TV Mohandas Pai) भी बतौर निवेशक कंपनी से जुड़े. अभी तक YourStory एकमात्र ऐसी मीडिया फर्म है जिसमें टाटा ने निवेश किया है.

इलेक्ट्रिकल सेक्टर में काम कर रहे जिन स्टार्टअप्स में टाटा ने निवेश किया है, वे हैं:

Ampere

कोयंबटूर स्थित यह स्टार्टअप ई-साइकिल, ई-स्कूटर और वेस्ट मैनेजमेंट के लिए खास तरह के व्हीकल (वाहन) बनाता है. टाटा ने जुलाई, 2015 में इसमें निवेश किया था.

लॉजिस्टिक्स सेक्टर में काम कर रहे जिन स्टार्टअप्स में टाटा ने निवेश किया है, वे हैं:

Mailit

रतन टाटा ने मुंबई स्थित लॉजिस्टिक स्टार्टअप Mailit में अज्ञात राशि का निवेश किया है.

पेटकेयर सेक्टर में काम कर रहे जिन स्टार्टअप्स में टाटा ने निवेश किया है, वे हैं:

Dogspot

DogSpotकी स्थापना साल 2007 में हुई थी. जैसा कि रतन टाटा को पालतू जानवरों से लगाव है, उन्होंने जनवरी, 2016 में इस स्टार्टअप में पैसे लगाए थे.

मोबाइल/टेक सेक्टर में काम कर रहे जिन स्टार्टअप्स/कंपनियों में टाटा ने निवेश किया है, वे हैं:

Sabsebolo

फ्री ऑडियो कॉन्फ्रेंस की सुविधा देने वाले इस स्टार्टअप ने IAMAI की 9वीं इंडिया डिजिटल समिट में बेस्ट इंटरप्राइज सर्विसे का खिताब जीता था. टाटा ने नवंबर, 2015 में इसमें पैसे लगाए थे.

Xiaomi

चीन स्थित दुनिया की सबसे बड़ी स्मार्टफोन मैन्युफैक्चरिंग कंपनियों में से एक Xiaomiने साल 2014 में भारत में एंट्री की थी. अप्रैल, 2015 में रतन टाटा ने इसमें निवेश किया था.

GOQii

GOQii हेल्थकेयर घड़ियाँ बनाता है जो स्मार्ट घड़ियों के समान हैं. यह GOQii स्ट्राइड भी बनाता है, एक ऐसा डिवाइस जिसे लोग अपने जूतों से कनेक्ट कर सकते हैं और कदमों की संख्या आदि पर नज़र रख सकते हैं. GOQii की स्थापना 2014 में विशाल गोंडल ने की थी. अक्टूबर, 2016 में अज्ञात राशि जुटाने के बाद यह रतन टाटा समर्थित स्टार्टअप्स की सूची में शामिल हो गया.

इन सेक्टर्स के अलावा कुछ और स्टार्टअप्स हैं जिनमें टाटा ने निवेश किया है, जैसे:

Goodfellows

Goodfellows- सीनियर सिटीजन, युवा ग्रेजुएट्स के साथ जुड़ सकें, उनके बीच दोस्ती हो सके और युवा, बुजुर्गों की मदद कर सकें, इस मिशन के साथ अगस्त, 2022 में लॉन्च किया गया. इसे रतन टाटा के युवा दोस्त शांतनु नायडू (Shantanu Naidu) ने शुरू किया है. स्टार्टअप में रतन टाटा ने निवेश किया है. YourStory की फाउंडर और सीईओ श्रद्धा शर्मा ने Goodfellows के सीड फंडिंग राउंड में निवेश किया है.

ClimaCell

Rei Goffer, Shimon Elkabetz, और Itai Zlotnik द्वारा डेवलप की गई ऐप ClimaCell लोगों को आगामी बाढ़ के बारे में सचेत करने के लिए सटीक मौसम पूर्वानुमान देता है. रतन टाटा ने सितंबर 2016 में इसके सीड फंडिंग राउंड में निवेश किया था.

NestAway

NestAway उपयोगकर्ताओं को भारतीय शहरों में अपनी पसंद के किराये के घर को खोजने, बुक करने और शिफ्ट करने में मदद करता है. रतन टाटा ने दिसंबर, 2017 में NestAway Technologies Pvt Ltd. में अज्ञात राशि का निवेश किया है.

Kyazoonga

2007 में स्थापित ऑनलाइन टिकट बुकिंग प्लेटफॉर्म में जून 2016 में रतन टाटा से निवेश किया था.

funding-mitra-startup-ke-saarthi-ratan-tata-backed-startups-tata-group-investments-ola-goodfellows-snapdeal-paytm-firstcry-cardekho-tracxn

इन्फोग्राफिक: YourStory Design Cell

रतन टाटा IDG Ventures India, Kalaari Capital और Jungle Ventures के सलाहकारों में भी शामिल हैं. LetsVenture में, जोकि एक ऑनलाइन डील प्लेटफॉर्म है, वे एक सलाहकार और निवेशक दोनों हैं.

आज हम देख सकते हैं कि ऊपर बताए गए स्टार्टअप्स में से कई ने पिछले कुछ वर्षों में ग़ज़ब की तरक्क़ी की है और वे प्रोफिटेबल हो गए हैं.

कोरोनाकाल में YourStory को दिए एक इंटरव्यू में रतन टाटा ने कहा, “किसी भी आंत्रप्रेन्योर के लिए मेरा संदेश यह होगा कि इस समय को और अधिक इनोवेशन करने के अवसर के रूप में उपयोग करें. आपको हतोत्साहित करने के लिए नहीं, बल्कि इसे एक दीर्घकालीन दृष्टि, नीला आकाश, और दिवास्वप्न को संपूर्ण तकनीकी दिनचर्या के माध्यम से देखने के एक वास्तविक अवसर के रूप में देखें."

आशावादी होने पर, वह कहते हैं कि वह भारतीय स्टार्टअप इकोसिस्टम को "भारत के भविष्य का सबसे डायनेमिक सेगमेंट" होने की आशा करते हैं.

स्टार्टअप्स में निवेश करना मेरे लिए सीखने का अनुभव रहा - रतन टाटा

रतन टाटा ने 25 वर्षों तक टाटा ग्रुप (Tata Group) के अध्यक्ष के रूप में अपने कार्यकाल के दौरान टाटा ग्रुप को नई ऊंचाइयों पर पहुंचाया है. स्टार्टअप के फाउंडर्स और आंत्रप्रेन्योर्स ने उनसे सीखने के लिए उनका समर्थन मांगा. रतन टाटा का मानना है कि स्टार्टअप में निवेश करना उनके लिए "सीखने का अनुभव" रहा है.

सेवानिवृत्ति के बाद, रतन टाटा ने कुछ दिलचस्प उद्यमों में अपनी व्यक्तिगत क्षमता में छोटे आकार के निवेश करना शुरू किया, जिन्हें उन्होंने दिलचस्प माना. टाटा समूह के संरक्षक ने खुलासा किया कि उनके काम और करियर के दौरान कई घटनाएं अब उनके लिए दिलचस्प बन गई हैं.

रतन टाटा ने YourStory की फाउंडर और सीईओ श्रद्धा शर्मा के साथ जुलाई, 2020 में एक एक्सक्लूसिव बातचीत में कहा, “मैं अपने साथ कोई जादू नहीं लाया. मैंने उन एंटरप्राइजेज को सपोर्ट करने के लिए चुना है जो मुझे कंपनी की फाउंडर पोजीशन से आकर्षित करते हैं कि कंपनी क्या करना चाहती है.”

उन्होंने ऐसे उद्यमों का समर्थन किया जो उन्हें उन समाधानों के आधार पर आकर्षित करते थे जो वे पेश कर रहे थे. वे कहते हैं, "ऐसे उदाहरण हैं जो सीखाने वाले अनुभव रहे हैं व्यक्तिगत निवेश में शामिल होना, जैसा कि मैं स्टार्टअप का समर्थन करने की कोशिश कर रहा हूं, मेरे लिए सीखने का अनुभव रहा है."

उन्होंने कोविड-19 महामारी में जिस बात को सबसे ज्यादा मिस किया, उसके बारे में भी बात की. उन्होंने कहा, "मेरी बिजनेस लाइफ में, ट्रेवल और इंटरैक्शन ने मेरी बिजनेस लाइफ को दिलचस्प बना दिया है ... ये चीजें याचेज, मनोर्स और बड़े इस्टेट्स नहीं है; यह लोगों के साथ बातचीत करने का एक शानदार अनुभव रहा है जो एक जैसे विचार रखते हैं... जिसे मैं सबसे ज्यादा मिस कर रहा हूं."

"लोगों के साथ संबंध बनाना, नए विचारों में भाग लेना, और कुछ मामलों में सफलता के लिए जोखिम उठाना," एक उद्योगपति, प्रेरणा और प्रभावशाली बिजनेस लीडर के रूप में टाटा के लगभग पांच दशक लंबे करियर का मुख्य आकर्षण रहा है, जो टेल्को की दुकान के फर्श पर शुरू हुआ, जिसे अब टाटा मोटर्स कहा जाता है.

उन्होंने कहा, “मैं चाहूंगा कि जिस तरह की जीवनशैली है, उस पर भरोसा करना शुरू कर दूं. यह नौका, जागीर और विशाल सम्पदा नहीं है, यह उन लोगों के साथ बातचीत करने का एक शानदार अनुभव रहा है जो आपके जैसे विचारों के आदान-प्रदान के लिए खड़े होते हैं, उनके साथ विचारों का आदान-प्रदान करते हैं - जिसे मैं बेहद मिस कर रहा हूँ.”

मानवता, सादगी, सिद्धांतों, मूल्यों और नैतिकता के प्रतीक रतन टाटा ने खुद कहा है — अगर आप तेजी से चलना चाहते हैं तो अकेले चलिए. लेकिन अगर आप दूर तक चलना चाहते हैं तो साथ मिलकर चलिए.

इस तरह हम गर्व से कह सकते हैं कि रतन टाटा स्टार्टअप जगत के सच्चे सारथी हैं.

*अधिकतर स्टार्टअप्स में रतन टाटा का निवेश अज्ञात है.

(साभार: सोनाक्षी सिंह, फीचर इमेज)